Jagranjosh Education Awards 2021: Click here if you missed it!

कोविड 19 महामारी: डिजिटल लर्निंग को बढ़ावा देगा ये यूनिसेफ और माइक्रोसॉफ्ट का लर्निंग पासपोर्ट

Anjali Thakur

इन दिनों हम सभी गंभीर अनिश्चितता के दौर से गुजर रहे हैं और कोविड 19 महामारी के कारण पूरी दुनिया के अधिकतर देशों में लॉकडाउन लागू है. जिस वजह से दुनिया-भर के लगभग 190 देशों में सभी स्कूल, कॉलेज और एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स बंद हैं और 1.57 बिलियन बच्चों की पढ़ाई का बहुत नुकसान हो रहा है. ऐसे समय में, यूनिसेफ और माइक्रोसॉफ्ट ने लर्निंग पासपोर्ट सुविधा के माध्यम से दुनिया-भर के बच्चों को डिजिटल शिक्षा प्रदान करने के लिए आपस में हाथ मिलाया है. इन दोनों सुप्रसिद्ध संगठनों ने गत सोमवार को एक विशेष पर्सनलाइज्ड डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म – लर्निंग पासपोर्ट - लॉन्च किया है ताकि कोविड 19 लॉकडाउन के दौरान दुनिया के अधिकतर देशों में स्कूल-कॉलेज बंद होने के बावजूद बच्चे घर पर रहकर भी अपनी पढ़ाई जारी रख सकें.    आइये इस बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आगे पढ़ें यह आर्टिकल.

यूनिसेफ के बारे में:

यूनाइटेड नेशन्स ऑर्गनाइजेशन (यूएनओ) की दुनिया के बच्चों के लिए समर्पित ब्रांच यूनिसेफ अर्थात यूनाइटेड नेशन्स इंटरनेशनल चिल्ड्रनस इमरजेंसी फंड की स्थापना 11 दिसंबर, 1946 को पूरी दुनिया के बच्चों के संपूर्ण विकास के लिए की गई थी. वर्ष 1953 से यूनिसेफ की परमानेंट ब्रांच के तौर पर काम करने लगा है और इसका पूरा नाम यूनाइटेड नेशन्स चिल्ड्रनस फंड कर दिया गया है जबकि संक्षिप्त रूप यूनिसेफ ही है. 

माइक्रोसॉफ्ट के बारे में:

माइक्रोसॉफ्ट इंटेलीजेंट क्लाउड के लिए डिजिटल परिवर्तन लाने के लिए प्रतिबद्ध है और इसका उद्देश्य सभी लोगों और हरेक संगठन को उनके संपूर्ण विकास में सहायता प्रदान करना है.

Trending Now

आप ये विशेष डिजिटल स्किल्स सीख लें कॉलेज डेज़ में ही

लर्निंग पासपोर्ट – महत्त्वपूर्ण जानकारी

ज्ञान, जानकारी और समुचित शिक्षा को हम बहती हवाओं की तरह ही कभी भी देश-विदेश की राजनीतिक और भौगोलिक सीमाओं में बांध नहीं सकते हैं. शुरू में लर्निंग पासपोर्ट ने यूनिसेफ, माइक्रोसॉफ्ट और कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की साझेदारी में एजुकेशनल सेक्टर और देश-दुनिया के स्टूडेंट्स/ टीचर्स के लिए अपना काम करना शुरू किया था. फिर, 18 महीने के अथक प्रयास के बाद दुनिया-भर के विस्थापित और रिफ्यूजी बच्चों को डिजिटल रिमोट लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से समुचित शिक्षा देनें के लिए इस प्लेटफ़ॉर्म को तैयार किया गया और दुनिया-भर में लागू लॉकडाउन के दौरान इस डिजिटल लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म को सभी स्टूडेंट्स के लिए विश्व स्तर पर उपलब्ध कर दिया गया है. लर्निंग पासपोर्ट शुरू होने के बाद से स्टूडेंट्स विभिन्न ऑनलाइन कोर्स मटीरियल, बुक्स और वीडियो लेसंस का लाभ उठा सकते हैं.

डिसेबल्ड स्टूडेंट्स के लिए यह प्लेटफ़ॉर्म पर्सनलाइज्ड एप्रोच ऑफर करता है. इस डिजिटल लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म पर स्टूडेंट्स अपने देश के लर्निंग पासपोर्ट.यूनिसेफ.org पेज के माध्यम से एक्सेस कर सकते हैं. किसी भी देश के स्टूडेंट्स और टीचर्स के ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर एक्टिव होने के लिए सभी सदस्य देश अपना डिजिटाइज्ड सिलेबस तैयार कर सकते हैं और अपने देश में प्रचलित लोकल लैंग्वेजेज का ऑप्शन भी अपने स्टूडेंट्स और टीचर्स के लिए ऑफर कर सकते हैं. यह प्लेटफ़ॉर्म स्टूडेंट्स की स्टडीज़ का रिकॉर्ड भी रखता है और उन्हें बेस्ट एजुकेशनल वे के बारे में जानकारी भी प्रदान कर सकता है. लर्निंग पासपोर्ट का उद्देश्य करोड़ों स्टूडेंट्स के बीच डिजिटल लर्निंग के गैप को भी कम करना है. आजकल जब स्टूडेंट्स क्लास रूम टीचिंग के विभिन्न फायदों से वंचित हैं तो लर्निंग पासपोर्ट अपने स्टूडेंट्स को उनके घर पर भी सभी जरुरी लर्निंग रिसोर्सेज उपलब्ध करवा रहा है ताकि इन बच्चों की पढ़ाई इस लॉकडाउन के बीच भी निर्बाध रूप से चलती रहे.

लर्निंग पासपोर्ट से स्टूडेंट्स कैसे लाभ उठा सकते हैं?

स्कूल और कॉलेज के सभी स्टूडेंट्स, ऑनलाइन एजुकेशन और लर्निंग से पहले से वाकिफ़ हैं या फिर, इन लॉकडाउन के दिनों में और इसके बाद भी ऑनलाइन एजुकेशनल फैसिलिटीज़ का इस्तेमाल करने लगे हैं, वे सभी अपने देश के यूनिसेफ लीरिंग पासपोर्ट पेज पर विजिट करके अपनी एजुकेशनल/ लर्निंग आवश्यकता के मुताबिक लर्निंग पासपोर्ट की विभिन्न ऑनलाइन फैसिलिटीज से पूरा फायदा उठा सकते हैं. इस प्लेटफ़ॉर्म पर स्लो लर्नर स्टूडेंट्स के पेरेंट्स के लिए भी एडिशनल सपोर्ट उपलब्ध है. देश-दुनिया के स्टूडेंट्स 24x7 आधार पर इस ऑनलाइन लर्निंग पासपोर्ट से एजुकेशनल बेनिफिट्स हासिल कर सकते हैं.   

एचआरडी मिनिस्ट्री, भारत सरकार ने जारी की कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए डिजिटल लर्निंग रिसोर्सेज की लिस्ट

लर्निंग पासपोर्ट और टीचर्स

आपको यह जानकार भी ख़ुशी होगी कि इस प्लेटफ़ॉर्म पर टीचर्स और स्टूडेंट्स फेस-टू-फेस इंटरैक्ट कर सकते हैं और टीचर्स के लिए इस डिजिटल लर्निंग प्लेटफ़ॉर्म पर सभी जरुरी टीचिंग एड्स टीचर्स के लिए उपलब्ध हैं. यूनिसेफ और माइक्रोसॉफ्ट की इस पहल के फायदे जानने के बाद देश-दुनिया के कई सुप्रसिद्ध इंस्टीट्यूशन्स ने टीचर्स और स्टूडेंट्स की सुविधा के लिए अपना ऑनलाइन करिकुलम भी लर्निंग पासपोर्ट प्लेटफ़ॉर्म पर मुहैया करवा दिया है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

AICTE के ई-लर्निंग पोर्टल से करें ऑनलाइन कोर्सेज फ्री में

Related Categories

Live users reading now