टीचर डे स्पेशल: कॉलेज या यूनिवर्सिटी में पढ़ाकर पायें बेहतरीन सैलरी के साथ रिस्पेक्ट भी

भारत में टीचर का सर्वोच्च स्थान और एजुकेशन की आशाजनक स्थिति

भारत में प्राचीन काल से, गुरू या शिक्षक का समाज में एक विशेष स्थान है क्योंकि हमारे देश में शुरू से ही गुरू  को भगवान माना जाता है जैसेकि, ‘गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु, गुरूर्देवो महेश्वराय, गुरूर साक्षात् परब्रम्हा, तस्मै श्री गुरूवे नमः’. मध्य युग के महान संत और दार्शनिक कबीर ने तो गुरू  को भगवान से भी ज्यादा महत्व दिया है. उन्होंने कहा है कि, ‘गुरू  गोविंद दोनों खड़े, काके लागूं पांय... बलिहारी गुरू  आपने, जिन गोविंद दियो बताये’. हमारे देश में हर साल 5 सितंबर को भारत के दूसरे राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर ‘टीचर डे’ मनाकर शिक्षा के महत्व को स्वीकारते हुए देश के सभी टीचर्स के प्रति आभार व्यक्त किया जाता है. आधुनिक युग में भी अगर हम भारत में लिटरेसी रेट की बात करें तो आजादी के समय पूरे भारत में लिटरेसी रेट 18% के आस-पास थी और इस समय भारत में लेटेस्ट लिटरेसी डाटा 74% से कुछ अधिक है. अगर हम आजादी के समय से वर्तमान समय में भारत में हायर एजुकेशन के लेवल की बात करें तो हम देख सकते हैं कि हमारे देश के हायर एजुकेशन की फील्ड में प्राइवेट सेक्टर के योगदान में अब तक 60% से अधिक बढ़ोतरी हुई है. इसी तरह, वर्ष 1950 में भारत में कुल 20 यूनिवर्सिटीज़ थीं जो अब तक 790 के आस-पास हैं. अब भारत के अधिकतर यंगस्टर्स कम आयु में कोई जॉब ज्वाइन करने के साथ-साथ हायर एजुकेशन पर भी पूरा ध्यान दे रहे हैं. इन दिनों पूरे भारत में लाखों स्टूडेंट्स विभिन्न सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ से ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और पीएचडी की डिग्री हासिल करने के साथ ही टेक्निकल एजुकेशन में भी हायर एजुकेशनल डिग्रीज़ प्राप्त कर रहे हैं.

भारत के किसी कॉलेज, यूनिवर्सिटी या एजुकेशनल इंस्टीटयूट में टीचिंग: कमायें धन के साथ सम्मान

अब जब हमारे देश में शिक्षा क्रांति का माहौल बना हुआ है और पूरे भारत में स्टेट और नेशनल लेवल पर लगातार एजुकेशन और हायर एजुकेशन का स्तर सुधारने के कई प्रयास किये जा रहे हैं तो ऐसे में अगर आप भी हाइली क्वालिफाइड और टैलेंटेड होने के साथ-साथ टीचिंग में काफी दिलचस्पी रखते हैं तो आप भारत के किसी भी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में पढ़ाकर बेहतरीन सैलरी के साथ काफी रिस्पेक्ट भी हासिल कर सकते हैं. आजकल तो हमारे देश में विभिन्न इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ़ मैनेजमेंट (IIMs), इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (IITs) और इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीटयूट (ITIs) में भी लाखों स्टूडेंट्स मैनेजमेंट और टेक्नोलॉजी की विभिन्न फ़ील्ड्स में हायर एजुकेशन हासिल कर रहे हैं.

भारत के विभिन्न कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में मौजूदा टीचिंग स्ट्रक्चर

हमारे देश के विभिन्न कॉलेजों, यूनिवर्सिटीज़ या एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स में पढ़ाने वाले टीचर्स को अपने काम में संतोष के साथ काफी सम्मान और बेहतरीन सैलरी पैकेज मिलता है. भारत के विभिन्न कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में आप ज्वाइन कर सकते हैं ये टीचिंग जॉब्स:

  • लेक्चरर/  असिस्टेंट प्रोफेसर
  • एसोसिएट प्रोफेसर/ रीडर
  • प्रोफेसर

भारत के कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में एंट्री लेवल पर टीचिंग जॉब के लिए जरुरी क्वालिफिकेशन

हमारे देश के विभिन्न कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में एंट्री लेवल की टीचिंग पोस्ट्स अर्थात असिस्टेंट प्रोफेसर या लेक्चरर की जॉब्स के लिए निम्नलिखित एजुकेशनल क्वालिफिकेशन्स निर्धारित की गई हैं:

  • जनरल साइंसेज, एप्लाइड साइंसेज/ आर्ट्स एंड ह्यूमैनिटीज़/ कॉमर्स सब्जेक्ट्स

कैंडिडेट ने किसी मान्यताप्राप्त इंडियन यूनिवर्सिटी से कम से कम 55% मार्क्स के साथ मास्टर डिग्री हासिल की हो या किसी फॉरेन यूनिवर्सिटी से समान डिग्री प्राप्त की हो. स्टूडेंट लाइफ के दौरान उनका बहुत अच्छा एकेडेमिक रिकॉर्ड हो. इसके साथ ही कैंडिडेट ने UGC/ CSIR या SLET/ SET द्वारा आयोजित नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (NET) पास किया हो. पीएचडी डिग्री होल्डर कैंडिडेट्स के लिए  NET/ SLET/ SET एग्जाम पास करना जरुरी नहीं है.

  • मेडिकल फैकल्टी

कैंडिडेट ने MBBS या PG की डिग्री हासिल की हो और उन्हें संबंधित विषय में कम से कम 3 साल का टीचिंग एक्सपीरियंस हो.

  • इंजीनियरिंग फैकल्टी

इस फील्ड के लिए कैंडिडेट ने संबंधित विषय में मास्टर डिग्री (ME/ MTech/ MS) हासिल की हो. इसके साथ ही कैंडिडेट को टीचिंग/ इंडस्ट्रियल रिसर्च या संबंधित इंडस्ट्री में पेशेवर अनुभव हो. कैंडिडेट ने रेफर्ड जर्नल में अपने विषय से संबंधित पेपर्स पब्लिश किये हों या कांफेरेसेस में अपने विषय से संबंधित पेपर्स प्रस्तुत किये हों.

भारत के विभिन्न कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज़ में टीचिंग पोस्ट्स को मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में अभी 7वें पे कमीशन की रिकमेन्डेशन्स लागू होने का लाखों सरकारी कर्मचारियों को इंतजार है. UGC में अब तक लागू 6थ पे कमीशन के मुताबिक असिस्टेंट प्रोफेसर/ लेक्चरर को इस समय रु. 15600 – 39100 PB-3  और AGP 6000/- के मुताबिक एवरेज 45 हजार रुपये का मासिक सैलरी पैकेज मिलता है और आने वाले 7वें पे कमीशन के मुताबिक UGC में एंट्री लेवल पर मिनिमम पे रु.67700/- होगी. इस समय हमारे देश में असिस्टेंट प्रोफेसर को रु. 37400 – 67000 PB-3  और AGP 9000/- के मुताबिक एवरेज 80 हजार रुपये कुल अमाउंट मासिक सैलरी मिलती है. किसी प्रोफेसर को रु. 37400 – 67000 PB-3  और AGP 10000/- के मुताबिक एवरेज 82 हजार – 1.20 लाख रुपये मासिक सैलरी मिलती है. भारत में निम्नलिखित टॉप एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स असिस्टेंट प्रोफेसर्स/ लेक्चरर्स को सबसे अधिक सैलरी पैकेज दे रहे हैं:

  • IITs
  • AAIMS
  • IIMs
  • BITS, पिलानी
  • अन्ना यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी
  • मुंबई यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी
  • जवाहरलालनेहरु टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, हैदराबाद

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, प्रोफेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.  

Related Categories

Popular

View More