करें ये टॉप 10 कोर्सेज और बनें डाटा साइंटिस्ट

आजकल के डिजिटल वर्ल्ड में डाटा-साइंस एक ऐसा विषय है जिसका महत्व और प्रभाव दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. डाटा-साइंस में मैथमेटिक्स, स्टेटिस्टिक्स, इनफॉर्मेशन साइंस और कंप्यूटर साइंस की फ़ील्ड्स से संबद्ध विभिन्न टेक्निक्स और थ्योरीज का इस्तेमाल करके सभी किस्म के स्ट्रक्चर्ड और अन-स्ट्रक्चर्ड डाटा से जानकारी और इनसाइट्स प्राप्त की जाती हैं और यह काम जो लोग करते हैं वे डाटा के एक्सपर्ट्स अर्थात डाटा-साइंटिस्ट्स होते हैं. अगर आप भी एक डाटा साइंटिस्ट बनना चाहते हैं तो डाटा साइंस की फील्ड में निम्नलिखित कोर्सेज में से अपने टैलेंट, इंटरेस्ट और स्किल-सेट के मुताबिक कोई सूटेबल कोर्स करके आप डाटा साइंस की फील्ड में अपना शानदार करियर शुरू कर सकते हैं.

भारत में डाटा-साइंस की फील्ड में उपलब्ध 10 टॉप कोर्सेज:

हमारे देश में एक डाटा साइंटिस्ट बनने के लिए आप किसी मान्यताप्राप्त कॉलेज/ यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस, मैथ्स, फिजिक्स, आईटी या किसी अन्य संबद्ध फील्ड में बैचलर की डिग्री प्राप्त करके डाटा साइंस की फील्ड में मास्टर डिग्री प्राप्त कर सकते हैं. कई इंस्टीट्यूट्स इन कोर्सेज में एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से एडमिशन देते हैं. आपकी सहूलियत के लिए डाटा साइंस की फील्ड से संबद्ध विभिन्न कोर्सेज का विवरण यहां पेश है:

1.   पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन बिजनेस एनालिटिक्स (पीजीडीबीए)

यह एक 2 वर्ष की अवधि का फुल-टाइम रेजिडेंशियल प्रोग्राम है जो आईएसआई, कोलकाता, आईआईटी, खड़गपुर और आईआईएम, कलकत्ता ऑफर करते हैं. इस कोर्स के तहत स्टूडेंट्स को मल्टी-आस्पेक्ट्स ऑफ़ लर्निंग का कार्य-अनुभव प्रदान किया जाता है. इस प्रोग्राम के एक हिस्से के तौर पर स्टूडेंट्स को स्टैटिस्टिकल, टेक्नोलॉजिकल और एनालिटिक्स के बिजनेस आस्पेक्ट्स के संबंध में ट्रेनिंग दी जाती है. इस कोर्स के तहत 18 महीने की क्लासरुम लर्निंग और 6 महीने की इंटर्नशिप शामिल है. इस कोर्स की फीस 20 लाख रु. है. इस कोर्स के तहत डाटा में स्टैटिस्टिकल इन्फेरेंस, स्टैटिस्टिकल स्ट्रक्चर्स एंड प्रोसेसेज, डाटा साइंस कंप्यूटिंग, डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम्स, अल्गोरिथम डिज़ाइन, मशीन लर्निंग, टाइम सीरीज और रिग्रेशन, बिजनेस डाटा माइनिंग एंड प्रोडक्ट मैनेजमेंट, बिजनेस इकोनॉमिक्स, फाइनेंशियल रिपोर्टिंग और एनालिसिस पर फोकस सहित बिजनेस एप्लीकेशन आदि टॉपिक शामिल हैं.

2.   पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन डाटा साइंस

यह कुल 9 महीने की अवधि का कोर्स है और हमारे देश में वर्ष 2011 से यह कोर्स पीडब्ल्यूसी और आईसीआईसीआई बैंक की नॉलेज सपोर्ट के साथ प्रेक्सिस बिजनेस स्कूल द्वारा ऑफ़र किया जा रहा है. इस कोर्स के माध्यम से इंडस्ट्री-रेडी एनालिटिक्स प्रोफेशनल्स तैयार किये जा रहे हैं. इस कोर्स की फीस रु. 5.4 लाख है. डाटा साइंस की फील्ड में इस कोर्स का फोकस पाइथन, आर, एसएएस, एसक्यूएल, हेडूप, स्पार्क, मोंगो डीबी (एनओएसक्यूएल), अमेज़न एडब्ल्यूएस (ईएमआर/ ईसी2), टेंसरफ्लो, क्लिक व्यू एंड टेब्ल्यु जैसे टूल्स और स्टेटिस्टिक्स, डाटा माइनिंग, मशीन लर्निंग, डीप लर्निंग जैसे मॉडलिंग और एनालिटिकल स्किल्स के साथ कम्युनिकेशन एंड विज्युलाइजेशन स्किल्स पर होता है. इस कोर्स में मार्केटिंग, फाइनेंस, रिटेल और अन्य संबद्ध एरियाज में विभिन्न बिजनेस सिचुएशन्स में एनालिटिक्स को अप्लाई किया जाता है. इस कोर्स को हर 6 महीने में अपडेट किया जाता है.

3.   पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डाटा साइंस

मनिपाल ग्लोबल एजुकेशन सर्विसेज (एमएजीई) के इंस्टीट्यूट मनिपाल प्रो लर्न द्वारा ऑफर किया जाने वाला यह कोर्स कुल 11 महीने की अवधि का है जिसमें 9 महीने की क्लासरुम ट्रेनिंग और 2 महीने का प्रोजेक्ट एंड इंटर्नशिप शामिल है. यह कोर्स फुल-टाइम और पार्ट-टाइम मोड्स में उपलब्ध है ताकि यंग वर्किंग प्रोफेशनल्स भी इस कोर्स का लाभ उठा सकें. इस कोर्स की फीस रु. 6.3 लाख (+18% जीएसटी) है. इस डिप्लोमा कोर्स के तहत आर, पाइथन, डाटा स्क्रेपिंग एंड रैंग्लिंग, स्टेटिस्टिक्स सहित फाउंडेशन-लेवल कोर्सेज शामिल है. कोर कोर्सेज के तहत मशीन लर्निंग, डाटा विज्युलाइजेशन एंड बिग डाटा टूल्स और एडवांस्ड कोर्सेज में एआई, डीप लर्निंग, न्यूरल नेटवर्क्स और एडवांस्ड बिग डाटा शामिल है. इसके अलावा, इस कोर्स में हेकाथोंस और डिज़ाइन थिंकिंग, सॉफ्ट स्किल्स तथा बिहेवियरल स्किल्स एवं अन्य संबद्ध फ़ील्ड्स में एक्स्ट्रा-करीकुलर वर्कशॉप्स और सेशन्स शामिल हैं.

4.   पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन डाटा साइंस एंड इंजीनियरिंग (पीजीपी – डीएसई)

यह एक 5 महीने का क्लासरुम कोर्स है जो ग्रेट लर्निंग, मुंबई द्वारा एनालिटिक्स, डाटा साइंस, मशीन लर्निंग, एआई, क्लाउड कंप्यूटिंग और संबद्ध फ़ील्ड्स में ऑफर किया जता है. इस कोर्स का मिशन प्रोफेशनल्स को डिजिटल इकॉनमी में कुशल बनाना है. इस कोर्स की फीस रु. 3 लाख + जीएसटी है. यह  प्रोग्राम बूट कैंप फॉर्मेट में ऑफर किया जाता है और हरेक 6 महीने में इस कोर्स को अपडेट किया जाता है. इस कोर्स में पाइथन, टेब्ल्यु, रिग्रेशन, क्लासिफिकेशन, डिसीजन ट्रीज, रैंडम फ़ॉरेस्ट, एसक्यूएल और संबद्ध टॉपिक्स को शामिल किया गया है. इस कोर्स के तहत स्टूडेंट्स को मॉक इंटरव्यूज और सीवी पर फीडबैक के रूप में पूरी प्लेसमेंट सहायता प्रदान की जाती है.

5.   एमएससी इन बिजनेस एंड डाटा एनालिटिक्स

भारत में इंटरनेशनल स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग (आईएनएसओएफई) डाटा साइंस की फील्ड में लीडर है जो उक्त कोर्स ऑफर करता है. एमएससी इन बिजनेस एंड डाटा एनालिटिक्स कोर्स की कुल अवधि 18 महीने है और फीस 17 हजार यूरो अर्थात 13.58 लाख रुपये है. यह एक 18 महीने का क्लासरुम कोर्स है और इस कोर्स का करिकुलम आईएनएसओएफई के 35+ एक्सपर्ट डाटा साइंटिस्ट्स की इन-हाउस टीम के रिसर्च वर्क के बाद तैयार किया गया है. इस कोर्स के तहत बिजनेस एप्लीकेशन्स की पूरी रेंज शामिल है जिसमें डाटा साइंस, एनालिटिक्स और बिग डाटा इंजीनियरिंग के आस्पेक्ट्स आते हैं. इस कोर्स को भी हरेक 6 महीने में अपडेट किया जाता है. रिज्यूम डिजाइनिंग, इंडस्ट्री टॉक्स और एलुमिनाई नेटवर्क के माध्यम से स्टूडेंट्स को कम्पलीट प्लेसमेंट असिस्टेंस ऑफर की जाती है.

6.   पोस्ट ग्रेजुएशन प्रोग्राम बिजनेस एनालिटिक्स

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ डिजिटल टेक्नोलॉजीज (आईआईडीटी), आंध्रप्रदेश यह कोर्स ऑफर करता है जिसकी कुल अवधि 1 वर्ष है. आईआईडीटी में हाइब्रिड मॉडल के आधार पर पर्सनलाइज्ड लर्निंग और विभिन्न कोलाबोरेटेड एप्रोचेज जैसेकि, क्लासरुम कोचिंग, लाइव प्रोजेक्ट्स और इंडस्ट्री-ड्राइवन रिसर्च के कॉम्बिनेशन के जरिये यह कोर्स करवाया जाता है. इस कोर्स में आर, पाइथन, स्पार्क, मार्केटिंग एनालिटिक्स और अन्य संबद्ध टूल्स शामिल हैं. प्रत्येक 6 महीने में इस कोर्स को अपडेट किया जाता है और इस कोर्स की फीस रु. 5 लाख है.

7.   मास्टर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (डाटा साइंसेज एंड डाटा एनालिटिक्स)

यह कोर्स सिम्बायोसिस सेंटर फॉर इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (एससीआईटी) ऑफर करता है जो सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी का एक हिस्सा है. एससीआईटी कई वर्षों से भारत में आईटी और बिजनेस मैनेजमेंट की फ़ील्ड्स में ए-वन एजुकेशन दे रहा है. डाटा साइंस और डाटा एनालिटिक्स में एमबीए का प्रमुख लक्ष्य प्रोफेशनल्स को टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट और एआई तथा डाटा एनालिटिक्स की जानकारी देना है. यह कोर्स 2 वर्ष का रेजिडेंशियल प्रोग्राम है और इस कोर्स की फीस रु. 13.14 लाख है. एससीआईटी के इस कोर्स के खास करिकुलम में आर एंड पाइथन (डाटा माइनिंग, मशीन लर्निंग, टेक्स्ट एनालिटिक्स, डाटा विज्युलाइजेशन, प्रिडिक्टिव एनालिटिक्स, डीप लर्निंग) का इस्तेमाल शामिल है. यह कोर्स मोंगो डीबी, वोल्ट डीबी, नियो4जे, हेडूप इकोसिस्टम जैसे बिग डाटा एनालिटिक्स को सपोर्ट करने के लिए यह इंफ्रास्ट्रक्चर को तैयार और मैनेज करने में मदद करता है. इस कोर्स को प्रत्येक वर्ष अपडेट किया जाता है. 

8.   ग्रेजुएट सर्टिफिकेट इन बिग डाटा एंड विज्युअल एनालिटिक्स

एसपी जैन स्कूल ऑफ़ ग्लोबल मैनेजमेंट डाटा साइंस में यह कोर्स ऑफर करता है. इस क्लासरुम कोर्स की अवधि 8 महीने है. इस कोर्स में पाइथन, आर सहित स्टेटिस्टिक्स, एडवांस्ड डाटा स्ट्रक्चर्स, हेडूप, स्पार्क, क्लाउड इंट्रोडक्शन, एसक्यूएल, मार्केटिंग एंड फाइनेंशियल एनालिटिक्स और संबद्ध विषयों सहित इंटर्नशिप शामिल है. इस कोर्स को हरेक 6 महीने में अपडेट किया जाता है और इस कोर्स की फीस रु. 5 लाख है. 

9.   पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट (बिग डाटा एनालिटिक्स)

गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट (जीआईएम) हेल्थकेयर मैनेजमेंट और बिग डाटा मैनेजमेंट में 2 वर्ष का फुल-टाइम (रेजिडेंशियल) कोर्स और पार्ट-टाइम कोर्सेज ऑफर करता है. जीआईएम एक नॉन-प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन है जो 25 वर्षों से इस फील्ड में अपनी सेवायें प्रदान कर रहा है. पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट के कोर्स कंटेंट में डाटा साइंस लैब, आर, एसएएस में प्रोग्रामिंग, स्पार्क और संबद्ध सब्जेक्ट्स में ट्रेनिंग दी जाती है. इस कोर्स को हर साल अपडेट किया जाता है और इस कोर्स की फीस रु. 15.25 लाख है. यहां इंटरव्यू प्रोसेस, रिज्यूम-डिजाइनिंग, एलूमिनाई नेटवर्क के जरिये स्टूडेंट्स को पूरी तरह से प्लेसमेंट असिस्टेंस उपलब्ध करवाई जाती है.

10. पीजीडीएम – रिसर्च एंड बिजनेस एनालिटिक्स

वीलिंगकर या वी स्कूल के लीडिंग मैनेजमेंट एजुकेशन इंस्टीट्यूट है और एआईसीटीई, भारत सरकार द्वारा एप्रूव्ड पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा प्रोग्राम्स (पीजीडीएम) ऑफर करता है. ये कोर्सेज ‘रिसर्च और बिजनेस एनालिटिक्स’ में 2 वर्ष के फुल-टाइम कोर्सेज हैं. पीजीडीएम कोर्स 54% बिजनेस डोमेन नॉलेज ओरिएंटेड और 46% एनालिटिक्स बेस्ड है. एनालिटिकल टूल्स में ब्रांडेड सॉफ्टवेयर्स जैसे आईबीएम – एस पीएसएस, फ्रंटलाइन एनालिटिकल सॉल्वर, पलिसेड डिसीजन टूल्स और ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर पाइथन, टेब्ल्यु शामिल हैं तथा इन कोर्सेज के तहत एडवांस्ड स्टेटिस्टिक्स, डाटा माइनिंग, एसक्यूएल, मशीन लर्निंग, अल्गोरिथ्म्स, आईओटी एंड फिनटेक और अन्य संबद्ध विषय शामिल हैं. इस कोर्स को हर साल अपडेट किया जाता है और इस कोर्स की फीस रु. 11.6 लाख है. यहां इंटरव्यू प्रोसेस, रिज्यूम-डिजाइनिंग, एलूमिनाई नेटवर्क के जरिये स्टूडेंट्स को पूरी तरह से प्लेसमेंट असिस्टेंस उपलब्ध करवाई जाती है.

भारत में डाटा साइंटिस्ट के लिए प्रमुख जॉब प्रोवाइडर कंपनियां:

  • गूगल, इंडिया
  • माइक्रोसॉफ्ट
  • अबोड
  • आईबीएम
  • एचपी
  • डीएचएल
  • वीसा
  • कोकाकोला
  • लोजीटेक
  • फेसबुक
  • अमेज़न
  • स्पॉटीफाई
  • लिंक्डइन
  • जॉनसन एंड जॉनसन
  • पेप्सिको
  • ट्विटर
  • रेडडिट
  • कोर्सेरा
  • स्लैक
  • मोटोरोला सोल्यूशन्स
  • उबेर
  • डेल
  • ओरेकल

जॉब, करियर और कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिया गया लिंक देखें:

डाटा साइंस की फील्ड में हैं ये शानदार करियर ऑप्शन्स

Continue Reading
Advertisement

Related Categories

Popular