SSC CHSL: पदोन्नति (प्रमोशन) और पद कैसे प्रदान किए जाते हैं?

आजकल छात्र बचपन से अपने करियर के बारे में सोचना शुरू कर देते हैं। अधिकांश छात्रों का उद्देश्य सरकारी नौकरी पाना होता है। कुछ छात्र उच्च माध्यमिक कक्षाओं के दौरान ही प्रतिस्पर्धी परीक्षा की तैयारी शुरू कर देते हैं। इसके अलावा, एसएससी सीएसएलएल 10 + 2 के बाद सार्वजनिक क्षेत्र में ही कई पदों या नौकरियों की पेशकश करता है। ऐसी परीक्षाओं की तैयारी के लिए छात्र अपनी स्कूल लाइफ से ही तैयारी शुरू कर देते हैं। इनमें से कुछ को तो नौकरी करने के दौरान इनके बारे में जानकारी हासिल होती है। इनमें से कुछ ऐसे पदों के लिए तैयारी करते हैं जिसमें पदोन्नति और वेतन वृद्धि तेजी से होती है।

आईए, इस आर्टिकल के माध्यम से एसएससी सीएचएसएल के तहत आने वाले प्रत्येक पद का विश्लेषण कर इससे मिलने वाले लाभों के बारे में चर्चा करते हैं।

SSC CHSL: प्रमोशनस

Take Online Quiz

1. लोअर डिवीजन क्लर्क

यह किसी भी सरकारी संगठन में क्लर्कों का पहला स्तर है। ये दैनिक कार्यालय के कार्यों को संभालते हैं, जिसमें व्यवस्थित तरीके से कार्यालय, डेटा और दस्तावेजों का रख-रखाव करना शामिल हैं।

पदोन्नति क्रम में:

सहायक / अपर डिवीजन क्लार्क -> डिवीजन क्लर्क -> सेक्शन ऑफिसर

2. डेटा एंट्री ऑपरेटर (डीओई)

डीओई का कार्य डेटा को नियमित आधार पर दर्ज करना, रखरखाव और अपडेट करना होता है। वह हिंदी और अंग्रेजी, दोनों भाषाओं में अच्छी गति और दक्षता के साथ टाइप करने में अच्छी तरह से प्रशिक्षित होता है।

SSC CHSL परीक्षा की तैयारी के दौरान भोजन की आदतें

पदोन्नति क्रम में:

डेटा एंट्री ऑपरेटर ग्रेड बी -> डेटा एंट्री ऑपरेटर ग्रेड सी -> डेटा एंट्री ऑपरेटर ग्रेड एफ (सिस्टम एनालिस्ट)

3. पोस्टल / शार्टिंग असिसटेंट

यह एक लिपिक (क्लर्किल) कैडर पोस्ट है। इन्हें आम तौर पर भारत सरकार के डाक विभाग द्वारा पेश किया जाता है। इस तरह के पदों पर कई विभागों में भर्ती की जा सकती है, जैसे सेना डाक सेवा, सर्किल कार्यालय और क्षेत्रीय कार्यालय, विदेशी डाक घर, डाकघर, पोस्टल स्टोर डिपो, रेलवे मेल सेवा और बचत बैंक नियंत्रण संगठन।

पदोन्नति क्रम में:

लोअर चयन ग्रेड (एलएसजी) अर्थात पर्यवेक्षक (सुपरवाइजर) -> उच्च चयन ग्रेड (एचएसजी) II अर्थात वरिष्ठ पर्यवेक्षक -> उच्च चयन ग्रेड (एचएसजी) II अर्थात मुख्य पर्यवेक्षक

4. कोर्ट क्लर्क

इनका कार्य आपराधिक और नागरिक न्याय व्यवस्था में प्रशासनिक कर्तव्यों का पालन करना होता है। इसके साथ- साथ ये अदालत के अन्य अधिकारियों और न्यायाधीशों तथा वकीलों की भी सहायता करते हैं।

पदोन्नति के क्रम में:

असिस्टेंट (सहायक) क्लर्क -> बेंच क्लर्क -> हेड (प्रमुख) क्लर्क

ये एसएससी सीएसएचएसएल के सभी पदों से संबंधित पदोन्नति वाले लाभ थे। आईए अब वेतन वृद्धि से संबंधित फायदों पर चर्चा करते हैं:

वेतन बैंड - I योजना के अंतर्गत दो प्रकार से वेतन वृद्धि प्रदान की जाती है:

  1. वार्षिक वेतन वृद्धि
  2. प्रोमोशनल (पदोन्नति) वृद्धि

SSC CHSL परीक्षा में सफलता हेतु पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों की भूमिका

वार्षिक वृद्धि

इस वृद्धि वेतन बैंड में कुल वेतन का 3% और संबंधित ग्रेड वेतन की दर से भुगतान किया जाता है। आईए इसे समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं। मान लीजिए कि सालाना वेतन वृद्धि का भुगतान 2400 रूपये के ग्रेड पे तथा 5200 रूपये के मूल वेतन में होता है, तो ऐसी स्थिति में वेतन वृद्धि 3% (2400 + 5200) या 213 रुपये होगी।

आम तौर पर 1 जुलाई को वार्षिक वेतन में वृद्धि की जाती है। ऐसा वेतनमान उन सभी कर्मचारियों पर लागू होता है जिन्होंने 1 जुलाई को छह महीने या उससे अधिक के कार्यकाल को पूरा कर लिया है।

प्रोमोशनल इंक्रीमेंट्स (पदोन्नति वेतन वृद्धि)

जैसा कि हमने प्रत्येक श्रेणी में विभिन्न पदोन्नति स्तरों पर चर्चा की है। आपको यह जानकर खुशी होगी कि प्रोफाइल के ग्रेड में वृद्धि के साथ ही वेतन में भी वृद्धि होती है।

इस तरह की वृद्धि के लिए, विभिन्न मंत्रालयों के सरकारी कार्यालयों में विभागीय परीक्षाएं आयोजित की जाती है। एक पद से दूसरी पदोन्नति के समय समान वेतनमान वाले पे बैंड के भीतर विभिन्न स्तरों के पदों से संबंधित ग्रेड पे जुड़ा रहता है।

यहां प्रोन्नति के साथ ग्रेड पे की राशि इस प्रकार है

1. पहली पदोन्नति (प्रमोशन): 2800 /- रूपये

2. दूसरी पदोन्नति (प्रमोशन): 4200 /- रूपये

3. तीसरी पदोन्नति (प्रमोशन): 4600 / - रूपये

4. आगे रु०-5,500 तक का अतिरिक्त प्रमोशन

SSC CHSL परीक्षा को क्रैक करने की 100 दिन की योजना

इसलिए, यह सब आंतरिक लाभ उन उम्मीदवारों के लिए हैं जिन्होंने उच्च माध्यमिक शिक्षा के बाद अपने करियर का चयन किया था। आप इन सभी नौकरियों को करते हुए अन्य परीक्षाओं के लिए भी तैयारी कर सकते हैं। इन नौकरियों के लिए ज्यादा कौशलता की जरूरत नहीं होती है और इनमें कार्य भी कम होता है। आप नौकरी करते हुए आसानी से स्नातक (ग्रेजुएशन) कर सकते हैं और फिर सीजीएल, एसबीआई पीओ, आईएएस, जैसी अन्य परीक्षाओं  में भाग ले सकते हैं। सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों को अपने कार्य के दौरान अपने अनुभवों का लाभ मिलता है।

शुभकामनाये!

Related Categories

NEXT STORY