जानें फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए क्या है योग्यता, चयन प्रक्रिया, सैलरी और कहां मिलेगी नौकरी?

फॉरेस्ट ऑफिसर का पद केंद्र और राज्य सरकार के पर्यावरण, वन एवं कृषि मंत्रालयों और सम्बद्ध विभागों, कुछ सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, आदि में होता है. वन से संबंधित किसी भी संगठन में फॉरेस्ट ऑफिसर का पद ग्रुप ‘बी’ के स्तर का होता है. फॉरेस्ट ऑफिसर का कार्य होता है कि वह तैनाती के क्षेत्र में सभी प्रकार के जैविक-स्रोतो, जीवों, वनस्पतियों की स्थिति का आकलन, सर्वेक्षण, संरक्षण और रिपोर्टिंग करे. सरकार द्वारा निर्धारित नियमों एवं मानकों के अनुरूप क्षेत्र की वनीय भौगोलिक स्थिति के संरक्षण के लिए स्थानीय प्रशासन से समन्वय स्थापित करे और किसी भी प्रकार की उल्लंघन की दशा में आवश्यक जुर्माना, आदि लगाये. तैनाती के क्षेत्र में वन्य जन-जीवन और पादप संरक्षण और वर्धन के लिए कार्य करना फॉरेस्ट ऑफिसर या वन अधिकारी की प्रमुख जिम्मेदारी होती है.

फॉरेस्ट ऑफिसर की भूमिका किसी भी क्षेत्र में पर्यावरण, वन्य व्यवस्था, हरित संरक्षण के संदर्भ में बहुत महत्वपूर्ण होती है. फारेस्ट ऑफिसर को सुनिश्चित करना होता है कि तैनाती के क्षेत्र में केंद्र या राज्य सरकार के मानकों एवं नियमों के अनुरूप वनीय व्यवस्था का संरक्षण स्थानीय प्रशासन की मदद से करे. इसलिए फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए आवश्यक स्किल्स में से जरूरी है कि आपको विभिन्न प्रकार के वन्य जन-जीवन (जीव, पादप, आदि) और उनके संरक्षण की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए.

फॉरेस्ट ऑफिसर के लिए कितनी होनी चाहिए योग्यता?

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से बीएससी (फॉरेस्ट्री) बीएससी (एग्रीकल्चर) बीएससी (हॉर्टिकल्चर) या एन्वार्यमेंटल साइंस या जूलॉजी या बॉटनी या जियोलॉजी या अन्य सम्बन्धित विषय में बैचलर्स डिग्री उत्तीर्ण होना चाहिए. किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से फॉरेस्ट्री में उच्च डिग्री उत्तीर्ण उम्मीदवारों को वरीयता दी जाती है.

शैक्षणिक योग्यता के अतिरिक्त कुछ शारीरिक मानदंड निर्धारित किये गये हैं, जैसे – हाइट 163 सेमीं (पुरुष उम्मीदवारों के लिए, महिलाओं के लिए 150 सेमी), चेस्ट 84 सेमी (न्यूनतम 5 सेमी का फुलाव), आदि.

फॉरेस्ट ऑफिसर के लिए कितनी है आयु सीमा?

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए जरूरी है कि उम्मीदवार की आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के बीच हो. हालांकि, कुछ संस्थानों में पूर्व कार्य-अनुभव के साथ अधिकतम आयु सीमा अधिक भी हो सकती है. आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को अधिकतम आयु सीमा सरकार के नियमानुसार छूट दी जाती है.

फॉरेस्ट ऑफिसर के लिए चयन प्रक्रिया

फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर उम्मीदवारों का चयन आमतौर पर शैक्षणिक रिकॉर्ड, लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है. लिखित परीक्षा अनिवार्य विषयों (जनरल नॉलेज, जनरल इंग्लिश) और वैकल्पिक विषयों जैसे – एग्रीकल्चर, केमिस्ट्री, इंजीनियरिंग, फॉरेस्ट्री, हॉर्टिकल्चर, फिजिक्स, वेटेरिनरी, साइंस, बॉटनी, कंप्यूटर अप्लीकेशन साइंस, एन्वार्यमेंटल साइंस, जियोलॉजी, मैथमेटिक्स, स्टैटिस्टिक्स, जूलॉजी, आदि से प्रश्न पूछे जाते हैं.

कितनी मिलती है फॉरेस्ट ऑफिसर को सैलरी?

फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर सातवें वेतन आयोग के पे-मैट्रिक्स लेवल-14 के अनुरूप सैलरी दी जाती है. इसके अतिरिक्त विभिन्न प्रकार के भत्ते (डीए, एचआरए, आदि) देय होते हैं. वहीं, राज्य सरकारों के विभागों एवं संस्थानों में वेतनमान संबंधित राज्य के समकक्ष स्तर पर निर्धारित वेतनमान के अनुसार दिया जाता है जो कि राज्य के अनुसार अलग-अलग होता है.

फारेस्ट ऑफिसर को कहां मिलेगी सरकारी नौकरी?

फॉरेस्ट ऑफिसर का पद केंद्र और राज्य सरकार के पर्यावरण, वन एवं कृषि मंत्रालयों और सम्बद्ध विभागों, कुछ सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, आदि में होता है इसलिए इस पद के लिए रिक्तियां समय-समय पर इन्हीं संस्थानों में समय-समय पर निकलती रहती हैं. इन सभी रिक्तियों के बारे में भारत सरकार के प्रकाशन विभाग से प्रकाशित होने वाले रोजगार समाचार, दैनिक समाचार पत्रों एवं सरकारी नौकरी की जानकारी देने वाले पोर्टल्स या मोबाइल अप्लीकेशन के माध्यम से अपडेट रहा जा सकता है.

यह भी पढ़ें: भारत दर्शन

इस नौकरी को पाने के लिए पढ़ें करेंट अफेयर्स

Related Categories

Popular

View More