कैसे बने AC मैकेनिक या टेक्नीशियन? जाने टॉप कोर्सेज और इंस्टीटूट्स यहां

भारत में आजकल भी विभिन्न गांवों, कस्बों और शहरों में अधिकतर परिवार अपने बच्चों को  हायर एजुकेशन दिलवाने के लिए लगने वाले लाखों रुपये का खर्च नहीं उठा पाते हैं. इसी तरह, बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं जो हायर स्टडीज़ हासिल नहीं करना चाहते हैं क्योंकि उनका मन पढ़ाई में तो नहीं लगता है लेकिन वे कुछ अन्य काम करने में माहिर होते हैं. कई बार विभिन्न हेल्थ इश्यूज़, या व्यक्तिगत, पारिवारिक, सामाजिक या आर्थिक कारणों से भी कई स्टूडेंट्स केवल अपनी 10वीं या 12वीं क्लास पास करने के बाद आगे कोई ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स करने के बजाय हाथ का कोई काम जैसेकि, कारपेंटरी, वेल्डिंग, प्लम्बिंग, बुक बाइंडिंग, कटिंग एंड सीविंग, मशीन या इलेक्ट्रिकल इंस्ट्रूमेंट्स की रिपेयरिंग सीख कर कोई जॉब ज्वाइन करना चाहते हैं या फिर अपनी स्किल फील्ड में ही अपना पेशा शुरू करना चाहते हैं. अब कारण चाहे जो भी हों, लेकिन एजुकेशन और विशेष रूप से टेक्निकल या वोकेशनल एजुकेशन का एक ही मकसद होता है और वह मकसद है स्टूडेंट्स को किसी पेशे या हाथ के काम की ट्रेनिंग देकर अपना  और अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लायक बनाना.

इसी तरह, कुछ बच्चों को बचपन से ही चीज़ें तोड़कर जोड़ने का काम काफी अच्चा लगता है. ऐसे बच्चे बल्ब, फैन, स्विच, फ्रिज, AC या घर के अन्य साजो-सामान की जांच-पड़ताल करने में काफी दिलचस्पी रखते हैं या फिर यूं कहें कि कुछ बच्चों के भीतर बचपन से ही एक कुशल मैकेनिक छिपा होता है जिसे बाहर आने के लिए प्रॉपर ट्रेनिंग और टेक्निकल एजुकेशन कि जरूरत होती है. अगर आप भी ऐसे ही एक स्टूडेंट हैं जो कोई कौशल या स्किल सीख कर अपना पेशा शुरू करना चाहता है या फिर, अपनी स्किल फील्ड में कोई सूटेबल जॉब हासिल करना चाहता है तो इस आर्टिकल में आपके लिए कुछ खास जानकारी दी जा रही है.  

AC मैकेनिक या टेक्नीशियन के लिए भारत के कुछ प्रमुख टेक्निकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स

ITI से करें एयर कंडीशनर (AC) मैकेनिक या टेक्नीशियन का कोर्स
आप किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशन बोर्ड से अपनी 10वीं क्लास मैथ्स और साइंस विषयों के साथ पास करके इस डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं. इस कोर्स की अवधि 1 वर्ष है और इस ITI कोर्स को पूरा करने के बाद कैंडिडेट्स को बड़ी आसानी से संबद्ध फील्ड में जॉब मिल जाती है. स्टूडेंट्स अपनी वोकेशनल/ ट्रेड ट्रेनिंग पूरी करने के बाद ऑल इंडिया ट्रेड टेस्ट (AITT) देते हैं और इस टेस्ट में सफल होने वाले स्टूडेंट्स को नेशनल ट्रेड सर्टिफिकेट (NTC) दिया जाता है. आपको यह जानकर ख़ुशी होगी कि पूरे भारत में 13 हजार से ज्यादा ITIs हैं और इनमें से लगभग 2300 से ज्यादा सरकारी इंस्टीट्यूशन्स हैं.

डायरेक्टरेट ऑफ़ ट्रेंनिंग एंड टेक्निकल एजुकेशन, दिल्ली

आप किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 10वीं क्लास पास करके या फिर समान एजुकेशनल क्वालिफिकेशन हासिल करके यहां से रेफ्रिजरेशन एंड एयर-कंडीशनिंग का कोर्स कर सकते हैं. इस कोर्स के 4 सेमिस्टर होते हैं. यहां से कोर्स पूरा करने के बाद ये पेशेवर अपना काम शुरू कर सकते हैं या फिर, इंडियन रेलवे, पब्लिक सेक्टर या प्राइवेट कंपनियों में जॉब कर सकते हैं.

जॉर्ज टेलीग्राफ ट्रेनिंग इंस्टीटयूट (GTTI), कोलकाता

यहां स्टूडेंट्स एयर-कंडीशनिंग मैकेनिक और टेक्नीशियन की ट्रेनिंग ले सकते हैं. यहां 8वीं पास एयर-कंडीशनिंग एंड रेफ्रिजरेशन मैकेनिक के लिए 6 महीने का ट्रेनिंग कोर्स है. इसी तरह, यहां से 9वीं पास स्टूडेंट्स 12 महीने का एयर-कंडीशनिंग और रेफ्रिजरेशन टेक्नीशियन कोर्स कर सकते हैं. इस इंस्टीटयूट से कोर्स पूरा करने के बाद स्टूडेंट्स को रिक्रूटमेंट के लिए भी सहायता दी जाती है. यहां ट्रेंड स्टूडेंट्स पूरे भारत में कहीं भी जॉब कर सकते हैं.

मॉडर्न इंडिया टेक्निकल इंस्टीटयूट, जमशेदपुर

यहां से आप 3 महीने का रेफ्रिजरेशन एंड एयर-कंडीशनिंग ट्रेनिंग कोर्स कर सकते हैं.

भारत में ये प्रमुख ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स भी करवाते हैं रेफ्रिजरेशन एंड एयर-कंडीशनिंग में डिप्लोमा

  • AMK टेक्नोलॉजिकल पॉलिटेक्निक कॉलेज, तमिलनाडु
  • अर्नी स्कूल ऑफ़ पॉलिटेक्निक, हिमाचल प्रदेश
  • गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक, उत्तरप्रदेश/ पंजाब
  • गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज, मध्य प्रदेश
  • कानपुर इंस्टीटयूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, उत्तर प्रदेश
  • कोहिनूर टेक्निकल इंस्टीटयूट, महाराष्ट्र
  • इंदिरा गाँधी कॉलेज ऑफ़ डिस्टेंस एजुकेशन, तमिलनाडु

भारत में AC मैकेनिक या टेक्नीशियन का सैलरी पैकेज

हमारे देश में शुरू में किसी फ्रेशर कैंडिडेट को एवरेज रु. 15 हजार से 20 हजार तक प्रति माह सैलरी मिलती है जो समय और कार्य-अनुभव बढ़ने के साथ बढ़ती जाती है. अपना करियर शुरू करने के कुछ वर्षों के बाद किसी AC मैकेनिक या टेक्नीशियन को किसी बड़ी कंपनी में एवरेज 35 – 40 हजार रुपये मासिक का सैलरी पैकेज मिलता है. कैंडिडेट्स अपनी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन बढ़ाकर अर्थात ग्रेजुएशन, पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करके और स्किल-सेट बढ़ाकर भी पहले से ज्यादा बेहतर सैलरी पैकेज प्राप्त कर सकते हैं. अपना पेशा शुरू करने पर ये पेशेवर सालाना काफी अच्छी कमाई कर सकते हैं.

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, प्रोफेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.  

Related Categories

Popular

View More