रिज्यूम को शॉर्ट-लिस्ट करवाने की कुछ महत्वपूर्ण युक्तियाँ

रिज्यूम ही साक्षात्कारकर्ता के लिए एक उम्मीदवार का पहला और पूर्ण परिचय है. यह उम्मीदवार कि प्रकृति, कौशल, करियर से जुडी वरीयताएँ तथा रुचियों बारे में नियोक्ता को सूचनाएं देता है.

नौकरी ढूढने वालों को आश्चर्य होता है कि नौकरी के लिए रिज्यूम भेजने के बाद भी उनके पास इंटरव्यू की कॉल नहीं आती है. यहां हमने उन रहस्यों को उजागर किया है जो निश्चित रूप से आपको एक अच्छा रिज्यूम बनाने में आपकी मदद करेगा और आपकी नौकरी पाने की सम्भावना को बढ़ाएगा.

प्रोफ़ाइल का सारांश लिखें

रिज्यूम का सारांश आपके पेशेवर जिन्दगी के अनुभवों तथा निजी जिंदगी के अनुभवों के बारे में सूचना देता है. यह आपके करियर की यात्रा के बारे में बताता है और साथ ही यह भी बताता है कि 'आपने इसे कैसे तय किया. अगर आपका सारांश यह चीज अच्छे से बताता है तो एक साक्षात्कारकर्ता को इसके अलावा आपसे कुछ भी पूछने की जरूरत नहीं है . एक अच्छा सारांश पूरे रिज्यूम में दी गयी सूचनाओ के बारे में संक्षिप्त रूप से बताता है. इसीलिए अपने रिज्यूम मेंअनुभाग को शामिल करें और अपने को  शॉर्ट लिस्ट करने की संभावनाओं को बढ़ाएं.

रिज्यूम को कस्टमाइज़ करें

यदि आपके रिज्यूम की सामग्री, जिस नौकरी के लिए आप आवेदन कर रहे हैं, के लिए  प्रासंगिक नहीं हैं, तो असफलता मिल सकती है. आपका रिज्यूम आपके नियोक्ता को यह बताता है कि आप नौकरी के लिए कैसे उपयुक्त हैं?  रिज्यूम में आप अपनी सबसे महत्वपूर्ण कौशलों को लिखें. इसीलिए जब आप फिर से रिज्यूम लिखना शुरू करते हैं तो उसमें नौकरी के लिहाज से प्रासंगिक चीजों का जिक्र सबसे पहले करें.

 इसे छोटा और सरल रखें

यदि आप पोस्ट ग्रेजुएट हैं तो इसके लिए एक पेज पर्याप्त है. आप पढ़ाई के दौरान अर्जित  अपनी उपलब्धियों का जिक्र कर सकते हैं. अगर आपकी उपलब्धियां ज्यादा हैं तो आप एक पेज से ज्यादा भी इस्तेमाल कर सकते हैं. कभी-कभी, उम्मीदवार 2, 3 या 4 पेज तक लिखते हैं  और अंतिम पेज के आधे हिस्से को खाली छोड़ देते हैं. ऐसे केस में, आप दिए हुए पेजों में ही अपनी सामग्री को सीमित करने की कोशिश करें ताकि  पूरे पेज में  जरूरी सूचनाओं से भरा जा सके. यह दिखने में भी अच्छा भी  लगेगा और पढने में भी आसान होगा.

 कीवर्ड शामिल करें

डिजिटल युग में ज्यादातर कंपनियों ने उम्मीदवारों  को शॉर्ट लिस्ट करने के लिए आवेदक ट्रैकिंग सिस्टम (एटीएस) को अपनाना  शुरू कर दिया है. यह हर गुजरते दिन के साथ रिज्यूम को  शॉर्टलिस्ट करने का लोकप्रिय तरीका बनते जा रहा है.

यह सिस्टम नौकरी विवरण की तीन पंक्तियों के कीवर्ड में से रिज्यूम को शॉर्टलिस्ट करता है. इसलिए, उम्मीदवारों के लिए महत्वपूर्ण है कि वे अपनी नौकरी पोस्टिंग पर आवेदन करने से पहले कीवर्ड्स पर ध्यान दें.

 आसान स्टाइल और फॉण्ट का इस्तेमाल करें

भले आपने कितना अच्छा रिज्यूम बनाया हो अगर आपका रिज्यूम  पढ़ने में आसान नहीं है, तो साक्षात्कारकर्ता इसे पढने में अपना टाइम जाया नही करना चाहेगा. उसके पास पहले से ही बहुत सारे रिज्यूम होते हैं. इसलिए आपको  रिज्यूम का आकार और फ़ॉन्ट शैली को पढ़ने के लिए सुविधाजनक बनाना महत्वपूर्ण है.

आप सामान्यतया  12 के आकार के 'टाइम्स न्यू रोमन' को अपना सकते हैं. यह पढ़ने में  आसान होता है.  बहुत छोटे आकार के  फोंट्स का उपयोग करने से बचें.

 बुलेट प्वाइंट्स का इस्तेमाल करें

अपने रिज्यूम में बुलेट  प्वाइंट्स में अपने बात लिखने से न चूकें.  आप बुलेट प्वाइंट्स में अपनी सूचनाएं लिख कर  अपने नियोक्ता को प्रभावित कर सकते हैं  इसके लिए आप य '5 डब्लूएस और 1 एच' का इस्तेमाल कर सकते हैं. यह ऐसे  सवालों का जवाब देते हैं जैसे 'आपने पिछले संगठन में क्या काम किय? आपको यह जिम्मेदारी किसने दी? इसका परिणाम क्या था ? आदि आदि.  '' आपकी समझ बढाने के लिए यहां हम बुलेट  प्वाइंट्स लिखने के कुछ बुनियादी सूत्र दे रहे हैं:

विशेषज्ञता  

क्या किया    

परिणाम  

आपने काम को  कैसे पूरा किया

 निष्कर्ष

रिज्यूम एक ऐसे चीज है जो साक्षात्कारकर्ता का ध्यान आकर्षित करती है  और उसे पूर्व-चयन प्रक्रिया के लिए उम्मीदवार को बुलाने के लिए राजी करती है . ऐसा तब होता है जब आपका रिज्यूम  सभी पैमानों को पूरा करता हो. अधिकतर उम्मीदवार रिज्यूम लिखते समय कई त्रुटियां करते हैं. इस प्रकार, वे साक्षात्कारकर्ता की तरफ से इंटरव्यू  कॉल प्राप्त करने में विफल रहते हैं.

हमें उम्मीद है, ये युक्तियाँ आपको एक अच्छा रिज्यूम  बनाने में मददगार साबित होंगी.

Related Categories

Also Read +
x