आईटी प्रोफेशनल्स के लिए कंप्यूटर नेटवर्किंग में करियर स्कोप

‘कंप्यूटर’ आज भारत सहित पूरी दुनिया में हमारे दैनिक जीवन का एक जरुरी हिस्सा बन चुका है और आईटी प्रोफेशनल्स के लिए भी कंप्यूटर से जुड़ी सभी फ़ील्ड्स में करियर ग्रोथ की काफी आशाजनक संभावनाएं हैं. आजकल कंप्यूटर केवल डेस्कटॉप तक ही सीमित नहीं रह गया है बल्कि लैपटॉप, स्मार्टफ़ोन्स और टेबलेट जैसे गेजेट्स भी अब कंप्यूटर के नए और मॉडिफाइड टाइप्स हैं. ध्यान देने वाला पॉइंट तो यह है कि लैपटॉप, स्मार्टफ़ोन्स और टेबलेट जैसे गेजेट्स पर आप अपने घर या दफ्तर के अलावा भी कहीं से भी काम कर सकते हैं.

कंप्यूटर नेटवर्किंग का परिचय

दरअसल, भले ही हमारा कंप्यूटर, लैपटॉप या स्मार्टफ़ोन वायरिंग या नेटवर्क से सीधे-सीधे जुड़ा हुआ नहीं दिखता है फिर भी, सुव्यवस्थित कंप्यूटर नेटवर्किंग सिस्टम के बिना कंप्यूटर पर हमारे काम सुचारू रूप से नहीं चल सकते हैं. कंप्यूटर नेटवर्किंग के तहत एक ही ऑफिस के 2 या अधिक कंप्यूटर्स को नेटवर्किंग के जरिये जोड़ा जाता है. इसी तरह, एक ऑफिस, एक शहर, एक राज्य और देश के कंप्यूटर्स को नेटवर्किंग के जरिये ही न सिर्फ आपस में बल्कि दुनिया के अन्य देशों के कंप्यूटर नेटवर्क सिस्टम के साथ जोड़ा जाता है ताकि दुनिया भर में इंटरनेट और कंप्यूटर के सभी काम सुचारू रूप से चलते रहें. इंटरनेट कम्युनिकेशन और सैटेलाइट कम्युनिकेशन्स इस कंप्यूटर नेटवर्किंग का ही नतीजा है जिसने पूरी दुनिया की इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में क्रांतिकारी परिवर्तन किये हैं.

प्रमुख कंप्यूटर नेटवर्किंग सेटअप्स

यकीनन हम में से अधिकतर लोग कंप्यूटर नेटवर्किंग सेटअप की विभिन्न किस्मों के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं. यहां ऐसे लोगों की सहूलियत के लिए कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड से संबद्ध प्रमुख सेटअप्स का संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा है:

लोकल एरिया नेटवर्क (लैन)

यह कंप्यूटर नेटवर्क सीमित दायरे तक ही प्रभावी होता है. आमतौर पर लैन का इस्तेमाल स्कूलों, कॉलेज कैंपस, लैब, ऑफिसेस में किया जाता है.

वाइड एरिया नेटवर्क (वैन)

इसका सबसे अच्छा उदाहरण इंटरनेट है. दरअसल, यह टेलीकम्यूनिकेशन नेटवर्क बहुत बड़े एरिया में प्रभावी होता है. ब्रॉडकास्टिंग और डाटा रिले में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है.

पर्सनल एरिया नेटवर्क (पैन)

पैन की पहुंच सिर्फ कुछ मीटर तक ही होती है. इसके जरिए टेलीफ़ोन, कंप्यूटर, पर्सनल डिजिटल असिस्टेंस जैसी विभिन्न डिवाइसेस को एक-दूसरे से कनेक्ट किया जाता है.

मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क (मैन)

यह नेटवर्किंग शहरों और विशाल कैंपस में इस्तेमाल की जाती है. इसमें कई लैन्स आपस में जुडी होती हैं. मैन में फाइबर ऑप्टिकल लिंक्स, अप लिंक सर्विसेज जैसी तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है.

स्टोरेज एरिया नेटवर्क (सैन)

लाइब्रेरी आदि में यह नेटवर्क बड़े पैमाने पर डाटा स्टेारेज के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

कंट्रोलर एरिया नेटवर्क (कैन)

यह एक किस्म का ऑटोमेटिक नेटवर्क सिस्टम है, जिसके जरिए ट्रेनों, बसों, पानी के जहाज और हवाईजहाज में इंटरनल कम्युनिकेशन को कंट्रोल किया जाता है.

नेटवर्क सिक्योरिटी

हमारे दैनिक जीवन में लगातार बढ़ते ऑनलाइन कामकाज और इसके प्रभाव के कारण आजकल  ऑनलाइन ट्रांजैक्शन से लेकर वलनरेबल डाटा को सुरक्षित ट्रांसफर करना काफी महत्वपूर्ण हो गया है. साइबर हैकिंग और साइबर क्राइम्स अब काफी बढ़ रहे हैं. इनसे बचने के लिए फुलप्रूफ नेटवर्क सिक्योरिटी सिस्टम अब समाज और देश-दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता बन चुका है.

भारत में कंप्यूटर नेटवर्किंग के लिए जरूरी एलिजिबिलिटी और एजुकेशनल क्वालिफिकेशन्स

हमारे देश में कंप्यूटर नेटवर्किंग के किसी अंडरग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास पास की हो और उनको इंग्लिश लैंग्वेज की अच्छी जानकारी होनी चाहिए. स्टूडेंट्स की एजुकेशनल क्वालिफिकेशन का उनकी जॉब प्रोफाइल पर काफी असर पड़ता है. हमारे देश में स्टूडेंट्स कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड में निम्नलिखित डिप्लोमा और डिग्री कोर्सेज कर सकते हैं:

प्रमुख डिप्लोमा कोर्सेज

  • डिप्लोमा – नेटवर्क टेक्नोलॉजी
  • डिप्लोमा – नेटवर्क टेक्नोलॉजी एंड डाटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन
  • एडवांस्ड डिप्लोमा – नेटवर्क टेक्नोलॉजी एंड सिक्यूरिटी

प्रमुख अंडरग्रेजुएट कोर्सेज

  • बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन्स
  • बीटेक/ बीई – कंप्यूटर साइंस

कॉलेज छात्रों के लिए जरुरी 8 सॉफ्ट स्किल्स

पोस्टग्रेजुएट कोर्सेज

  • मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन्स
  • एमटेक/ एमई – कंप्यूटर साइंस
  • मास्टर ऑफ़ नेटवर्क इंजीनियरिंग
  • एमबीइ – इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी

भारत में कंप्यूटर नेटवर्किंग में प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स

  • नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर/ नेटवर्क मैनेजर
  • नेटवर्क स्पेशलिस्ट
  • नेटवर्क सिक्यूरिटी इंजीनियर
  • नेटवर्क (सिस्टम्स) इंजीनियर
  • सीनियर नेटवर्क इंजीनियर
  • नेटवर्क एनालिस्ट/ प्रोग्रामर
  • नेटवर्क (सर्विस) टेक्नीशियन
  • कंप्यूटर नेटवर्किंग इंस्ट्रक्टर
  • टेक्नीकल सपोर्ट इंजीनियर
  • डाटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर
  • वेब मास्टर
  • एथिकल हैकिंग एक्सपर्ट
  • सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर
  • सिस्टम सिक्यूरिटी स्पेशलिस्ट
  • आईटी कंसलटेंट/ सीनियर टेक्नीकल कंसलटेंट

यहां आपकी सुविधा के लिए पेश है कुछ जॉब प्रोफाइल्स के बारे में कुछ जरुरी जानकारी जैसेकि:

  • कंप्यूटर नेटवर्क आर्किटेक्ट

कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड में यह एक हाई प्रोफाइल जॉब है और ये पेशेवर अपनी कंपनी या क्लाइंट्स की जरूरत के मुताबिक कंप्यूटर सिस्टम्स के लिए बड़े और छोटे पैमाने पर नेटवर्क की डिजाइनिंग करते हैं. ये पेशेवर कंप्यूटर नेटवर्किंग सिस्टम की सुरक्षा के लिए भी पूरी तरह जिम्मेदार होते हैं.

मशीन लर्निंग की दुनिया में ये हैं लेटेस्ट ट्रेंड्स

  • सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर व एनालिसिस्ट

देश-विदेश में आईटी की फील्ड से जुडे हर व्यक्ति को आजकल रोजगार के काफी अवसर मिल रहे हैं. सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर व एनालिसिस्ट पेशेवर दरअसल, सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग के माध्यम से थर्डपार्टी प्रोडक्ट्स को ज्यादा बेहतर बनाने का काम करते हैं. इसी तरह, सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी तैयार करने में भी ये पेशेवर अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं.

  • नेटवर्क टेक्नीशियन

हरेक संगठन में किसी नेटवर्क टेक्नीशियन के कारण ही कंप्यूटर नेटवर्किंग सुचारू रूप से काम करती  है. इन पेशेवरों का प्रमुख काम सिस्टम में आई खामियों को दूर करना और हार्डवेयर रिपेयर करना होता है.

  • सर्विस टेक्नीशियन

एक सर्विस टेक्नीशियन को आमतौर पर किसी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी द्वारा हायर किया जाता है. ये पेशेवर समय-समय पर अपने क्लाइंट्स के घर और ऑफिस या अन्य किसी भी स्थान पर प्रोडेक्ट में आई खराबियों को दूर करते हैं.

  • नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेशन

यह नेटवर्किग का सबसे महत्वपूर्ण पहलू है जिसके तहत ये पेशेवर लैन (लोकल एरिया नेटवर्क), वैन(वाइड एरिया नेटवर्क), वीपीएन (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क) जैसे कंप्यूटर नेटवर्क्स के प्रोपर कॉन्फीगरेशन और मैनेजमेंट का काम संभालते हैं. कुल मिलाकर नेटवर्क सिक्योरिटी की देख-रेख भी ये नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर्स ही करते हैं. संबद्ध कंपनी द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे सिस्टम्स जैसे, विंडो एनटी, नोवेल, यूनिक्स, लाइनेक्स के साथ नेटवर्क एप्लीकेशन वायरस प्रोटेक्शन की अच्छी जानकारी इन पेशेवरों को जरुर होनी चाहिए.  

  • नेटवर्क मैनेजर

इन पेशेवरों का काम एडमिनिस्ट्रेटर, इंजीनियर, टेक्नीशियन, प्रोग्रामर्स के काम को सुपरवाइज करना होता है.  इसी तरह, ये पेशेवर अपनी कंपनी की लंबे समय तक चलने वाली योजनाओं और वर्किंग स्ट्रेटेजीज़ को सफल बनाने के लिए पूरी तरह जिम्मेदार होते हैं.  

कंप्यूटर एकाउंटिंग में करियर और ग्रोथ प्रोस्पेक्टस

भारत में कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड में टॉप रिक्रूटर्स

यहां भारत के टॉप ब्रांड कंप्यूटर नेटवर्किंग रिक्रूटर्स की एक लिस्ट पेश हैं:

  • एचसीएल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड
  • एक्सेंचर
  • टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज लिमिटेड
  • वोडाफ़ोन
  • विप्रो टेक्नोलॉजीज लिमिटेड
  • सिस्को सिस्टम्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड
  • एल एंड टी इन्फोटेक लिमिटेड

भारत में कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड में मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में आईटी और कंप्यूटर नेटवर्किंग की फील्ड में क्वालिफाइड, ट्रेंड और एक्सपीरियंस्ड पेशेवरों को काफी अच्छा सालाना सैलरी पैकेज मिलता है. इन पेशेवरों को शुरू में एवरेज 4 लाख का पैकेज मिलता है जो वर्क एक्सपीरियंस बढ़ने के साथ-साथ बढ़ता जाता है. कुछ वर्षों के अनुभव के बाद ये पेशेवर एवरेज 15 लाख रुपये सालाना या उससे अधिक कमाई कर सकते हैं.  

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के साथ लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Popular

View More