भारत में स्टॉक ब्रोकर का करियर स्कोप और आशाजनक भविष्य

यंग प्रोफेशनल्स के लिए आजकल स्टॉक मार्केट में एक स्टॉक ब्रोकर के तौर पर अपना करियर शुरू करना बहुत ही आकर्षक करियर ऑप्शन है. दरअसल, स्टॉक्स और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रोसेस को ‘स्टॉक ब्रोकिंग’ कहा जाता है. स्टॉक ब्रोकिंग प्रोसेस के बेसिक प्रिंसिपल्स से परिचित कराने के लिए स्टूडेंट्स को क्लाइंट्स के साथ-साथ कंपनियों के लिए स्टॉक खरीदने और बेचने की ट्रेनिंग दी जाती है. हमारे देश में स्टॉक मार्केट की फील्ड में स्टूडेंट्स के लिए बहुत अच्छे करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2019 में इंडियन ब्रोकिंग इंडस्ट्री की ग्रोथ रेट (पिछले वर्ष की मॉडरेट ग्रोथ रेट) 5 – 10 फीसदी से ज्यादा रहेगी और एस्टीमेटेड रेवेन्यु 19 – 20 हजार करोड़ के आस-पास रहेगा. इसलिए, भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में कैंडिडेट्स का भविष्य आशाजनक है और कुछ वर्षों के वर्क एक्सपीरियंस के बाद इन प्रोफेशनल्स को काफी अच्छा सालाना सैलरी पैकेज भी मिलता है......तो आइये आज हम अपने देश में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में करियर स्कोप के बारे में आपके साथ चर्चा करते हैं:

भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड से संबंधित एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया और एजुकेशनल क्वालिफिकेशन

हमारे देश में स्टॉक ब्रोकर के तौर पर अपना करियर शुरू करने के लिए स्टूडेंट्स ने प्रेफरेबली कॉमर्स, इकोनॉमिक्स, बिजनेस मैनेजमेंट या मैथ्स विषय सहित अपनी 12वीं क्लास किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से पास की हो. सब-ब्रोकर का काम शुरू करने के लिए कैंडिडेट्स की आयु कम से कम 21 वर्ष होनी चाहिए.

स्टूडेंट्स अपनी 12वीं क्लास पास करने के बाद कर सकते हैं ये बैचलर डिग्री कोर्सेज/ सर्टिफिकेट कोर्सेज

ग्रेजुएट स्टूडेंट्स कर सकते हैं ये मास्टर डिग्री कोर्सेज या पीजी डिप्लोमा कोर्सेज

Trending Now

महत्वपूर्ण नोट: इन एजुकेशनल कोर्सेज में से अपने लिए कोई सूटेबल कोर्स सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद आपको अपने नाम का रजिस्ट्रेशन सेबी अर्थात सिक्यूरिटीज़ एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ़ इंडिया के पास अवश्य करवाना होगा. इसी तरह, एक स्टॉक मेंबर बनने के लिए आपको रिटन एंट्रेंस टेस्ट पास करके संबंधित ट्रेनिंग कोर्स पूरा करना होगा. इसके बाद आपको सेबी की मेंबरशिप मिल जायेगी.

आपको मेंबरशिप हासिल करने के लिए निर्धारित राशि संबंधित स्टॉक एक्सचेंज में सिक्यूरिटी के तौर पर जमा करानी होगी. फाइनेंशियल मार्केट में काम करने के लिए आपके पास नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सर्टिफिकेट होना चाहिए और डेरीवेटिव्स एक्सचेंज में काम करने के लिए कैंडिडेट्स के पास बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सर्टिफिकेट होना चाहिए.

भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड से संबंधित कोर्सेज करवाने वाले प्रमुख एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस

भारत में स्टॉक ब्रोकर्स यहां कर सकते हैं अपने करियर की शुरुआत

भारत में स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में उपलब्ध प्रमुख करियर ऑप्शन्स

हमारे देश में प्रोफेशनल्स स्टॉक मार्केट्स में उपलब्ध निम्नलिखित करियर ऑप्शन्स में से अपने लिए कोई सूटेबल करियर और जॉब प्रोफाइल चुन सकते हैं:

स्टॉक ब्रोकिंग की फील्ड में उपलब्ध कुछ अन्य महत्वपूर्ण करियर ऑप्शन्स

भारत में स्टॉक ब्रोकर की सैलरी

हरेक अन्य पेशे की तरह ही हमारे देश में इन पेशेवरों को उनकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, परफॉरमेंस और वर्क एक्सपीरियंस के मुताबिक ही सैलरी पैकेज मिलता है. शुरू में ये पेशेवर एवरेज 2 -3 लाख रुपये सालाना कमा लेते हैं लेकिन कुछ वर्षों के अनुभव के बाद ये पेशेवर एवरेज 5 -7 लाख रुपये सालाना तक कमा लेते हैं. इन पेशेवरों को अपनी परफॉरमेंस के मुताबिक अक्सर इंसेंटिव भी मिलता है. किसी इन्वेस्टमेंट बैंकर के तौर पर ये पेशेवर शुरू में एवरेज 12 लाख रुपये सालाना कमाते हैं और कुछ वर्षों के अनुभव के बाद ये इन्वेस्टमेंट बैंकर्स एवरेज 30 लाख रुपये सालाना भी कमा सकते हैं. इस फील्ड में इंडिपेंडेंट ब्रोकर्स अपने टैलेंट के आधार पर करोड़ों रुपये सालाना भी कमा लेते हैं.

भारत में स्टॉक मार्केटिंग की फील्ड से जुड़े प्रमुख जॉब रिक्रूटर्स

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, प्रोफेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.

Related Categories

Also Read +
x