सामान्य ज्ञान

Also Read in : English

CategoriesCategories

सामान्य ज्ञान तथ्य

जानें क्यों भूपेन हजारिका पुल भारत के अन्य पुलों से अलग है

शुक्रवार 26 मई 2017 को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने असम और अरूणाचल प्रदेश के बीच का सफर 4 घंटा कम करने वाले देश के सबसे लंबे भूपेन हजारिका पुल (धौला-सदिया पुल) का उद्घाटन किया. इस पुल के निर्माण के लिए अध्ययन का काम 2003 में अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में शुरू हुआ था. इस लेख में हम इस बात का विवरण दे रहे हैं कि यह पुल भारत के अन्य पुलों से किस मायने में अलग है.

सामान्य-ज्ञान-तथ्य में और पढ़ें

सामान्य ज्ञान क्विज

भारत की राजनीतिक संरचना: भारत के उपराष्ट्रपति

इस लेख में ‘भारत के उपराष्ट्रपति पर 10 प्रश्नों की एक प्रश्नोत्तरी दी जा रही है इसमें छात्रों की सुविधा के लिए प्रश्नों का उत्तर और व्याख्या भी दी गयी है. उम्मीद है कि यह क्विज IAS/PCS/SSC/CDS तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे प्रतियोगियों की मदद करेगी.

सामान्य-ज्ञान-क्विज में और पढ़ें

इतिहास

विजयनगर साम्राज्य के दौरान भारत आने वाले विदेशी यात्री

प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक भारतीय उपमहाद्वीप कई विदेशी यात्रियों के आगमन का गवाह रहा है और उनमें से कुछ यात्रियों के द्वारा बहुमूल्य यात्रावृतांतों की भी रचना की गई हैंl इन यात्रावृतांतों से हमें तत्कालीन सामाजिक, राजनीतिक एवं आर्थिक स्थिति को समझने में मदद मिलती हैl तत्कालीन लेखकों की लेखन के बारे में क्या धारणा थी, उसे जाने बिना इन यात्रावृतांतों को नहीं समझा जा सकता हैl यहां हम विजयनगर साम्राज्य के विभिन्न शासकों के शासनकाल के दौरान भारत आने वाले प्रसिद्ध यात्रियों का विवरण दे रहे हैंl

इतिहास में और पढ़ें

भूगोल

दुनिया के 15 अद्भुत प्राकृतिक चमत्कार

हमारी सांस्कृतिक और प्राकृतिक विरासत दोनों जीवन और प्रेरणा का अदम्य स्रोत है। यूनेस्को द्वारा जारी किए गए दुनिया के 7 आश्चर्यों की सूची में केवल मानव की रचनात्मक प्रतिभा से निर्मित कलाकृतियों को शामिल किया गया है, लेकिन इस लेख के माध्यम से, हम प्रकृति की उन उलझनों का विवरण दे रहे हैं जिसे किसी भी इंसान द्वारा नहीं कल्पना की जा सकती है।

भूगोल में और पढ़ें

इतिहास

विजयनगर साम्राज्य के दौरान भारत आने वाले विदेशी यात्री

प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक भारतीय उपमहाद्वीप कई विदेशी यात्रियों के आगमन का गवाह रहा है और उनमें से कुछ यात्रियों के द्वारा बहुमूल्य यात्रावृतांतों की भी रचना की गई हैंl इन यात्रावृतांतों से हमें तत्कालीन सामाजिक, राजनीतिक एवं आर्थिक स्थिति को समझने में मदद मिलती हैl तत्कालीन लेखकों की लेखन के बारे में क्या धारणा थी, उसे जाने बिना इन यात्रावृतांतों को नहीं समझा जा सकता हैl यहां हम विजयनगर साम्राज्य के विभिन्न शासकों के शासनकाल के दौरान भारत आने वाले प्रसिद्ध यात्रियों का विवरण दे रहे हैंl

इतिहास में और पढ़ें

भूगोल

दुनिया के 15 अद्भुत प्राकृतिक चमत्कार

हमारी सांस्कृतिक और प्राकृतिक विरासत दोनों जीवन और प्रेरणा का अदम्य स्रोत है। यूनेस्को द्वारा जारी किए गए दुनिया के 7 आश्चर्यों की सूची में केवल मानव की रचनात्मक प्रतिभा से निर्मित कलाकृतियों को शामिल किया गया है, लेकिन इस लेख के माध्यम से, हम प्रकृति की उन उलझनों का विवरण दे रहे हैं जिसे किसी भी इंसान द्वारा नहीं कल्पना की जा सकती है।

भूगोल में और पढ़ें

विज्ञान

जानें रैन्समवेयर क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है

पिछले कुछ दिनों से कंप्यूटर जगत में एक अनजाना नाम सुर्खियों में छाया हुआ हैl दुनिया की हर बड़ी कम्पनियों, सुरक्षा एजेंसियों, विभिन्न मंत्रालयों एवं शैक्षिक संस्थानों में इस नाम की चर्चा चल रही हैl यह नाम है- रैन्समवेयरl क्या आपको पता है रैन्समवेयर क्या है और क्यों कंप्यूटर जगत इस नाम से घबराया हुआ है? यदि आपका उत्तर नहीं है तो इस लेख को पढ़ने के बाद आपको अपने प्रश्न का उत्तर मिल जाएगाl

विज्ञान में और पढ़ें

भारतीय राजव्यवस्था

जानें भारत का गलत नक्शा दिखाने पर कितनी सजा और जुर्माना लगेगा

भारत के नक़्शे के साथ छेड़छाड़ की घटनाओं को देखते हुए सरकार “भू-स्थानिक सूचना बिल 2016” लाने का विचार कर रही है. इस बिल  के अनुसार, भारत की किसी भी भू-स्थानिक जानकारी को प्राप्त करने, प्रसार, प्रकाशन या वितरण करने से पहले सरकारी प्राधिकरण से अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया है. यदि कोई भारत के नक़्शे का गलत प्रसार, प्रकाशन या वितरण करता है तो उस पर 100 करोड़ रुपये का जुर्माना या 7 साल की कैद हो सकती है.

भारतीय-राजव्यवस्था में और पढ़ें

अर्थव्यवस्था

जानें विश्व के किन देशों में सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है?

OECD की ग्लोबल रिपोर्ट के अनुसार, विश्व में सबसे ज्यादा सैलरी देने वाला देश लक्जमबर्ग है, जहाँ पर कर्मचारी को प्रति वर्ष 40 लाख रुपये मिलते हैं. इसके बाद अमेरिका का नंबर आता है जहाँ पर एक कर्मचारी को औसतन 37.85 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलता है. भारत में अत्यधिक कुशल कर्मचारी को औसतन 6 लाख रुपये प्रति वर्ष मिलते हैं.

अर्थव्यवस्था में और पढ़ें

पर्यावरण और पारिस्थितिकीय

बीएस 3 एवं बीएस 4 वाहनों में अन्तर

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 1 अप्रैल 2017 से भारत में बीएस-3 इंजन वाले वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है तथा 1 अप्रैल से देश में केवल बीएस-4 इंजन वाले वाहन ही बनाये और बेचे जाएंगेl वास्तव में बीएस का अर्थ "भारत स्टेज" है और इससे वाहनों से होने वाले प्रदूषण का पता चलता हैl बीएस के जरिए ही भारत सरकार वाहनों के इंजन से निकलने वाले धुएं से होने वाले प्रदूषण को मापती हैl बीएस मानक सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड तय करता है। देश में चलने वाले हर वाहन के लिए बीएस का मानक जरूरी हैl इस लेख में बीएस-3 इंजन वाले वाहनों और बीएस-4 इंजन वाले वाहनों तथा इन वाहनों से होने वाले प्रदुषण के स्तर में अन्तर का विवरण दे रहे हैंl

पर्यावरण-और-पारिस्थितिकीय में और पढ़ें

सामान्य ज्ञान सूची

विश्व में सबसे दुर्लभ वस्तुओं की सूची

हम यहां सामान्य जागरूकता के लिए विश्व में सबसे दुर्लभ वस्तुओं की सूची दे रहे हैं जिसमे दुनिया की सबसे दुर्लभ कार, सबसे दुर्लभ हीरा, सबसे दुर्लभ पन्ना, सबसे दुर्लभ हस्ताक्षर और सबसे दुर्लभ डाक टिकट इत्यादी जैसे तथ्यों को सम्मिलित किया गया है.

सामान्य-ज्ञान-सूची में और पढ़ें

Register to get FREE updates

All Fields Mandatory
  • Please Select Your Interest
  • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

जागरण जोश के सामान्य ज्ञान सेक्शन का मुख्य उद्येश्य आईएएस / पीसीएस / एसएससी / सीडीएस एवं बैंकिंग जैसे प्रतियोगी परीक्षाओं की तयारी कर रहे सभी उम्मीदवारों को विस्तृत एवं सटीक जानकारी प्रदान करना है| भारत में नंबर एक शिक्षा पोर्टल के रूप में विख्यात जागरण जोश भारत और विश्व के इतिहास, भूगोल, राजनीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, कला और संस्कृति जैसे अलग अलग विषयों पर आधारित सामान्य ज्ञान क्विज एवं सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न-उत्तर उपलब्ध करवाता है| हमारे अध्ययन सामग्री की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि इसे प्रतिष्ठित लेखकों द्वारा तैयार किया जाता है जो पूरी तरह से प्रमाणिक एवं मौलिक होता है| यह पूरी अध्ययन सामग्री हमारे वेबसाइट के सामान्य ज्ञान सेक्शन में उपलब्ध है|
सामान्य ज्ञान सेक्शन के प्रमुख हिस्से हैं:
1. जनरल नॉलेज क्विज/ सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के नवीनतम पाठ्यक्रम पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी| अगर कोई विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करना चाहते हैं तो वे हमारे सामान्य ज्ञान सेक्शन में जाकर विभिन्न विषयों से संबंधित सामान्य ज्ञान के मुश्किल और आसान प्रश्नों को सामान्य ज्ञान क्विज के माध्यम से हल कर सकते हैं|
2. जनरल नॉलेज सूची: यह सेक्शन न केवल प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे उम्मीदवारों की जरूरतों को पूरा करता है बल्कि यह सामान्य पाठकों के लिए भी बहुत उपयोगी है।
3. सामान्य ज्ञान  तथ्य: इस सेक्शन में पौराणिक कथाओं, विज्ञान, रक्षा आदि जैसे विभिन्न विषयों से संबंधित सामान्य ज्ञान पर आधारित शोध सामग्री उपलब्ध है|
हमारे सामान्य ज्ञान सेक्शन की सबसे महत्वपूर्ण एवं अनूठी विशेषता यह है कि इसमें पूरी अध्ययन सामग्री हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है।
आइये अपने सामान्य ज्ञान को बढ़ाने के लिए सबसे मौलिक एवं प्रामाणिक अध्ययन सामग्री का लाभ उठाने की दिशा में शुरूआत करें|

view more

Newsletter Signup

Copyright 2017 Jagran Prakashan Limited.