कॉलेज स्टूडेंट्स ये टिप्स आजमाकर पायें इंटर्नशिप के बेहतरीन मौके

कॉलेज में एडमिशन लेते ही आजकल कॉलेज स्टूडेंट्स को एकेडमिक और एक्स्ट्रा-करीकुलर एक्टिविटीज़ के साथ-साथ अपने लिए सूटेबल इंटर्नशिप तलाशने की चुनौती का सामना भी करना पड़ता है क्योंकि आजकल भारत के कॉलेजों में प्रत्येक स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के लिए इंटर्नशिप अनिवार्य कर दी गई है ताकि अपनी कॉलेज स्टडीज़ पूरी करने के साथ-साथ स्टूडेंट्स को कॉर्पोरेट वर्ल्ड में काम करने का भी कुछ अनुभव हासिल हो जाए. अब जब प्रत्येक वर्ष हजारों कॉलेज स्टूडेंट्स अपने लिए सूटेबल इंटर्नशिप की तलाश करते हैं तो यह स्वभाविक ही है कि इन कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए मनचाही इंटर्नशिप पाने के अवसर काफी कम हों. लेकिन इसके बावजूद कुछ ऐसे टिप्स हैं जिन्हें आजमाकर ये स्टूडेंट्स अपनी मनपसंद इंटर्नशिप ज्वाइन करने का अवसर हासिल कर सकते हैं. बस स्टूडेंट्स को इंटर्नशिप के लिए मौजूद बेहतरीन मौकों का फायदा उठाने के लिए इस आर्टिकल में पेश किए जा रहे कुछ जरुरी पॉइंट्स का पूरा ध्यान रखना होगा.....तो आप अपनी अगली कॉलेज इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करते समय इन पॉइंट्स को जरुर फ़ॉलो करें. इस बारे में सटीक जानकारी पाने के लिए आइये आगे पढ़ें यह आर्टिकल:     

इंटर्नशिप के लिए पहले से करें प्लानिंग

एम्पलॉयमेंट के अन्य किसी भी एरिया की तरह ही, अब इंटर्नशिप सेक्टर में भी बड़ा जबरदस्त कम्पटीशन हो गया है ताकि इंटर्नशिप एप्लीकेशन्स भेजने वाले सैंकड़ों कैंडिडेट्स में से सबसे अच्छा कैंडिडेट चुना जा सके. इंटर्नशिप के लिए जिन कंपनियों से इनविटेशन आया है, उनका रिकॉर्ड रखें और उसके अनुसार ही अपनी योजना बनाएं. आप नौकरी डॉट कॉम जैसे पोर्टल्स भी देख सकते हैं जहां कई कंपनियां अपनी इंटर्न संबंधी आवश्यकता पेश करती हैं. उदाहरण के लिए, अगर आपको मई - जून के में इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करना है तो आप फरवरी - मार्च से ही सूटेबल कंपनियों की एक लिस्ट तैयार कर  सकते हैं. इससे आपको मनचाही कंपनी में अपने करियर गोल के मुताबिक किसी इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करने के लिए काफी समय मिल जाएगा. यदि आपको अपनी पसंद की कंपनी में इंटर्नशिप नहीं मिलती है तो आप अपनी ‘सेकंड चॉएस’ कंपनी में भी इंटर्नशिप के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

इंटर्नशिप ऑफर करने वाली कंपनी की महत्त्वपूर्ण जानकारी हासिल करें

इंटर्नशिप के लिए अपना आवेदन भेजने से पहले, कंपनी के मिशन और विज़न को अच्छी तरह से पढ़ें. कंपनी की जॉब संबंधी अपेक्षाओं को समझने के लिए कंपनी के बैकग्राउंड के बारे में भी खूब अच्छी तरह पढ़ें. इससे आपको अपने इंटरव्यू में सफल होने में मदद मिलेगी क्योंकि अपनी एक्स्ट्रा नॉलेज दर्शा कर आपको अपने इंटरव्यू में ज्यादा प्वाइंट्स मिलेंगे.

ये बेहतरीन टिप्स अपनाकर मिल सकती है आपको सूटेबल इंटर्नशिप

इम्प्रेसिव हो रिज्यूम का फॉर्मेट

पहला ऐसा काम जो आपके भावी एम्पलॉयर आपके रिज्यूम में देखेंगे, वह है रिज्यूम का टेक्स्ट मैटर. इस कारण, आपके लिए यह बहुत जरुरी है कि आप अपना पहला इम्प्रैशन सही डालें. आप 11 या 12 साइज़ का एक प्रोफेशनल फॉन्ट जैसेकि, टाइम्स न्यू रोमन, एरियल और कैलिब्री इस्तेमाल कर सकते हैं. कई व्यक्ति टाइम्स न्यू रोमन को स्क्रीन पर पढ़ने में कठिनाई महसूस करते हैं. अगर आप अपना रिज्यूम ईमेल कर रहे हैं तो आप ज्यादा अच्छी तरह पढ़े जा सकने वाले जॉर्जिया फॉन्ट का इस्तेमाल कर सकते हैं.

आप अपने रिज्यूम के विभिन्न हिस्सों के लिए अलग-अलग फ़ॉन्ट्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन कोशिश करें कि अपने रिज्यूम में 2 से अधिक फ़ॉन्ट्स का इस्तेमाल न करें. फ़ॉन्ट्स को बदलने के स्थान पर अपने टेक्स्ट मैटर में दिए गये मुख्य प्वाइंट्स और सब प्वाइंट्स को आप बोल्ड और/ या इटैलिक कर सकते हैं.  आप अपने रिज्यूम में हैडर और किसी सेक्शन की इंट्रोडक्शन के लिए 14 या 16 साइज़ का फॉन्ट इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन, रिज्यूम का बाकी सारा डिटेल 11 या 12 साइज़ के फॉन्ट में ही होना चाहिए. रिज्यूम में टेक्स्ट हमेशा डार्क ब्लैक इंक में प्रिंटेड हो और सारे हाइपरलिंक्स (जैसे ईमेल, एड्रेस और फोन न. आदि) डीएक्टिवेट हों ताकि वे नीले या अन्य किसी रंग में प्रिंट न हो जायें.

ये टिप्स अपनाकर इंडियन स्टार्टअप में पायें इंटर्नशिप

इंटर्नशिप के दौरान लर्निंग भी होती है खास

वैसे तो अभी आप निश्चित तौर पर नहीं जान सकते हैं कि आप अपने जीवन में क्या करना चाहते हैं या फिर, कौन-सा पेशा अपनाना चाहते हैं?.....क्योंकि अभी तो आप कॉलेज में ही पढ़ रहे हैं. अगर आपको अपने भावी पेशे के बारे में आइडिया है तो यह भी आपके लिए इस समय काफी फायदेमंद रहेगा. मार्केट या इंडस्ट्री में होने वाले लेटेस्ट ट्रेंड्स से अपडेटेड रहें ताकि आप अपनी जानकारी काफी बढ़ा सकें. आप किसी कंपनी में इंटरव्यू देने के बाद फ़ॉलोअप की आदत अवश्य अपनाएं क्योंकि एक इंटर्न के तौर पर काम करने के लिए आजकल सैंकड़ों स्टूडेंट्स हरेक कंपनी में अप्लाई करते हैं. किसी कंपनी के साथ फ़ॉलोअप करने से आपका उस कंपनी में इंटरेस्ट पता चलेगा और इससे उस कंपनी के संबद्ध अधिकारी भी आपसे इम्प्रेस हो जायेंगे और वे आपको अपनी कंपनी में ख़ुशी से हायर कर लेंगे. 

इंटर्नशिप के लिए आपका रवैया हो सही

ऑफिस में आपके सही रवैये का आपकी जॉब परफॉरमेंस और प्रोडक्टिविटी पर काफी असर पड़ता है. पॉजिटिव रवैये से आपको अपने काम और जॉब में सफलता मिलती है जबकि नेगेटिव रवैये से आपकी प्रोडक्टिविटी कम होती है. बेशक, ‘इंटर्नशिप्स करके सीखने के लिए एक बेहतरीन तरीका’ हैं इसलिये, आप अपनी इंटर्नशिप को मामूली समझने की गलती न करें. अपनी इंटर्नशिप के दौरान आप अन्य लोगों के साथ जो ‘कनेक्शन’ कायम करते हैं, वे आगे चलकर आपके बहुत काम आ सकते हैं क्योंकि जब आपको जॉब की जरूरत होगी तो सही लोग आपके स्किल्स की पुष्टि करेंगे. 

वर्ष 2020 में इंटर्न फेस कर सकते हैं ये प्रमुख चुनौतियां

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं..

Related Categories

Also Read +
x