बीमा क्षेत्र में करियर ग्रोथ की व्यापक संभावना

यदि आपने अपने स्टूडेंट लाइफ के दौरान स्कूल में या उसके बाद कभी भी यह महसूस किया है कि आपके पास अच्छी पीपुल व सेलिंग स्किल्स हैं तो इंश्योरेंस विषय आपके लिए उचित रहेगा. आप किसी प्रसिद्ध इंश्योरेंस कंपनी के इंश्योरेंस एजेंट या सेल्स एग्जीक्यूटिव- इंश्योरेंस के रूप में करियर शुरू कर सकते हैं. इसके लिए आपको इरडा (भारतीय बीमा नियामक प्राधिकरण) द्वारा संचालित एजेंट  परीक्षा पास करनी होगी. कुछ वर्ष इस तरह काम करने के बाद आप इन्श्योएन्स मैनेजर भी बन सकते हैं.

बीमा को करियर बनाने के लिए दो प्रकार के स्किल्स की आवश्यकता होती है- पहला, लोगों को आसानी से मित्र बनाना और दूसरा, उनकी  परेशानी को सही ढंग से पहचान कर उन्हें बीमा के महत्व को समझाना. आप उन्हें समझा सकते हैं कि भविष्य में होने वाली किसी दुर्घटना से बीमा कैसे सुरक्षा प्रदान करता है. बीमा कम से कम वित्तीय रूप से लोगों को सुरक्षा तो प्रदान कर ही सकता है. यदि आपमें सेलिंग स्किल, पीपल स्किल हैं तथा आप लोगों की परेशानियों को समझते व उन्हें वित्तीय मदद भी देने को सदैव तैयार रहते हैं, तो बीमा क्षेत्र आपके लिए उत्तम है. 

मुख्य कार्य

बीमा, बीमाकर्ता व बीमित व्यक्ति के बीच एक सहमती है जहाँ बीमित व्यक्ति 'प्रीमियम' के रूप में एक निश्चित मासिक अथवा वार्षिक धनराशि बीमाकर्ता के पास जमा कराता है.  इसके बदले में बीमाकर्ता बीमित व्यक्ति को किसी दुर्घटना की स्थिति में प्रीमियम से अधिक राशि अदा करता है. परिवार में किसी व्यक्ति के बीमार हो जाने,  दुर्घटना अथवा मृत्यु जैसी विपदाओं की स्थिति में बीमा अत्यंत लाभकारी सिद्ध होता है. आज लगभग हर परिस्थिति से निपटने के लिए बीमा कंपनियों के पास पॉलिसी हैं. जीवन बीमा, यात्रा बीमा, वाहन बीमा, स्वस्थ्य बीमा तथा गृह बीमा इनमें सबसे ज्यादा प्रचलित हैं. सरकारी कम्पनियों जैसे जीवन बीमा निगम. राष्ट्रीय बीमा कंपनी के अलावा आईसीआईसीआई प्रूडेन्शिअल, मैक्स न्यूयोर्क, बिरला सन लाइफ, बजाज एलिआन्ज़ और टाटा एआईजी जैसी कई निजी कम्पनियाँ भी इस क्षेत्र में कार्यरत हैं.

आवश्यक योग्यता

विद्यार्थी ग्रेजुएशन के उपरान्त इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं.  हालाँकि कुछ छात्र बारहवीं के बाद से ही बीमा क्षेत्र से जुड़ जाना पसंद करते हैं. आजकल कई कम्पनियां स्नातक छात्रों को पार्ट-टाईम जॉब का ऑफर भी देती हैं. फिर भी विषय का पूरा ज्ञान लेने के लिए कॉलेज के पश्चात बीमा प्रबंधन में मास्टर्स डिग्री लेना अच्छा रहता है.

मुख्य सिलेबस

इसके अंतर्गत निम्नांकित टॉपिक  पढ़ाये जाते हैं -

  1. जीवन बीमा और सामान्य बीमा के सिद्धांत एवं प्रयोग
  2. जीवन बीमा तथा गैर-जीवन बीमा क्षेत्र
  3. बीमा क़ानून
  4. लाईफ इंश्योरेंस अंडरराईटिंग और जोखिम प्रबंधन 
  5. बीमा देयता तथा जीवन बीमा क्लेम                                                       
  6. री-इंश्योरेंस तथा लाईफ इंश्योरेंस प्रोडक्ट

इस पढ़ाई का प्रमुख उद्देश्य बीमा क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं से आपका परिचय कराना है.

इस कोर्स को पूरा करने की लागत

विश्वविद्यालय एवं संस्थान के अनुसार एमबीए- इंश्योरेंस पाठ्यक्रम की वार्षिक फीस 1 से 2 लाख के बीच हो सकती है. आईसीऍफ़एआई, एनआईए तथा बिरला इंस्टीटयूट कुछ बेहतरीन इंश्योरेंस स्कूल हैं. इसके अलावा कई संस्थान डिप्लोमा पाठ्यक्रम तथा दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से बीमा में पाठ्यक्रम संचालित करते हैं.

स्कॉलरशिप की सुविधा

बीमा पाठ्यक्रम के लिए अलग से किसी भी तरह का कोई ऋण उपलब्ध नहीं कराया जाता है. परन्तु वर्किंग प्रोफेशनल्स इस कोर्स के लिए अपनी कम्पनी से स्कॉलरशिप प्राप्त कर सकते हैं.  इसी तरह स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया जैसी बैंकों से 7.5 लाख रुपये तक का शिक्षा ऋण प्राप्त किया जा सकता है .

बीमा क्षेत्र में रोजगार की संभावना

इंश्योरेंस प्रोफेशनल्स के लिए रोज़गार की संभावनाएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं हैं. आप एक बीमा अभिकर्ता (इंश्योरेंस एजेंट) के रूप में करियर शुरू कर सकते हैं जहाँ आपको लोगों को बीमा पालिसी बेचनी होती हैं. इसके लिए आपको निश्चित टार्गेट दिया जाता है जिसे आपको प्रीमियम के रूप में कम्पनी के लिए कमाकर पूरा करना होता है. इसके बदले में आपको कमीशन दिया जाता है . इसके अलावा सेल्स मैनेजर- इंश्योरेंस का पद भी महत्वपूर्ण होता है जहाँ आपको बीमा अभिकर्ताओं की एक टीम को संभालना होता है. आप इंश्योरेंस अंडरराईटर के रूप में भी अपने करियर की शुरूआत कर सकते हैं.

संभावित पैकेज

कंपनी के अनुसार शुरूआत में 10000 से 30000 रुपये तक आसानी से प्राप्त किये जा सकते हैं. किसी उच्च पद पर पहुँचने पर आप 1 लाख रुपए का मासिक वेतनमान भी प्राप्त कर सकते हैं. यदि आपने किसी प्रसिद्ध बी-स्कूल से एमबीए इन इंश्योरेंस किया है तो आप अपनी प्रथम जॉब में ही ज्यादा बेहतर वेतनमान की अपेक्षा कर सकते हैं.

इस क्षेत्र में रोजगार मुहैया कराने वाली मुख्य कंपनिया

ऐच्छिक सांख्यिकीय सूचना के आधार पर रोज़गार के अवसर प्रदान करने वाली कुछ टॉप कम्पनियां इस प्रकार हैं:

भारतीय जीवन बीमा निगम,

बजाज अलिआन्ज़ जनरल इंश्योरेंस,

आईसीआईसीआई लोम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस,

आईसीआईसीआई प्रूडेंशिअल लाइफ इंश्योरेंस,

न्यू इण्डिया इंश्योरेंस कम्पनी,

इफ्को टोक्यो जनरल इंश्योरेंस,

ओरीएंटल इंश्योरेंस कम्पनी और

एचडीऍफ़सी स्टैण्डर्ड लाइफ इंश्योरेंस

Related Categories

Popular

View More