इंटरव्यूi में फाइनल सेलेक्शन हेतु बेहद जरुरी बातें

आज के दौर में किसी भी इन्टरव्यू को क्रैक करना कोई आसान काम नहीं है. इन्टरव्यू का चाहे पहला राउंड हो या फाइनल राउंड हर जगह क्वालीफाई करने के लिए कांटे की टक्कर होती है. एक पोस्ट के लिए कम से कम 50 उम्मीदवार कतार में होते हैं. बड़ी मेहनत के बाद उम्मीदवार इन्टरव्यू का पहला तथा दूसरा राउंड क्लियर करते हैं. लेकिन कभी कभी देखने में आता है कि अंतिम राउंड के इन्टरव्यू में सेलेक्शन के बाद उम्मीदवार यह समझ बैठते हैं कि उनकी नियुक्ति हो गयी. लेकिन कभी कभी फाइनल राउंड के इन्टरव्यू में सफलता के बाद भी ज्वाइनिंग लेटर नहीं मिलता है. इसका मुख्य कारण जानने के लिये अवश्य ही नीचे दी गयी बातों को ध्यान में रखें –

फाइनल राउंड के इन्टरव्यू की विशेष तैयारी करें

अक्सर उम्मीदवार इन्टरव्यू का पहला तथा दूसरा राउंड क्लियर करने के बाद पूरी तरह निश्चिन्त हो जाते हैं कि अंतिम राउंड इन्टरव्यू को अब वे आसानी से पास कर लेंगे लेकिन कभी कभी यह धारणा गलत साबित है तथा सारी मेहनत बेकार चली जाती है और अच्छे प्रदर्शन के बाद भी उम्मीदवार का अंतिम रूप से सेलेक्शन नहीं हो पाता है.हमेशा फाइनल इंटरव्यू को भी उतनी ही गंभीरता से लेना सीखें, जितना की इंटरव्यू के अन्य लेवल को लेते हैं. तभी आपको ज्वाइनिंग लेटर मिल पायेगा अन्यथा आप भी अन्य असफल उम्मीदवारों की पंक्ति में शामिल हो जायेंगे.

इन्टरव्यू ड्रेस कोड को हमेशा ध्यान में रखें

फाइनल राउंड के इन्टरव्यू के दौरान ड्रेस कोड का विशेष रूप से ध्यान रखें. लोगों के दिमाग में यह आम धारणा होती है कि फाइनल इन्टरव्यू के लिए कॉल आने का मतलब है जॉब पक्का होना लेकिन वास्तविकता में ऐसा होता नहीं है. जब तक ज्वाइनिंग लेटर न मिल जाए नौकरी पक्की नहीं समझनी चाहिए. ध्यान रखिये फाइनल राउंड में भी नियोक्ता आपको पूरी तरह से परखने में कोई कसर नहीं छोड़ता. इसलिए इस राउंड की तैयारी भी बड़ी सतर्कता के साथ करें और इस दौरान इन्टरव्यू देने जाते समय ड्रेस कोड का पूरा ध्यान रखें. अपनी पर्सनाल्टी के अनुसार ड्रेस पहनें तथा कभी भी कैजुअल ड्रेस में जाने की कोशिश नहीं करें.

शिष्टाचार का पालन करें तथा अनुशासन में रहें

इन्टरव्यू देने जाते समय कुछ बातों पर विशेष रूप से गौर करना चाहिए तथा जब भी इन्टरव्यू देने जाएं उस दौरान शिष्टाचार का पालन करते हुए अनुशासन में रहें. ध्यान रखिये नियोक्ता किसी का दुश्मन तथा दोस्त नहीं होता है. अगर संयोग वश आप नियोक्ता को पहले से जानते हैं तब भी इंटरव्यू के दौरान उसके साथ ज्यादा दोस्ताना व्यवहार करने की कोशिश नहीं  करें. अंतिम राउंड इंटरव्यू के लिए बुलाए जाने पर अधिकांश  उम्मीदवार कैजुअल बर्ताव करते हैं, लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपका सेलेक्शन हो और आपको फाइनल इंटरव्यू में रिजेक्ट न किया जाए, तो इसके लिए आपको हर किसी के साथ अनुशासन पूर्ण व्यवहार करते हुए किसी के भी साथ बहुत ज्यादा फ्रेंडली होने की जरुरत नहीं है. ऑफिस एटिकेट्स तथा डेकोरम का पालन करें.

ज्वाइनिंग लेटर मिलने के बाद ही ये बात अपने दोस्तों से शेयर करें

अधिकांश उम्मीदवार अंतिम राउंड इन्टरव्यू के लिए कॉल आते ही पार्टी के मूड में आ जाते हैं. अपने दोस्तों,रिश्तेदारों आदि से अपनी खुशियाँ साझा करने लगते हैं. अपने ख़ुशी के पल को अपने चहेते लोगों के बीच शेयर करना अच्छी बात है लेकिन हमेशा कोशिश यही होनी चाहिए कि जब किसी भी चीज का परिणाम पूरी तरह से आपके पक्ष में प्रमाण के साथ आ जाय तभी उसे शेयर करें अन्यथा उसे अपने तक ही सीमित रखें. कई बार ऐसा होता है कि नियोक्ता फाइनल इंटरव्यू में आपके सामने ऐसे सवाल रखते हैं, जिनका जवाब आपके पास नहीं होता है और सब कुछ सही होते हुए भी आपका अंतिम रूप से चयन नहीं हो पाता है. इसलिए जबतक ज्वाइनिंग लेटर हाथ में नहीं आ जाये भरसक इसका खुलासा ना ही करें तो बेहतर है.

Related Categories

Popular

View More