SSC CPO 2018-19 परीक्षा: पेपर-I, पेपर-II, फिजिकल और मेडिकल टेस्ट का विस्तृत परीक्षा पैटर्न

SSC CPO 2018 परीक्षा, उन उम्मीदवारों के लिए एक बड़ा अवसर साबित हो सकती है जो  दिल्ली पुलिस और सर्वश्रेष्ठ अर्धसैनिक बलों (सी०आर०पी०एफ०,  बी०एस०एफ०,  सी०आई० एस० एफ०,  आई० टी० बी० पी० और एस०एस०बी०) में सब-इंस्पेक्टर और सी० आई० एस० एफ०  में सहायक सब इंस्पेक्टर (कार्यकारी)  के रूप में  शामिल होना चाहते हैं. कर्मचारी चयन आयोग (SSC) द्वारा जारी नवीनतम अधिसूचना के अनुसार,  केंद्रीय पुलिस संगठन (CPO) में भर्ती के लिए इस साल कुल 1223 पोस्ट्स (संभावित) की घोषणा की गयी हैं। इस भर्ती प्रक्रिया के अंतर्गत, आप दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर (कार्यकारी), केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल(सीएपीएफ) में सब इंस्पेक्टर (जीडी) और सी०आई०एस०एफ० (केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा सेना) में ASI (सहायक उप निरीक्षक) के पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

SSC CPO पेपर-I की प्रीलिमिनरी ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन 12 मार्च से 16 मार्च 2019 तक किया जाएगा. अत: SSC CPO 2018 की परीक्षा के लिए तैयारी की गति को तेज़ करने का समय आ गया है।

आइये- SSC CPO 2018 परीक्षा के परीक्षा पैटर्न  पर नजर डालते हैं जिसमे सामान्य ज्ञान, एपटीट्युड, रीजनिंग, इंग्लिश कॉम्प्रिहेंशन, फिजिकल और मेडिकल टेस्ट इत्यादि विभिन्न परीक्षण सम्मिलित है -

SSC CPO 2018: परीक्षा पैटर्न

SSC CPO 2018 परीक्षा  में पेपर-I, फिजिकल स्टैण्डर्ड टेस्ट (पी०एस०टी०) / फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट (पी०ई०टी०), पेपर-II और विस्तृत चिकित्सा परीक्षा (डी०एम०ई०) शामिल है। इस परीक्षा में चयन के लिए ये सभी चरण अनिवार्य हैं।

 

 

क्या सब इंस्पेक्टर की जॉब महिलाओं के लिए उपयुक्त है?

इन पेपर्स / टेस्टस का विवरण निम्न हैं-

पहला चरण: पेपर-I (बहुविकल्पीय टाइप)

यह एक ऑनलाइन आधारित परीक्षा है जोकि चार वर्गों में होगी, इसमें कुल 200 प्रश्न होंगे (प्रत्येक अनुभाग में 50 प्रश्न). जिसके लिए कुल अधिकतम अंक 200 होंगे (प्रत्येक अनुभाग के लिए अधिकतम 50 अंक)। इस परीक्षा के लिए कुल समय अवधि 2 घंटे की होगी।

 

 

ध्यान दें:

  • प्रश्न-पत्र में सभी प्रश्न  बहुविकल्पीय प्रकार के होंगे।
  • पेपर-I के खंड -I, II और III के प्रश्नों को हिंदी और अंग्रेजी में दोनों भाषाओँ में पूछा जाएगा।
  • पेपर-I में प्रत्येक गलत जवाब के लिए 0.25 अंक का नकारात्मक अंकन भी होगा।

पेपर-I में प्रदर्शन के आधार पर, उम्मीदवारों को पी०ई०टी० / पी०एस०टी० परीक्षा में उपस्थित होने के लिए चुना जाएगा। पेपर-I में प्रत्येक भाग के लिए अलग-अलग न्यूनतम क्वालीफाइंग मार्क्स को निर्धारित करने का अधिकार आयोग के पास संरक्षित है जोकि अन्य उम्मीदवारों की संख्या, श्रेणी-वार रिक्तियों और श्रेणी-वार उम्मीदवारों की संख्या को ध्यान में रखते हुए निर्धारित किया जायेगा.

CISF में सहायक उप निरीक्षक: नौकरी प्रोफाइल और पदोन्नति

 

दूसरा चरण: फिजिकल स्टैण्डर्ड टेस्ट (पी०एस०टी०) / फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट (पी०ई०टी०)

SSC CPO 2018 परीक्षा का दूसरा चरण  फिजिकल स्टैण्डर्ड टेस्ट (पी०एस०टी०) और फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट (पी०ई०टी०) है। इस परीक्षा में कोई भी तब तक अच्छा स्कोर नहीं कर सकता हैं जब तक उम्मीदवार फिजिकल और चिकित्सकीय रूप से फिट न हो। तो आइये- नीचे दिए गए फिजिकल परीक्षण के विभिन्न पहलुओं को देखें-

फिजिकल स्टैण्डर्ड टेस्ट (सभी पोस्ट के लिए):

पुरुष उम्मीदवारों के लिए

 

 

महिला उम्मीदवारों के लिए

 

SSC CPO 2018 परीक्षा: पेपर-I, पेपर-II, फिजिकल और मेडिकल टेस्ट का विस्तृत परीक्षा पैटर्न

ध्यान दें:

  • महिला उम्मीदवारों के लिए छाती की माप  का कोई प्रावधान नहीं है.
  • जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, ऊंचाई और छाती में छूट (जैसा भी मामला हो) तभी अनुमत होगा जब आप अनुबंध-8  में निर्धारित प्रोफार्मा के तहत जिले के सक्षम अधिकारी (जिस जिले के आप निवासी हैं) द्वारा जारी सम्बंधित सर्टिफिकेट को प्रस्तुत करेंगे।
  • पेपर-II परीक्षा में केवल उन्हीं उम्मीदवारों को उपस्थित होने की अनुमति होगी जो पी०ई०टी० / पी०एस०टी० परीक्षा को क्लियर करेंगे। पी०ई०टी० / पी०एस०टी० अनिवार्य परीक्षा है लेकिन यह परीक्षा प्रकृति में क्वालीफाइंग प्रकार की होगी। पूर्व सैनिकों को पी०ई०टी० परीक्षा को देने की  आवश्यकता नहीं हैं।
  • वजन: सभी पोस्ट के लिए ऊंचाई के अनुकूल।

फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट (पी०ई०टी०) (सभी पोस्ट के लिए)

पुरुष उम्मीदवारों के लिए

महिला उम्मीदवारों के लिए

 

 

ध्यान दें:

  • यदि दिल्ली पुलिस में प्रारंभिक नियुक्ति के समय फिजिकल मानकों (ऊंचाई / छाती) में छूट एक बार मिली तो यह उस उम्मीद्वार के आगे तक मान्य होगी जब तक वह दिल्ली पुलिस से सम्बंधित रहेगा।
  • वे उम्मीदवार जो फिजिकल स्टैंडर्ड्स यानी ऊंचाई और छाती पर अनफिट घोषित किये गए हो यदि वे चाहें तो वर्तमान अपील अधिकारी के समक्ष पी०ई०टी० / पी०एस०टी० के विषय में अपील कर सकते हैं। इस केस में, अपीलीय प्राधिकारी का निर्णय अंतिम होगा और आगे कोई भी अपील या सम्बंधित  प्रतिनिधित्व को नहीं माना जाएगा।
  • फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट में कोई भी अंक नहीं दिया जाएगा, लेकिन यह योग्यता में क्वालीफाइंग प्रकृति का होगा।
  • इन पदों के लिए आवेदन करने वाले पूर्व सैनिको के लिए फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट की कोई आवश्यकता नहीं है। हालांकि सभी पूर्व सैनिको को उप निरीक्षक / सहायक सब इंस्पेक्टर की सीधी भर्ती के लिए लिखित परीक्षा को उत्तीर्ण करना और निर्धारित फिजिकल स्टैंडर्ड्स को किसी भी मामले में पास करना आवश्यक हैं। उन्हें सीधी भर्ती के लिए निर्धारित चिकित्सा मानकों को भी पास करना होगा।
  • फिजिकल इनड्यूरैंस टेस्ट के समय उन महिला उम्मीदवारों की अभ्यर्थिता को निरस्त कर दिया जायेगा जो  गर्भवती होगी क्योंकि ऐसी उम्मीदवार पी०इ०टी० की परीक्षा नहीं दे सकती। इस विषय के सन्दर्भ में आगे कोई भी अपील / प्रतिनिधित्व को स्वीकार नहीं किया जाएगा।

SSC CPO 2018 पेपर-I और पेपर II का पाठ्यक्रम और टॉपिक्स का विस्तृत विश्लेषण

चरण- III: पेपर II (बहुविकल्पीय टाइप)

यह 2 घंटे की समयावधि और 200 अंकों की एक ऑनलाइन आधारित परीक्षा है। इस परीक्षा में आपकी इंग्लिश लैंग्वेज व कॉम्प्रिहेंशन के कौशल का परीक्षण किया जायेगा।

 

 

ध्यान दें:

  • प्रश्नपत्र में प्रश्न बहुविकल्पीय प्रकार के होंगे।
  • पेपर-II में प्रत्येक गलत जवाब के लिए 0.25 अंक का नकारात्मक अंकन होगा।
  • पेपर-I और पेपर II में प्रदर्शन के आधार पर, उम्मीदवारों को मेडिकल टेस्ट में प्रदर्शित होने के लिए शोर्टलिस्ट किया जाएगा।

चरण-IV: मेडिकल टेस्ट

पेपर-I और पेपर II में प्रदर्शन के आधार पर, उम्मीदवारों को मेडिकल टेस्ट में प्रदर्शित होने के लिए शोर्टलिस्ट किया जाएगा। उम्मीदवार जो मेडिकल टेस्ट में सफल होंगे, को विस्तृत दस्तावेज सत्यापन के लिए बुलाया जाएगा।

मेडिकल स्टैण्डर्ड (सभी पदों के लिए):

  • नेत्र दृष्टि:
    • कम से कम निकट दृष्टि N6 (सामान्य आंख के लिए) और N9 (दोषी आंख के लिए) होनी चाहिए।
    • कम से कम दूर दृष्टि 6/6 (सामान्य आंख के लिए) और 6/9 (दोषी आंख के लिए) होनी चाहिए।
    • दायें हाथ का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति में दाहिनी आँख को और बाएं हाथ का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति के लिए बायीं आँख को बेहतर आंख माना जायेगा।
    • दृष्टि के उपरोक्त सभी मानकों को बिना किसी सुधार या चश्मे  के बिना ही माना जायेगा।
  • फिजिकल और मेंटल हेल्थ
    • किसी भी उम्मीदवार में फ्लैट फुट, भीतर मुड़े हुए घुटने, फूली हुई नसों या आंखों में भेंगापन इत्यादि का दोष नहीं होना चाहिए।
    • उम्मीदवारों का किसी भी फिजिकल दोष से रहित एक अच्छा मानसिक और फिजिकल स्वास्थ्य होना चाहिए ताकि उन्हें दिए गए कर्तव्यों में कुशल प्रदर्शन में कोई बाधा न आये।
  • चिकित्सा परीक्षण:
    • सभी उम्मीदवारों जो पेपर-II में क्वालीफाई होंगे की सशस्त्र पुलिस बलों के चिकित्सा अधिकारी या किसी अन्य चिकित्सा अधिकारी या किसी भी केन्द्रीय / राज्य सरकार के अस्पताल या डिस्पेंसरी में ग्रेड- I पोस्ट के सहायक सर्जन द्वारा मेडिकल जांच की जाएगी।
    • उम्मीदवारों जिन्हें अयोग्य पाया जायेगा को इस स्थिति के बारे में सूचित किया जाएगा और वे 15 दिनों की निर्धारित समय सीमा के भीतर मेडिकल बोर्ड के समक्ष इस विषय में अपील कर सकता है।
    • पुन: चिकित्सा बोर्ड / समकक्ष चिकित्सा बोर्ड का निर्णय ही अंतिम होगा और फिर से चिकित्सा बोर्ड / समकक्ष चिकित्सा बोर्ड के निर्णय के विरुद्ध कोई अपील / प्रतिनिधित्व को नहीं माना जाएगा।
  • ओब्सटैकल टेस्ट: अंत में सब इंस्पेक्टर और सहायक सब-इंस्पेक्टर पद के लिए चयनित उम्मीदवारों को (प्रशिक्षण प्रक्रिया के अंतर्गत) नीचे वर्णित सात ओब्सटैकल घटनाओं को पास करना होगा. यदि वे इस टेस्ट में सफल नहीं हो पाते है तो उन्हें फ़ोर्स में आगे नहीं रखा जा सकता है:

1.             वर्टीकल बोर्ड के ऊपर से छलांग

2.             रस्सी पकड़ते हुए बोर्ड से छलांग

3.             टार्जन स्विंग;

4.             क्षैतिज बोर्ड पर छलांग

5.             समानांतर रोप

6.             मंकी क्रॉल;

7.             वर्टीकल रोप

  • टैटू: यह देखा गया है कि चिकित्सा जांच के दौरान, उम्मीदवारों के शरीर के विभिन्न भागों में 'टैटू' दिखाई देते हैं। इस संबंध में गृह मंत्रालय ने अपने पत्र संख्या I-45020/7/2012 /Pers- II दिनांक:12-01-2017 और 30-01-2017 में केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और सी०आई०एस०एफ० में उप निरीक्षक पद के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों  में टैटू होने के बारे में निम्न दिशानिर्देशों को जारी किया हैं:-
  1. सामग्री: एक धर्मनिरपेक्ष देश होने के नाते, अपने देशवासियों की धार्मिक भावनाओं का सम्मान किया जाना चाहिए अत: धार्मिक प्रतीक या आंकड़ों या अंकों से सम्बंधित टैटू के चित्रण की भारतीय सेना की भांति अनुमति हैं।
  2. स्थान:  यदि टैटू शरीर के पारंपरिक हिस्सों पर है जैसे कि बांह की कलाई के भीतर परन्तु केवल बायीं बाह पर और यदि सलामी देते समय दिखाई नहीं देता है तो अनुमत है।
  3. आकार: शरीर के किसी भी विशेष हिस्से (कोहनी या हाथ)  पर इसका आकार  &frac14 की तुलना में कम होना चाहिए।
  4. दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर के लिए ऊपर खंड  में बताये गए टैटू के क्लॉज़  लागू नहीं हैं।

कैसे - SSC गौरवशाली करियर के लिए पहला कदम हो सकता है?

चरण -IV: दस्तावेज़ सत्यापन / अंतिम चयन

सभी चुने हुए उम्मीदवारों को अंतिम चयन के लिए अपने दस्तावेज को सत्यापित करवाना होगा। उम्मीदवारों को दस्तावेज सत्यापन प्रक्रिया के समय सभी दस्तावेज  की मूल प्रति को भी जमा करना आवश्यक हैं।

याद दिलाने के संकेत:

  • उम्मीदवारों का अंतिम चयन पेपर-I और पेपर-II के कुल अंक के आधार पर किया जाएगा।
  • विभिन्न यूजर विभागों / बलों के लिए उम्मीदवारों का आवंटन दस्तावेज़ सत्यापन के समय उनकी मेरिट पोजीशन और उनके द्वारा भरी गयी पदों की वरीयता के आधार पर किया जाएगा।
  • इस परीक्षा के आधार पर नियुक्त किये गए उम्मीदवारों को दो साल की अवधि के लिए परिवीक्षा पर रखा जायेगा और परिवीक्षा की अवधि के दौरान, उम्मीदवारों को नियंत्रक प्राधिकारी द्वारा निर्धारित प्रशिक्षण या परीक्षाओं को पास करना होगा. परिवीक्षा की अवधि के सफल समापन पर, उम्मीदवारों को अगर स्थायी नियुक्ति के लिए फिट माना जाता है तो उन्हें नियंत्रक प्राधिकारी द्वारा उस पद के लिए नियुक्ति प्रदान की जाएगी।
  • अंतिम मेरिट सूची SSC CPO परीक्षा के तीनों चरणों में उम्मीदवार के प्रदर्शन के आधार पर बनायीं जाएगी।

टाई मामलों का समाधान:

ऐसे मामलों में जहां एक से अधिक उम्मीदवार सामान प्राप्तांक हांसिल करते हैं इस प्रकार के टाई को निम्न विधियों द्वारा एक के बाद एक करके सुलझा लिया जाएगा-

  • पेपर-I और पेपर-II में कुल अंक
  • पेपर-I में कुल अंक
  • पेपर-II में कुल अंक
  • जन्म की तारीख, अधिल उम्र के उम्मीदवारों को उच्च वरीयता
  • उम्मीदवारों के नामों का वर्णमाला में क्रम।

SSC CPO 2018 परीक्षा के ऊपर दिए गए परीक्षा पैटर्न के अध्ययन के बाद, आपको यह समझ में आ गया होगा कि ज्यादा अध्ययन करने मात्र से ही परीक्षा को क्लियर नहीं किया जा सकता। उम्मीदवारों को फिजिकल और मेडिकल टेस्ट को क्लियर करने के लिए शारीरिक व्यायाम के माध्यम से शारीरिक और मानसिक रूप से भी खुद को फिट बनना होगा।

यदि आपको “SSC CPO 2018 परीक्षा: पेपर-I, पेपर-II और फिजिकल और मेडिकल टेस्ट के विस्तृत परीक्षा पैटर्नके बारे में दी गयी जानकारी उपयोगी लगी हो तो SSC परीक्षा 2018 के बारे में इस तरह की अधिक जानकारी के लिए हमारे SSC के वेबपेज पर विजिट करें.

Related Categories

Also Read +
x