Advertisement

भारत के 7 ऐसे कॉलेज जो पढ़ाई के साथ एक टूरिस्ट प्लेस भी हैं

हमारा देश भारत शुरू से ही पूरी दुनिया में ज्ञान के साथ-साथ प्राकृतिक सुंदरता के बेहतरीन उदाहरणों में से एक रहा है. भारत के नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालय 5वीं शताब्दी बीसी से ही पूरी दुनिया में ज्ञान के प्रमुख केंद्र थे. नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना गुप्त वंश ने की थी और यह स्थान आज के आधुनिक बिहार राज्य में स्थित है और तक्षशिला विश्वविद्यालय मौजूदा उत्तर-पश्चिम पाकिस्तान में स्थित था. इन दोनों ही विश्वविद्यालयों में देश-विदेशों से लोग ज्ञान प्राप्त करने आते थे और यहां जीवन के हर क्षेत्र से संबद्ध ज्ञान तथा जानकारी दी जाती थी.

यूं तो आज भी हमारे देश भारत में स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों की कोई कमी नहीं है जहां जीवन के हरेक क्षेत्र और विषय से संबद्ध ज्ञान तथा जानकारी दी जाती है, लेकिन अब हम कुछ ऐसे कॉलेजों का जिक्र कर रहे हैं जो आधुनिक ज्ञान का अकूत भंडार होने के साथ ही प्राकृतिक सुंदरता का बेहतरीन उदाहरण होने की वजह से एक टूरिस्ट प्लेस बन गए हैं. इन कॉलेजों में समस्त ज्ञान और जानकारी प्राप्त करने के साथ ही छात्र और अन्य लोग प्राकृतिक परिवेश के निकट रह सकते हैं. आइये आगे पढ़ें:

1. फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट, देहरादून


जब हम प्राकृतिक सुंदरता का जिक्र करते हैं तो भला जंगलों को कैसे नज़रंदाज़ कर सकते हैं?. हमारे देश में स्थित फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एफआरआई), देहरादून इसका एक उम्दा उदाहरण है. इसकी स्थापना वर्ष 1906 में देश में फ़ॉरेस्ट रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए की गई थी. यहां 3 म्यूजियम्स हैं जो फ़ॉरेस्ट रिसर्च को समर्पित हैं. इन म्यूजियम्स में अनूठा कलेक्शन देखने को मिलता है जो आप और कहीं नहीं देख सकते हैं. इंस्टीट्यूट का स्ट्रक्चर बहुत शानदार और सभी आधुनिक सुविधाओं से संपन्न है. यहां फ़ॉरेस्ट ऑफिसर्स और फ़ॉरेस्ट रेंजर्स को भी ट्रेनिंग दी जाती है. वर्ष 1988 में एफआरआई और इसके रिसर्च सेंटर्स पर्यावरण मंत्रालय, फॉरेस्ट्स एंड क्लाइमेट चेंज, भारत सरकार के अधीन इंडियन काउंसिल ऑफ़ फ़ॉरेस्ट रिसर्च एंड एजुकेशन के एडमिनिस्ट्रेटिव संरक्षण में लाये गए.

2. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, श्रीनगर


मशहूर डल लेक के किनारे पर स्थित इस इंस्टीट्यूट को धरती का स्वर्ग कहा जा सकता है. इस इंस्टीट्यूट की स्थापना वर्ष 1960 में रीजनल इंजीनियरिंग कॉलेज, श्रीनगर के तौर पर की गई थी. यहां के टीचर्स जहां एक ओर टॉप क्लास एजुकेशन देते हैं, वहीँ दूसरी ओर एनआईटी की प्राकृतिक सुंदरता बेजोड़ है और इसलिए, आपको यहां आकर सुकून और जीवन भर का सुखद अनुभव मिल सकता है. यहां से यूनिवर्सिटी ऑफ़ कश्मीर और हजरतबल दरगाह कुछ कदमों की दूरी पर हैं. यहां कैंपस में हर तरह की मॉडर्न एजुकेशनल और रिहायशी सुविधाएं स्टूडेंट्स को मुहैया करवाई गई हैं.

3. बिट्स पिलानी, गोवा


हरी-भरी घाटियों की गोद में बिट्स पिलानी, गोवा का कैंपस लगभग 180 एरिया में फैला हुआ है जहां से जुआरी नदी दिखाई देती है. कैंपस की लोकेशन प्राकृतिक परिवेश के अनुसार अनूठी है और यहां से जुआरी नदी के आस-पास के नजारे, पहाड़, जलमार्ग, जंगल आदि बहुत खूबसूरत नजर आते हैं. यहां पर आकर टूरिस्ट्स गोवा के बीचेज या समुद्री तटों के साथ ही आकर्षक धार्मिक स्थलों की भी सैर कर सकते हैं. यहां के सब बीचेज सुंदर और साफ़-सुथरे हैं. स्टूडेंट्स को भी यहां बेहतरीन एजुकेशन और सभी मॉडर्न फैसिलिटीज उपलब्ध करवाई जाती हैं.

4. बिट्स पिलानी, हैदराबाद


यह कैंपस जेनोम वैली बायोक्लस्टर और नालसर लॉ यूनिवर्सिटी के आसपास स्थित है. इस इलाके में छोटे पहाड़ियां और शहरी जंगल हैं, जो प्रमुख शहरी केंद्रों से दूर स्थित हैं. यह कैंपस 220 एकड़ के हरे-भरे क्षेत्र में फैला हुआ है. आप यहां आकर हैदराबाद के अन्य टूरिस्ट स्पॉट्स जैसेकि, चार-मीनार, सलारजंग म्यूजियम, गोलकुंडा फोर्ट, बिरला मंदिर आदि भी देख सकते हैं. यहां आकर टूरिस्ट्स मशहूर रामोजी फिल्म सिटी भी देख सकते हैं. यहां का वातावरण मनोरम और आधुनिक शिक्षा के बिलकुल अनुकूल है.

5. आईआईटी, मुंबई