Advertisement

मार्केट रिसर्च – एक अपकमिंग करियर ऑप्शन

किसी सफल बिजनेस के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्वाइंट है हमेशा बदलते हुए कंज्यूमर बिहेवियर को समझना. यहीं मार्केट रिसर्च की फील्ड का महत्व उजागर होता है. मार्केट रिसर्च कंज्यूमर एडवाइस, ओपिनियन्स, व्यूज, टेस्ट्स और पसंदों के आधार पर डाटा कलेक्शन की प्रोसेस है. अगर आप भी मार्केट रिसर्च की फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आपको मार्केट रिसर्च के संबंध में निम्नलिखित आस्पेक्ट्स जरुर पता होने चाहिए. आइए आगे पढ़ें:

मार्केट रिसर्च क्या है?

मार्केट रिसर्च कंज्यूमर बिहेवियर को समझने की कोशिश है. अब, क्योंकि कंज्यूमर्स की मांगों की प्रकृति गतिशील होती है, हरेक कंपनी को अपने कंज्यूमर्स के मुताबिक अपनी बिजनेस स्ट्रेटेजी बदलनी पड़ती है. कई कंपनियों में क्वालिफाइड और अनुभवी मार्केट रिसर्चर्स की बढ़ती हुई मांग के कारण, यह फील्ड युवा पीढ़ी के लिए आदर्श करियर ऑप्शन बन गई है. 

मार्केट रिसर्च में काम का प्रकार

किसी मार्केट रिसर्चर की सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संबद्ध संगठन या कंपनी को उनके कंज्यूमर्स की पसंदों के मुताबिक डायनामिक प्रोडक्ट/ सर्विसेज प्रोफाइल्स ड्राफ्ट करने में मदद करना है. इससे मार्केटिंग और सेल्स टीम्स को अपने ऑब्जेक्टिव्स पाने में मदद मिलती है. इसके अलावा, मार्केट रिसर्चर्स पिछले स्टेटिसटिकल सेल्स डाटा को भी एनालाइज करते हैं ताकि भावी सेल्स का अनुमान लगाया जा सके. ऐसा करने के लिए, मार्केट रिसर्च एनालिस्ट्स कई रचनात्मक तरीके अपनाते हैं जैसेकि, वे ग्रुप इंटरव्यूज, सर्वेज और टेलीफोनिक इंटरव्यूज पर ज्यादा फोकस करते हैं ताकि कस्टमर्स से मनचाही जानकारी प्राप्त हो सके. उक्त तरीके से कलेक्ट किये गए डाटा को एक सिस्टेमेटिक तरीके से संकलित और संगठित किया जाता है और फिर, क्लाइंट्स को पेश किया जाता है ताकि क्लाइंट्स उस डाटा को ध्यान में रखकर अपना  बिजनेस संबंधी निर्णय ले सके. 

मार्केट रिसर्चर बनने के लिए जरुरी स्किल्स

  • मार्केट रिसर्च एनालिस्ट के पास बेहतरीन कम्युनिकेशन स्किल्स होने चाहिए ताकि क्लाइंट्स के साथ वे असरदार तरीके से डील कर सकें और अपने जरुरी बिजनेस ऑब्जेक्टिव्स को प्राप्त कर सकें.
  • वे डाटा एनालिसिस के लिए एनालिटिकल टूल्स में माहिर हों और ट्रेडिशनल एवं टेक्निकल मेथड्स का बेहतर इस्तेमाल करें. इसके अलावा, वे डाटा कलेक्शन और प्रोसेसिंग की विभिन्न टेक्निक्स जानते हों ताकि वे अपने कस्टमर्स का व्यवहार समझ सकें.

मार्केट रिसर्च में जॉब के अवसर

मार्केट रिसर्च प्रोफेशनल्स अपने इंटरेस्ट, एक्सपर्टाइज और स्किल सेट्स के अनुसार निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल्स में काम कर सकते हैं:

मार्केट रिसर्च में एग्जीक्यूटिव पोजीशन

  • रिसर्च डायरेक्टर – यह मार्केट रिसर्च की फील्ड में सबसे सीनियर पोजीशन है और इस जॉब प्रोफाइल में निर्धारित समय पर मार्केट रिसर्च से संबद्ध सभी प्रोजेक्ट्स को तैयार करने और डिलीवर करने की पूरी जिम्मेदारी आती है.
  • रिसर्च मैनेजर – ये पेशेवर संबद्ध रिसर्च प्रोजेक्ट्स को डिजाइन करने, इम्प्लीमेंट करने और मैनेज करने के लिए जिम्मेदार होते हैं. वे यह सुनिश्चित करते हैं कि रिसर्च प्रोजेक्ट सुचारू रूप से काम करे और जिसके लिए वे ऑपरेशनल डायरेक्टर से बातचीत करते हैं. ये पेशेवर कंपनी और इसके क्लाइंट्स के बीच एक पुल का काम करते हैं.  
  • रिसर्च एग्जीक्यूटिव – रिसर्च एग्जीक्यूटिव्स प्रोजेक्ट्स के शुरुआती डेवलपमेंट में हिस्सा लेते हैं और फर्म के ऑपरेशनल डिपार्टमेंट के साथ भी काम करते हैं. एग्जीक्यूटिव्स रिसर्च मैनेजर और रिसर्च एनालिस्ट के साथ मिलकर काम करते हैं ताकि रिसर्च डिज़ाइन और डाटा कलेक्शन का ढांचा तैयार किया जा सके. ये पेशेवर फाइनल रिसर्च रिपोर्ट को तैयार करने के काम में भी शामिल होते हैं.
  • रिसर्च एनालिस्ट – ये पेशेवर डाटा एनालिसिस और डाटा प्रेजेंटेशन के काम के लिए जिम्मेदार होते हैं. इसके अलावा, ये लोग क्वेश्चनेयर रूटिंग की क्वालिटी को टेस्ट करने में भी अहम भूमिका निभाते हैं.

फील्डवर्क/ ऑपरेशन पोजीशन्स

  • ऑपरेशन डायरेक्टर – ऑपरेशनल डायरेक्टर की पोजीशन मार्केट रिसर्च में सबसे महत्वपूर्ण होती है जिसके तहत सारी जिम्मेदारियां शामिल हैं. ये पेशेवर कई डिपार्टमेट्स का काम देखते हैं जैसेकि, सैंपलिंग, डाटा प्रिपरेशन, डाटा एंट्री, क्वेश्चनेयर स्क्रिप्टिंग, टेबूलेशन्स और टेलीफोनिक यूनिट आदि. ये लोग सुनिश्चित करते हैं कि रिसर्च प्रोजेक्ट निर्धारित समय पर बिना किसी गलती के डिलीवर किया जाये और इस प्रोजेक्ट में सभी कॉस्ट-कंस्ट्रेंट्स या लागत संबंधी मुद्दों  और क्वालिटी स्टैंडर्ड्स को पूरा किया गया है.
  • फील्डवर्क मैनेजर – फील्ड मैनेजर्स रिक्रूटमेंट, मैनेजमेंट, ट्रेनिगं और डायरेक्ट तथा टेलीफोनिक इंटरव्यूज के इवैल्यूएशन से संबद्ध सभी कार्य देखते हैं. इसके अलावा, ये पेशेवर उपयुक्त रिसर्च सैंपल्स तैयार करने के साथ ही ट्रेनिंग, क्वालिटी मैनेजमेंट संबंधी कार्य भी करते हैं. 
  • स्टेटिसटिशियन/ डाटा प्रोसेसिंग प्रोफेशनल – ये पेशेवर मुख्य रूप से डाटा प्रोसेसिंग के कई कोर एरियाज से संबद्ध सभी कार्य करते हैं जिनमें सर्वेज की स्क्रिप्टिंग, डाटा प्रोसेसिंग टेबूलेशन, स्टेटिसटिकल सैंपलिंग और मार्केट मॉडलिंग से संबद्ध सभी कार्य शामिल हैं. 

मार्केट रिसर्च एनालिस्ट की सैलरी

किसी भी कैंडिडेट के जॉब रोल, पोजीशन और अनुभव के आधार पर, किसी भी मार्केटिंग रिसर्च संगठन में रिसर्च प्रोफेशनल्स के लिए सैलरी स्ट्रक्चर अन्य समान संगठनों से अलग होता है. उदाहरण के लिए, किसी फील्ड सर्वे एग्जीक्यूटिव की सैलरी शुरू में रु. 6000/- से रु. 7000/- प्रति माह तक हो सकती है. इसी तरह, किसी सीनियर मैनेजर की सैलरी रु. 900000/- से रु. 1500000/- प्रति वर्ष हो सकती है.

Advertisement

Related Categories

Advertisement