Advertisement

जॉब इंटरव्यू के लिए बॉडी लैंग्वेज

आजकल की इस कॉम्पिटीटिव जॉब मार्केट में, इंटरव्यूअर को प्रभावित करने के लिए केवल सही क्वालिटीज और क्वालिफिकेशन ही काफी नहीं है. अक्सर यह कहा जाता है कि इंटरव्यूअर कैंडिडेट्स की बॉडी लैंग्वेज समझने में माहिर होते हैं और आपकी बॉडी लैंग्वेज समझकर वे जॉब इंटरव्यू के पहले 5 मिनट में निर्णय ले लेते हैं कि आपको हायर करें या नहीं?. इसलिए, अगर आप अपने जॉब इंटरव्यू में सफल होना चाहते हैं और अपनी पहचान कायम करना चाहते हैं तो आपको सही एक्सप्रेशन प्रदर्शित करने होंगे और अपनी एक सकारात्मक और आत्मविश्वास पूर्ण छवि बनाने के लिए अपनी बॉडी लैंग्वेज का उपयुक्त इस्तेमाल करना होगा.

आपकी आंखें बयां करती हैं कहानी

एक पुरानी कहावत है कि, ‘आपकी आंखें आपकी आत्मा की खिड़की हैं’ और यह कहावत जॉब इंटरव्यूज के बारे में पूरी तरह सही साबित होती है. इंटरव्यूअर अक्सर आपके आत्मविश्वास का स्तर और जिस जॉब के लिए आप इंटरव्यू दे रहे हैं, उस जॉब के साथ आपका कम्फर्ट लेवल केवल आपकी आंखों में देखकर ही समझ जाते हैं.

इसलिए, जॉब आप कोई जॉब इंटरव्यू देने के लिए जायें तो समय-समय पर इंटरव्यूअर की तरफ देखें और अपना प्वाइंट पेश करें. आमतौर पर यह माना जाता है कि जब लोग लगातार आपकी आंखों में देखकर बात करते हैं तो वे अपने बारे में ईमानदार होते हैं और अक्सर सच कह रहे होते हैं.

मुस्कुराहट का प्रभाव  

कोई जॉब इंटरव्यू देते समय मुस्कुराहट आपकी सबसे बड़ी संपत्ति होती है. आपकी मुस्कुराहट इंटरव्यूअर्स की बातों की तरफ आपकी सावधानी और सतर्कता दर्शाती है. इससे यह भी पता चलता है कि आप आशावादी हैं और मौजूदा जॉब को लेकर आपके मन में काफी उम्मीद है. एक सच्ची मुस्कान की पहचान करना आसान है और यह इंटरव्यूअर को आपके वास्तविक व्यक्तित्व का परिचय देती है. इसके साथ ही एक सच्ची मुस्कान इंटरव्यूअर के साथ आपके कम्फर्ट लेवल को बढ़ाती है और इससे जॉब प्रॉस्पेक्ट्स के बारे में आपकी सहजता भी प्रदर्शित होती है.   

हाथ मिलाना और हाथों के इशारे

हाथ मिलाना पहला ऐसा प्वाइंट या एक्टिविटी है जिससे आप इंटरव्यूअर के साथ संपर्क कायम करते हैं और इंटरव्यूअर को आपके आत्मविश्वास के स्तर के बारे में पता चल जाता है. इंटरव्यू पैनल से हाथ मिलाते वक्त आप कभी ढीले-ढाले या सख्त तरीके से हाथ न मिलाएं. इससे दूसरों के प्रति आपके डरपोक या हावी स्वभाव के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है.

पूरी गर्मजोशी से हाथ मिलाएं! सही तरीके से हाथ मिलाने का तरीका यह है कि आप अपने हाथ की उंगलियां सीधी रखें और अपने हाथ के अंगूठे से 45° का एंगल बनाएं. फिर, सामने वाले व्यक्ति के साथ गर्मजोशी से हाथ मिलायें. आप इंटरव्यू के दौरान अपना प्वाइंट रखते समय हाथ से इशारे करते हुए अपनी बात या तर्क को ज्यादा प्रभावी बना सकते हैं.

रेजिंग फिंगर्स

जब  इंटरव्यूरअर आपसे कुछ पूछें तो आप अपने प्वाइंट को साबित करने के लिए अपनी फिंगर्स रेज कर सकते हैं. लेकिन ऐसा तुरंत न करें क्योंकि आपको यह कभी नहीं पता चल सकता है कि आपके इंटरव्यूअर इसका क्या अर्थ समझेंगे. शायद वे इसे अनप्रोफेशनल या अनसिविलाइज्ड व्यवहार समझें और फिर, आपको एक अनप्रोफेशनल व्यक्ति समझ लिया जाएगा. इसके आलावा, फिंगर्स रेज करते हुए अपना प्वाइंट रखने से शायद आपकी चर्चा इंटरव्यूअर के साथ बहस में बदल जाए. इसलिए, इंटरव्यूअर के साथ चर्चा करते समय जहां तक हो सके इस तरीके का इस्तेमाल करने से बचें.

बैठने का तरीका

आपके बैठने के तरीके से भी इंटरव्यूअर आपकी सतर्कता और आत्मविश्वास के स्तर का पता करता है. जब वे आपको बैठने के लिए कहते हैं तो आपके उनके सामने सीधे और सहज तरीके से बैठें. लेकिन बैठते समय इस बात का पूरा ध्यान रखें कि आप एक स्टैचू न दिखें. इसके साथ ही, अगर आप अपनी कुर्सी पर निढाल हो कर बैठते हैं तो आपकी घबराहट और कम आत्म-सम्मान का पता चलता है.

बैचेनी

अगर आप किसी जॉब इंटरव्यू के समय अपने फेस को टच करते हैं या फिर अपने बालों से खेलते हैं तो तुरंत इस आदत को छोड़ दें. एक जॉब इंटरव्यू फॉर्मल सेटअप होता है और इसलिए आपके व्यवहार और बॉडी लैंग्वेज से भी केवल यही बात जाहिर होनी चाहिए. अगर आप ज्यादा बैचेन होंगे तो ऐसा प्रतीत होगा कि आप अपने इंटरव्यूअर की बातों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं. आपका इंटरव्यूअर इसे आपका अनप्रोफेशनल और अनसिविलाइज्ड व्यवहार मान सकता है जिससे आपको जॉब मिलने की गुंजाइश काफी कम हो जाती है.

लेग पोस्चर

आपकी बॉडी लैंग्वेज का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू आपका ‘लेग पोस्चर’ हैं. लगातार लेग्स हिलाते रहने से ध्यान भंग होता है और इंटरव्यूअर के सामने आपकी घबराहट जाहिर होती है. इसलिए, सीधे बैठें और अपनी लेग्स को एक-साथ तथा स्थिर रखें.

जॉब इंटरव्यूज में सफलता प्राप्त करना मुश्किल होता है और आपकी बॉडी लैंग्वेज आपको इस चुनौती में सफलता दिलवाने में मदद कर सकती है जिससे आप अपनी ड्रीम जॉब प्राप्त कर सकते हैं. लेकिन बॉडी लैंग्वेज के संबंध में सबसे बड़ी चुनौती तो यह है कि बॉडी लैंग्वेज स्वाभाविक या आदतन होती है और इसलिए केवल कुछ दिनों में इसे न तो अच्छी तरह सीख ही सकते हैं और न ही बदल सकते हैं. इसलिए, आज से ही सही बॉडी लैंग्वेज की आदत डालने की कोशिश करें ताकि अपने अगले जॉब इंटरव्यू के दौरान आप अपने इंटरव्यूअर पर अपना सकारात्मक प्रभाव डाल सकें.

Advertisement

Related Categories

Advertisement