Advertisement

कॉलेज में पढ़ते हुए नेतृत्व कौशल का विकास करना छात्रों के लिए क्यों है जरुरी ?

आजकल के उच्च प्रतिस्पर्धी ऑफिस परिवेश में कोई भी व्यक्ति तभी सफल हो सकता है जब उसके पास बढ़िया लीडरशिप क्वालिटी या नेतृत्व कौशल हों. असल में, अगर कोई इंसान अपने करियर में निरंतर तरक्की करना चाहता है या किसी ऊंचे पद पर कार्य करना चाहता है तो उसे बेहतरीन नेतृत्व कौशल का प्रदर्शन करना होगा क्योंकि एक लीडर या नेता के तौर पर न सिर्फ आप अपने काम के लिए जिम्मेदार होते हैं बल्कि जूनियर कर्मचारियों के काम का जिम्मा भी आप पर होता है.

उदाहरण के लिए, यदि आपके अधीन कोई कर्मचारी अपनी ड्यूटी अच्छी तरह पूरी नहीं कर रहा है तो सिर्फ उससे ही इस बारे में पूछताछ नहीं की जायेगी बल्कि आपसे भी पूछा जायेगा कि आप अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को हैंडल क्यों नहीं कर पा रहे हैं? बहुत से ऐसे गुण या कौशल (जैसेकि, विशिष्ट व्यवहार, नजरिया, कौशल) होते हैं जो कोई अच्छा लीडर अपने काम करने के स्टाइल में दर्शाता है और उसके अधीनस्थ कर्मचारियों को अपने प्रमुख के काम करने के इन विशेष सकारात्मक तरीकों से काफी प्रेरणा भी मिलती है. 

वास्तव में, अधिकांश नेतृत्व कौशल और गुण आपके पेशेवर दुनिया में कदम रखने से पहले अर्थात केवल कॉलेज के दिनों में ही विकसित किये जा सकते हैं. इसलिये, इस आर्टिकल में हमने कुछ खास कारण बताये हैं कि क्यों आप अपने कॉलेज के दिनों में ही अपने नेतृत्व कौशल विकसित करने पर अपना पूरा ध्यान दें? 

लीक से हटकर सोचते हुए कॉलेज स्टूडेंट्स कैसे बने और क्रिएटिव ?

जिम्मेदारी की भावना का होता है विकास

कॉलेज में पढ़ते समय काफी असाइनमेंट्स,टास्क्स और ग्रुप प्रोजेक्ट्स ऐसे होते हैं जिन्हें छात्रों का ग्रुप मिलकर पूरा करता है. जब दो या दो से अधिक छात्रों की राय किसी काम को लेकर एक समान नहीं होती है तो अक्सर झगड़े होने लगते हैं. किसी ऐसी स्थिति में एक ग्रुप लीडर का होना बहुत जरुरी हो जाता है क्योंकि ग्रुप में कोई झगड़ा होने पर उसका निर्णय अंतिम माना जाता है. लेकिन लीडर को अंतिम निर्णय सुनाने से पहले विवादित मुद्दे के सभी  पहलुओं पर गौर करना चाहिए. ऐसे मुद्दे व्यक्ति की समझ विकसित करने में मददगार होते हैं और लीडर यह फैक्ट भी स्वीकार करते हैं कि किसी भी काम के लिए वे जिम्मेदार हैं और अगर वे अपना काम ठीक से नहीं कर पाते हैं तो इसका असर बहुत लोगों पर या उनके पूरे ग्रुप पर पड़ेगा. लीडर अपने काम के साथ-साथ अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के काम को लेकर भी जिम्मेदार और जवावदेह होता है. अगर उनके ग्रुप में कोई व्यक्ति अपना काम ठीक से नहीं कर पाता है तो उन्हें इसका कारण समझना होगा और जहां तक हो सके बिना किसी झगड़े या विवाद के इस समस्या का समाधान पेश करना होगा.

बढ़ता है आत्मविश्वास

एक लीडर में आत्मविश्वास का गुण कूट-कूट कर भरा होना चाहिए क्योंकि अगर किसी लीडर में ही आत्मविश्वास की कमी होगी तो वह अपने आस-पास के लोगों को प्रेरित नहीं कर सकेगा. किसी भी छात्र के लिए अपना आत्मविश्वास बढ़ाने का सबसे बढ़िया स्थान उसका कॉलेज ही होता है. कॉलेज में अपना आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए आप कई एक्टिविटीज में भाग ले सकते हैं. उदाहरण के लिए, आप ‘स्टूडेंट एसोसिएशन’ में किसी पोस्ट का कार्य संभाल सकते हैं या आप किसी कैंपस संगठन के प्रमुख के तौर पर कार्य कर सकते हैं. अगर आपको खेलने का शौक है तो आप अपनी टीम के कैप्टन बन सकते हैं. ऐसे में आपको लोगों के साथ मिल-जुलकर काम करना आ जायेगा और अगर आप ग्रुप लीडर हैं तो आपमें लीडरशिप के गुण स्वाभाविक तौर पर विकसित होने लगेंगे.

 

नेटवर्किंग का हुनर अपने आप आने लगता है

एक लीडर के तौर पर आपके पास लोगों के साथ जुड़ने और लोगों को अपने साथ जोड़ने की काबिलियत या नेटवर्किंग का कौशल अवश्य होना चाहिए. लोगों से अच्छे संबंध कायम रखना या नेटवर्किंग किसी भी लीडर के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्किल्स में से एक है. असल में, नेटवर्किंग के लिए कॉलेज से अच्छी दूसरी जगह और कौन-सी हो सकती है? कॉलेज में रहकर आप अपने नेटवर्किंग कौशल को अधिकतम सीमा तक निखार सकते हैं. जब आप अपने पेशेवर जीवन की शुरुआत करते हैं तो कॉलेज के दिनों में जिन लोगों के साथ आपने अच्छे संबंध कायम किये थे, वे लोग आपके काफी काम आ सकते हैं. कॉलेज में कायम किया गया कोई भी नेटवर्क कभी बेकार नहीं जाता है. कभी भी, कहीं भी आपके भावी जीवन में आपके कॉलेज के मेंटर, बैच-मेट्स या फिर आपकी फील्ड के लोग आपके काम आ सकते हैं. लेकिन किसी सामान्य कॉलेज छात्र के स्थान पर, अगर आप स्टूडेंट एसोसिएशन के मेंबर हैं या किसी छात्र संगठन के प्रेजीडेंट हैं तो आपको अन्य छात्रों से नेटवर्किंग कायम करने के कहीं ज्यादा मौके मिलते हैं.

समस्या-समाधान कौशल में स्वतः होता है विकास

किसी भी नेता या लीडर की सबसे बड़ी खासियत होती है उसका समस्यायें निपटाने का गुण. आखिरकार, चाहे हम किसी स्कूल या कॉलेज में पढ़ते हैं या फिर कोई पेशेवर हैं, हमारे जीवन में एक के बाद एक कई चुनौतियां आती रहती हैं. सिर्फ इतना ही फर्क होता है कि कोई समस्या या चुनौती ज्यादा जटिल होती है और कोई कम. लेकिन, जब आप एक बार किसी समस्या को अच्छे तरीके से सुलझा लेते हैं तो फिर, अगली बार आप वैसी किसी चुनौती का सामना करने से घबराते नहीं हैं. वास्तव में, कॉलेज लाइफ में तो समस्याओं और चुनौतियों की भरमार होती है और आपको तकरीबन रोजाना ही किसी न किसी समस्या से निपटना ही पड़ता है. एक लीडर के तौर पर आपको न सिर्फ अपनी समस्याओं का समाधान करना पड़ता है बल्कि अपने साथ कार्य कर रहे अन्य लोगों के सामने आने वाली समस्याओं और चुनौतियों का भी कोई कारगर समाधान पेश करना पड़ता है. कॉलेज में रहते हुए आप अपनी समस्याओं का समाधान करने से संबंधित कौशल को बखूबी निखार सकते हैं और फिर, आगे चलकर किसी ऑफिस के पेशेवर माहौल में भी आपको अपनी समस्यायें सुलझाने में काफी मदद मिलेगी. 

लीडर होते हैं प्रेरणा स्रोत

एक लीडर के तौर पर आपमें अवश्य लोगों को प्रेरित करने की क्षमता होनी चाहिए. आप अपनी टीम के साथ ऐसे बातचीत करें कि उन्हें हमेशा कड़ी मेहनत करने और अपनी वास्तविक कार्य-क्षमता को प्राप्त करने की प्रेरणा मिलती रहे. यदि आप कॉलेज में अपने दोस्तों को मेहनत करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं तो फिर, जब आप पेशेवर दुनिया में एंटर करेंगे तो आपको अपनी उक्त क्षमता से काफी लाभ मिलेगा. कॉलेज में किसी लीडर के तौर पर कोई कार्य करने पर आप अपने भावी जीवन में भी इस तरह की परिस्थितियों को हैंडल करने के अभ्यस्त हो जायेंगे क्योंकि कॉलेज में आपको कई ग्रुप प्रोजेक्ट्स और कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा करने का काफी अनुभव मिल जाता है.

लीडर के पास होता है प्रबंध कौशल का गुण

एक कुशल नेता या लीडर होने के नाते आपमें प्रबंध कौशल भी होना चाहिए अर्थात अपने सभी कामों और प्रोजेक्ट्स को आप हर परिस्थिति में कुशलता से पूरा कर सकें. कॉलेज में रहकर जब आप अपनी पढ़ाई के साथ-साथ अपनी हॉस्टल लाइफ को भी बखूबी मैनेज करते हैं और अपने दोस्तों की हर संभव सहायता करते हैं तो आपमें हरेक परिस्थिति में अपनी जरूरतों के अनुसार ‘प्रबंध’ करने का कौशल विकसित हो जाता है जो भावी जीवन में आपके बहुत काम आता है.

आपका रिज्यूम बनता है प्रभावी

जब आप कॉलेज में बहुत से प्रोजेक्ट्स, कार्य या ग्रुप्स का नेतृत्व करते हैं और अपने काम को सफलतापूर्वक पूरा करते हैं तो आप अपने भावी एम्पलॉयर्स को दिखाने के लिए इन कार्यों का विवरण अपने रिज्यूम में कर सकते हैं. ऐसे सफल प्रोजेक्ट्स और कार्यों का विवरण अपने रिज्यूम में देने से आपका रिज्यूम और जॉब प्रोफाइल काफी प्रभावी बन जाता है जिससे आपके भावी एम्पलॉयर पर आपका बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है. अधिकांश कंपनियां ऐसे पेशेवर और कर्मचारी रखना चाहती हैं जो जिम्मेदार और भरोसेमंद हों. जिस व्यक्ति में लीडरशिप के गुण मौजूद हों, उससे बढ़िया और कौन कैंडिडेट हो सकता है? लीडरशिप स्किल्स के कारण आपको अन्य प्रतियोगी कैंडिडेट्स से कहीं ज्यादा महत्व मिलता है और आपको नौकरी मिलने के चांस बहुत बढ़ जाते हैं.

लोकप्रियता को कैसे करें हैंडल?

अगर आप अपने पेशे में किसी बढ़िया लीडर के रूप में फेमस होना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले लीडरशिप क्वालिटी के साथ आने वाले प्रेशर के लिए तैयार रहना सीखना होगा. लोग आपके पास तरह-तरह की समस्यायें लेकर आयेंगे और उम्मीद करेंगे कि आप पलक झपकते ही उनकी समस्याओं का समाधान कर देंगे या फिर, आप उन्हें कोई कारगर सलाह देंगे ताकि वे अपनी समस्या से निपट सकें. एक लीडर के तौर पर आपको रोजाना के प्रेशर और चुनौतियों का सामना करने के लिए खुद को तैयार रखने की कला सीखनी होगी. आपको अपने संगठन की प्रत्येक छोटी से छोटी असफलता और दुर्घटना की जिम्मेदारी लेनी होगी. इसलिए, आपको शांत दिमाग से और बिना अपना संयम खोये ऐसी परिस्थितियों से निपटना सीखना होगा, केवल तभी आप एक सफल लीडर बन पायेंगे.

ये मनोवैज्ञानिक टिप्स अपनाकर करें लोगों को तत्काल प्रभावित!

सारांश

हमें उम्मीद है कि उक्त प्वाइंट्स आपको कॉलेज में लीडरशिप के गुण और कौशल विकसित करने का महत्व समझने में सहायता करेंगे क्योंकि जब कोई काम या चीज हम पहली बार सीखते हैं तो हम गलतियां करते हैं और प्रत्येक गलती हमें कुछ न कुछ  अवश्य सिखाती है. ध्यान रखिये पेशेवर माहौल में बेवकूफी करने की कोई गुंजाइश नहीं होती है क्योंकि ऐसे माहौल में छोटी से छोटी गलती की काफी ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है. लेकिन कॉलेज हमें अपने लीडरशिप कौशल निखारने का सुनहरा मौका देता है, जहां हम अपनी गलतियों से समय रहते बहुत कुछ सीख सकते हैं.

क्या आपने यह आर्टिकल पसंद किया है? इसे अपने दोस्तों और सहपाठियों के साथ अवश्य शेयर करें. कॉलेज स्टूडेंट्स, करियर और कॉलेज लाइफ से संबंधित ऐसे और अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. आप नीचे दिए गए बॉक्स में अपना ईमेल-आईडी सबमिट करके भी ये आर्टिकल सीधे अपने इनबॉक्स में प्राप्त कर सकते हैं.

Advertisement

Related Categories

Advertisement