यंग इंडियन्स के लिए फ़ूड साइंस में ये हैं दमदार कोर्सेज और करियर्स

हमारे जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में विज्ञान निहित है और आजकल देश-दुनिया में साइंस और इंटरनेट का ही दौर है. ऐसे में तकरीबन सभी कारोबारों में विज्ञान का इस्तेमाल होना अब बहुत ही सामान्य-सी बात हो गई है. हमारा भोजन और विभिन्न खाद्य पदार्थ भी अब विज्ञान के इस्तेमाल से अछूते नहीं हैं. भारत में वैसे तो प्राचीन काल से ही ऋषि-मुनि और मनीषियों में न केवल हमारे जीवन को वर्णाश्रम व्यवस्था (ब्रह्मचार्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ और सन्यासाश्रम) में विभाजित किया बल्कि सभी रीति-रिवाजों, परंपराओं, हवन-यज्ञ, व्रतों और त्यौहारों की शुरुआत वैज्ञानिक आधार पर ही की थी. आयुर्वेद दुनिया को भारत की महानतम देनों में से एक है जिसमें मनुष्य की सभी बीमारियों के ईलाज के साथ भोजन का भी परहेज (पथ्य-कुपथ्य) बताया जाता है. ऐसे में भले ही ‘फ़ूड साइंस’ हमें अपेक्षाकृत एक नया विषय प्रतीत हो लेकिन भारत में इसकी प्रासंगिकता, उपयोगिता और जड़े बहुत पुरानी हैं. आइए आज के संदर्भ में फ़ूड साइंस का अर्थ समझते हैं:

आखिर क्या है यह फ़ूड साइंस?

फ़ूड साइंस एप्लाइड साइंसेज की वह ब्रांच है जिसके तहत विभिन्न फ़ूड आइटम्स के फिजिकल, बायोलॉजिकल और केमिकल कंस्ट्रक्शन और नेचर का अध्ययन किया जाता है. आधुनिक काल में बायोकेमिस्ट्री, केमिकल इंजीनियरिंग और अन्य संबद्ध साइंसेज के बुनियादी सिद्धांतों का इस्तेमाल करके हम फ़ूड साइंस के विभिन्न कॉन्सेप्ट्स समझते हैं. दरअसल हम फ़ूड टेक्नोलॉजी के तौर पर फ़ूड साइंस का इस्तेमाल विभिन्न फ़ूड आइटम्स को प्रोसेस, प्रिजर्व, पैकेज और डिस्ट्रीब्यूट करने के साथ-साथ विभिन्न फ़ूड आइटम्स के सुरक्षित उपभोग में करते हैं.

ये हैं फ़ूड साइंस/ फ़ूड टेक्नोलॉजी के बढ़िया उदाहरण जो हम अपने रोज़ाना के खान-पान में इस्तेमाल करते हैं:

 

फ़ूड साइंस के विभिन्न कोर्सेज करने के लिए एलिजिबिलिटी और एजुकेशनल कोर्सेज

हमारे देश में किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से साइंस विषय सहित अपनी 12वीं क्लास कम से कम 50 फीसदी मार्क्स लेकर पास करने वाले स्टूडेंट्स फ़ूड साइंस में विभिन्न डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेज कर सकते हैं.  

भारत में फ़ूड साइंस की फील्ड से संबद्ध प्रमुख एजुकेशनल कोर्सेज निम्नलिखित हैं:

भारत में यहां से करें फ़ूड साइंस से संबंधित विभिन्न एजुकेशनल कोर्सेज

हमारे देश के कई कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ आजकल फ़ूड टेक्नोलॉजी से संबंधित विभिन्न कोर्सेज करवाते हैं जिनमें से प्रमुख हैं:

डायटीशियन बनने के लिए टॉप कोर्सेज और करियर ऑप्शन्स

भारत में फ़ूड साइंस की फील्ड से संबंधित विभिन्न करियर ऑप्शन्स/ जॉब प्रोफाइल्स

हमारे देश में फ़ूड साइंस में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और पीएचडी कोर्सेज करने के बाद कैंडिडेट्स निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल्स/ करियर ऑप्शन्स चुन सकते हैं:

ये पेशेवर विभिन्न फ़ूड आइटम्स की जांच बायोलॉजी/ केमिस्ट्री के बेसिक प्रिंसिपल्स के आधार पर करते हैं ताकि वे फ़ूड आइटम्स हमारी हेल्थ के मुताबिक उपयुक्त हों.

ये पेशेवर विभिन्न फ़ूड आइटम्स की क्वालिटी की जांच करते हैं और विभिन्न फ़ूड आइटम्स और ड्रिंक्स की केमिकल संरचना के बारे में डाटा और डिटेल्स तैयार करते हैं.

ये पेशेवर फ़ूड प्रोडक्शन से संबंधित सभी कामकाज संभालते हैं जैसेकि अपने अधीनस्थ स्टाफ की हायरिंग करना और फ़ूड प्रिपरेशन और डिस्ट्रीब्यूशन को मैनेज करना.

ये पेशेवर फ़ूड प्रोडक्शन के लिए फ़ूड रेसेपीज़ को हेल्थ और फ़ूड टेस्ट के मुताबिक मॉडिफाई करते हैं और फ़ूड प्रिपरेशन से संबंधित सुपरविजन करते हैं.

ये पेशेवर अपने क्लाइंट्स की हेल्थ और फिजिकल नीड्स के मुताबिक उनके लिए डाइट प्लान्स तैयार करते हैं और अपने क्लाइंट्स की अच्छी हेल्थ के लिए उन्हें फूड्स से संबंधित जरुरी गाइडेंस भी देते हैं.

फ़ूड स्टाइलिस्ट का करियर और जॉब पर्सपेक्टिव

हमारे देश में फ़ूड साइंस से संबंधित कुछ अन्य करियर ऑप्शन्स/ जॉब प्रोफाइल्स हैं – न्यूट्रीशियनिस्ट, प्रोफेसर, फिटनेस ट्रेनर, एरोबिक्स इंस्ट्रक्टर, फ़ूड एंड न्यूट्रीशन मार्केटिंग मैनेजर, फ़ूड प्रोसेसर, प्रोसेस डेवलपमेंट स्पेशलिस्ट, फ़ूड प्रोडक्शन मैनेजर, डाइट एंड फिटनेस काउंसलर, फ़ूड इंस्पेक्टर, फ़ूड केमिस्ट और प्रोडक्ट डेवलपमेंट स्पेशलिस्ट.

भारत में फ़ूड साइंस की फील्ड में मिलता है ये सैलरी पैकेज

भारत में शुरू में इस फील्ड में किसी फ्रेश ग्रेजुएट प्रोफेशनल को एवरेज 20 – 25 हजार रुपये मासिक मिलते हैं. इस फील्ड में 5 – 7 साल के वर्क एक्सपीरियंस के बाद ये पेशेवर एवरेज 6 – 8 लाख रुपये सालाना कमा लेते हैं. इस फील्ड में वर्क एक्सपीरियंस बढ़ने के साथ-साथ इन पेशेवरों का सैलरी पैकेज भी लगातार बढ़ता ही जाता है.

भारत में फ़ूड साइंटिस्ट्स/ फ़ूड एक्सपर्ट्स इन टॉप रिक्रूटर्स के पास कर सकते हैं अप्लाई

यहां फ़ूड एक्सपर्ट्स और फ़ूड साइंटिस्ट्स के लिए भारत के टॉप रिक्रूटर्स की एक लिस्ट पेश है:

फूड टेक्नोलॉजी की तरफ युवाओं के बढ़ते रुझान और उसकी वजह

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Also Read +
x