Jagranjosh Education Awards 2021: Click here if you missed it!

चूजे अंडों में कैसे सांस लेते हैं

Jagran Josh

पक्षियों के भ्रूण में फेफडे नहीं होते हैं। अंडा भी पूरी तरह एयरटाइट नहीं होता है, उसमें से हवा का आना-जाना लगा रहता है। अंडे में एक विशेष प्रकार की झिल्ली एलनटॉयस सॉसेज के आकार में इसके चारों तरफ लिपटी रहती है। इस झिल्ली में बेहद बारीक रक्त वाहिकाएं या ब्लड वैसेल्स होती हैं, जो ऑंसीजन के ग्रहण करने पर फैल जाती हैं। एलनटॉयस की वजह से ही जीव समुद्र से जमीन पर जा पाते हैं। मछलियों और उभयचरों या एम्फीबियंस में एलनटॉयस नहीं होती, लेकिन पक्षियों और रेप्टाइल्स के अंडों में यह पाई जाती है। मैमल्स में भी एलनटॉयस पाई जाती है, जो बाद में गर्भनाल या अमबिलिकल कॉर्ड को विकसित करती है।

अंतरिक्ष में लोग उल्टा क्यों सोते हैं

अंतरिक्ष में कोई गुरुत्वाकर्षण नहीं होता, इसलिए अंतरिक्ष यात्री गुब्बारे की तरह उल्टे-पुल्टे होते रहते हैं। इन्हें सोने के लिए एक बैग दिया जाता है जिसे बर्थ से बांध दिया जाता है, जिससे ये लोग आराम से सो सकें। जब अंतरिक्ष यान पृथ्वी के चारों ओर चक्कर काटता है तो गुरुत्वाकर्षण के विरुद्ध एक बल लगता है जिसे जीरो ग्रैविटी या शून्य गुरुत्वाकर्षण कहते हैं। अंतरिक्ष यात्रियों को इसी स्थिति में खाने-पीने, सोने और काम करने का महीनों अभ्यास कराया जाता है।

टीआरपी रेटिंग क्या होती है?

टीआरपी का मतलब है टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स। एक तरह से ये टेलीविजन कार्यक्रमों की लोकप्रियता मापने का तरीका है, जिसमें विभिन्न कार्यक्रमों को अंक दिये जाते हैं। ये काम टेलीविजन ऑडिएन्स मेजरमेंट (टैम) संस्था करती है। टैम देश भर में कई छोटे-बडे शहरों का चयन करके उसमें विभिन्न वर्ग के लोगों के घर तलाश करती है और फिर उनके टेलीविजन पर एक मीटर लगाती है। ये एक छोटा सा काला बंसा होता है जो ये नोट करता है कि आपने कब कितनी देर कौन से टेलीविजन चैनल का कौन सा कार्यक्रम देखा। महीने के अंत में ये आंकडे जुटाकर उनका विश्लेषण किया जाता है और उससे पता चलता है कि कौन सा कार्यक्रम कितना लोकप्रिय है।

How Stuff Works :

कार इंजन

1. जब कार की चाबी इग्नीगेशन में लगाते हैं, तो कार बैट्री पॉवर स्टार्टर मोटर को इलेंिट्रसिटी को ट्रांसमीट करती है।

2. मोटर क्रेंकशॉफ्ट मैकेनिज्म को घुमाती है, जो इनलेट वॉल्व को खोलने के लिए दबाव बनाता है।

3. जैसे ही इनलेट वॉल्व खुलता है, सिलेंडर में लगा पिस्टन हवा और फ्यूल की थोडी मात्रा को अंदर भरने के लिए नीचे की ओर जाता है।

4. इसके बाद पिस्टन फ्यूल और एयर के मिक्सचर पर दबाव बनाने के लिए ऊपर की तरफ जाता है। जैसे ही पिस्टन सिलेंडर के टॉप पर पहुंचता है, स्पार्क प्लग फ्यूल मिंसचर को इग्नाइट करता है। इस प्रक्रिया से पैदा हुई गैसें पिस्टन पर दबाव बनाते हुए उसे नीचे की तरफ धकेलती हैं और क्रैंकशॉफ्ट को आगे चलने के लिए ऊर्जा मिल जाती है।

5. जब पिस्टन सिलेंडर के नीचे की तरफ पहुंचता है, तो एग्जॉस्ट वॉल्व से गैसें निकल कर टेलपाइप तक पहुंचती हैं। जिसके बाद एक इंजन प्रक्रिया का एक चक्र पूरा होता है.

 

Trending Now

Related Categories

Live users reading now