स्टूडेंट्स के लिए कॉलेज में पढ़ते समय स्टार्टअप शुरू करने के कुछ कारगर टिप्स  

इन दिनों विश्व स्तर पर स्टार्टअप कारोबार में भारत तीसरे स्थान पर है और नैसकॉम के मुताबिक साल 2020 तक भारत में लगभग 10,500 स्टार्टअप कारोबार होंगे जिनसे लगभग 2.5 लाख लोग अपनी आजीविका अर्जित करेंगे. ऐसे में कई स्टूडेंट्स अपनी कॉलेज के दिनों से ही अपना स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं लेकिन उनके मन में अपने स्टार्टअप आइडियाज के सफल या असफल रहने के बारे में काफी अनिश्चितता की स्थिति बनी रहती है. अगर आप भी ऐसे ही एक कॉलेज स्टूडेंट हैं तो फिर, अपने भविष्य के साथ खिलवाड़ क्यों करना जबकि, आप अपने कॉलेज और स्टार्टअप ड्रीम्स में संतुलन कायम कर सकते हैं? यकीनन, मार्क ज़ुकेरबर्ग, बिल गेट्स, रितेश अग्रवाल आदि जैसे कई बड़े नाम हैं जो एक कॉलेज ड्रॉपआउट होने के बावजूद एक सफल उद्यमी बने. लेकिन इसका यह मतलब तो नहीं है कि एक महत्वाकांक्षी युवा उद्यमी बनने के लिए सफलता का रास्ता कॉलेज ड्रॉपआउट होने पर ही मिलता है. इसलिये, अगर आप भी परेशान हैं कि कैसे अपने कॉलेज की पढ़ाई और स्टार्टअप ड्रीम्स में संतुलन कायम करें? ...तो इस बारे में जानने के लिए यह आर्टिकल आपकी मदद करेगा.

आपको कॉलेज रिसोर्सेज का मिल सकता है फायदा

कई सफल उद्यमियों ने कॉलेज को नये स्टार्टअप्स के लिए ‘आदर्श इनक्यूबेटर’ माना है और इसके पीछे एक बहुत बढ़िया कारण है. कॉलेज एक ऐसी जगह होता है जहां आपको अपनी आवश्यकता के अनुसार सब साधन और सुविधायें तुरंत मिलती हैं. चाहे वह अकेडमिक आवश्यकता हो या टेक्निकल या फिर, कोई एक्सपर्ट एडवाइस; आपको कॉलेज में सब कुछ मिलेगा. आपके स्टार्टअप की टारगेट ऑडियेंस के अनुसार, कॉलेज परिसर उपयुक्त बीटा टेस्टिंग ग्राउंड्स भी साबित हो सकते हैं. आपके स्टार्टअप आईडिया पर आपके प्रोफेसर्स और पीअर्स के रिव्यु से संबंधित सिफारिशें और उनसे प्राप्त अंतर्दृष्टि चमत्कार कर सकते हैं. आपको प्रसिद्धी भी मिल सकती है और कॉलेज में होने वाले कई सम्मेलनों और प्रतियोगिताओं में आप अपने आइडियाज की तरफ निवेशकों का ध्यान भी खींच सकते हैं.

अपने स्टार्टअप के लिए चुनें सही पार्टनर

कॉलेज में, आप कई अपने जैसी सोच रखने वाले लोगों से घिरे रहते हैं और जिससे कॉलेज एक ऐसा उपयुक्त स्थान बन जाता हैं जहां पर आप अपने लिए सही बिजनेस पार्टनर की तलाश कर सकते हैं. याद रखें कि अपने प्रोजेक्ट में सफल होने के लिए, आपके लिए सही पार्टनर चुनना बहुत जरुरी हो जाता है. असल में, आपकी तरह ही प्रोजेक्ट को लेकर उनमें समर्पण और मालिकाना हक की भावना होनी चाहिए. आप अपने रूम मेट के साथ अपना प्रोजेक्ट शुरू कर सकते हैं लेकिन, यह सुनिश्चित कर लें कि वे इस जॉब के लिए बिलकुल फिट हैं. आपके लिए अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए ऐसे लोगों का चयन करना जरुरी है जो न केवल स्मार्ट हों बल्कि भरोसेमंद और ईमानदार भी हों.

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए बेहतरीन स्टार्ट-अप आइडियाज

शुरू में मिल सकती है असफलता भी, न डरें और जारी रखें अपना प्रयास

ऐसा हो सकता है कि आपका पहला ड्रीम प्रोजेक्ट सफल न हो पाये बल्कि बुरी तरह असफल हो जाए. आप शायद शुरू में निवेश किया गया अपना धन भी वसूल न कर सकें. लेकिन यह याद रखें कि, हरेक व्यक्ति को पहली ही बार में सफलता नहीं मिल जाती है. इसका यह कदापि अर्थ नहीं है कि आप अपना बोरिया-बिस्तर बाँध लें और अपने उद्यमिता के सपने को हमेशा के लिए भूल जायें. असफलता आपको अक्लमंद बनाती है. इसके अलावा, कॉलेजेस आइडियाज के साथ प्रयोग करने का सबसे उपयुक्त स्थान होते हैं. अपने भावी जीवन में एक पेशेवर के तौर पर कार्य करते हुए और कई अन्य जिम्मेदारियां निभाते हुए जोखिम उठाने के बजाय आप एक छात्र के तौर पर ज्यादा जोखिम उठा सकते हैं. इसलिये, असफलता से बिलकुल नहीं डरें और इसे सफलता की पहली सीढ़ी मान लें.  

कॉलेज की पढ़ाई और स्टार्टअप के बीच रखें संतुलन

क्या आप अपने उद्यमिता के सपनों को पूरा करने के लिए किसी स्टार्टअप आईडिया की तलाश कर रहे हैं? क्यों न आप अपने कोर्स के आधार पर कोई काम शुरू करें? इसके ठीक विपरीत, आप कोई ऐसा कोर्स भी कर सकते हैं जो आपके बिजनेस को चलाने में मददगार हो. आप हरेक कार्य में कुशल नहीं हो सकते हैं. लेकिन अगर आपको कई चीजों की आधारभूत जानकारी है तो आप अपना बिजनेस ज्यादा सुगमता से संभाल सकते हैं. अपनी पढ़ाई और स्टार्टअप आईडिया को दो बिलकुल अलग कार्य मानने के स्थान पर इन्हें पारस्परिक रूप से समावेशी बनाने की पुरजोर कोशिश करें.   

ये टिप्स अपनाकर साल 2020 में पायें बढ़िया सैलरी हाइक

कॉलेज की पढ़ाई होती है महंगी लेकिन आपके करियर के लिए महत्वपूर्ण

लेकिन, आपने और आपके पेरेंट्स ने आपको कॉलेज में पहुँचाने के लिए काफी मेहनत की है. इस इतनी कठिन मेहनत और निवेश का क्या फायदा होगा अगर आपने अपने कॉलेज में एक्टिव पार्टिसिपेशन नहीं किया या आप अच्छे मार्क्स लेकर पास नहीं हुए? फिर यदि, आपका उद्यम सफल नहीं हो पाये तो आप क्या करेंगे? पहले-पहल, अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश करना बहुत लुभावना लगता है. लेकिन, अपने स्टार्टअप प्रोजेक्ट के लिए क्लासेज अटेंड न करना अनुचित है. इसलिये, आपके लिए अपनी पढ़ाई और स्टार्टअप के बीच संतुलन कायम करना बहुत जरुरी है. आप जब-तब अपनी क्लासेज छोड़ने के बजाय अपने स्टार्टअप प्रोजेक्ट का काम करने के लिए कुछ समय निश्चित कर लें. याद रखें कि कॉलेज की पढ़ाई का भी काफी महत्व होता है. आशा है कि कॉलेज की पढ़ाई के साथ अपने स्टार्टअप ड्रीम्स में संतुलन बनाये रखने के लिए उपरोक्त टिप्स आपके लिए फायदेमंद साबित होंगे.

भारत में स्टार्ट–अप कंपनियां और उनका भविष्य

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Also Read +
x