हॉस्पिटैलिटी की फील्ड में करियर: खास क्वालिटीज़ और विकास के अवसर     

हमारे देश भारत में टूरिज्म सेक्टर का लगातार विकास हो रहा है. मौजूदा समय में देश के ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट में टूरिज्म का योगदान तकरीबन 7% तक है. इस सेक्टर में हमारे देश के लगभग 9 फीसदी लोगों को रोज़गार मिला हुआ है. इसी तरह, एक अनुमान के मुताबिक हमारे देश में 5 मिलियन से अधिक फॉरेन टूरिस्ट आये और लाखों डोमेस्टिक टूरिस्ट भी पूरे साल भारत के विभिन्न स्थानों में घूमते हैं. अब, जो लोग टूरिज्म सेक्टर में टूरिस्ट गाइड, फ्रंट ऑफिस मैनेजर, रिसेप्शनिस्ट, हॉस्पिटैलिटी मैनेजर या होटल मैनेजर के तौर पर काम कर रहे हैं तो आप देश के हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं. आइये इस आर्टिकल में देश के हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से जुड़े करियर्स और इस सेक्टर में काम करने के लिए जरुरी क्वालिटीज़ और करियर ग्रोथ के बारे में चर्चा करें:

हॉस्पिटैलिटी सेक्टर के लिए जरुरी महत्वपूर्ण क्वालिटीज़

अगर आप हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में अपना कारोबार या फिर कोई करियर शुरू करना चाहते हैं तो आपकी करियर ग्रोथ के लिए नीचे कुछ जरुरी और महत्पूर्ण क्वालिटीज़ की सूची दी जा रही है जैसेकि:

  • हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में करियर की कामयाबी का सारा दारोमदार आपके कम्युनिकेशन स्किल्स में निहित है.
  • फ्रेंडशिप और सोशल नेटवर्किंग या जान-पहचान का मिलता है खास फायदा.
  • सेल्फ-डिसिप्लिन के साथ लोकल और नेटिव कल्चर तथा हिस्टोरिकल बैकग्राउंड की हो अच्छी और सटीक जानकारी.
  • हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में प्लीजिंग पर्सनैलिटी और क्लोथिंग स्टाइल का काफी प्रभाव पड़ता है.
  • केयरिंग नेचर और अन्य लोगों की जरूरतों का अच्छी तरह ख्याल रखने की काबिलियत.
  • स्माइलिंग फेस और पॉजिटिव एटीट्यूड से मिलती है कामयाबी.

भारत में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से जुड़े हैं ये एजुकेशनल कोर्सेज

हमारे देश में किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से 12वीं पास स्टूडेंट्स हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से जुड़े निम्नलिखित डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्सेज कर सकते हैं:

सर्टिफिकेट कोर्सेज

ये कोर्सेज आमतौर पर 6 महीने से लेकर 1 वर्ष की अवधि के होते हैं जैसेकि:

  • फ़ूड एंड बिवरेज सर्विसेज
  • टूरिज्म एंड ट्रेवल मैनेजमेंट
  • कुकरी, बेकरी एंड कन्फेक्शनरीज
  • होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी
  • हॉस्पिटैलिटी एंड एयर ट्रेवल मैनेजमेंट

डिप्लोमा कोर्सेज

ये कोर्सेज आमतौर पर 6 महीने से लेकर 2 वर्ष की अवधि के होते हैं जैसेकि:

  • फ्रंट ऑफिस मैनेजमेंट
  • ट्रेवल एजेंसी मैनेजमेंट
  • हाउस कीपिंग
  • होटल ऑपरेशन्स
  • होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी
  • फ़ूड एंड बिवरेज सर्विसेज

ग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज

हमारे देश के कई प्रमुख एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स और यूनिवर्सिटीज़ स्टूडेंट्स को हॉस्पिटैलिटी की फील्ड में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज करवाते हैं जैसेकि:

  • बीएससी – हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म स्टडीज़
  • बीएससी – हॉस्पिटैलिटी एंड कैटरिंग सर्विसेज
  • बीएससी – होटल मैनेजमेंट एंड टूरिज्म

पोस्टग्रेजुएशन लेवल के कोर्सेज

  • एमबीए – होटल मैनेजमेंट एंड टूरिज्म
  • एमएससी – फ़ूड साइंस
  • एमएससी – होटल मैनेजमेंट
  • एमएससी – टूरिज्म

भारत में शेफ का करियर, क्वालिफिकेशन और ग्रोथ प्रोस्पेक्टस

भारत में हॉस्पिटैलिटी की फील्ड से संबंधित कोर्सेज करवाने वाले प्रमुख एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स

हमारे देश के कई टॉप कॉलेज, यूनिवर्सिटीज़ और एजुकेशनल/ मैनेजमेंट इंस्टीट्यूशन्स हॉस्पिटैलिटी की फील्ड से संबंधित विभिन्न डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्सेज करवाते हैं जैसेकि:

  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग मैनेजमेंट
  • एयर होस्टेस एकेडेमी, नई दिल्ली
  • इंस्टीट्यूट फॉर टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट, मुंबई
  • दुर्गापुर सोसाइटी ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज़, पश्चिम बंगाल
  • बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, रांची
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, मुंबई
  • क्राइस्ट कॉलेज, बैंगलोर
  • इंस्टीट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट, दिल्ली/ कोलकाता/ चेन्नई/ मुंबई/ औरंगाबाद/ बैंगलोर आदि
  • ओबेरॉय सेंटर ऑफ़ लर्निंग एंड डेवलपमेंट, दिल्ली.

भारत में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से जुड़े प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स/ करियर ऑप्शन्स

हमारे देश में लाखों लोग टूरिज्म और हॉस्पिटैलिटी से अपनी रोज़ी-रोटी कमा रहे हैं और हम हॉस्पिटैलिटी सेक्टर को आमतौर पर 3 बड़े भागों में विभाजित कर सकते हैं जैसेकि, ट्रेवल एंड रिक्रिएशन सेक्टर, होटल, मोटल्स एंड रेस्टोरेंट्स सेक्टर और फ़ूड एंड बिवरेज से संबद्ध सेक्टर. भारत में हॉस्पिटैलिटी की फील्ड से जुड़े कुछ प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स की एक लिस्ट निम्नलिखित है:

  • किचन मैनेजर – ईटिंग जोंट्स, रेस्टोरेंट्स, होटल्स और मोटल्स के किचन को मैनेज करना इन पेशेवरों का काम होता है.
  • बार क्लब मैनेजर – ये पेशेवर अपने बार के संचालन और समुचित व्यवस्था के लिए जिम्मेदार होते हैं.
  • शेफ – ये पेशेवर हमारे स्वाथ्य, स्वाद और पौष्टिकता के मुताबिक देश-विदेश के अनेक किस्म के फ़ूड एंड बिवरेज आइटम्स तैयार करते हैं.
  • फ्रंट ऑफिसर मैनेजर/ रिसेप्शनिस्ट – हरेक कंपनी या दफ्तर में आमतौर पर सबसे पहले हमारा सामना इन पेशेवरों से ही होता है.

फ्रंट ऑफिस मैनेजर : होटल इंडस्ट्री में एक अहम रोल

  • एयरहोस्टेस/ केबिन क्रू – ये पेशेवर एयरोप्लेन और शिप्स में पैसेंजर्स की देख-भाल करते हैं.
  • टूर ऑपरेटर्स/ ट्रेवल कंसल्टेंट्स – ये पेशेवर अपने क्लाइंट्स के लिए बेहतरीन ट्रेवल प्लानिंग करते हैं.
  • हाउस कीपिंग स्टाफ – ये पेशेवर विभिन्न होटल्स या इंन्स में साफ़-सफाई के साथ सभी किस्म के अरेंजमेंट्स करते हैं.
  • हॉस्पिटैलिटी मैनेजर – ये पेशेवर विभिन्न होटल्स, मोटल्स, रेस्टोरेंट्स, क्लब्स, बार्स या एंटरटेनमेंट वेन्यूज़ में क्लाइंट्स की देखभाल से जुड़े काम संभालते हैं.
  • होटल/ मोटेल/ रेस्टोरेंट मेनेजर – अपने होटल/ मोटेल/ रेस्टोरेंट का एडमिनिस्ट्रेशन और देखभाल करना इन पेशेवरों का प्रमुख दायित्व होता है.
  • इवेंट मैनेजर/ इवेंट प्लानर्स – ये पेशेवर अपने क्लेंट्स के सभी किस्म के इवेंट्स जैसेकि शादी, जन्मदिन, पार्टी, खास मीटिंग्स और कॉन्फ्रेंस आदि की सारी व्यवस्था करते हैं.

भारत में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से संबंधित प्रमुख जॉब प्रोवाइडर्स

हमारे देश सहित दुनिया भर के विभिन्न देशों में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में करियर ग्रोथ की काफी आशाजनक संभावनाएं हैं. भारत में निम्नलिखित फ़ील्ड्स में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर से जुड़े प्रोफेशनल्स की काफी मांग है:

  • मिनिस्ट्री ऑफ़ टूरिज्म, भारत सरकार
  • कैटरिंग कंपनीज़/ गेस्ट हाउसेस
  • ट्रेवल एजेंसीज़/ टूर ऑपरेटर्स
  • होटल्स एंड रेस्टोरेंट्स
  • क्रूज कंपनीज़
  • स्पा एंड वेलनेस सेंटर्स
  • इंडियन रेलवे
  • एयरलाइन्स

एयर होस्टेस बनने के लिए योग्यता, सैलरी और सेलेक्शन प्रोसीजर

  • क्लब्स/ थिएटर/ कॉन्सर्ट प्लेसेस
  • थीम पार्क्स/ म्यूजियम्स
  • फिटनेस एंड स्पोर्ट्स क्लब्स

भारत में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में हॉस्पिटैलिटी की फील्ड में विभिन्न पेशेवरों को उनकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन्स, टैलेंट और वर्क एक्सपीरियंस के मुताबिक आकर्षक सैलरी पैकेज दिए जाते हैं. इस फील्ड में किसी फ्रेश ग्रेजुएट कैंडिडेट को शुरू में एवरेज 20 – 25 हजार मासिक का सैलरी पैकेज मिलता है. कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद इन पेशेवरों की एजुकेशनल क्वालिफिकेशन और टैलेंट के मुताबिक ये सैलरी पैकेज तकरीबन डबल हो जाता है. इस फील्ड में मेनेजर लेवल के पेशेवर आमतौर पर 5 – 8 लाख रुपये सालाना सैलरी पैकेज कमा लेते हैं.

भारत में हॉस्पिटैलिटी सेक्टर में करियर ग्रोथ की संभावना

आजकल भारत सरकार देश में ट्रेवल एंड टूरिज्म को काफी बढ़ावा दे रही है और ‘अतिथि देवो भव’ के मुताबिक देश का हॉस्पिटैलिटी सेक्टर भी इस दिशा में सकारात्मक प्रगति कर रहा है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Popular

View More