UPSC Prelims 2020: इंडियन इकॉनमी की तैयारी के लिए 5 बेस्ट किताबें; इन्हें पढ़ने का सुझाव टॉपर्स देते हैं

किसी परीक्षा में सफलता, पुस्तकों की गुणवत्ता और मार्गदर्शन पर निर्भर करती है. अगर कोई प्रतियोगी गलत किताबों पर बहुत मेहनत करता है तो यह निश्चित है कि वह परीक्षा में सफल नहीं होगा. इसलिए विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के उम्मीदवारों का मार्गदर्शन करने के लिए हमने IAS परीक्षा की तैयारी के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था की अच्छी पुस्तकों को आधार बनाकर यह लेख प्रकाशित किया है.

पुस्तक का नाम

लेखक / प्रकाशक

1. भारतीय अर्थव्यवस्था

रमेश सिंह

2. भारतीय अर्थव्यवस्था

मिश्रा और पुरी

3. भारतीय अर्थव्यवस्था

उमा कपिला

4. भारतीय अर्थव्यवस्था

दत्त और सुंदरम

5. भारतीय अर्थव्यवस्था

संजीव वर्मा

आइए एक-एक करके इन किताबों की समीक्षा करें;
1. रमेश सिंह द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था

भारतीय अर्थव्यवस्था पर आधारित प्रश्न UPSC और स्टेट PSC की प्री और मुख्य परीक्षा में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. यदि परीक्षार्थी प्रामाणिक पुस्तकों और उचित मार्गदर्शन से गुजरते हैं, तो उम्मीदवार इस पत्र में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं.

रमेश सिंह द्वारा लिखित भारतीय अर्थव्यवस्था की पुस्तक 'भारतीय अर्थव्यवस्था की गीता’ मानी जाती है. आप किसी आईएएस की परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थी से इस किताब के बारे में जानकारी ले सकते हैं.

यह पुस्तक न केवल सिविल सेवा परीक्षाओं के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए, बल्कि शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों और कॉलेज जाने वाले छात्रों के लिए भी सर्वश्रेष्ठ है.
इस पुस्तक के नए संस्करण में आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19, केंद्रीय बजट 2018-19 और ईयर बुक 2018-19, और विश्व विकास रिपोर्ट 2018 की नवीनतम रिपोर्ट भी मिल जाएगी.
उपरोक्त टॉपिक के अलावा यह पुस्तक किसानों की आत्महत्याओं, वर्तमान विनिवेश नीति, विदेश व्यापार नीति 2015-20 और अन्य गर्म मुद्दों जैसे यूनिवर्सल हेल्थकेयर, जनसांख्यिकीय लाभांश और यूनिवर्सल बेसिक इनकम आदि जैसे मुद्दों पर प्रकाश डालती है.

निष्कर्ष में यह कहा जा सकता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की यह पुस्तक यूपीएससी की प्री और मुख्य परीक्षा और अन्य प्रशासनिक नौकरियों के लिए सबसे अधिक मांगी जाने वाली बुक है.

2. मिश्रा और पुरी द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था

मिश्र और पुरी द्वारा लिखित भारतीय अर्थव्यवस्था की पुस्तक भी बाजार में उपलब्ध भारतीय अर्थव्यवस्था की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में से एक है.

इस पुस्तक के नवीनतम संस्करण में भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों के बारे में नए डेटा दिए गए हैं. 

नवीनतम संस्करण ने वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन का गंभीर रूप से विश्लेषण किया और अर्थव्यवस्था की समस्याओं पर चर्चा की. इस पुस्तक में केंद्र सरकार द्वारा संचालित विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का भी काफी विस्तार के साथ मूल्यांकन किया गया है.

इस पुस्तक में अर्थव्यवस्था और योजनाओं के विश्लेषण से विभिन्न परीक्षाओं के उम्मीदवारों की समझ का स्तर या विश्लेषणात्मक कौशल विकसित होगा.

पुस्तक का स्नैपशॉट निम्नानुसार है;

भाग I - भारतीय अर्थव्यवस्था के सामान्य पहलू

भाग II - भारतीय अर्थव्यवस्था की संरचना

भाग III - कृषि में बुनियादी मुद्दे

भाग IV - भारतीय अर्थव्यवस्था में औद्योगिक क्षेत्र और सेवाएँ

भाग V - विदेश व्यापार और विदेशी पूंजी

भाग VI - धन और बैंकिंग

भाग VII - सार्वजनिक वित्त

भाग VIII - भारत की नई आर्थिक नीति

इस पुस्तक को खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें 

3. उमा कपिला द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था

उमा कपिला द्वारा लिखी गई भारतीय अर्थव्यवस्था के 17वें संस्करण में  भारतीय अर्थव्यवस्था के लगभग हर महत्वपूर्ण मुद्दे को उठाया गया है.
यह पुस्तक न केवल यूपीएससी के उम्मीदवारों के लिए बल्कि स्नातक छात्रों (बीए और बीकॉम ऑनर्स) के लिए भी महत्वपूर्ण है.

यह पुस्तक पाँच खंडों के अंतर्गत भारतीय अर्थव्यवस्था का व्यापक कवरेज प्रदान करती है:

भाग  I आर्थिक विकास के बुनियादी मुद्दे

भाग II गरीबी, असमानता और रोजगार

धारा III भारतीय कृषि के बारे में वर्तमान दृष्टिकोण

भाग IV उद्योग और सेवा क्षेत्र

भाग V वित्तीय क्षेत्र और विदेशी व्यापार 

इस पुस्तक में भारतीय अर्थव्यवस्था में प्रयुक्त शब्दावली भी दी गयी है. इस पुस्तक की भाषा बहुत ही आसान है और विभिन्न आर्थिक और सामाजिक मुद्दों के डेटा और स्पष्टीकरण ने इसे सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में से एक बना दिया है.

यदि इस पुस्तक का अध्ययन मिश्रा और पुरी के साथ किया जाए तो परीक्षार्थियों की सफलता के चांस को कई गुना बढ़ाया जा सकता है.

इस पुस्तक को खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें 

4. दत्त और सुंदरम द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था;

यह पुस्तक औद्योगिक नीति और भारतीय योजना, सार्वजनिक क्षेत्र, भारत में खाद्य सुरक्षा, किसानों की आत्महत्या, भारतीय अर्थव्यवस्था की समस्याओं, वैश्वीकरण और भारत पर इसके प्रभाव जैसे प्रासंगिक विषयों की व्याख्या के साथ उप टू डेट डेटा उपलब्ध कराती है. इसमें केंद्रीय बजट 2019 - और नई आर्थिक नीति 1991 आदि के बारे में भी विस्तार से बताया गया है.


यह पुस्तक UPSC और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत भरोसेमंद किताब मानी जाती है. तो यह भारतीय अर्थव्यवस्था के समग्र ज्ञान के लिए एक पुस्तक अवश्य पढ़ें.

इस पुस्तक को खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें 

5. संजीव वर्मा द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था

यह एक छोटी और सरल पुस्तक है जिसमें सिर्फ 348 पृष्ठ हैं. लेकिन पृष्ठों की कम संख्या पुस्तक के महत्व को कम नहीं करती है. यह पुस्तक UPSC के सिलेबस पर आधारित है.


इस पुस्तक के कुछ टॉपिक्स हैं;

1. रेलवे- राष्ट्र की जीवन रेखा

2. वैश्वीकरण- भारतीय अर्थव्यवस्था पर इसका प्रभाव

3. भारत का खाद्य प्रसंस्करण उद्योग

4. भारतीय अर्थव्यवस्था का अवलोकन

तो कुल मिलाकर सिविल सेवा के पेपर 1  के लिए यह एक अच्छी पुस्तक है. 

इस पुस्तक को खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें 

उपरोक्त पुस्तकों के अलावा, परीक्षार्थियों को इन मैगजीन्स को पढ़ने की भी जरुरत है;

1. योजना पत्रिका (मासिक पत्रिका)

2. कुरुक्षेत्र पत्रिका (मासिक पत्रिका)

3. नवीनतम आर्थिक सर्वेक्षण

4. नवीनतम भारत वर्ष पुस्तक

5. नवीनतम बजट

6. ऑल इंडिया रेडियो के एफएम गोल्ड पर आर्थिक बहस, हर मंगलवार रात 9.30 बजे

Related Categories

Popular

View More