परफेक्ट इंग्लिश से मिलेंगे बेहतर करियर के ढेरों अवसर

ओवरव्यू

अंग्रेजी/ इंग्लिश भाषा विश्व की सबसे ज्यादा बोली और समझी जाने वाली भाषाओँ में से एक है. मेंडरिन चाइनीज़ भाषा (1.1 बिलियन स्पीकर्स) के बाद विश्व में इंग्लिश दूसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा (983 मिलियन स्पीकर्स) है. यूनाइटेड नेशन ऑर्गेनाइजेशन के चार्टर में भी इंग्लिश भाषा को चाइनीज भाषा के बाद दूसरी ऑफिशल इंटरनेशनल लैंग्वेज के तौर पर शामिल किया गया है.

हमारे देश में तो वर्ष 1947 में आजादी मिलने के बाद से आज तक इंग्लिश भाषा का महत्व लगातार बढ़ा ही है और निकट भविष्य में भी भारत के साथ-साथ इंटरनेशनल लेवल पर इंग्लिश का यह महत्व कायम रहने की संभावना को कोई नकार नहीं सकता है. लेटेस्ट डाटा के अनुसार इंग्लिश भारत सहित लगभग 70 देशों की राजकाज (ऑफिशल) की भाषा है. अगर हम आर्थिक नजरिये के साथ इंग्लिश लैंग्वेज के महत्व को जोड़ें तो विश्व के कुल जीएनपी (ग्रॉस नेशनल प्रोडक्ट/ सकल घरेलू उत्पाद) का लगभग 40% हिस्से के लिए इंग्लिश स्पीकिंग देश जिम्मेदार हैं.

चर्चा: क्या इंग्लिश लैंग्वेज आपको करियर के ज्यादा अवसर मुहैया करवाती है?

हम अगर अपने रोज़मर्रा के जीवन में भी नजर डालें तो स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी की शिक्षा में इंग्लिश का महत्व स्वयंसिद्ध है. चाहे वह हायर एजुकेशन के लिए कोई एंट्रेंस एग्जाम हो (जैसेकि CAT, MAT, ZAT, TAT) या फिर किसी इंटर्नशिप या जॉब के लिए कोई कॉम्पीटीटिव एग्जाम और इंटरव्यू, आपको न केवल इंग्लिश भाषा का टेस्ट देना पड़ता है, इंग्लिश मीडियम को आप अपने एग्जाम देने के माध्यम से चुन सकते हैं और इंटरव्यू में आपकी सफलता का आधार भी परफेक्ट इंग्लिश ही है. आसान शब्दों में, अगर आप इंग्लिश बोलने और लिखने में सक्षम हैं तो फिर आपकी पढ़ाई, उच्च शिक्षा, ट्रेनिंग, इंटर्नशिप, जॉब और अपने किसी पेशे में सफलता के कई रास्ते खुल जाते हैं.

आज के इस इंटरनेट और डिजिटल वर्ल्ड में इंग्लिश का हम सभी के रोज़मर्रा के जीवन में काफी ज्यादा महत्व है. इंग्लिश बोलने वाले व्यक्ति को अक्सर काफी पढ़ा-लिखा, सभ्य, शिष्टाचारी और मॉडर्न समझ लिया जाता है. इंग्लिश हमारे देश की प्रमुख संपर्क भाषा या कम्युनिकेशन लैंग्वेज है. अपने रोज़मर्रा के कामों के अलावा भी, इंग्लिश बोलने और लिखने में माहिर होने पर हरेक व्यक्ति को ट्रेवलिंग और बिजनेस या जॉब और करियर ग्रोथ में बहुत ज्यादा फायदा होता है.

इंग्लिश लैंग्वेज में माहिर होने पर मिलते हैं आपको ये फायदे:

  • परफेक्ट इंग्लिश का मतलब है बेहतरीन नेगोशिएशन स्किल्स.
  • इंग्लिश हमारे लिए करियर के नए अवसर मुहैया करवाती है.
  • इंग्लिश स्किल सेट एम्पलॉईज बनते हैं ज्यादा कार्य-कुशल. 
  • इंग्लिश हमें मनोरंजन के ज्यादा साधन उपलब्ध करवाती है.
  • इंग्लिश सीखने से हम ज्यादा स्मार्ट हो जाते हैं.
  • परफेक्ट इंग्लिश आपको देती है ‘सॉफ्ट पॉवर’.
  • इंग्लिश इंटरनेट के लिए एक जरुरी भाषा बन गई है और तकरीबन सारी जानकारी हमें इंग्लिश में ही इंटरनेट में उपलब्ध होती है.
  • परफेक्ट इंग्लिश आपको दिलवाती है आकर्षक सैलरी पैकेजेज.
  • अगर आपको आज के ज़माने में इंग्लिश बोलनी, लिखनी नहीं आती है तो अपने लिए कोई उपयक्त जॉब तलाश करना भी आपके लिए एक अच्छी-खासी चुनौती बन जायेगी. 

इंग्लिश लैंग्वेज में माहिर होने पर आप कर सकते हैं निम्नलिखित जॉब्स:

  • नेशनल/ इंटरनेशनल कॉल सेंटर्स जॉब्स
  • राइटिंग एंड ट्रांसलेशन जॉब्स
  • सेल्स एंड मार्केटिंग जॉब्स
  • विभिन्न एम्बेसियों में जॉब्स
  • मैनेजमेंट जॉब्स
  • एनाउंसर/ एंकर/ रेडियो जॉकी

उक्त कुछ महत्वपूर्ण जॉब्स के अलावा भी वैसे तो तकरीबन हरेक जॉब के लिए ही आपको परफेक्ट इंग्लिश बोलनी और लिखनी आनी चाहिए. यह आजकल के मॉडर्न टाइम में आपकी सफलता की कुंजी है.

आइये अब कुछ ऐसी फ़ील्ड्स के बारे में चर्चा करें जिनके लिए परफेक्ट इंग्लिश पहली शर्त है:

  • ट्रांसलेशन: अगर आप इंग्लिश में माहिर हैं और अपने देश या विदेश की एक, दो या अधिक भाषाओँ में भी आपका पूरा अधिकार है तो एक देश और विदेश में ट्रांसलेटर या इंटरप्रेटर का पेशा आपको समाज में सम्मान दिलवाने के साथ ही सैलरी का बेहतरीन पैकेज दिलवाता है.
  • फाइनेंस: अगर आप किसी बैंक या फाइनेंस इंस्टिट्यूट में काम करते हैं और अपनी इंग्लिश से संबद्ध स्किल्स को निखार लेते हैं तो आपको तरक्की के कई नए अवसर मिलेंगे.
  • मेडिकल: डॉक्टर्स, नर्सेज और अन्य संबद्ध मेडिकल पेशेवरों के तो तकरीबन सभी काम इंग्लिश भाषा में ही सम्पन्न होते हैं.
  • लॉ: हमारे देश में भी सिविल, क्रिमिनल और कॉमन लॉ की शब्दावली/ टर्मिनोलॉजी इंग्लिश में ज्यादा इस्तेमाल की जाती है. हम नहीं सोच पाते कि अगर कोई व्यक्ति पेशे से वकील है तो उसे इंग्लिश बोलनी या लिखनी नहीं आती होगी.
  • मार्केटिंग: चाहे वह कोई कॉमन सेल्समैन हो या किसी बड़े कॉर्पोरेट हाउस का सेल्स हेड, परफेक्ट इंग्लिश आपकी जॉब की पहली जरुरत है. इंग्लिश भाषा में माहिर होने पर आप अपने क्लाइंट्स से अच्छी तरह संपर्क कायम कर सकेंगे.
  • मीडिया: इस लाइन/ फील्ड में तो परफेक्ट इंग्लिश के बिना आप ज्यादा समय तक टिकने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. चाहे आप कंटेंट राइटिंग के काम से संबद्ध हों या फिर कोई एंकर या एनाउंसर, इंग्लिश भाषा के लिखने-बोलने के स्किल्स तो आपके रोजमर्रा के कामकाज का हिस्सा हैं.  
  • टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी: चाहे आप एक टूरिस्ट हों या फिर, हॉस्पिटैलिटी की फील्ड में कार्यरत कोई कर्मचारी या अधिकारी, आपको तरह-तरह के लोगों के साथ रोज़ाना बातचीत और संपर्क कायम करना ही पड़ता है. ऐसे में अगर आपको इंटरनेशनल लैंग्वेज – इंग्लिश – बोलने, समझने या लिखने में दिक्कत है तो फिर, आप अपनी फील्ड में सफलता पाने के लिए तब तक केवल कोशिश ही करते रह जायेंगे जब तक कि आप ‘इंग्लिश में परफेक्ट’ नहीं हो जाते हैं.

भारत में परफेक्ट इंग्लिश सीखने के टॉप इंस्टीट्यूट्स:      

  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बनारस
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
  • इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
  • सेंट ज़ेवियर कॉलेज, मुबई

सारांश

दुनिया के श्रेष्ठ विचारकों के मुताबिक, “ज्ञान ही ताकत है.” दुनिया का तकरीबन समस्त ज्ञान और जानकारी हमें इंग्लिश भाषा में बड़ी आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं. इसलिए, अगर हम आजकल की इस बहुत ज्यादा कॉम्पीटीटिव जॉब मार्केट में अपनी क्वालिफिकेशन और टैलेंट के मुताबिक अपने लिए बेहतरीन करियर के सबसे ज्यादा सूटेबल अवसर प्राप्त करना चाहते हैं तो इसका एकमात्र तरीका है – ‘परफेक्ट इंग्लिश’.

Advertisement

Related Categories