कैसे पढ़ते हैं Board Exams में टॉपर रहने वाले छात्र: ज़रूर जानें ये 8 बातें

पिछले कुछ वर्षों में सीबीएसई को अपनी बोर्ड परीक्षाओं में कुछ ऐसे टॉपर्स मिले हैं जिनके द्वारा प्राप्त किए अंक देखकर हर कोई हैरान रह गया. कई ऐसे विद्यार्थी थे जिन्होंने उच्च माध्यमिक कक्षा के इम्तिहान में लगभग 100% के करीब अंक हासिल किए, जो एक अचंभा सा ही प्रतीत होता है. मानो इन विद्द्यार्थियों को भगवान् की ओर से कुछ अलग ही दिमागी शक्ति मिली हो. पर असल में ऐसा कुछ भी नहीं है. टॉपरस कोई जादूगर नहीं होते. फ़र्क सिर्फ़ हमारी और उनकी पढ़ने की आदतों में होता है. जहाँ आप घंटों पढ़ने के बाद भी सामान्य अंक ही प्राप्त कर पाते हैं, वहीं यह सफ़ल विद्यार्थी कम समय में ही एक सही रणनीति के अनुसार असरदार तरीके से पढ़ाई करते हुए बाज़ी मार जाते हैं.

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि किन ख़ास आदतों की वजह से ये विद्यार्थी सफ़लता की ऊँचाइयों को छूने में कामयाब हुए. इसलिए अगर आप भी इन टॉपर्स की लिस्ट में शामिल होना चाहते हैं तो मेहनत के साथ-साथ सीबीएसई टॉपर्स की इन ख़ास आदतों को ज़रूर अपनाएं :

1. हमेशा योजनाबध तरीके से करें पढ़ाई

सभी सफ़ल विद्यार्थी भविष्य के कार्यों के लिए पहले से एक योजना बनाके रखते हैं. वे दिनचर्या की सभी गतिविधियों के लिए एक ख़ास समय निर्धारित करके चलते हैं जिससे वे कभी पीछे नहीं हटते. दरअसल सही तरीके से बनाया गया स्टडी शेड्यूल आपको सफ़ल बनाने में सबसे ज़्यादा कारगर साबित होता है. इससे आपको रोज़ के अनेक कार्यों को संतुलित तरीके से करने में मदद मिलती है. इसके अलावा एक सही स्टडी शेड्यूल अपनाने से आपके भीतर एक स्थिरता आती है जिससे आप शारीरिक तथा मानसिक रूप से हर स्टडी सेशन के लिए पहले से ही तैयार रहते हैं. साथ ही योजनाबध तरीके से बनाये गये स्टडी शेड्यूल से आपको मनोरंजक गतिविधियों तथा अपने शौंक पुरे करने के लिए भी पर्याप्त समय मिल जाता है.

पढ़ते समय आने वाली नींद को कैसे भगाएं दूर: यह 8 उपाए करेंगे आपकी मदद

2. सब कुछ एक ही बार में रटने की गलती न करें

ज़्यादातर सफ़ल विद्यार्थी अपने पढ़ाई के समय को छोटे-छोटे सत्रों में बाँट लेते हैं. अपनी पढ़ाई की रणनीति बताते हुए एक सीबीएसई टॉपर ने बताया, “मैं हमेशा अपनी मानसिक और शारीरिक क्षमता के अनुसार ही पढ़ती हूँ. जब भी मैं थका हुआ महसूस करती हूँ तो मैं पढ़ाई से ब्रेक ले लेती हूँ, जिसमें मैं आराम करती हूँ ताकि मेरा दिमाग फ्रेश और रिचार्ज हो जाए और मैं चीज़ों को अच्छे से याद कर सकूँ.” यह काफी लॉजिकल भी है कि ज़्यादा देर तक काम करने के बाद हम थक जाते हैं जिसके बाद हमारी कार्य कुशलता भी कम हो जाती है.और फिर ज़बरदस्ती काम करने से प्रभावशाली नतीजे नहीं मिल पाते हैं. इसलिए ज़रूरी है कि रेगुलर पढ़ाई करें पर छोटे-छोटे सत्रों में बाँट कर.

3. स्टडी नोट्स बनाना कभी ना भूलें

ज़्यादातर सफ़ल छात्र स्टडी नोट्स को भी अपनी सफ़लता के पीछे का एक बड़ा कारण मानते हैं. एक सीबीएसई टॉपर ने अपनी सक्सेस स्टोरी शेयर करते हुए बताया कि स्टडी नोट्स के द्वारा आप विस्तृत सामग्री को सीमित रूप में तथा सरल भाषा में लिख सकते हैं जिससे इम्तिहान के समय तैयारी करने में बहुत मदद मिलती है. इसके अलावा स्टडी नोट्स आपको कक्षा में पढ़ाये गये सभी महत्त्वपूर्ण टॉपिक्स को याद रखने में काफी मदद करते हैं. 

4. रात के समय पर्याप्त नींद लेना है बेहद आवश्यक

ज़्यादातर सफ़ल छात्र देर रात तक पढ़ाई करने से बचते हैं  क्योंकि रात के समय आप पढ़ाई के बजाए खुद को जगे रखने में ज़्यादा प्रयास लगाते हैं जिससे आपकी चीज़ों को याद रखने की क्षमता काफ़ी हद तक प्रभावित होती है. इसलिए बेहतर होगा अगर आप ज़बरदस्ती अपनी आँखों को खुला रखने में सारी  मेहनत झोंकने की बजाए रात के समय पर्याप्त नींद लें. इससे आपके दिमाग को दिन भर में याद की गयी चीज़ों को पक्का करने में तो मदद मिलेगी ही और साथ ही उचित मात्र में नींद लेने के बाद आपका दिमाग फिर से नयी चीज़ों को कुशलतापूर्वक समझने तथा याद करने के लिए भी तैयार हो जाएगा.

कक्षा 10 के बाद सही स्ट्रीम का चयन कैसे करें ?

5. अपने स्टडी शिड्यूल को भविष्य के लिए न टालें  

अपने आज के कार्य को कल तक स्थगित करना छात्रों में सामान्य पाया जाता है लेकिन टॉपर्स वे छात्र हैं जो इस तथ्य के बिलकुल विपरीत चलते हैं. सीबीएसई बोर्ड तथा यू.पी. बोर्ड के टॉपर्स से उनकी सफ़लता के राज़ जानते समय यह बात सामने आई के ये प्रभावशाली छात्र अपने स्टडी शेड्यूल को कभी भी नहीं टालते. जिसका बड़ा कारण यह है कि इससे बहुत सारे काम एकत्रित होते चले जाएंगे जिनको क्रमबद्ध करके सफलतापूर्वक तरीके से पूरा करना बेहद मुश्किल हो जाएगा. इसके अलावा बहुत सी चीज़ों को एक साथ करते समय हम अक्सर हड़बड़ी कर देते हैं जिससे स्वाभाविक ही कुछ न कुछ गलती होने की आशंका बनी रहती है.

6. हर स्टडी सेशन के लिए एक लक्ष्य निर्धारित करें

यह सफ़ल छात्रों के द्वारा अपनाए जाने वाला एक महत्वपूर्ण तरीका है जो कि काफ़ी कारगर भी साबित हुआ. जैसे आम जीवन में भी बिना लक्ष्य तय किये आप सफलता हासिल नहीं कर सकते ठीक उसी प्रकार छात्र जीवन में भी लक्ष्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. ज़्यादातर सफ़ल छात्र अपने हर स्टडी सेशन के लिए पहले सी ही एक ख़ास लक्ष्य निर्धारित करके चलते हैं  जिससे वे अपने पढ़ाई के समय का अधिक से अधिक लाभ उठा सकें. आपको यह बिलकुल सपष्ट होना चाहिए कि कितने समय में आप अपने पाठ्यक्रम का कितना भाग सफलतापूर्वक तरीके से पूरा कर सकेंगे. उदाहर्ण के तौर पर अगर आप गणित के विषय की तैयारी कर रहे हैं तो आपको एक घंटे में हल करने के लिए प्रश्नों की संख्या निर्धारित कर लेनी चाहिए.

7. हफ्ते भर में की गयी पढ़ाई का समीक्षण ज़रूर करें

सभी सफ़ल छात्र चाहे CBSE Board से हों, UP Board या अन्य किसी State Board के हों, हफ्ते भर की गयी पढ़ाई का समीक्षण करना नहीं भूलते. इससे आप हफ्ते भर की गयी मेहनत का निचोड़ निकाल सकते हैं और साथ ही जो कुछ आपने पिछले दिनों पढ़ा या याद किया है उसकी रिवीजन भी कर सकते हैं. यह एक तरीका है जिसको अपनते हुए सभी सफ़ल छात्र खुद को नई चीज़ें याद करने के लिए तयार करते हैं और उन चीज़ों के बलबूते पुरानी जानकारी को और मज़बूत बनाते हैं.

8. पढ़ाई और होबिज़ दोनों को साथ-साथ लेकर चलें

वर्ष 2017 में सीबीएसई कक्षा 12वीं में पुरे भारतवर्ष में टॉप करने वाली रक्षा गोपाल के बारे में जानते समय पता चला कि रक्षा एक बेहतरीन पियानोवादक हैं जिन्होंने ट्रिनिटी कॉलेज ऑफ म्यूजिक, लंदन से पांचवें दर्जे का सर्टिफिकेट हासिल किया है. साथ ही वे एक उत्सुक पाठक तथा ब्लॉगर भी हैं. इसी तरह 17 वर्षीय मिन्नातुल्लाह जिसने सीबीएसई कक्षा 12वीं में 93% अंक प्राप्त किये थे , जी टी.वी. के प्रसिद्ध टैलेंट हंट शो “सा रे गा मा पा लिटिल चैंप्स” का प्रतिभागी रह चुका था. इन प्रभावशाली विद्यार्थियों की सक्सेस स्टोरीज से यह ज़ाहिर होता है कि किस तरह ये टॉपर्स अपनी पढ़ाई और अपने जुनून में संतुलन बनाते हुए आगे बढ़ते हैं. दरअसल आपकी रुचियाँ तथा जुनून दिमागी प्रेशर को ख़तम करने में सबसे महत्वपूरण भूमिका निभाता है जिससे आपका दिमाग सचेत व तरोताज़ा बना रहता है.

इसलिए प्यारे विद्द्यार्थियों, अगर आप भी इन टॉपर्स की लिस्ट में अपना नाम दर्ज करवाना चाहते हैं तो कभी भी हार ना मानने वाला रवैया अपनाएं और साथ ही उपरोक्त लिखित आदतों को अपने जीवन में अपनाने की कोशिश करें. आपको निश्चित रूप से अपने प्रदर्शन में सुधर नज़र आएगा.

याद करने के इन तरीकों को अपनाएं, किसी भी विषय को एक बार पढ़ेंगे तो फिर कभी नहीं भूलेंगे

इन पाँच तरीकों से बना सकते गणित को एक सरल और रोचक विषय, परीक्षा में आएंगे पूरे नंबर

Related Categories

Also Read +
x