CFA : कॉमर्स स्टूडेंट्स के लिए एक उभरता करियर

चार्टड फायनेंशियल एनालिस्ट फायनांस के क्षेत्र में उभरते हुए एक प्रसिद्द और प्रतिष्ठित करियर में से एक है. इन्वेस्टमेंट फायनांस के फील्ड में यह एक सर्वोत्तम पद है.प्रोफेशनल कोर्सेज के बढ़ते डिमांड की वजह से आजकल कॉमर्स स्टूडेंट्स सीएफए अर्थात चार्टड फायनेंसियल एनालिस्ट कोर्सेज करने की कोशिश कर रहे हैं. यह एक ग्रेजुएट लेवल का प्रोग्राम है तथा इसमें इन्वेस्टमेंट इंडस्ट्री में करियर बनाने के लिए इनवेस्टमेंट एनालिसिस, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट स्किल्स और एथिकल स्टैंडर्ड्स से जुड़े विषयों की व्यापक जानकारी प्रदान की जाती है. सीएफए के इस कोर्स को करने के लिए फायनांस की अच्छी जानकारी आवश्यक है तथा कॉमर्स विषय के साथ 12 वीं की परीक्षा पास होना इसकी अनिवार्य योग्यता है.

सीएफए (चार्टर्ड वित्तीय विश्लेषक) बनने के लिए अनिवार्य योग्यता

सीएफए बनने के लिए छात्रों को निम्नलिखित में से किसी एक योग्यता को अवश्य ही पूरा करना होगा

1. चार साल का प्रोफेशनल अनुभव

2. ग्रेजुएशन की डिगी/ ग्रेजुएशन प्रोग्राम के अंतिम वर्ष में होना चाहिए

3. अन्तरराष्ट्रीय पासपोर्ट होना चाहिए

4. अंग्रेजी भाषा का पर्याप्त ज्ञान.

सीएफए कोर्स में एडमिशन लेने की सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद उम्मीदवार को सीएफए के कुल तीन लेवल को क्लियर करना होता है. इन तीनों लेवल को पास करने के बाद उम्मीदवार को सालाना फीस भरकर सीएफए इंस्टीट्यूट की सदस्यता लेनी पड़ती है. सदस्यता लेने के दौरान उन्हें इस बात की प्रतिज्ञा करनी होती है कि वे इंस्टीट्यूट की अचार संहिता और प्रोफेशनल एथिक्स से जुड़े नियमों का सर्वथा पालन करेंगे. अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो इंस्टीट्यूट उनकी सदस्यता आजीवन के लिए रद्द कर सकती है.

उम्मीदवारों को इस कोर्स को पूरा करने के लिए प्रति वर्ष एक परीक्षा पास करनी होती है. पहली परीक्षा अर्थात लेवल 1 का एग्जाम साल में दो बार जून और दिसंबर के पहले सप्ताह में पूरा होता है. दूसरे लेवल और तीसरे लेवल का एग्जाम साल में एक बार ही होता है और ये सामन्यतः जून के प्रथम सप्ताह में होते हैं. प्रत्येक परीक्षा की अवधि 2-3 घंटे की होती है. लेवल 1 में 240 मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस पूछे जाते हैं. लेवल 2 में 120 मल्टीपल च्वाइस क्वेश्चंस पूछे जाते हैं और इन्हें 6 आइटम सेट के रूप में व्यवस्थित किया गया होता है. साथ ही प्रत्येक सेट में तथ्यों का अपना एक अलग विग्नेट होता है.प्रश्नों का सही उत्तर देने के लिए उम्मीदवार को रेफरेंस के रूप में निर्धारित विग्नेट का प्रयोग करना चाहिए. लेवल 3 में क्रिएटिव रिएक्शन,एस्से टाइप के प्रश्न तथा लेवल 2 से मिलते जुलते कुछ प्रश्नों का सेट होता है.

इस परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का कोई प्रावधान नहीं है. एग्जामिनेशन सेंटर पर केवल दो तरह के कैलकुलेटर  हेवलेट पैकार्ड (12 सी एचपी 12 सी प्लैटिनम सहित) और टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स बीए II प्लस (बीए II प्लस प्रोफेशनल समेत) ले जाने की अनुमति छात्रों को होती है. इस परीक्षा में जो उम्मीदवार सफल होते हैं उन्हें अंत में एक स्कोर रिपोर्ट प्राप्त होता है. हालांकि यह रिपोर्ट कई मामलों में बहुत अनिश्चित सा होता है.प्रत्येक परीक्षा के बाद न्यूनतम पासिंग स्कोर गवर्नर्स बोर्ड द्वारा निर्धारित किया जाता है. गवर्नर्स बोर्ड मानक सेटिंग प्रक्रिया और स्वतंत्र साइकोलोजिस्ट से प्राप्त इनपुट के परिणामों की समीक्षा करता है.

मानक सेटिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो परीक्षा के उत्तीर्ण स्कोर को परिभाषित करती है. सीएफए परीक्षा में संशोधित एंगऑफ विधि का उपयोग किया जाता है जो सर्टिफिकेशन और लाइसेंस परीक्षाओं के मानकों को निर्धारित करने के लिए एक सामान्य रूप से उपयोग किया जाने वाला दृष्टिकोण है. सब्जेक्ट एक्सपर्ट परीक्षा की समीक्षा करते हैं और केवल योग्य उम्मीदवार को न्यूनतम पासिंग स्कोर प्रदान करते है.न्यूनतम पासिंग स्कोर एक रिपोर्ट में गवर्नर्स बोर्ड को प्रस्तुत किए जाते हैं.

तीनो लेवल के लिए सीएफए प्रोग्राम का सिलेबस

लेवल I : स्टडी प्रोग्राम टूल्स और इनपुट पर जोर देता है और इसमें परिसंपत्ति मूल्यांकन, वित्तीय रिपोर्टिंग और विश्लेषण तथा पोर्टफोलियो मैनेजमेंट टेक्नीक्स के विषय में वृहद् स्तर पर पढ़ाया जाता है.

लेवल II : स्टडी प्रोग्राम परिसंपत्ति मूल्यांकन पर जोर देता है  और परिसंपत्ति मूल्यांकन में उपकरण और इनपुट (अर्थशास्त्र, वित्तीय रिपोर्टिंग और विश्लेषण तथा मात्रात्मक तरीकों सहित) के एप्लिकेशंस को शामिल करता है.

लेवल III : स्टडी प्रोग्राम पोर्टफोलियो मैनेजमेंट पर जोर देता है तथा इसमें इक्विटी, निश्चित आय और व्यक्तियों एवं  संस्थानों के लिए इन्वेस्टमेंट के मैनेजमेंट में टूल्स, इनपुट और परिसंपत्ति मूल्यांकन मॉडल आदि को लागू करने के लिए जरुरी स्ट्रेटेजी का विवरण शामिल है.

सीएफए की डिग्री लेने के के बाद निम्नांकित प्रोफाइल पर कार्य किया जा सकता है -

पोर्टफोलियो मैनेजर

सीएफए की डिग्री हासिल करने या उसके तीनों लेवल को पास करने के बाद अधिकांश उम्मीदवार पोर्टफोलियो मैनेजर के रूप में कार्य कर सकते हैं. इन्हें आमतौर पर फंड इंचार्ज के रूप में जाना जाता है. ये अपना ज्यादतर समय एनालिस्ट, रिसर्चर तथा क्लाइंट के साथ बिताते हुए करेंट इंडस्ट्री अपडेट्स तथा मार्केट और बिजनेस न्यूज की जानकारी रखते हैं. मार्केट की फ़्लक्चुएशन को देखते हुए ये प्रोपर्टी को बेचने तथा खरीदने का कार्य करते हैं.

रिसर्च एनालिस्ट

रिसर्च एनालिस्ट बिजनेस वर्ल्ड में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. लगभग 15 प्रतिशत सीएफए डिग्री धारक रिसर्च एनालिस्ट का काम करते हैं. रिसर्च एनालिस्ट डेटा की एनालिसिस कर मार्केट की स्थिति तथा उसके फ्यूचर के विषय में बताते हैं तथा निवेशकों को राय देते हैं.

चीफ-लेवल एग्जीक्यूटिव

दुनिया के सभी सीएफए चार्टरधारकों में से लगभग 7% ने इसे सी-सूट में परिवर्तित कर दिया है.चीफ लेवल एग्जीक्यूटिव किसी कंपनी के सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावशाली लोग होते हैं. ये बहुत बड़े बड़े फैसले लेते हैं तथा कंपनी को चलाने में इनकी मुख्य भूमिका होती है. प्रोफेशनल जगत में यह टॉप लेवल का पद है. कंपनी या इंस्टीट्यूट के इन हाई प्रोफाइल लोगों की रिसपोन्सबिलिटी भी बहुत अधिक होती है और इनका काम भी ऑपरेशन के हिसाब से भिन्न भिन्न होता है.

कंसल्टेंट

आजकल  कंपनियों में सही निर्णय लेने के लिए बिजनेस में एक्सपर्ट कंसल्टेंट की बहुत अधिक मांग है. कंपनियां बिजनेस का मूल्यांकन करने, आर्थिक पूर्वानुमान और विश्लेषण करने, शेयरधारक के मूल्य को बढ़ाने के अवसरों की पहचान करने आदि कार्यों के लिए कंसल्टेंट हायर करती हैं. आज की तारीख में लगभग 6 प्रतिशत सीएफए कंसल्टेंट के रूप में कार्य कर रहे हैं.

रिस्क मैनेजर

किसी भी बिजनेस में रिस्क एक मेन फैक्टर है.प्रत्येक सफल कंपनीयों को कुछ हद तक रिस्क उठाना ही पड़ता है. इसलिए अधिकांश कम्पनियां अपने लेनदेन और वित्तीय मामलों के रिस्क को समझने, उसे सॉल्व करने अथवा मैनेज करने के लिए रिस्क मैनेजर्स को हायर करती है. लगभग 5 प्रतिशत सीएफए रिस्क मैनेजर के रूप में कार्य कर रहे हैं.

कॉर्पोरेट फायनेंसियल एनालिस्ट

अधिकतर कंपनिया रिसर्च एनालिस्ट अथवा कॉर्पोरेट फायनेंसियल एनालिस्ट को हायर करती है. इनमें मुख्य अंतर यह होता है कि रिसर्च एनालिस्ट सिर्फ डेटा के विश्लेषण के आधार पर ही कोई निर्णय देता है जबकि कॉर्पोरेट फायनेंसियल एनालिस्ट को डेटा से परे जाकर भी कंपनी के हित के लिए निर्णय लेने की सिफारिश करनी होती है. ये मुख्य रूप से रिसर्च करते हैं और मैक्रो और माइक्रो अर्थशास्त्र पर विचार करते हैं.इसके अतिरिक्त ये इन्वेस्टमेंट निर्णयों के संबंध में महत्वपूर्ण कंसल्टेंट्स पर भरोसा करते हैं. वैश्विक स्तर पर  5% सीएफए कॉर्पोरेट फायनेंसियल एनालिस्ट के रुप में काम करते हैं.

रिलेशनशिप मैनेजर

किसी भी बिजनेस को सही तरीके से चलाने में रिलेशनशिप मैनेजर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है.सीएफए की डिग्री लेनेवालों में से लगभग 5% किसी कंपनी को महत्वपूर्ण बिजनेस रिलेशन बनाये रखने में मदद करते हैं. रिलेशनशिप मैनेजर का मुख्य कार्य अपनी वर्तमान स्थिति को कायम रखते हुए एनालिसिस करने में सक्रिय भूमिका निभाने के साथ-साथ बिजनेस से जुडी अस्थिरता को कम करना है.

फायनेंसियल एडवाइजर

सभी सीएफए डिग्री धारकों में से लगभग 5% फायनेंसियल एडवाइजर के रूप में कार्य करते हैं. ऐसे प्रोफेशनल आमतौर पर इन्वेस्टमेंट, टैक्सेशन और इंश्योरेन्स से जुड़े निर्णय लेने में ग्राहकों की सहायता करते हैं. वे ग्राहकों को शॉर्ट टर्म और लौंग टर्म वित्तीय लक्ष्यों के साथ-साथ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए वित्तीय योजना बनाने में सहायता करते हैं.

ध्यान देने योग्य बात यह है कि अमेरिका और ब्रिटेन में फाइनेंशियल सर्विसेज इंडस्ट्री में ज्यादा बेरोजगारी और लेबर फोर्स कम होने की वजह से सीएफए इंस्टीट्यूट अपने सीएफए और क्लेरिटास प्रोग्राम के लिए भारत जैसे इमर्जिंग मार्केट्स पर फोकस कर रहे हैं.सीएफए इनवेस्टमेंट प्रोफेशनल्स की ग्लोबल एसोसिएशन है.

अमेरिका और चीन के बाद भारत सीएफए के लिए तीसरा सबसे बड़ा मार्केट है. पिछले वर्ष भारत में सीएफए प्रोग्राम के लिए लगभग 21,000 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. भारत पूरी दुनिया में कैपिटल मार्केट्स इंडस्ट्री के लिए बीपीओ और केपीओ का केंद्र बना हुआ है. इसलिए यहां सीएफए जैसे एजुकेशन प्रोगाम्स के लिए बहुत अच्छी संभावनाएं हैं.

Related Categories

Popular

View More