भारत में आयुर्वेद की फील्ड में करियर ऑप्शन्स

आयुष विभाग के लिए मिनिस्ट्री ऑफ़ स्टेट (इंडिपेंडेंट चार्ज) के एक पूर्व अनुमान के मुताबिक भारत में इस समय 7.7 लाख से अधिक रजिस्टर्ड आयुष डॉक्टर्स प्रैक्टिस कर रहे हैं. यह डाटा हमें अपने देश और विदेशों में आयुर्वेद की फील्ड में उपलब्ध अन्य कई करियर ऑप्शन्स के बारे में अनुमान लगाने में सहायक है. ‘आयुर्वेद’ संस्कृत भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है – ‘आयुर’ अर्थात ‘जीवन’ और ‘वेद’ अर्थात ‘ज्ञान’. वास्तव में, जीवन का ज्ञान ही आयुर्वेद है जिसके माध्यम से मानव शरीर की सभी बीमारियों से रक्षा की जाती है ताकि मनुष्य लंबी आयु तक हेल्दी रहे. आयुर्वेद भारत की प्राचीन उपचार पद्धति है जिसमें मानव शरीर और मन के बीच ट्रीटमेंट के अनेक तरीकों के माध्यम से संतुलन कायम रखा जाता है. ऐसा माना जाता है कि वैदिक काल से ही भारत में सभी बीमारियों के इलाज के लिए आयुर्वेदिक मेडिसिन्स का इस्तेमाल सफलतापूर्वक किया जा रहा है. आयुवेद में विभिन्न जड़ी-बूटियों से मेडिसिन्स तैयार की जाती है. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइज़ेशन ने भी सभी किस्म की मानसिक और शारीरिक बीमारियों के सफल इलाज के लिए आयुर्वेद के महत्व को स्वीकार किया है. आजकल भारत सहित दुनिया भर के देशों में आयुर्वेद का कार्यक्षेत्र बड़ी तेज़ी से बढ़ रहा है. पूरी दुनिया के लोग आजकल पुरानी और असाध्य बीमारियों के इलाज के लिए आयुर्वेद पर भरोसा कर रहे हैं. बहुत बार जब ऑपरेशन या एलोपैथिक सिस्टम से मरीज ठीक नहीं हो पाते हैं या किसी एलोपैथिक मेडिसिन के साइड इफेक्ट्स काफी ज्यादा होते हैं तो ऐसी सभी स्थितियों में हमारे देश और दुनिया में आयुर्वेद के जरिये मरीजों का सफल इलाज हो रहा है.

भारत में आयुर्वेद की फील्ड में उपलब्ध प्रमुख कोर्सेज और एलिजिबिलिटी

हमारे देश में इस फील्ड में अपना करियर शुरू करने के लिए कैंडिडेट्स या जॉब सीकर्स ने किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास प्रेफरेबली साइंस स्ट्रीम से पास की हो. आयुर्वेद की फील्ड में कोई सूटेबल करियर शुरू करने के लिए या किसी अच्छी जॉब को हासिल करने के लिए आयुर्वेद में डिप्लोमा, अंडरग्रेजुएट कोर्सेज (BAMS/ BSMS), पोस्टग्रेजुएट कोर्सेज (MBA/ MD/ MS - आयुर्वेद) और डॉक्टोरल डिग्री कोर्सेज जैसेकि, MPhil और/ या PHD की डिग्री हासिल की हो. आप अपनी रूचि और जरूरत के मुताबिक आयुर्वेद में फुल टाइम/ पार्ट टाइम डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्सेज भी कर सकते हैं. ये डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्सेज 3 महीने, 6 महीने या 1 साल की अवधि के होते हैं.

भारत की परंपरा और संस्कृति में आयुर्वेद के महत्व को समझते हुए मिनिस्ट्री ऑफ़ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर, भारत सरकार का आयुष डिपार्टमेंट भी आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर्स, आयुर्वेदिक थेरेपिस्ट और अपने स्वास्थ्य की देखभाल के लिए आयुर्वेद पर भरोसा करने वाले साधारण लोगों के लिए आयुर्वेद की विभिन्न फ़ील्ड्स से संबंधित ट्रेनिंग प्रोग्राम कोर्सेज करवा रहा है.

आयुर्वेद की फील्ड में ये कोर्सेज करके बनाएं अपना करियर

भारत में आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर्स के लिए प्रमुख जॉब प्रोफाइल्स/ करियर ऑप्शन्स

  • आयुर्वेद मेडिकल ऑफिसर
  • डायरेक्टर – आयुर्वेद
  • प्रोफेसर/ एसोसिएट प्रोफेसर/ असिस्टेंट प्रोफेसर
  • साइंटिस्ट
  • डिप्टी डायरेक्टर – आयुर्वेद
  • असिस्टेंट डायरेक्टर – आयुर्वेद
  • रिसर्च ऑफिसर/ असिस्टेंट रिसर्च ऑफिसर
  • पंचकर्म सेंटर्स में सुपरवाइज़र्स  
  • आयुर्वेद फिजिशियन
  • आयुर्वेद कंसलटेंट
  • फार्मासिस्ट
  • थेरेपिस्ट/ मसाज थेरेपिस्ट  
  • नर्स/ मिडवाइफ
  • पब्लिकेशन ऑफिसर – आयुर्वेद

भारत में आयुर्वेद की फील्ड से संबंधित प्रमुख जॉब प्रोवाइडर्स

हमारे देश में कई सरकारी और प्राइवेट संगठन आयुर्वेद की फील्ड में सूटेबल कैंडिडेट्स को जॉब्स प्रोवाइड करवाते हैं. भारत के प्रमुख जॉब प्रोवाइडर संगठनों की एक लिस्ट निम्नलिखित है:

  • यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन
  • स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन
  • नेशनल आयुष मिशन
  • क्लिनिकल प्रैक्टिसेज
  • जनरल प्रैक्टिस
  • एकेडेमिक इंस्टीट्यूट्स/ आयुर्वेदिक कॉलेज/ यूनिवर्सिटीज़  
  • मेडिकल टूरिज्म
  • स्टेट/ सेंटर रिसर्च सेंटर्स
  • पंचकर्म सेंटर्स
  • मैनेजमेंट एंड एडमिनिस्ट्रेशन
  • प्राइवेट/ गवर्नमेंट हॉस्पिटल्स/ डिस्पेंसरीज़ एंड हेल्थकेयर सेंटर्स
  • ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां
  • फार्मास्यूटिकल कंपनियां
  • पब्लिक हेल्थ – आयुर्वेद
  • आयुर्वेद कंसल्टेशन
  • रिसॉर्ट्स/ स्पाज़
  • बीपीओ/ केपीओ

भारत में आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर्स को मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में आयुर्वेद की किसी भी फील्ड में गवर्नमेंट सेक्टर में कंसलटेंट के तौर पर अपनी प्रैक्टिस शुरू करने पर किसी भी व्यक्ति को 25 हजार – 30 हजार रुपये मासिक मिलते हैं. भारत सरकार आयुर्वेद मेडिकल ऑफिसर्स को भी रिक्रूट करती है जिन्हें पे स्केल 15,600 – 39,100 रुपये के साथ 5400 रुपये ग्रेड पे मिलती है. प्राइवेट सेक्टर में किसी भी आयुर्वेदिक प्रैक्टिशनर के टैलेंट, वर्क एक्सपीरियंस और एजुकेशनल क्वालिफिकेशन के मुताबिक सैलरी पैकेज दिया जाता है.

अगर आपको भी भारतीय आयुर्वेदिक सिस्टम में गहरी दिलचस्पी के साथ ही पूरा भरोसा है तो आप आयुर्वेद की फील्ड में विभिन्न जॉब प्रोफाइल्स और करियर ऑप्शन्स में से मनचाहा विकल्प चुन कर इस फील्ड में अपना शानदार करियर शुरू कर सकते हैं. आयुर्वेद की फील्ड से संबंधित कारोबार भी आजकल काफी आकर्षक कमाई के साधनों में शामिल हो चुके हैं.

जॉब, करियर, इंटरव्यू, एजुकेशनल कोर्सेज, कॉलेज और यूनिवर्सिटी, के बारे में लेटेस्ट अपडेट्स के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर नियमित तौर पर विजिट करते रहें.

Related Categories

Popular

View More