Advertisement

UP Board कक्षा 10 और 12 की board परीक्षा को क्रैक करने के 7 महत्त्वपूर्ण मन्त्र

हाईस्कूल की बात करें या इंटरमीडिएट ये दोनों ही एग्जाम छात्रों के लिए काफ़ी एहमियत रखते हैं | क्यूंकि यह ही एक ऐसा आधार है, जिसमें छात्रों के मार्क्स एक एक अहम भूमिका निभाते हैं| क्युकि अच्छे कॉलेज की कट ऑफ बहुत ऊँची जाने लगी है | ऐसे में तैयारी अच्छी होना काफी ज़रूरी है | यूपी बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले कई छात्र अपनी तैयारियों में नाकाम रहें हैं। बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए बनाई गई रणनीति के अनुसार काम करते समय छात्र अक्सर उसे आधे में ही छोड़ देते हैं। ऐसे में कई छात्रों को यह भी स्पष्टरूप से नहीं मालूम होता है कि यूपी बोर्ड परीक्षा की तैयारी अंतिम दौर में कैसे करनी चाहिए ताकि बिना स्ट्रेस वह परीक्षा सही तरीके से दे पायें l समय बीत जाने पर छात्र चिंता व अवसाद से ग्रसित हो जाते हैं। यहाँ हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बतायेंगे जिसके ज़रिये आप आसानी से बिना स्ट्रेस अपनी हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के एग्जाम में अच्छे मार्क्स प्राप्त कर सकते हैं |

1. मन शांत करके पढ़े :

पढ़ाई के दौरान आपकी स्थिति अच्छी होनी चाहिए क्यूंकि अब आपके पास काफी कम समय है तो मनन शांत रखे और पूरी एकाग्रता से पढ़ाई करें । दिमाग(Mind) शांत होना चाहिए | क्यूंकी जब भी आप कुछ पढ़ोगे उस वक्त आपका सबसे ज़्यादा दिमाग काम करेगा, आप क्या पढ़ रहे हो उसे समझने के लिए आपका दिमाग शांत होना ज़रूरी हैं। इसलिए आपको दिमाग काबू मे रख कर पढाई करनी होगी, पढ़ाई के समय मन ना भटकाए | पढ़ाई मे ही कॉन्सेंट्रेट करे। मेडिटेशन भी कर सकते है इसके लिए ताकि आप ठीक तरीके से कॉन्सेंट्रेट कर सकें |  

2. शांत स्थान का चुनाव करें :

अगर आपका पढ़ाई का माहौल अच्छा होगा तो तनाव भी आपसे दूर रहेगा | परीक्षा के दिनों में आपका पढ़ाई के लिए ऐसा माहौल होना चाहिए, जहाँ आपको किसी भी प्रकार की बाधा न आये |आप किसी अलग कमरे में पढ़ाई कर सकते है जहाँ कोई और न हो | आप टेलीविज़न की आवाज और म्यूजिक से तथा अन्य किसी भी प्रकार के शोर – शराबे से दूर रहे जिससे आपको कोई अवरोध न हो |

 3. तुलना कभी नहीं करें :

अक्सर ऐसा होता है की हम एग्जाम के समय दोस्तों से तुलना करने लगते हैं कि उसने कितना पढ़ा या नही  सभी के काम करने का तरीका अलग होता है| इसलिए आप अपने दोस्‍तों से खुद की तुलना करते हैं तो याद रहे कि आपके हाथ बस निराशा ही आएगी |आप जो भी पढ़ रहें है उसमे अपना 100 पर्सेंट दें | कई बार ऐसा होता है कि हम अपनी क्षमता से आगे के प्‍लान बना लेते हैं | इसलिए सबसे पहले अपनी क्षमता पहचाने और फिर अच्छे तरीके से तैयारी करें |

यूपी बोर्ड एग्जाम की तैयारी के अनोखे तरीके

4. मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के पेपर्स :

यूपी बोर्ड के एग्जाम्स में आपकी किताबें और संदर्भ पुस्तकें आपके प्राथमिक हथियार होते हैं l लेकिन अगर आपको एग्जाम में आने वाले प्रश्नों के लेवल के बारे में जानकारी नहीं है तो ऐसे में आपको प्रश्नों के फॉर्मेट, टाइप और स्टाइल की जानकारी आपको मॉक टेस्ट और पिछले सालों के पेपर्स को सॉल्व करके ही मिलेगी। प्रश्नों के साथ ही इस मॉक टेस्ट में यूपी बोर्ड के प्रश्न पत्रों में सही उत्तर और उनकी डिटेल में व्याख्या भी दी जाती है ताकि छात्रों को किसी प्रश्न को समझने में किसी तरह की परेशानी ना हो। 
मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र के सेट आसानी से ऑनलाइन भी उपलब्ध हैं। आप चाहें तो मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के पेपर्स ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। 

5. जल्दी के फेर में न पड़ें :

अक्सर देखा गया है कि एग्जाम के समय हम जल्दी-जल्दी अपना टॉपिक पूरा करना चाहते हैं इस जल्दबाज़ी में हम कई बार कुछ टॉपिक्स अच्छे से नहीं पढ़ पते है| अगर आपको लग रहा है कि किसी पाठ को समझने में आपको ज्यादा वक्त लग रहा है तो कोई बात नहीं। पढ़ाई में वक्त तो लगता ही है। जल्दी करने के चक्कर में आप दुविधा में पड़ने लगते हैं और फिर तनाव से ग्रस्त हो जातें हैं | इसलिए जो भी पढ़े खुद को बिकुल स्ट्रेस फ्री रख कर पढ़ें |

6. रिविजन के लिए फरवरी सबसे अच्छा :

बोर्ड परीक्षा के लिए फरवरी का महिना काफी अहम है, इसलिए अब आप कुछ नया मत पढ़िए | जो पढ़ चुके हैं, वह काफी है | अब बचे हुए समय मे जितना ज्यादा हो सके रिविजन करे | रिविजन में सभी विषयों को बराबर समय दें | किसी सब्जेक्ट में अगर आप स्ट्रोंग है तो उस समय को कमजोर विषयों के रिविजन में लगायेगे तो आप सभी विषयों में अच्छे मार्क्स  लाने में सफल हो सकते हैं | आप हफ्ते में एक दिन किसी एक विषय की परीक्षा समय बचाकर घर में ही खुद देने की कोशिश करें |

7. प्रश्नों को लिखने का तरीका सुधारें :

कभी-कभी आपको सभी प्रश्नों के उत्तर पता होते हैं और आप बहुत अच्छे से उन्हें हल भी करते हैं लेकिन फिर भी कम मार्क्स मिलते हैं इसका एक ही कारण हैं आपके लिखने का तरीका | सबसे पहले अपने लिखने का तरीका बदले |

  • हैण्ड राइटिंग अच्छी होनी चाहिए
  • सफाई से लिखें जो भी लिखे
  • प्रश्न के उत्तर को हैडिंग, सब हैडिंग के साथ लिखें
  • बुलेट पॉइंट्स ज़रूर दें
  • एक डायग्राम जरुर बनाएं जहाँ आवश्यकता हो
  • टेबल भी बनाये

इस तरह से लिखने पर चेकर कभी आपके मार्क्स नहीं कटेगा और अगर आप सवाल के एक्यूरेट उत्तर को नहीं भी जानते हैं और आप वह प्रश्न छोड़ना नहीं चाहते हैं तब उन्हें इस तरह से हल करने पर आपको आधे या उससे ज्यादा मार्क्स मिलेंगे | यह तरीका हमेशा फायदेमंद होता हैं |उपर लिखे पॉइंट्स को मद्देनज़र रखते हुवे महत्वपूर्ण प्रश्नों को हल करे और अपनी नोट बूक में लिखे |ताकि आपको इस पैटर्न की आदत हो जाये |

निष्कर्ष :  ऊपर दिए गये सुझावों को अगर आप अपने दिनचर्या में शामिल कर पढ़ना शुरू करें तो निश्चित ही बिना किसी दुविधा आसानी से आप एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं |  क्युकि पढ़ाई हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा हैं, और अगर हमें पढ़ना हैं, तो एग्जाम तो देने ही पढ़ेंगे इसलिए परीक्षाओं से डरे नही बल्कि पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी परीक्षा की तैयारी करें। हल्का तनाव या दबाव होना स्वाभाविक हैं,लेकिन ज्यादा घबराहट परेशानी का कारण बन सकती हैं । यह आपके चारों ओर एक नकारात्मक घेरा बना देती हैं जिसका बुरा असर आपके पढाई पर पड़ता हैं। इसलिए तनाव को हटा कर अपनी पढ़ाई पर ध्यान दें । अपना पढ़ने का समय निश्चित कर लें और अच्छे से अपनी विषय की रिवीज़न करें और अच्छे अंकों  के साथ अपनी परीक्षा को पास करें |

Advertisement

Related Categories

Advertisement