64वीं BPSC मुख्य परीक्षा 2019: परीक्षा पैटर्न और विस्तृत सिलेबस

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) राज्य के प्रशासनिक विभाग में उम्मीदवारों के चयन के लिए तीन स्तरीय परीक्षा आयोजित करता है। अंतिम चयन के लिए सभी उम्मीदवारों को BPSC परीक्षा के तीनों चरणों को पास करने की आवश्यकता होती है।

BPSC Prelims Previous Year’s cut off

BPSC की चयन प्रक्रिया में लिखित परीक्षा होती है जिसमें प्रीलिम्स और मुख्य परीक्षा शामिल है जिसके बाद इंटरव्यू होता है। BPSC प्रीलिम्स परीक्षा में छात्रों को केवल उत्तीर्ण करना होता है। जो  उम्मीदवार BPSC प्रीलिम्स परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं उन्हें मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। मुख्य परीक्षा 900 अंकों की होती है। यदि कोई उम्मीदवार BPSC मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करता है तो उसे साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा जो 120 अंकों का होता है। अतः मेरिट 1020 अंकों में से तैयार की जाती है।

BPSC Top Posts

BPSC मुख्य परीक्षा 2018: परीक्षा पैटर्न

जो  उम्मीदवार BPSC प्रीलिम्स परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं उन्हें मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। BPSC प्रीलिम्स परीक्षा में छात्रों को केवल उत्तीर्ण करना होता है। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि प्रीलिम्स परीक्षा में छात्रों के कितने अंक आए क्योंकि यह मुख्य परीक्षा के अंक में नहीं जोड़ा जाएगा।

BPSC मुख्य परीक्षा में सामान्य हिंदी का पेपर क्वालीफाइंग होता है। इसके अलावा, सामान्य अध्ययन पेपर 1 और सामान्य अध्ययन पेपर 2 होंगे। ये दोनों पेपर 300 अंकों के होंगे। एक ऑप्शनल पेपर होता है जिसे उम्मीदवार को आवेदन पत्र भरते समय चुनना होता है। ऑप्शनल पेपर 300 अंकों का होता है।

परीक्षा का चरण

पेपर का नाम

कुल अंक

अवधि

 

मुख्य परीक्षा

(सब्जेक्टिव)

सामान्य हिंदी (क्वालीफाइंग)

100

तीन घंटे

सामान्य अध्ययन पेपर 1

300

तीन घंटे

सामान्य अध्ययन पेपर 2

300

तीन घंटे

ऑप्शनल पेपर

300

तीन घंटे

नोट:

  • उम्मीदवारों को सामान्य हिंदी के पेपर में उत्तीर्ण होना आवश्यक है।
  • सामान्य अध्ययन के प्रश्न हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होंगे।
  • सामान्य अध्ययन पेपर 1, सामान्य अध्ययन पेपर 2 और ऑप्शनल पेपर के कुल 900 अंकों पर अंतिम स्कोर निकाला जाएगा।
  • जिन उम्मीदवारों को मेरिट में उच्च स्थान प्राप्त होता है, उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।

Salary and Promotion of SDM in BPSC

BPSC मुख्य परीक्षा 2018: विस्तृत सिलेबस

क्वालीफाइंग पेपर: सामान्य हिंदी

सामान्य हिंदी का पेपर क्वालीफाइंग होगा। सामान्य हिंदी पेपर का सिलेबस बिहार स्कूल शिक्षा बोर्ड (BSEB) के स्तर का होगा। क्वालीफाइंग पेपर 100 अंकों का होगा और यह सब्जेक्टिव होगा। अंकों का वितरण इस प्रकार है:

टॉपिक का नाम

अंक

निबंध

30 अंक

व्याकरण

30 अंक

वाक्य - विन्यास

25 अंक

संक्षेपीकरण

15 अंक

100 अंक में से, उम्मीदवारों को पास करने के लिए केवल 33 अंक की आवश्यकता होती है।

सामान्य अध्ययन पेपर (GS पेपर्स)

अब तक हर पेपर क्वालीफाइंग प्रकृति का था। BPSC प्रीलिम्स परीक्षा और सामान्य हिंदी का पेपर केवल क्वालीफाइंग था। वास्तविक परीक्षा अब सामान्य अध्ययन के पेपर्स के साथ शुरू होती है। सामान्य अध्ययन के दो पेपर हैं। सामान्य अध्ययन के प्रत्येक पेपर में 300 अंक होते हैं।

नीचे GS के दोनों पेपर्स का विस्तृत सिलेबस दिया गया है:

GS पेपर 1 का विस्तृत सिलेबस

  • आधुनिक भारत का इतिहास और भारतीय संस्कृति: उन्नीसवीं सदी के मध्य में बिहार का विशेष संदर्भ वाला देश का इतिहास, पश्चिमी और तकनीकी शिक्षा का परिचय और विस्तार, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बिहार की भूमिका, बिहार में संथाल विद्रोह, बिरसा आंदोलन, चंपारण सत्याग्रह, भारत छोड़ो आंदोलन, मौर्य और पाल कला की प्रमुख विशेषताएँ, पटना क़ुलाम पेंटिंग, गांधी, टैगोर और नेहरू की भूमिकाएँ।
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं
  • सांख्यिकीय विश्लेषण, रेखांकन और आरेख: सांख्यिकीय, चित्रमय या आरेखीय जानकारी से निष्कर्ष निकालने की क्षमता का परीक्षण करने और कमियों, सीमाओं या विसंगतियों को इंगित करने के लिए प्रश्न।

GS पेपर 2 के लिए विस्तृत सिलेबस

  • भारतीय राजनीति: बिहार सहित भारत में राजनीतिक व्यवस्था पर आधारित प्रश्न।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था और भारत का भूगोल: भारत और बिहार के भौतिक, आर्थिक और सामाजिक भूगोल में योजना पर प्रश्न।
  • भारत के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका और प्रभाव: एप्लाइड साइंस के विशेष संदर्भ के साथ भारत और बिहार में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमिका और प्रभाव के बारे में जागरूकता का परीक्षण करने के लिए प्रश्न।

Salary and promotion of DSP in BPSC

ऑप्शनल पेपर

ऑप्शनल पेपर में उम्मीदवार को किसी भी एक विषय को चुनने की आवश्यकता होती है। यह पेपर 3 घंटे की समय सीमा के साथ 300 अंकों का होता है। BPSC मुख्य परीक्षा में 34 वैकल्पिक विषय हैं। ऑप्शनल पेपर का सिलेबस पटना विश्वविद्यालय के संबंधित विषय के तीन वर्षीय ऑनर्स पेपर के समान होगा। यहां वैकल्पिक विषयों की सूची दी गई है:

1. कृषि

2. पशुपालन और पशु चिकित्सा विज्ञान

3. एंथ्रोपोलॉजी

4. वनस्पति विज्ञान

5. रसायन विज्ञान

6. सिविल इंजीनियरिंग

7. वाणिज्य और लेखाशास्त्र

8. अर्थशास्त्र

9. इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग

10. भूगोल

11. भूविज्ञान

12. इतिहास

13. श्रम और समाज कल्याण

14. कानून

15. प्रबंधन

16. गणित

17. मैकेनिकल इंजीनियरिंग

18. दर्शन

19. भौतिकी विज्ञान

20. राजनीति विज्ञान और अंतर्राष्ट्रीय संबंध

21. मनोविज्ञान

22. लोक प्रशासन

23. समाजशास्त्र

24. सांख्यिकी

25. जूलॉजी

26. हिंदी भाषा और साहित्य

27. अंग्रेजी भाषा और साहित्य

28. उर्दू भाषा और साहित्य

29. बंगला भाषा और साहित्य

30. संस्कृत भाषा और साहित्य

31. फ़ारसी भाषा और साहित्य

32. अरबी भाषा और साहित्य

33. पाली भाषा और साहित्य

34. मैथिली भाषा और साहित्य

BPSC मुख्य परीक्षा 2018 के सिलेबस को ध्यान में रखते हुए छात्रों को अपनी पढ़ाई के लिए एक रूटीन बनाना चाहिए और जल्द से जल्द अपनी तैयारी शुरू करनी चाहिए। सिलेबस वास्तव में ज्यादा है और इसमें उम्मीदवारों को समर्पित प्रयासकरने की आवश्यकता होती है। साथ ही निरंतर अभ्यास करना चाहिए ताकि परीक्षा में छात्रों के लिए चीजें आसान हो जाएं।

Advertisement

Related Categories