ये हैं फैशन की दुनिया के आकर्षक करियर ऑप्शन्स

अगर हम इस समय देश की फैशन इंडस्ट्री की बात करें तो भारत में फैशन मार्केट का साइज़ अनुमानतः 20 हजार करोड़ रुपये के आस-पास है जो विश्व फैशन बाजार का लगभग 0.3% है. हमारे देश में फैशन इंडस्ट्री में जब भी करियर शुरू करने की बात आती है तो अक्सर बहुत से लोगों के जेहन में किसी फैशन डिजाइनर या फिर, रैंप पर कैटवॉक करती हुई मॉडल का चेहरा आ जाता है.  वास्तव में, हम सभी फैशन की दुनिया से काफी प्रभावित हैं और आजकल अगर हम फैशन की दुनिया से जुड़ते हैं तो हमें काफी ख़ुशी होती है. इस फील्ड में अब बैक स्टेज पर काम करने वाले फैशन प्रोफेशनल्स की डिमांड दिन-पर-दिन बढ़ती जा रही है. आज के यंगस्टर्स के लिए फैशन स्टाइलिंग, फोटोग्राफी, ब्रांडिंग, प्रमोशन, गार्मेट मैन्युफैक्चरिंग, मर्चेडाइजिंग, कंसल्टिंग, फैशन इवेंट मैनेजर्स जैसे कई करियर ऑप्शंस फैशन की दुनिया में उपलब्ध हैं. फैशन की दुनिया में फैशन डिज़ाइनर्स के अलावा ऐसे कुछ चुनिंदा करियर ऑप्शन्स पर इस आर्टिकल में एक चर्चा पेश है जो भारत के यंगस्टर्स के लिए हॉट करियर साबित हो सकते हैं.

फैशन डायरेक्टर/ कोऑर्डिनेटर

इस पेशे के लिए कैंडिडेट्स को पुराने, मौजूदा और लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की अच्छी जानकारी होनी चाहिए. वास्तव में फैशन डायरेक्टर्स विभिन्न फैशन प्रोजेक्ट्स और इवेंट्स को मैनेज, कोआर्डिनेट और प्रमोट करते हैं. ये पेशेवर फैशन डिज़ाइन डिपार्टमेंट के सभी कामों की देख-रेख करते हैं और किसी विशेष फैशन लाइन के मुताबिक विभिन्न फैशन प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग और प्रमोशन से संबंधित सभी कार्य करते हैं. इस पेशे के लिए कैंडिडेट्स के पास फैशन की फील्ड से संबद्ध ग्रेजुएशन और पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. एक क्वालिफाइड, अनुभवी, काबिल और स्किल्ड फैशन कोऑर्डिनेटर ही फैशन डायरेक्टर की पोस्ट पर काम कर सकता है क्योंकि फैशन डायरेक्टर की पोस्ट पर भर्तियां काफी सीमित होती हैं. हमारे देश में फैशन डायरेक्टर्स को 28 लाख और इससे अधिक का सैलरी पैकेज मिलता है. ये पेशेवर विभिन्न डिज़ाइन हाउसेज, डिपार्टमेंट स्टोर्स, फैशन बुटीक और बड़ी फैशन डिजाइन फर्म्स में काम कर सकते हैं.

पैटर्न मेकरकॉस्ट्यूम डिजाइनर

फैशन की दुनिया में पैटर्न मेकर्स ऐसे पेशेवर होते हैं जो शर्ट्स, शूज, चेयर्स या प्लास्टिक कंटेनर्स आदि के लिए बेसिक पैटर्न या डिज़ाइन तैयार करते हैं. कपड़ा इंडस्ट्री के साथ ही ये पेशेवर फर्नीचर और होम बिल्डिंग इंडस्ट्रीज में भी अपना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं. इस पेशे के लिए न्यूनतम एजुकेशनल क्वालिफिकेशन किसी मान्यताप्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से डिज़ाइन या संबद्ध फील्ड में ग्रेजुएशन की डिग्री है. इस पेशे के लिए जियोमेट्रिक कॉन्सेप्ट्स की अच्छी जानकारी, कंप्यूटर स्किल्स और इलस्ट्रेटर जैसे सॉफ्टवेयर की जानकारी आजकल जरुरी स्किलसेट में शामिल हो गई है. ये पेशेवर अपने प्रोडक्ट्स के ब्लूप्रिंट और क्लाइंट्स की जरूरतों को समझ कर फैशन से संबंधित विभिन्न पैटर्न्स के बेसिक डिज़ाइन्स तैयार करते हैं. फिर अपने प्रोडक्ट के साइज़ के मुताबिक अपने पैटर्न के डिटेल लिखते हैं. हमारे देश में शुरू में इन पेशेवरों को रु. 15 हजार – 25 हजार मासिक सैलरी मिलती है जो कार्य अनुभव के अनुसार बढ़ती जाती है.

इस पेशे के लिए क्रिएटिविटी पहली शर्त है. इसके अलावा कैंडिडेट के पास कलर्स, पैटर्न्स और टेक्सचर्स के संबंध में काबिलियत होनी चाहिए ताकि वे लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स के मुताबिक कॉस्ट्यूम्स डिजाइन कर सकें. इन पेशेवरों को थ्री डायमेंशनल फॉर्म्स में ड्राइंग्स तैयार करनी आनी चाहिए. ये पेशेवर अपने स्केच से कपड़ा या कॉस्ट्यूम सिलने में भी माहिर हों. इन पेशेवरों के पास फैशन, क्लोथिंग और फैशन के लेटेस्ट नेशनल और इंटरनेशनल ट्रेंड्स की अच्छी जानकारी होने के साथ ही फैशन की दुनिया के प्रति काफी इंटरेस्ट भी होना चाहिए तभी ये लोग अपने काम में सफल हो सकते हैं. आमतौर पर ये पेशेवर सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक अर्थात ऑफिस के माहौल में अपना काम करते हैं. लेकिन इन लोगों के पास पार्ट टाइम जॉब का ऑप्शन भी मौजूद रहता है. हमारे देश में इन पेशेवरों को औसतन रु. 1.2 लाख – 6.9 लाख का सालाना सैलरी पैकेज मिलता है.

फैशन फोटोग्राफर

जिन लोगों को फैशन के साथ ही फोटोग्राफी का भी शौक होता हैं, उनके लिए यह करियर ऑप्शन एक परफेक्ट करियर च्वाइस है. फैशन फोटोग्राफर्स किसी एक फैशन फर्म के साथ अनेक फर्म्स के लिए काम कर सकते हैं. इस पेशे में फ्रीलांसिंग फैशन प्रोजेक्ट्स की भी अच्छी संभावना है. ये पेशेवर फैशन राइटर्स/ जर्नलिस्ट्स के साथ मिलकर इस फील्ड में काफी महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट्स पूरे कर सकते हैं. फैशन की दुनिया में रचनात्मक और प्रभावी फैशन फोटोग्राफ्स से न केवल विभिन्न फैशन प्रोडक्ट्स की लोकप्रियता ही बढ़ती है बल्कि कस्टमर्स भी इन फैशन फोटोग्राफ्स के प्रभाव में आकर विभिन्न फैशन प्रोडक्ट्स खरीदने के लिए प्रेरित होते हैं. इस फील्ड में पेशेवरों को आमतौर पर रु. 40 हजार – 80 हजार प्रति माह का सैलरी पैकेज मिलता है. इस फील्ड में अपनी पहचान बना लेने के बाद फैशन फोटोग्राफर्स1.4 करोड़ रु. सालाना तक कमा सकते हैं. इस पेशे की एक खास बात यह भी है कि फैशन फोटोग्राफर्स अपने काम के सिलसिले में देश-विदेश में ट्रेवलिंग का लुत्फ़ उठाते हैं.  

फैशन राइटर/ जर्नलिस्ट/ क्रिटिक 

ये पेशेवर फैशन मैगजीन्स, न्यूज़पेपर्स, फैशन वेबसाइट्स के लिए फैशन से संबंधित आर्टिकल्स, एडिटोरियल्स, फैशन रिव्युज और ब्लॉग लिखते हैं. ये पेशेवर अक्सर फैशन फोटोग्राफर्स के साथ मिलकर अपने प्रोजेक्ट्स पूरे करते हैं. अधिकांश फैशन राइटर्स विभिन्न फैशन डिज़ाइन फर्म्स के एडिटोरियल डिपार्टमेंट्स में काम करते हैं. इस फील्ड में फ्रीलांसिंग में भी काफी बढ़िया स्कोप है. ये पेशेवर समय रिसर्च, भारत और विदेशों में फैशन के लेटेस्ट ट्रेंड्स तथा विभिन्न फैशन आइकॉन्स से इंटरव्यू लेकर अपने आर्टिकल तैयार करते हैं. एक फैशन क्रिटिक के तौर पर ये पेशेवर लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स के बारे में अपने और विभिन्न सेलिब्रिटीज या फैशन आइकॉन्स के विचार पेश करके संबंधित फैशन ट्रेंड्स की अच्छी तरह पड़ताल करते हैं जैसेकि, फलां फैशन आइटम कितना आकर्षक, कम्फर्टेबल और किफायती या महंगा है? लोग किस फैशन ट्रेंड को फ़ॉलो कर रहे हैं? फैशन रिपोर्टर्स आमतौर पर हमारे लिए मौसम के मुताबिक लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की फैशन रिपोर्ट तैयार करते हैं. हमारे देश में शुरू में किसी फैशन राइटर/ जर्नलिस्ट को रु. 2.5 लाख से 3.5 लाख का सालाना सैलरी पैकेज मिलता है. फैशन की दुनिया में आपकी लोकप्रियता और कार्य अनुभव बढ़ने के साथ ही आपके सैलरी पैकेज में भी इजाफ़ा होता रहता है.    

फैशन एंटरप्रेन्योर

आजकल फैशन एंटरप्रेन्योर बनने के लिए किसी खास एजुकेशनल क्वालिफिकेशन की जरूरत नहीं है. फैशन की दुनिया में कैंडिडेट को केवल लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की अच्छी जानकारी और समझ, विजुअलाइजेशन और इमैजिनेशन कौशल, टेक्नोलॉजी स्किल, इनोवेशन, मार्केटिंग सेंस और ऑनलाइन बिजनेस की जानकारी होनी चाहिए. ई-कॉमर्स इंडस्ट्री में फैशन एंटरप्रेन्योर के रूप में अपने करियर की शुरुआत करना आपके लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन एक बार फैशन की दुनिया और फैशन मार्केट में आपकी अपनी पहचान बन जाने के बाद आप 15 – 20 लाख रुपये सालाना या इससे अधिक भी कमा लेंगे.

भारत के लोकप्रिय फैशन डिजाइनिंग इंस्टीट्यूट्स

हमारे देश में फैशन की फील्ड में कई सरकारी और प्राइवेट इंस्टीट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज डिप्लोमा, ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के लेवल पर विभिन्न कोर्सेज करवाते हैं कुछ प्रमुख इंस्टीट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज के नाम निम्नलिखित हैं:

• नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी (एनआईएफटी)

• नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ डिजाइन (एनआईडी)

• इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (आईआईएफटी)

• इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ टैक्नोलॉजी, बॉम्बे

• जेडीडी इंस्टीट्यूट ऑफ़ फैशन टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली

• आईईसी स्कूल ऑफ आर्ट एंड फैशन, नई दिल्ली

• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ आर्ट एंड फैशन टेक्नोलॉजी (आईआईएएफटी)

• पारुल यूनिवर्सिटी, वडोदरा

भारत की प्रमुख फैशन कंपनियां

  • आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल
  • वर्द्धमान ग्रुप
  • अरविन्द लिमिटेड
  • रेमंड लिमिटेड
  • विमल फैशन
  • पेपे जीन्स
  • ली
  • एलन सोले
  • लेविस
  • पार्क एवेन्यु 

जॉब, इंटरव्यू, करियर, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular