2019 में प्रोफेशनल ग्रोथ के लिए इन 5 आदतों से रहें दूर

जीवन के अंतिम क्षण तक अपने आप में सुधार करने तथा कुछ सीखने की संभावना बनी रहती है. प्रगति और परिवर्तन ही जीवन को रफ़्तार देते हैं. हर किसी के नए वर्ष की शुरुआत कुछ इस तरह होनी चाहिए कि वह अतीत की गलतियों से सीख लेते हुए आगे बढ़े तथा उसे पुनः न दुहराने के संकल्प के साथ आगे बढ़े और अपने लक्ष्य को प्राप्त करें. अगर प्रोफेशनल ग्रोथ की बात करें तो हमें अपनी उन आदतों को अवश्य छोड़ देना चाहिए जिनसे हमें अतीत में थोड़ी बहुत भी हानि होने की संभावना रही या हानि हुई.इसलिए 2019 में आपके पास कई ऐसे अच्छे अवसर मिलेंगे जिनका सही समय पर सही इस्तेमाल करते हुए आप प्रोफेशनल लाइफ में ग्रोथ कर सकते हैं.लेकिन इसके लिए सिर्फ सोचने या इसे समझने मात्र से काम नहीं चलेगा. आपको इसके लिये कठिन मेहनत करने के साथ साथ हमेशा प्रयत्नशील रहना पड़ेगा. इसलिए अगर 2019 में आप प्रोफेशनल ग्रोथ की इच्छा रखते हैं तो आपको अवश्य ही इन 5 आदतों को छोड़ देनी चाहिए.

 1. अपने गट फीलिंग को कभी भी नजरअंदाज नहीं करें

याद कीजिये पिछली बार कब आपने अपने अन्दर की आवाज सुनी और उसके अनुरूप काम किया. अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने मन की आवाज को दबा कर कुछ और करने लगते हैं, कभी बाह्य परिस्थितियों वश तो कभी उसे नजरअंदाज करके. लेकिन यकीन मानिए अगर आप हमेशा अपने मन की आवाज को दबाते रहेंगे, तो हो सकता है भविष्य में आपको इसका बहुत खतरनाक परिणाम झेलना पड़े.वस्तुतः मन की आवाज एक ऐसी आवाज होती है जो व्यक्ति को जीवन से जुड़े सही निर्णय लेने में भरपूर मदद करती है. इसलिए व्यक्तिगत तथा प्रोफेशनल दोनों ही जीवन में उसको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. जीवन में बहुत सारी ऐसी समस्याएं आती हैं जिनका एकमात्र समाधान अपनी चेतना की आवाज के आधार पर ही किया जा सकता है. इसलिए बेहतर यही होगा कि आप अपने मन की आवाज को दबाने की बजाय उसको सुनें तथा उसके अनुकूल जीवन से जुड़े सभी सही फैसले लेने का साहस जुटाएं. इससे आपका आत्म विश्वास भी बढ़ेगा तथा संतुष्टि का भाव भी उत्पन्न होगा.

2. अपने दुखों के लिए दूसरों को दोषी न ठहराएँ

वस्तुतः अपने दुखों का कारण किसी और को मानना बहुत आसान होता है तथा इससे व्यक्ति विशेष को एक मानसिक संतुष्टि मिलती है. मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि दूसरो पर दोष थोपना एक मनोवैज्ञानिक समस्या है जिसमें व्यक्ति किसी कार्य की जिम्मेदारी लेने से बचने के लिए दूसरों पर आरोप मढ़ना शुरू कर देता है. अपने किये गए कार्यों की जिम्मेदारी खुद पर नहीं लेना करियर ग्रोथ में बाधक हो सकता है. इसलिए 2019 में कम से कम इतना संकल्प लें कि अब आप अपनी गलतियों के लिए दूसरों को जिम्मेदार नहीं ठहराएंगे तथा अपनी गलतियों से सबक लेकर उसे पुनः न दुहराने के लिए प्रतिबद्ध होंगे.

मानलीजिये अगर कुछ समय के लिए आप अपनी इस आदत का शिकार होते हैं तो वहां पर कुछ देर खुद को रोककर अपने विचारों पर नियंत्रण रखते हुए अपने आप से सवाल करें कि "क्या यह वास्तव में स्थिति से निपटने का एक सही तरीका है?"  याद रखिये दूसरों को दोषी ठहरा के आपको किसी भी समस्या का हल नहीं मिलेगा.आपका दुःख दूसरों के कार्यों का नतीजा नहीं हो सकता है. अपने कार्यों की जिम्मेदारी लीजिए और अपनी ऊर्जा को सही दिशा में लगाइए. यह निश्चित रूप से आपके सहयोगियों को प्रभावित करने और आपकी एक ऐसी पेशेवर छवि बनाने में आपकी सहायता करेगा जिस पर आपको गर्व होगा. इसलिए अपनी गलती का कारण दूसरों को बताने की बजाय समस्या का समाधान करने वाला इंसान बनने की कोशिश करें. इससे आपकी  पर्सनल तथा प्रोफेशनल ग्रोथ दोनों ही संभव होगी.

3. यस मैन बनने से बंचे

ऑफिस लाइफ में अक्सर लोग यह मानकर बैठ जाते हैं कि ऑफिस में ग्रोथ तथा प्रोमोशन के लिए यस बॉस बनना जरुरी होता है. लेकिन ऐसी बात नहीं है कि यदि आप अपने ऑफिस लाइफ में सफल होना चाहते हैं, तो आपको एक यस मैन होने की आवश्यकता है. इसके लिए आपको हमेश ा हर बात से सहमत होना होगा जो आपके मैनेजर या सीनियर कह रहे हैं. कार्यालय में सफल होने के लिए आपको अपने आपको यह विश्वास दिलाने की जरूरत है कि हर बात पर हाँ कहने से उन्नति नहीं होती है.ध्यान रखिये हर जगह आपकी इस आदत की सराहना नहीं होगी.ऑफिस में अपना इम्पोर्टेंस दिखाने के कई अन्य तरीके भी हो सकते हैं. ईमानदारी पूर्वक काम करें. जिस ऑर्गनाइजेशन में आप काम करते हैं उसके उद्देश्यों को प्राप्त करने में अपना भरपूर और महत्वपूर्ण योगदान दें.दूसरे को खुश करने के बजाय अपनी प्रतिबद्धताओं और प्राथमिकताओं को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित करना शुरू करें. इससे अपने आप आपकी एक कर्मठ और ईमानदार कर्मचारी की छवि बनेगी.

4. कम्फर्ट जोन से बाहर निकलें

कभी कभी हम एक ही काम या एक ही ऑफिस में काम करते करते कम्फर्ट जोन में आ जाते हैं. इस वजह से दूसरे तथा नए कार्यों को लेने में हमें परेशानी होने लगती है. लेकिन जीवन में तथा करियर में अगर आगे बढ़ना है तो अपने कम्फर्ट जोन से बाहर नकलें  और नित्य नए कार्यों को जिम्मेदारी पूर्वक करें. इससे आपमें मल्टीटैलेंट क्वालिटी का विकास होगा तथा यह आपके व्यावसायिक सफलता और करियर के निर्माण में बहुत ही सहायक होगा. इसलिए जब कभी भी आपको एक नई भूमिका या चुनौतीपूर्ण जिम्मेदारियों के लिए कहा जाता है तो उसे सहर्ष स्वीकार करने की आदत डालें.

 5. दूसरों के साथ अपनी बराबरी नहीं करें

वस्तुतः दूसरों से तुलना करना एक दोधारी तलवार की तरह होता है. एक तरफ यह हमें दूसरों की तुलना में बड़ा और बेहतर बनने के लिए प्रेरित करता है,वहीं दूसरी तरफ यह ईर्ष्या और  आत्मसम्मान की कमी जैसी नकारात्मक भावनाओं को भी जन्म देता है. खासकर हमारे डेली ऑफिस लाइफ रूटीन में तो यह एक बड़ी समस्या है.ऑफिस  में सहकर्मियों की तुलना करना और दूसरों की तुलना में अपने परफॉर्मेंस को मापना एक बहुत बड़ी भूल होती है. हर किसी कि अपनी विशिष्टताएं तथा एक्सपर्ट एरियाज होते हैं.  बेहतर यही है कि आप अपना बेस्ट देने की कोशिश करें.

इसलिए 2019 में एक नए उमंग तथा उत्साह के साथ अपने प्रोफेशनल लाइफ की शुरुआत करते हुए इन 5 गलतियों को न दुहराने के लिए संकल्प लें तथा उस पर अमन करें.

करियर से जुड़े ऐसे ही कुछ अन्य आर्टिकल्स के लिए https://www.jagranjosh.com/jobs पर लॉग-इन करते रहें.

Advertisement

Related Categories