SSC CGL 2018-19 जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग तैयारी की स्ट्रैटेजी: टॉपिक्स-वार विस्तृत सिलेबस

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) की नवीनतम अधिसूचना के अनुसार, SSC CGL टियर-1 2018 परीक्षा- जो की पहले 25 जुलाई से 20 अगस्त 2018 को आयोजित होनी तय की गयी थी, स्थगित कर दी गयी है. अब आपके पास तैयारी करने के लिए पर्याप्त समय है. इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए, आपको उन अनुभागों को पहचानना होगा जिसमें आप अधिक से अधिक प्रश्नों को सटीकता से हल कर सकते हैं और उच्च अंक प्राप्त कर सकते है.  

जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग को SSC CGL टियर-1 परीक्षा के सबसे अधिक स्कोरिंग अनुभागों में से एक माना जाता है. यह अनुभाग आपकी सोचने और प्रश्नों को हल करने की योग्यता का परीक्षण करता हैं. इस अनुभाग से पूछे गए प्रश्न मुख्य रूप से ब्रेन-टीज़र प्रकार के होते है और कभी-कभी इनके उत्तर देना काफी मुश्किल होता हैं.

अत:, हमने इसके विस्तृत सिलेबस को संकलित और अध्यायों का विश्लेषण किया है ताकि आप इस अनुभाग में उच्च स्कोर कर सकें. किन्तु विश्लेषण से पहले, आइये SSC CGL 2018 परीक्षा में जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग के परीक्षा पैटर्न पर एक नज़र डालते हैं-

SSC CGL परीक्षा को 30 दिनों में उत्तीर्ण करने हेतु विस्तृत स्टडी-प्लान

जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग का परीक्षा पैटर्न

तैयारी शुरू करने से पहले, इस परीक्षा के पैटर्न को समझना अनिवार्य है. यह अनुभाग टियर-1 परीक्षा में कुल अंकों के 25% हिस्से को दर्शाता है. अत: आइये SSC CGL टियर-1 2018 परीक्षा में जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग के परीक्षा पैटर्न पर एक नज़र डालते हैं:

Trending Now

SSC CGL टियर-1 परीक्षा में, जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग में 25 वस्तुनिष्ठ प्रश्न होते हैं और प्रत्येक  प्रश्न 2 अंक का होता हैं. इस परीक्षा में, प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.50 अंक की दंड स्वरुप कटौती होती हैं.

SSC CGL टियर-1 परीक्षा (वस्तुनिष्ठ प्रकार)

प्रश्नों की संख्या

अधिकतम अंक

कुल समय

जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग

25

50

60 मिनट

सामान्य जागरूकता

25

50

क्वांटिटेटिव एपटीट्युड

25

50

इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन

25

50

कुल

100

200

जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग का अध्यायवार सिलेबस

परीक्षा पैटर्न को जानने के बाद, अगला कदम हैं जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग के अध्यायवार सिलेबस को समझना हैं. इस अनुभाग के अंतर्गत, SSC CGL टियर-1 परीक्षा में सम्मिलित प्रमुख टॉपिक्स निम्नलिखित हैं:

अध्याय

टॉपिक्स

पूछे गए प्रश्नों की संख्या

Series

Analogy (both word based and numerical)

3-4

Odd pair (both word based and numerical)

Classification

Missing characters

Coding

Coding-Decoding

3-4

Symbols

Mathematical Operations

Arrangement

Seating arrangement (Linear and Circular)

4-5

Blood relations

Ranking

Puzzles

Direction Sense

Logic

Syllogism

2-3

Venn Diagrams

Assumption or Inference or Conclusion

Miscellaneous

Clock

0-1

Calendar

Non-Verbal

Cube and dices

7-8

Sequence of figures

Matrix (Finding missing numbers or letters)

Paper-cutting, folding, punching

Mirrors and water reflection

Configuration, fitting pieces, odd pieces, etc.

कुल

25

Strategy for SSC CGL exam

 

आइये- उपरोक्त सारिणी में उल्लेखित लॉजिकल रीजनिंग के टॉपिक्स का विस्तार से विश्लेषण करते हैं-

SSC CGL 2018 क्वांटिटेटिव एपटीट्युड की तैयारी की नीति: अध्यायवार और वर्षवार विस्तृत विश्लेषण

  1. कोडिंग-डिकोडिंग: कोडिंग-डिकोडिंग प्रश्नों के माध्यम से मूलत: उम्मीदवारों की कोडित भाषा को समझने की क्षमता को जांचा जाता हैं. इस टॉपिक के प्रत्येक प्रश्न में, एक शब्द और उसकी कोडित फॉर्म दी गयी होती हैं. उम्मीदवारों को इस कोडिंग के पीछे के लॉजिक को समझना होता हैं और फिर इसी लॉजिक को अन्य दिए गए शब्द पर लगाकर कोडित फॉर्म में ही उत्तर देना होता हैं.
  2. क्रमिक व्यवस्था:  इस टॉपिक से आम तौर पर बैठने की व्यवस्था से सम्बंधित प्रश्न अधिकांशत: पूछे जाते है जोकि लॉजिकल रीजनिंग के अंतर्गत बहुत महत्वपूर्ण भी हैं. इस प्रकार के प्रश्नों में व्यक्तियों को एक वृत्ताकार मेंज के चारों तरफ एक व्यवस्थित क्रम में बैठाया जाता हैं. वे इस मेंज के चारों ओर या तो खड़े होते हैं या बैठे हुए होते हैं. इस खंड में अन्य टॉपिक्स जैसे- Blood relations, Ranking, Puzzles और Direction Sense इत्यादि टॉपिक्स से भी प्रश्न पूछे जाते हैं.
  3. लॉजिक आधारित: ये प्रश्न उन लॉजिक पर आधारित होते हैं जिसमें गहन सोच की आवश्यकता होती हैं और इन्हें हल करने के लिए बहुत अधिक समय भी लगता है. Syllogism से सम्बंधित प्रश्नों के केस में, आपको वेन-आरेख निरूपण की आवश्यकता होती हैं ताकि कोई भ्रम न पैदा हों.
  4. विविध: कभी-कभी टियर-1 की परीक्षा में घडी और कैलेंडर टॉपिक्स से सम्बंधित प्रश्नों को भी पूछ लिया जाता हैं.
  5. नॉन-वर्बल: इस खंड में टॉपिक्स जैसे- Pictorial Analogies, Symbol series, symbolic operations, numeric patterns, spatial relations, space visualizations, Spatial Reasoning, mirror image और space image से प्रश्नों को पूछा जाता हैं.

SSC CGL टियर-I जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग के टॉपिक-वार विश्लेषण

वर्बल रीजनिंग अनुभाग- जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग के 66% हिस्से को कवर करता हैं और प्रश्न प्राय: Series, Ranks, Direction, Arrangement, Coding, Decoding, Analogy और Classification/Odd Pair, Syllogism and Statement Conclusion जैसे टॉपिक्स से पूछे जाते हैं.

नॉन-वर्बल रीजनिंग अनुभाग- जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग के 34% हिस्से को कवर करता हैं और प्रश्न प्राय: Figure Formation, Dice, Triangle, Rule Detection, Images, Completion of Pattern, Mirror Images, Figure Matrix और Paper Folding इत्यादि जैसे टॉपिक्स से पूछे जाते हैं.

SSC उम्मीदवारों के लिए शीर्ष 10 प्रेरणादायक कथन

SSC CGL परीक्षा 2018- जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग की तैयारी कैसे करें और उच्च अंक कैसे लायें?

आइये- SSC CGL परीक्षा 2018 के जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग के प्रश्नों को तेज़ी से हल करने के विभिन्न तरीकों पर एक नज़र डालते हैं- 

SSC CGL 2018 परीक्षा: जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग अनुभाग की तैयारी और प्रश्नों को हल करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

आइये- SSC CGL टियर-1 परीक्षा के सभी चारों अनुभागों में उच्च स्कोर और तीव्रता हेतु विभिन्न तरीकों पर एक नज़र डालते हैं-

SSC CGL परीक्षा को पहले ही प्रयास में कैसे पास करें?

यदि आपको SSC CGL 2018 जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग तैयारी की स्ट्रैटेजी: टॉपिक्स-वार विस्तृत सिलेबसके बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी हो तो SSC परीक्षा 2018 के बारे में इस तरह की अधिक जानकारी के  लिए  https://www.jagranjosh.com/staff-selection-commission-ssc  पर विजिट करें.

SSC CGL 2018 को क्रैक करने के लिए 5 दैनिक रूटीन प्रैक्टिसेज

Related Categories

Also Read +
x