भारत में जूलॉजी की फील्ड में कई हैं करियर ऑप्शन्स और ग्रोथ प्रोस्पेक्टस

बहुत से लोगों को अर्थ प्लानेट के नेचुरल एटमोस्फियर, फ़ॉरेस्ट, वाइल्ड लाइफ – फ्लोरा एंड फाउना में गहरी दिलचस्पी होती है. पूरी दुनिया के लगभग 31 फीसदी हिस्से में जंगल हैं और भारत की 21.54 फीसदी भूमि में फ़ॉरेस्ट एरिया फैला हुआ है. अगर आपको भी हमारी पृथ्वी के जंगलों, पेड़-पौधों, जानवरों पर पक्षियों के विषय में गहरी दिलचस्पी है तो आप जूलॉजी की फ़ील्ड में कोई कोर्स करके अपना करियर शुरू कर सकते हैं. जूलॉजी की फील्ड में करियर शुरू करने पर आप अच्छी कमाई करने के साथ ही अपना काफी समय प्रकृति की गोद में बिता सकेंगे. आइये आगे पढ़ें:

भारत में जूलॉजी के कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एलिजिबिलिटी

हमारे देश में जूलॉजी के अंडरग्रेजुएट लेवल कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास साइंस स्ट्रीम (फिजिक्स, केमिस्ट्री एंड बायोलॉजी) के साथ पास की हो.

भारत में जूलॉजी की फील्ड से संबंधित प्रमुख कोर्सेज

अंडरग्रेजुएट लेवल

  • बीएससी ऑनर्स – जूलॉजी
  • बीएससी – जूलॉजी

पोस्ट ग्रेजुएट लेवल

  • एमएससी – एप्लाइड जूलॉजी
  • एमएससी ऑनर्स – जूलॉजी
  • एमएससी – जूलॉजी

डॉक्टोरल लेवल

  • एमफिल – जूलॉजी
  • पीएचडी – जूलॉजी

भारत में जूलॉजी की फील्ड से संबंधित प्रमुख स्पेशलाइज़ेशन कोर्सेज

हमारे देश में अगर आप जूलॉजी में पोस्टग्रेजुएशन कोर्स करते हैं तो आपको जूलॉजी की फील्ड से संबंधित विभिन्न सब्जेक्ट्स में से अपने लिए स्पेशलाइज़ेशन कोर्स चुनना होता है. जूलॉजी से संबंधित कुछ प्रमुख कोर्सेज हैं:

  • एपीलॉजी
  • सेटोलॉजी
  • प्रिमाटोलॉजी
  • प्लांकटोलॉजी
  • नेमाटोलॉजी
  • एंटोमोलॉजी
  • एन्थ्रोजूलॉजी
  • ओर्निथोलॉजी
  • मैमोलॉजी
  • हर्पेटोलॉजी

भारत में जूलॉजी के विभिन्न कोर्सेज करवाने वाले टॉप कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़

  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, वाराणसी
  • पुणे यूनिवर्सिटी, महाराष्ट्र  
  • लोयोला कॉलेज, चेन्नई
  • हंसराज कॉलेज, दिल्ली
  • मैत्रेयी कॉलेज, दिल्ली
  • सेंट पीटर्स कॉलेज, केरल
  • विल्सन कॉलेज, मुंबई
  • विवेकानंद कॉलेज, कोलकाता  
  • सेंट अल्बर्ट्स कॉलेज, कोची  

जूलॉजी की फील्ड में विभिन्न प्रोफेशन्स के लिए जरुरी स्किल सेट

इस फील्ड में काम करने के लिए कैंडिडेट्स के पास फॉर्मल एजुकेशनल क्वालिफिकेशन और वर्क एक्सपीरियंस होने के साथ-साथ पेशेवरों को जंगल के वातावरण के साथ पेड़-पौधों और पशु-पक्षियों में गहरी दिलचस्पी होनी चाहिए. ये पेशेवर प्रेशर में भी अनुशासन के साथ काम करने में सक्षम हों, रिसर्च के नतीजों को अच्छी तरह समझकर उनके मुताबिक काम करने में कुशल हों. इसी तरह, ये पेशेवर वन्य जीवन से संबंधित विभिन्न समस्याओं को सुलझाने के काबिल हों तथा फ़ॉरेस्ट एरिया में हरेक चीज़ और परिस्थिति को ध्यान से देख-समझकर काम करने में माहिर हों.  

भारत में जूलॉजी की फील्ड में उपलब्ध प्रमुख करियर ऑप्शन्स

  • इकोलॉजिस्ट

ये पेशेवर हमारे अर्थ प्लानेट की इकोलॉजी की रक्षा और संरक्षण के लिए काम करते हैं ताकि अर्थ प्लानेट पर इकोलॉजिकल बैलेंस को कायम रखा जा सके.

  • रिसर्चर/ लैब टेक्नीशियंस  

ये पेशेवर फ़ॉरेस्ट, फ्लोरा और फाउना से संबंधित रिसर्च वर्क में जुटे रहते हैं ताकि जूलॉजी की फील्ड में नए-नए फैक्ट्स का पता लगाया जा सके. लैब टेक्नीशियंस रिसर्च वर्क में अपना पूरा सहयोग देते हैं.

  • एनवायर्नमेंटल कंसलटेंट

केंद्र और राज्य सरकार के विभिन्न विभागों को ये पेशेवर एनवायर्नमेंटल इश्यूज़ के संबंध में अपनी सलाह देते हैं ताकि एनवायरनमेंट का संरक्षण हो सके.

  • फील्ड ट्रायल्स ऑफिसर

ये पेशेवर जू, वाइल्डलाइफ और नेशनल पार्क्स में फील्ड ट्रायल्स से संबंधित काम करते हैं.

  • एनिमल ब्रीडर/ एनिमल केयरटेकर/ एनिमल ट्रेनर  

विभिन्न एनिमल्स की ब्रीड में सुधार लाने से संबंधित सभी कामों का जिम्मा एनिमल ब्रीडर का होता है. एनिमल ट्रेनर डोमेस्टिक एनिमल्स या सर्कस आदि के लिए एनिमल्स को ट्रेंड करते हैं ताकि ये एनिमल्स मनुष्य के ऑर्डर्स को समझकर उनका दिया काम कर सकें. पुलिस और मिलट्री के लिए डॉग्स को ट्रेंड करना एनिमल ट्रेनर (डॉग ट्रेनर) का ही काम है. इसी तरह, एनिमल केयरटेकर विभिन्न एनिमल्स की देखभाल करते हैं. विशेष रूप से जू में रहने वाले एनिमल्स और केज्ड बर्ड्स के लिए इन एनिमल केयर -टेकर्स की जरूरत पड़ती है.

  • पेट फ़ूड टेस्टर

इन पेशेवरों का काम डोमेस्टिक एनिमल्स और पेट्स के लिए तैयार किए जाने वाले फूड्स को टेस्ट करना होता है ताकि एनिमल्स की न्यूट्रीशियस नीड्स को पूरा किया जा सके.

  • पेट एडॉप्शन काउंसेलर

जब हम कोई पेट (विशेष रूप से पहली बार) अडॉप्ट करते हैं तो उसकी सभी जरूरतों के बारे में ये पेशेवर हमें सभी जरुरी परामर्श देते हैं. इसके अलावा, पेट एडॉप्शन के संबंध में सभी फॉर्मेलिटीज़ के बारे में भी हम इनसे पूछ सकते हैं.  

  • स्नेक मिल्कर  

ये पेशेवर सांपों की देखभाल करते हैं. जू में सांपों के पालन-पोषण का जिम्मा इनका ही होता है. ये पेशेवर सांप के जहर को निकालने के साथ ही उस जहर का मेडिसिनल इस्तेमाल करने में माहिर होते हैं.

  • मरीन साइंटिस्ट

समुद्री जीवन से संबंधित रिसर्च वर्क इन पेशेवरों का प्रमुख काम होता है.

  • नेचर कंजर्वेशन ऑफिसर

ये पेशेवर हमारे प्राकृतिक परिवेश की रक्षा और संरक्षण से जुड़े सभी काम करते हैं.

  • फिजिशियन एसोसिएट

सभी जानवरों और पक्षियों को बीमारियों से बचाने और चोट लगने पर इलाज करते समय वेटेरिनरी डॉक्टर्स की हेल्प के लिए ये पेशेवर अपना सहयोग देते हैं.

  • रिसर्च साइंटिस्ट – लाइफ साइंसेज

ये रिसर्च साइंटिस्ट्स विभिन्न लाइफ साइंसेज – बॉटनी, बायोलॉजी, बेक्टेरियोलॉजी आदि में रिसर्च वर्क करते रहते हैं.

  • ज़ू कीपर

देश के विभिन्न राज्यों में बने जूलॉजीजिकल पार्क्स की देखभाल का काम इन पेशेवरों का होता है.

  • जूलॉजिस्ट

ये पेशेवर एनिमल किंगडम से संबंधित सभी कामकाज संभालने में सक्षम होते हैं क्योंकि इनके पास जूलॉजी में ग्रेजुएशन या पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री होती है.

  • वेटरनरी डॉक्टर/ नर्स

ये पेशेवर जानवरों और पक्षियों के डॉक्टर्स और नर्सेज होते हैं जो विभिन्न जानवरों और पक्षियों के बीमार होने पर या उन्हें चोट लगने पर उन जानवरों और पक्षियों का इलाज करते हैं और उनकी जान बचाते हैं.

भारत में जूलॉजी की फील्ड से जुड़े कुछ अन्य करियर ऑप्शन्स की लिस्ट

  • एनिमल फिजियोथेरेपिस्ट
  • वाइल्डलाइफ एजुकेटर
  • वाइल्डलाइफ रिहेब्लीटेटर
  • बायोमेडिकल साइंटिस्ट
  • एनवायर्नमेंटल एजुकेशन ऑफिसर
  • एनवायर्नमेंटल मैनेजर
  • हायर एजुकेशन लेक्चरर
  • मरीन बायोलॉजिस्ट
  • टॉक्सिकोलॉजिस्ट
  • नेशनल पार्क्स/ वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरी मैनेजर

भारत में जूलॉजी की फील्ड में यहां मिलेगी आपको जॉब के बढ़िया अवसर

हमारे देश में जूलॉजी की फील्ड में कई पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर्स में आपके लिए जॉब के बेहतरीन अवसर उपलब्ध हैं. हमारे देश में जूलॉजी की फील्ड से संबंधित प्रमुख जॉब प्रोवाइडर्स निम्नलिखित हैं:

  • जू/ वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरीज़/ नेशनल पार्क्स/ टाइगर रिज़र्व  
  • यूनिवर्सिटीज़/ स्कूल/ कॉलेज साइंस सेंटर्स, लाइब्रेरीज़
  • रिसर्च इंस्टीट्यूट्स/ वेटरनरी हॉस्पिटल्स  
  • एनवायरनमेंटल प्रोटेक्शन एजेंसी/ एनवायर्नमेंटल कंसल्टेंसीज़  
  • सरकारी रिसर्च एजेंसीज़
  • मेडिकल रिसर्च सेंटर्स
  • म्यूजियम्स
  • टीवी चैनल्स (डिस्कवरी, एनिमल प्लानेट, नेशनल जियोग्राफिक)
  • एनिमल न्यूट्रीशन कंपनीज़
  • एक्वाकल्चर/ एक्वेरियम/ फिशरीज़   

भारत में जूलॉजी की फील्ड में मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में जूलॉजी की फील्ड में फ्रेश ग्रेजुएट्स को एवरेज 15 – 25 हजार रुपये मासिक सैलरी मिलती है और कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद सुप्रसिद्ध यूनिवर्सिटीज़ से डिग्री होल्डर कैंडिडेट्स को कम से कम 4.5 लाख – 5 लाख रुपये सालाना का सैलरी पैकेज मिलता है. अन्य सभी जॉब फील्ड की तरह ही जूलॉजी की फील्ड में भी कैंडिडेट की एजुकेशनल क्वालिफिकेशन्स, वर्क एक्सपीरियंस और टैलेंट के साथ-साथ एम्पलॉयर के स्टेटस और फाइनेंशियल कंडीशन के मुताबिक इन पेशेवरों को एवरेज सैलरी मिलती है.

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटी, के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.

Advertisement

Related Categories

Popular

View More