पार्ट टाइम जॉब में सफलता के मूल मंत्र

दैनिक जीवन से जुड़े अपनी सभी आवश्यकताओं की सही ढंग से पूर्ति के लिए अधिकांश लोग ऐसे अवसरों की तलाश में रहते हैं जहाँ कम समय देकर कुछ ज्ञान अर्जित करने के साथ साथ अच्छी खासी रकम कमाई जा सके. पिछले कुछ वर्षों में कार्पोरेट जगत में पार्ट टाइम जॉब कल्चर का विकास बड़ी तीव्र गति से हुआ है.अब अधिकांश लोग 9 से 5 के जॉब को बहुत वरीयता नहीं देते.अब वो दिन नहीं रहें जब फुल टाइम जॉब को बहुत बढ़िया माना जाता था.

आज कल तो काम करने के भिन्न भिन्न तरीकों की खोज की जा रही है उनमें से एक है पार्ट टाइम जॉब. यह पैसा कमाने तथा खाली समय के सदुपयोग का एक सटीक और बहुत अच्छा श्रोत है. पार्ट टाइम जॉब अतिरिक्त आय का एक अच्छा श्रोत है. व्यक्ति बिना किसी व्यवधान के कुछ कमाई कर सकता है. इससे व्यक्ति के अन्दर सेल्फ कॉन्फिडेंस का विकास होता है. पार्ट टाइम जॉब करते समय लोग जीवन की चुनौतियों का सामना करना भी सीख जाते हैं. आप जिस फील्ड के स्पेशलिस्ट हैं उसी फील्ड में पार्ट टाइम जॉब करें तो इससे काम की सही समझ और पर्याप्त जानकारी मिलती है.इससे जिस जगह पर आप काम करते हैं वहां के लोगों के साथ संपर्क बढ़ने से आपके कॉन्टेक्ट लिस्ट भी बढ़ जायेगी. पार्ट टाइम जॉब से किताबी ज्ञान के साथ साथ प्रैक्टिकल नॉलेज भी होती है.इतना ही नहीं आपको दो काम के बीच तालमेल बैठाना भी आ जाता है. इससे आपकी जिन्दगी और आसान हो जाती है. टाइम मैनेजमेंट, प्रेशर में काम करना, क्रिएटिविटी, टीम वर्क तथा प्रोफेशनल एटीटयूड आदि गुणों का भी विकास होता है.

लेकिन पार्ट टाइम जॉब के बढ़ते चलन के बावजूद भी पार्ट टाइम जॉब का चयन करते समय कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए तथा इसे कभी भी नजरअंदाज नहीं करें.

समय का ख्याल रखें और ईमानदारी बरतें

यदि आप किसी कंपनी के फुल टाइम एम्प्लॉयी हैं और पार्ट टाइम जॉब भी करते हैं तो आपके द्वारा यह बात कंपनी को अवश्य ही बताया जाना चाहिए. ऐसा करके आप अपने सभी कामों को बेहतर तालमेल के साथ कर पाएंगे. काम के प्रति ईमानदार होने पर आप समय रहते सुनियोजित ढंग से अपने कामों को पूरा करने में सक्षम होंगे. कोई भी काम करते समय एक बात का ध्यान अवश्य रखें कि आप किसी तरह अपने ऑफिस के काम तथा पर्सनल काम के बीच एक सही संतुलन तथा तालमेल बनाये रखें. अगर आप अपने घर से ही पार्ट टाइम जॉब कर रहे हैं तो आपके पास वो सारी सुविधाएँ मौजूद होनी चाहिए जो काम करते वक्त ऑफिस में आपके पास होती है.

काम के साथ समझौता हरगिज न करें

आपको यह पता होना चाहिए कि वर्क एट होम और फुल टाइम वर्क में सिर्फ इतना फर्क होता है कि आप अपने वर्कप्लेस पर शारीरिक रूप से मौजूद नहीं रहते लेकिन, आपको काम उतना ही करना पड़ता है जितना आप ऑफिस या वर्कप्लेस पर आकर करते हैं. इसलिए कभी भी काम से किसी तरह का समझौता करने की कोशिश नहीं करें.पार्ट टाइम करते समय स्मार्टफोन, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और ईमेल जैसी टेक्नीक्स का भरपूर प्रयोग करें. इस बात का पूरा ध्यान रखें कि यदि आपके ऑफिस के साथी या बॉस आपसे संपर्क करना चाहें, तो वे बिना किसी परेशानी के आपसे संपर्क कर सकें. यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो इससे आपकी नकारत्मक छवि बनने की संभावना ज्यादा रहेगी.

अपना बेस्ट देने का प्रयास करें

आज के इस कॉम्पिटीटिव माहौल में हर कोई एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में लगा हुआ है. आजकल तो अक्सर लोग कम समय में कामयाबी की बुलंदियों को छूने की चाह में पढ़ाई या फुल टाइम जॉब के साथ साथ पार्ट टाइम जॉब करना भी पसंद करते हैं. इसमें कोई दो राय नहीं है कि सेल्फ कॉन्फिडेंस के साथ साथ ऑफिस के माहौल,प्रोफेशनल एथिक्स और कंपनी कल्चर को समझने मे किसी तरह की परेशानी नहीं होती है. लेकिन इन सभी चीजों के लिए तथा एक अच्छा एम्प्लॉयी बनने के लिए आपको हमेशा बेस्ट देने की कोशिश करनी चाहिए. अगर आप एफर्ट करेंगे तो सफलता अवश्य मिलेगी.

अपने प्रोफेशन से जुड़े कार्यों को ही वरीयता दें

सबसे पहले ऐसे लोग जो फुल टाइम वर्क करने के बावजूद भी पार्ट टाइम जॉब की तलाश में हैं उन्हें हमेशा अपने फुल टाइम जॉब से जुड़े या उससे थोड़ा बहुत मिलते जुलते क्षेत्रों में ही पार्ट टाइम जॉब करनी चाहिए. उदाहरण के लिए यदि आप एक अकाउंटेंट हैं तो आपको अकाउंट से सम्बन्धित कार्यों में ही पार्ट टाइम जॉब करने की कोशिश करनी चाहिए अन्य फील्ड में नहीं.इससे दोनों ही जॉब को करने में आसानी होती है तथा मानसिक थकान कम होती है.इसके अतिरिक्त आप सबसे ज्यादा उसी काम को महत्व दें जिसके मार्फ़त आप पैसा कमा रहे हैं. अपने काम के प्रति हमेशा फोकस्ड रहें.

वर्कप्लेस के वर्ककल्चर को समझें

प्रोफेशनल या कार्पोरेट वर्ल्ड में वर्क कल्चर के अनुरूप अपने आप को ढालना सफलता का मूल मन्त्र है.इसके लिए आपको सबसे पहले अपने काम और कंपनी के वर्क कल्चर को समझने की कोशिश करनी चाहिए. यदि आप ऐसा करते हैं तो इससे आप किसी के साथ भी अपने एक्सपीरिएंस को शेयर करने में माहिर होने के साथ साथ नई चीजों को सीखने की कला में भी प्रवीण हो जायेंगे. किसी भी काम में बेहतर रिजल्ट के लिए काम किये जाने वाले स्थान विशेष के कल्चर को समझना जरुरी होता है और तभी सफलता मिलती है.

प्रेशर में काम करने की आदत विकसित करें

आजकल हर जगह तथा हर किसी को प्रेशर के माहौल में काम करने की मज़बूरी है. कोई इस प्रेशर को प्रत्यक्ष रूप से समझकर सहन करता है तो कुछ लोग अनजाने में ही इसे सहन करते हैं. लेकिन जीवन में सफलता के लिए जाने अनजाने हर कोई प्रेशर में ही काम कर रहा है. उदाहरण के लिए एक नर्सरी का बच्चा टाइम लिमिट में एबी सीडी  सीखने का प्रेशर झेलता है, एक हाउसवाइफ सुबह सुबह कम समय में अपने सारे कामों को निपटाने के प्रेशर में काम करती है और एक प्रोफेशनल निश्चित समय में टारगेट पूरा करने के प्रेशर में काम करता है. इसलिए प्रेशर हर जगह है और हमें इस प्रेशर में ही अपना सर्वश्रेष्ठ देना है, ऐसा सोचकर काम करें. इससे आप हर परिस्थिति में काम करने की कला में माहिर हो जायेंगे और जीवन में सफल होंगे.

अतः अगर आपमें से कोई अपनी आवश्यकताओं और शौक को पूरा करने की ख्वाइश रखता है तो उसे अवश्य पार्ट टाइम जॉब करने की कोशिश करनी चाहिए लेकिन पार्ट टाइम जॉब में पूरी तरह सफलता के लिए तथा अपने प्रोफेशनल और पर्सनल लाइफ में बैलेंस बनाये रखने के लिए आपको ऊपर बताये गए बातों पर अवश्य ही गौर करना चाहिए. इससे आपको अपने जॉब को समझने के साथ साथ अपने अन्दर टाइम मैनेजमेंट, मल्टीटास्किंग, लीडरशिप स्किल, स्ट्रेस मैनेजमेंट,क्रिएटिविटी, टीमवर्क,आउट ऑफ बॉक्स थिंकिंग जैसे स्किल्स को डेवेलप करने का मौका मिलेगा.

Related Categories

Popular

View More