जॉब के विवरण का विश्लेषण कैसे करें ?

हर कोई जानता है कि आज के प्रतिस्पर्धात्मक माहौल में नौकरी खोजना एक मुश्किल काम है लेकिन इससे भी ज्यादा मुश्किल काम सही नौकरी खोजना है. सहीं नौकरी खोजने के लिए जो आपको अपने कौशल और क्षमताओं को अपने कैरियर के विकास की जरूरतों को ध्यान में रख कर प्रस्तुत करना होता है.

लेकिन आप इसकी पहचान कैसे करेंगे कि कोई नौकरी आपके लिए सही है या नहीं? यह एक मिलियन डॉलर का सवाल है और इसका जवाब एक ‘सटीक नौकरी विवरण' है. नौकरी खोजने का पहला कदम नौकरी के विवरण का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करना है और उसके अनुसार अपना कवर पेज तैयार करना है. तो एक सफल नौकरी हासिल करने के लिए नौकरी विवरण का विश्लेषण करने के निम्नलिखित तरीकों पर एक नज़र डालें:

 1. सारांश को सावधानीपूर्वक पढ़ें

हर कंपनी नौकरी का एक संक्षिप्त सारांश तैयार करती है जो नौकरी के बुनियादी कर्तव्यों को एक या दो वाक्यों में परिभाषित करता है.  इसे नौकरी विवरण के शीर्ष पर उल्लेखितकिया जाता है. इसका मुख्य उद्देश्य संभावित उम्मीदवारों  को अपेक्षित भूमिका की समझ प्रदान करना है. नौकरी का विवरण कर्मचारी से प्रबंधन की अपेक्षाओं के बारे में बात करने के माध्यम के रूप में कार्य करता है.

उदाहरण के लिए: एडमिशन कोऑर्डिनेटर और पंजीकरण की प्रक्रियाओं को पर काम करने और कार्यक्रम निदेशक को प्रशासनिक सहायता प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है.

यह स्पष्ट रूप से नौकरी के अपेक्षित भूमिका और संगठनात्मक ढांचे में आपके पद के बारे में बात करता है.

2. नौकरी की भूमिकाएं और जिम्मेदारियों को समझें

नौकरी विवरण में फोकस करने के अन्य प्रमुख क्षेत्र नौकरी की भूमिकाएं और जिम्मेदारियां हैं. इसमें नौकरी की भूमिका से संबंधित कर्तव्यों और जिम्मेदारियों की एक सूची होती है.

उदाहरण के लिए:

वित्तीय क्षेत्र में नौकरी की तलाश करने वाले व्यक्ति को वित्तीय जोखिम का आकलन करना होगा तथा गैर-वित्तीय क्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य और सुरक्षा और आईटी का ऑडिट करना होगा. जो लोग इस नौकरी को करना चाहते हैं वे ऐसी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं.

 3. नौकरी में आवश्यक कौशल पर फोकस

जब नियोक्ता नौकरी का विवरण पेश करता है वह व्यक्तियों में उन कौशलों  को देखता है जो उस नौकरी के लिए जरूरी होती हैं. जब आप नौकरी का विवरण पढ़ते हैं  तो यह सुनिश्चित करें कि आप विवरणमें बताई गई आवश्यकताओं को पूरे कर पाते हैं या नही.यदि आप उसमें वर्णित कौशल को पूरा करने में विफल हैं, तो आप उस नौकरी को हासिल करने में नाकाम भी हो सकते हैं.

उदाहरण के लिए: यदि आप लेखन की नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं और संगठन आपसे संचार में मास्टर डिग्री की उम्मीद करते हैं तो खाली पद के लिए आवेदन करने से पहले यदि आप मास्टर दर्शनशास्त्र  में मास्टर डिग्री लेते हैं तो उस जॉब के लिए आवेदन न करें.

4. वेतन पर फोकस की करें

किसी भी कंपनी का प्रबंधन नौकरी के लिए निर्धारित एक विशिष्ट वेतन बैंड को अलग ही रखता है.जिसमें वे संभावित कर्मचारी को वेतन देने की  योजना बनाते हैं. हर नौकरी के विवरण में एक घटक होता है जिसे 'वेतन' कहा जाता है, जिसमें कर्मचारी की वेतन क्षमता का उल्लेख किया जाता है. आप इसमें  अपने  सर्वश्रेष्ठ मूल्य के बारे में  बातचीत कर सकते हैं.

नौकरी विवरणों की तुलना करते हुए, यह देखा जा सकता है कि कुछ नियोक्ता नौकरी विवरण का उल्लेख करते हैं, जबकि कुछ इस बारे में गोपनीयता बनाए रखते हैं. वे उम्मीदवार की दक्षता का विश्लेषण करते हैं और बाजार की मांग के अनुसार वेतन की पेशकश करते हैं.

5. अनुभव महत्वपूर्ण है

किसी उम्मीदवार को जॉब के लिए नामांकित करने में अनुभव एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. हालांकि कुछ संगठन प्रासंगिक अनुभव वाले उम्मीदवारों की खोज करते हैं और कुछ फ्रेशर्स के लिए भी अपने दरवाजे खुले रखते हैं. यह कर्मचारियों की भर्ती के लिए संगठन द्वारा निर्धारित संस्कृति और बजट पर निर्भर करता है.

उदाहरण के लिए:

अगर एक फ्रेशर किसी  नौकरी के लिए आवेदन करता है तो वह प्रारंभिक दौर में स्क्रीनिंग की उम्मीद कर सकता है. अनुभवी कर्मचारी को काम पर रखने के लिए कई तर्क हो सकते हैं. अगर कोई कंपनी एक अनुभवी पेशेवर चाहती है तो वो किसी फ्रेशर को उसके बराबर वेतन नहीं देगी.

Related Categories

Also Read +
x