Advertisement

कितनी महत्वपूर्ण होती हैं बोर्ड परीक्षाएँ? जानिये कुछ ख़ास बातें जो आपकी सोच को पूरी तरह बदल सकती हैं

बोर्ड परीक्षाओं का सीजन शुरू हो चुका है l CBSE की बोर्ड परीक्षा 5 मार्च 2018 से शुरू हो रही हैं जबकि UP में कई पेपर पहले ही हो चुके हैं l मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अब तक UP बोर्ड के 10 लाख से ज्यादा छात्रों ने एग्जाम छोड़ दिए l कुछ ने परीक्षा में फेल होने के भय से तो कुछ ने कम मार्क्स आने के डर से l

पिछले साल, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मध्य प्रदेश बोर्ड के 12 विद्यार्थियों ने आत्महत्या कर ली, आत्महत्या का कारण उनका ख़राब रिजल्ट बताया गया है l हर साल बोर्ड एग्जाम रिजल्ट आने के बाद विद्यार्थियों के आत्महत्या करने की खबरें आती हैं l

Image source: A scene from 3 Idiots’ Movie

हालाँकि विद्यार्थियों के आत्महत्या करने का कारण सिर्फ ख़राब बोर्ड एग्जाम रिजल्ट नहीं होता, अभिभावकों और रिश्तेदारों का अत्यधिक दबाव और आधी अधूरी जानकारी भी बहुत हद तक ज़िम्मेदार होती है | कुछ लोग तो ख़राब बोर्ड एग्जाम रिजल्ट की वजह से की गयी आत्महत्या को मर्डर मानते हैं |

अक्सर स्कूल के विद्यार्थी कुछ इस तरह सवाल इंटरनेट पर ढूढ़ते है :

• 12वीं का रिजल्ट कितना महत्वपूर्ण होता है?

• क्या 12वीं में खराब रिजल्ट के बाद मुझे अच्छे कॉलेज में दाखिला नहीं मिलेगा?

• क्या सिर्फ अच्छे मार्क्स से ही अच्छी कंपनी में जॉब दिला सकते है?

इस लेख के द्वारा हम यहाँ पर इन सवालों का हल समझेंगे और यह भी जानेंगे की 12वीं के बोर्ड एग्ज़ाम्स और उनके रिजल्ट कितने महत्वपूर्ण होते है |

पर सबसे पहले आइए समझते है कि किन परिस्थतियों में 12वीं के बोर्ड एग्ज़ाम्स और उनके रिजल्ट का महत्व ज्यादा होता है और किन परिस्थतियों में बोर्ड रिजल्ट कोई मायने नहीं रखता इसके बाद हम निष्कर्ष तक पहुंचेंगे |

कहाँ पर 12वीं के बोर्ड एग्ज़ाम्स और उनके रिजल्ट का महत्व सबसे ज़्यादा होता है

किसी भी विद्यार्थी के लिए क्लास 12वीं के रिजल्ट का महत्व, उसके करियर गोल पर निर्भर करता | अगर आपके करियर गोल नीचे दिए गये पॉइंट्स से मिलते जुलते है तो क्लास 12वीं के रिजल्ट को आप नकार नहीं सकते

1 # जब आपको किसी प्रतिष्ठित कॉलेज में एडमिशन लेना हो

Image source: dailymail.co.uk

प्रतिष्ठित कॉलेज (जैसे कि Delhi University) मे सीट पाने के लिए १२वीं के रिजल्ट में बहुत अधिक प्रतिशत लाना ज़रूरी है | हालाँकि कई कॉलेज, एडमिशन से पहले एंट्रेंस एग्जाम लेते है पर अब वहाँ पर भी न्यूनतम मार्क्स की सीमा तय हो गई है | तो प्रतिष्ठित कॉलेज में एडमिशन के लिए 12वीं के बोर्ड एग्जाम या क्लास 12 का रिजल्ट काफी अधिक महत्व रखता है |

पार्ट टाइम जॉब्स जिनके बारे में हर छात्र को पता होना चाहिये

2 # जब आपको प्रतिष्ठित सरकारी नौकरी करनी हो

Image source: facenfacts.com; wikimedia.org

हालाँकि ज्यादातर सरकारी संस्थानों में नौकरी पाने के लिए ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन ज़रूरी योग्यता होती है | पर कुछ सरकारी संस्थानों (नवरत्न कम्पनियाँ) में जॉब पाने के लिए ग्रेजुएशन के साथ-साथ न्यूनतम प्रतिशत (60%) भी ज़रूरी योग्यता में शामिल हो चुका है | इसका अर्थ यह है की अगर आप उस नौकरी के लिए आवेदन तभी कर पाएंगे जब आपके 12वीं और ग्रेजुएशन में 60 % मार्क्स हों | हालाँकि बहुत सारी प्रतिष्ठित सरकारी नौकरी अभी भी ऐसी है जहाँ सिर्फ विशेष एग्जाम में पास होना या (50 %) मार्क्स होना काफी है |

इंटरव्यू में अक्सर पूछे जाते हैं ये 7 सवाल, सही ज़वाब देने पर 99% तक बढ़ जातें है जॉब मिलने के चांस

3 # जब आपको किसी प्रतिष्ठित मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करनी हो

Image Source: offthegridnews.com

किसी भी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब पाने के लिए जरूरी हुनर होना जरूरी है पर उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है ज़रूरी योग्यता होना | लगभग हर बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी 12वीं और ग्रेजुएशन में (60%) मार्क्स को ज़रूरी योग्यता में रखतीं हैं | अर्थात जब आपके 12वीं और ग्रेजुएशन में (60%) मार्क्स होंगे तभी आप उन कंपनियों की लिखित परीक्षा या इंटरव्यू में भाग ले पाएंगे|

जॉब सर्च कर रहे हैं तो अपनायें ये पाँच तरीके, 30 दिनों में मिल सकती है सफलता

कहाँ पर 12वीं के रिजल्ट का महत्व सबसे कम होता है

अभी तक हमने यह जाना है कि कहाँ पर बोर्ड एग्जाम रिजल्ट सबसे ज्यादा महत्व रखता है | अब हम यह जानेंगे की कहाँ पर बोर्ड एग्जाम रिजल्ट का कोई महत्व नहीं (या बहुत कम होता है) |

1 # जब आप अपने फैमिली बिज़नेस को नई उचाईयों तक ले जाने वालें हो (या फिर खुद का बिज़नेस शुरू करने वाले हों)

Image Source: assets.bwbx.io

अगर आप फैमिली बिज़नेस ज्वाइन करने वाले है तो इसके लिए आपको अनुभव और मेहनत की ज़रूरत होगी | यहाँ पर आपके क्लास 12वीं के मार्क्स कोई खास योगदान नहीं देंगे | अगर आपके बोर्ड एग्जाम में मार्क्स अच्छे है तो अच्छी बात है पर अगर मार्क्स खराब है तो भी कुछ बुरा नहीं | यहाँ पर सारा योगदान आपको विरासत में हासिल हुआ जमीनी स्तर का अनुभव और कड़ी मेहनत का होगा |

2 # जब आप एक अच्छा खिलाड़ी, एथेलीट, अभिनेता  या गायक बनना चाहतें हो

Image Source: growthhormonesprays.com; celebritybeliefs.com; saavn.com

एक अच्छा खिलाड़ी, एथेलीट, अभिनेता या गायक बनने के लिए आपको कठिन अभ्यास, उचित प्रशिक्षण, शारीरिक सहनशक्ति और सकारात्मक दृष्टिकोण की ज़रूरत होती है | यहाँ पर १२वीं के मार्क्स का कोई ख़ास योगदान नहीं होता | पर अगर आपके बोर्ड एग्जाम में अच्छे मार्क्स हैं तो कोई बुरा नहीं है |

3 # जब आपके पास नौकरी के लिए उत्कृष्ट कौशल या जरुरी अनुभव हो

अगर आपके पास किसी काम के लिए उत्कृष्ट कौशल या जरुरी अनुभव हो तो आपके १२वीं बोर्ड परीक्षा के मार्क्स कोई ख़ास मायनें नहीं रखते | हर कंपनी को बेस्ट टैलेंट चाहिए जिससे वह उत्कृष्ट प्रोडक्ट बना सके| फिर कंपनियों को फर्क नहीं पड़ता की आपके मार्क्स कम है या ज़्यादा |
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जैसे-जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाता है वैसे-वैसे आपके बोर्ड एग्जाम रिजल्ट का महत्व काम होता चला जाएगा |

निष्कर्ष

ऊपर बोर्ड एग्जाम रिजल्ट से जुड़ी बातों से ये आप अच्छी तरह समझ गए होंगे कि क्लास 12वीं के रिजल्ट का महत्त्व इस बात पर निर्भर करता है कि आपके करियर गोल क्या है और आप आगे चलकर क्या बनना चाहते हैं |
इसमें कोई दो राय नही कि अच्छा बोर्ड एग्जाम रिजल्ट लाने वाला ख़राब रिजल्ट लाने वाले की तुलना में ज्यादा फ़ायदे में रहता है | पर आज के युग में भी ख़राब रिजल्ट लाने वाले विद्यार्थी के पास भी अवसरों की कोई कमी नहीं | ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने कम मार्क्स होने के बावजूद ऊंचा मुकाम हासिल किया | मेहनती और अनुभवी लोगों के लिए भरपूर सम्भावनायें हैं, फिर चाहें बोर्ड एग्जाम रिजल्ट में उनके परसेंटेज कैसे भी हो |

इसी वजह से लोग कहते हैं, कम अंक दुनिया का अंत नहीं है बल्कि एक नयी शुरूआत है |

5 हॉबीज़ जिनसे आप कमा सकते है पैसे और बना सकते हैं बेहतरीन कैरियर

Advertisement

Related Categories

Advertisement