Positive India: जानें IPS नवनीत सिकेरा के बारे में जिनकी जिंदगी पर आधारित है Web Series 'भौकाल' - कुछ ऐसा था उनका बचपन से लेकर UPSC क्लियर करने तक का सफर

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट नवनीत सिकेरा लखनऊ शहर में IG के पद पर कार्यरत हैं। एटा जिले के एक छोटे से गाँव में जन्मे नवनीत ने कई मुश्किलों का सामना करते हुए आईपीएस बनने तक का सफर तय किया। लेकिन नवनीत को शुरू से ही आईपीएस बनने का ख्याल नहीं था। बल्कि पिता के साथ हुए एक दुर्भाग्यपूर्ण वाक्या ने उन्हें पुलिस सेवा में आने के लिए प्रेरित किया। 

अंग्रेज़ी ना आने की वजह से नहीं मिला था कॉलेज में एडमिशन:

नवनीत ने एटा जिले के आल बॉयज स्कूल से हाई स्कूल पास किया जिसके बाद वह दिल्ली के हंसराज कॉलेज में एडमिशन लेने पहुंचे। लेकिन कॉलेज में उनको अंग्रेजी ना आने के कारण एडमिशन फॉर्म नहीं दिया गया। फार्म ना मिलने पर उन्होंने हार नहीं मानी और खुद से किताबें खरीद कर पढ़ाई की। अपनी मेहनत-लगन से उन्होंने एक ही बार में आईआईटी जैसा एग्जाम क्रैक कर दिखाया और आईआईटी रूड़की से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरी की। 

UPSC (IAS) Prelims 2020: परीक्षा की तैयारी के लिए Subject-wise Study Material

पिता के साथ हुए हादसे ने किया IPS बनने के लिए प्रेरित :

अपनी ग्रेजुएशन पूरी कर नवनीत ने आईआईटी दिल्ली में MTech में एडमिशन लिया। हालांकि उनके पिता के साथ हुए एक हादसे ने उन्हें पुलिस सेवा में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। नवनीत बताते हैं कि उनके पिता को कुछ धमकी भरे फोन आ रहे थे। उनके पिता इसकी शिकायत करने थाने पहुंचे, लेकिन पुलिस ने कार्यवाही ना कर उनके पिता को ही बेइज़्जत कर पुलिस स्टेशन से निकाल दिया। इस घटना का नवनीत पर काफी प्रभाव पड़ा और उन्होंने MTech की पढ़ाई छोड़ कर सिविल सेवा की परीक्षा के लिए तैयारी करने का निर्णय लिया। 

UPSC (IAS) Prelims 2020 की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण NCERT पुस्तकें 

पहले ही एटेम्पट में कर लिया था UPSC IAS एग्जाम क्लियर:

नवनीत ने बिना किसी कोचिंग का सहारा लिए खुद की मेहनत और लगन से पहले ही एटेम्पट में सिविल सेवा परीक्षा पास कर ली थी। उनकी रैंक इतनीअच्छी थी की उन्हें आसानी से IAS की पोस्ट मिल सकती थी। लेकिन उन्होंने IPS बनने का सपना देखा था और उसी को चुना। वह 32 वर्ष की उम्र में लखनऊ के सबसे युवा SSP बनें। 

रोमांचक रहा है अब तक का पुलिस करियर :

लखनऊ में कुख्‍यात गैंगेस्‍टर रमेश कालिया के एनकाउंटर के बाद आईपीएस नवनीत सिकेरा का नाम चर्चा में रहा है। वह अब तक 60 एनकाउंटर कर चुके है। वर्ष 2001 में उन्हें जीपीएस-जीआईएस आधारित ऑटोमैटिक व्हीकल लोकेशन सिस्टम (एवीएलएस) विकसित करने के लिए यूपी के तत्कालीन सीएम राजनाथ सिंह द्वारा 5 लाख के पुरूस्कार से सम्मानित किया गया था। इसी के साथ साथ उन्हें 2005 और 2013 में पुलिस विभाग को दिए अपने अद्भुत योगदान के लिए राष्ट्रपति पदक से भी नवाज़ा गया। 

नवनीत के जीवन पर आधारित है नई वेब सीरीज - भौकाल:

MX Player पर शुरू हुई  सीरीज भौकाल नवनीत सिकेरा के पुलिस कार्यकाल पर आधारित है। लखनऊ और मुज़फ्फरनगर में बढ़ रहे गैंग वॉर को  जिस तरह से नवनीत ने खत्म किया, भौकाल उसी का एक नाट्य रूप है। वेब सीरीज में नवनीत का रोल टीवी एक्टर मोहित रैना ने निभाया है। 

यूपी पुलिस में आईजी नवनीत सिकेरा सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। यही नहीं, फेसबुक पर आने वाली लोगों की शिकायतों पर भी तुरंत एक्शन लेते है। नवनीत ने पुलिस सेवा आम लोगो की  सुरक्षा के लिए ज्वाइन की थी और वह इस मकसद को बखूबी निभा रहे हैं। 

"प्रतिभा नाम की कोई चीज नहीं है, अगर आपके भीतर कुछ करने की आग है तो प्रतिभा खुद आपका पीछा करती है। ” - नवनीत सेकेरा

UPSC (IAS) Prelims 2020: टीना डाबी ने 3 महीने में ऐसा किया था रिवीजन, बताया अपना टाइम टेबल

Related Categories

Also Read +
x