भारत में स्टूडेंट्स के लिए फार्मेसी की फील्ड में भी हैं बढ़िया करियर ऑप्शन्स

भारत में एजुकेशन, इंटरनेट और डिजिटलीकरण के प्रचार-प्रसार की वजह से स्टूडेंट्स के लिए अब कई करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं क्योंकि भारत दुनिया की उभरती हुए अर्थव्यवस्थाओं में से एक है. मिनिस्ट्री ऑफ़ केमिकल्स एंड फ़र्टिलाइज़र्स, भारत सरकार के फार्मास्यूटिकल डिपार्टमेंट के मुताबिक हमारे देश में घरेलू फार्मास्यूटिकल मार्केट टर्नओवर वर्ष 2018 में 129,015 करोड़ रुपये रहा और वर्ष 2019 में फार्मास्यूटिकल फील्ड से लगभग 19.14 बिलियन अमरीकी डॉलर एक्सपोर्ट रिवेन्यू प्राप्त होने की उम्मीद जताई जा रही है. भारत में हैदराबाद, मुंबई, बैंगलोर और अहमदाबाद प्रमुख फार्मास्यूटिकल सेंटर्स हैं. इसी तरह, दुनिया को जेनेरिक मेडिसिन्स उपलब्ध करवाने वाला सबसे बड़ा देश भारत है क्योंकि पूरी दुनिया में भारत द्वारा जेनेरिक ड्रग्स का कुल 20% एक्सपोर्ट किया जाता है. इस ट्रेड में लगातार इजाफ़ा हो रहा है. हमारा देश विभिन्न वैक्सीन्स के लिए ग्लोबल डिमांड का 50 फीसदी से अधिक हिस्सा सप्लाई करता है. भारत के फार्मा सेक्टर से संबंधित यह सारा डाटा हमारे देश में फार्मेसी की फील्ड में उपलब्ध करियर और जॉब के अवसरों के बारे में स्पष्ट जानकारी देता है. आजकल फार्मेसी के नाम पर हम केवल किसी केमिस्ट की शॉप की ही कल्पना नहीं कर सकते हैं बल्कि इस फील्ड में अब यंगस्टर्स और स्टूडेंट्स के लिए कई अवसर उपलब्ध हैं. दवाईयों और जड़ी-बूटियों के बारे में गहरी दिलचस्पी और जानकारी रखने वाले लोग एक फार्मासिस्ट के तौर पर अपना करियर शुरू कर सकते हैं. आजकल भारत में यंगस्टर्स के लिए इस फील्ड में कई करियर ऑप्शन्स उपलब्ध हैं जैसेकि:

  • फार्मेसी टेक्नीशियन

फार्मेसी टेक्नीशियन दरअसल एक हेल्थ केयर प्रोवाइडर होता है जो फार्मेसी से संबंधित विभिन्न काम करता है. आमतौर पर फार्मेसी टेक्नीशियन किसी लाइसेंस प्राप्त फार्मासिस्ट के अधीन काम करता है. फार्मेसी टेक्नीशियंस अधिकतर विभिन्न ग्रुप्स, रिटेल और हॉस्पिटल फार्मेसीज़ में काम करते है लेकिन ये पेशेवर फार्मास्यूटिकल मैन्युफैक्चरर्स, 3रड पार्टी इंश्योरेंस कंपनियों, कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कंपनियों, सरकारी फर्म्स और पेशेंट्स को ड्रग्स प्रिस्क्रिप्शन समझाने और विभिन्न मेडिकल डिवाइसेज के इस्तेमाल के बारे में इंस्ट्रक्शन देने जैसे काम भी कर सकते हैं. भारत में मेडिकल कॉलेजेज़ सीपीआर (MCCPR) फार्मेसी टेक्नीशियन को पूरी ट्रेनिंग उपलब्ध करवाते हैं. हमारे देश में इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट ने 12वीं पास की हो या डिप्लोमा हासिल किया हो. हमारे देश में फार्मेसी की फील्ड में इंटर्नशिप पूरी करने के साथ प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी एक फार्मेसी टेक्नीशियन के तौर पर रोज़गार प्राप्त करने के लिए जरुरी ट्रेनिंग का हिस्सा है. एक अनुमान के मुताबिक वर्ष 2012 – 2020 तक भारत में फार्मेसी टेक्नीशियंस की जॉब्स में 20% का इजाफ़ा होगा.

  • फार्मासिस्ट

ये पेशेवर पेशेंट्स को मेडिसिन्स देने और उन मेडिसिन्स को लेने के सही तरीके के बारे में जानकारी देने के लिए पूरी तरह जिम्मेदार होते हैं. ये पेशेवर आमतौर पर पेशेंट्स को विभिन्न मेडिसिन्स के साइड-इफेक्ट्स के बारे में भी जानकारी देते हैं और अपनी फार्मेसी या डिस्पेंसरी में आने वाले सभी कस्टमर्स/ पेशेंट्स को कम्पलीट हेल्थ केयर मुहैया करवाते हैं. ये पेशेवर ही मेडिसिन्स के सुरक्षित और क्वालिटी यूज़ के लिए जिम्मेदार होते हैं.  

  • फार्मेसी इन्फॉर्मेटिक्स

इन पेशेवरों के पास डी फार्मा की डिग्री होती है और ये पेशेवर पेशेंट केयर के लिए हेल्थ इनफॉर्मेशन और कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं. इस पेशे के लिए रेजीडेंसी ट्रेनिंग और/ या बिजनेस या हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन में डिग्री होल्डर कैंडिडेट्स को प्रेफर किया जाता है.

  • फार्मेसी सेल्स असिस्टेंट

ये लोग सभी किस्म के फार्मास्यूटिकल गुड्स, टॉयलेटरीज़ और अन्य संबंधित गुड्स के सेल-परचेज़ के लिए किसी सेल्स असिस्टेंट के तौर पर काम करते हैं. ये लोग अक्सर विभिन्न शॉप्स या फार्मा कंपनियों में काम करते हैं. मेडिसिन्स को सही तरीके से संभालकर रखने की जिम्मेदारी, सेल्स इनवॉइसेज बनाना, कई किस्म की मेडिसिन्स और अन्य सामान को सेल करने के लिए प्रमोट करना और मेडिसिन्स सेल करते समय कस्टमर्स को मेडिसिन को सही तरीके से लेने और स्टोर करने की जानकारी देना आदि इनके प्रमुख काम होते हैं.

  • क्लिनिकल फार्मसिस्ट

क्लिनिकल फार्मेसी वास्तव में साइंस और मेडिसिन के सही इस्तेमाल की प्रैक्टिस से संबंधित होती है. ये पेशेवर अपनी फील्ड में एक लीडर की तरह रोज़मर्रा के काम करते हैं तथा फिजिशियन्स, नर्सों, फार्मेसी टेक्नीशियन्स, इंटर्न्स और सपोर्ट स्टाफ के बिहेवियर को सफलतापूर्वक प्रभावित करते हैं. इन लोगों को एक क्लिनिकल फार्मासिस्ट और प्रोफेसर ऑफ़ फार्मेसी के तौर पर दोहरी भूमिका निभानी पडती है. हेल्थ केयर सेक्टर में ये पेशेवर आमतौर पर निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल्स पर काम करते हैं जैसेकि:  

  • क्लिनिकल फार्मासिस्ट स्पेशलिस्ट
  • क्लिनिकल मैनेजर
  • क्लिनिकल कोऑर्डिनेटर
  • क्लिनिकल फार्मेसी ऑपरेशन्स मैनेजर
  • फार्मेसी सुपरवाइज़र
  • फार्मेसी असिस्टेंट डायरेक्टर
  • फार्मेसी एसोसिएट डायरेक्टर
  • फार्मेसी डायरेक्टर

भारत की टॉप फार्मास्यूटिकल कंपनियां

  • सन फार्मास्यूटिकल
  • लूपिन लिमिटेड
  • डॉ. रेड्डी लैबोरेट्रीज़
  • सिप्ला
  • ऑरोबिंदो फार्मा
  • पिरामल एंटरप्राइज़
  • टोरेंट फार्मास्यूटिकल्स

भारत में फार्मेसी की फील्ड में कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स के लिए जरुरी योग्यता मानदंड

हमारे देश में फार्मास्यूटिकल के विभिन्न प्रोफेशनल्स कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने अपनी  12वीं क्लास फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी, (PCB), फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स (PCM) या फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी और मैथमेटिक्स (PCBM) सब्जेक्ट कॉम्बिनेशन के साथ पास की हो. पूरी दुनिया की तरह ही हमारे देश में भी फार्मास्यूटिकल कोर्सेज में थ्योरी और प्रैक्टिकल क्लासेज तथा एग्जाम्स के साथ इंडस्ट्री, हॉस्पिटल और कम्यूनिटी में काम करने की ट्रेनिंग को शामिल किया जाता है.

भारत में फार्मेसी की फील्ड में प्रमुख कोर्सेज

  • डिप्लोमा इन फार्मेसी
  • बैचलर इन फार्मेसी
  • मास्टर इन फार्मेसी
  • डॉक्टर ऑफ फार्मेसी

फार्मेसी के कुछ महत्वपूर्ण स्पेशलाइज्ड कोर्सेज

  • फार्मास्यूटिकल
  • फार्मास्यूटिकल एनालिसिस
  • फार्मेकोलॉज
  • फार्मास्यूटिकल बायोटेक्नोलॉजी
  • फार्मेकॉग्नोजी
  • फार्मास्यूटिकल केमिस्ट्री
  • क्वालिटी एश्योरेंस
  • रेगुलेटरी अफेयर्स
  • इंडस्ट्रियल फार्मेसी
  • फार्मेसी प्रैक्टिस

भारत में फार्मेसी की फील्ड में कोर्सेज करवाने वाले प्रमुख कॉलेज, यूनिवर्सिटीज़ और इंस्टीट्यूट्स

  • जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी (दिल्ली)
  • बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी (झांसी, उत्तर प्रदेश)
  • एमईटी इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी (मुम्बई)
  • दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेस एंड रिसर्च (दिल्ली)
  • महात्मा ज्योतिबा फुले रोहिलखंड यूनिवर्सिटी (उत्तर प्रदेश)
  • मनिपाल कॉलेज ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेज (मनिपाल)
  • यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल साइंसेस(चंडीगढ़)
  • बॉम्बे कॉलेज ऑफ फार्मेसी (मुम्बई)
  • वीईएलएस यूनिवर्सिटी (चेन्नई)
  • जगदगुरु श्री शिवरात्रिश्वर यूनिवर्सिटी (मैसूर, कर्नाटक)

भारत में फार्मेसी की फील्ड में जॉब प्रोवाइडर सेक्टर्स

  • रिसर्च एंड डेवलपमेंट
  • एनालिसिस एंड टेस्टिंग
  • मार्केटिंग एंड सेल्स
  • हॉस्पिटल्स रेगुलेटरी बॉडी
  • फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री
  • एजुकेशनल रिसर्च

भारत में फार्मेसी की फील्ड में मिलने वाला सालाना सैलरी पैकेज

हमारे देश में आमतौर पर किसी फ्रेशर फार्मेसी वर्कर को एवरेज 18 – 25 हजार रुपये मासिक मिलते हैं और किसी क्वालिफाइड और अनुभवी फार्मासिस्ट को एवरेज 5.7 लाख रुपये का सालाना सैलरी पैकेज मिलता है. अगर आप इस फील्ड में अपना कारोबार शुरू करते हैं या किसी बिज़ी मार्केट में अपनी केमिस्ट/ फार्मेसी शॉप खोलते हैं तो इनकम की कोई अधिकतम सीमा निर्धारित नहीं की जा सकती है.

एजुकेशनल कोर्सेज, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, जॉब, करियर, इंटरव्यू के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.    

Related Categories

Popular

View More