प्रोफेशनल इंग्लिश सीखने के लिए ये हैं टॉप कोर्सेज

भूमिका

विश्व में मेंडरिन चाइनीज़ भाषा (1.1 बिलियन स्पीकर्स) के बाद, इंग्लिश लैंग्वेज दूसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली लैंग्वेज (983 मिलियन स्पीकर्स) है. यूनाइटेड नेशन ऑर्गेनाइजेशन (यूएनओ) के चार्टर में भी इंग्लिश लैंग्वेज को चाइनीज के बाद दूसरी ऑफिशल इंटरनेशनल लैंग्वेज के तौर पर शामिल किया गया है.

वर्ष 1947 में आजादी मिलने के बाद से भारत में इंग्लिश लैंग्वेज का महत्व निरंतर बढ़ रहा है और आने वाले समय  में भी भारत के साथ-साथ इंटरनेशनल लेवल पर इंग्लिश लैंग्वेज का महत्व निरंतर बने रहने की संभावना है. लेटेस्ट डाटा के अनुसार इंग्लिश हमारे देश के साथ-साथ लगभग 70 देशों की ऑफिशल लैंग्वेज है.

क्या इंग्लिश हमें करियर के एक्सीलेंट ऑप्शन्स ऑफर करती है?

रोजाना के जीवन में स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी की शिक्षा में इंग्लिश का महत्व स्वयंसिद्ध है. चाहे आप हायर एजुकेशन के लिए कोई एंट्रेंस एग्जाम जैसेकि, CAT, MAT, XAT, TET आदि  दें या फिर, किसी इंटर्नशिप या जॉब के लिए कोई कॉम्पीटीटिव एग्जाम और इंटरव्यू, आपको इंग्लिश लैंग्वेज का टेस्ट देना पड़ता है और इंटरव्यू में आपकी सफलता का आधार भी परफेक्ट प्रोफेशनल इंग्लिश ही है. आसान शब्दों में, अगर आप इंग्लिश बोलने और लिखने में सक्षम हैं तो फिर आपकी पढ़ाई, उच्च शिक्षा, ट्रेनिंग, इंटर्नशिप, जॉब और किसी भी प्रोफेशन में सफलता के लिए  अनेक अवसर आपको मिलते हैं.

इस इंटरनेट और डिजिटल वर्ल्ड में इंग्लिश का हम सभी के रोज़मर्रा के जीवन में काफी ज्यादा प्रभाव दिखता है. अच्छी इंग्लिश बोलने, लिखने और समझने वाले व्यक्ति को काफी पढ़ा-लिखा, सभ्य, शिष्टाचारी और मॉडर्न समझा  जाता है. इंग्लिश हमारे देश की मुख्य कम्युनिकेशन लैंग्वेज है. इंग्लिश बोलने और लिखने में माहिर होने पर हरेक व्यक्ति को अपने रोज़मर्रा के कामों के अलावा, ट्रेवलिंग, बिजनेस, जॉब और करियर ग्रोथ में बहुत ज्यादा लाभ मिलता है. 

इंग्लिश लैंग्वेज में एक्सपर्ट होने पर मिलते हैं ये प्रोफेशनल लाभ:

  • एक्सीलेंट प्रोफेशनल इंग्लिश का मतलब है बेहतरीन नेगोशिएशन एंड कम्युनिकेशन स्किल्स.
  • इंग्लिश में एक्सपर्ट एम्पलॉईज होते हैं ज्यादा स्किल्ड और प्रोफेशनल. .
  • इंग्लिश हमें मनोरंजन के ज्यादा साधन उपलब्ध करवाती है.
  • प्रोफेशनल इंग्लिश सीखने से हम ज्यादा स्मार्ट हो जाते हैं.
  • इंग्लिश हमारे लिए करियर के नए अवसर मुहैया करवाती है.
  • एक्सीलेंट इंग्लिश स्किल्स आपको देती हैं ‘सॉफ्ट पॉवर’.
  • इंग्लिश इंटरनेट के लिए एक जरुरी लैंग्वेज है और तकरीबन सारी जानकारी हमें इंग्लिश में ही इंटरनेट में उपलब्ध होती है.
  • एक्सीलेंट इंग्लिश आपको दिलवाती है आकर्षक सैलरी पैकेज.
  • अगर आपको इंग्लिश बोलनी, लिखनी नहीं आती है तो अपने लिए कोई बढ़िया जॉब तलाशना भी हालिया समय में आपके लिए एक चुनौती साबित होगी.

इंग्लिश लैंग्वेज में एक्सपर्ट पेशेवर कर सकते हैं निम्नलिखित जॉब्स:

  • नेशनल/ इंटरनेशनल कॉल सेंटर्स जॉब्स
  • राइटिंग एंड ट्रांसलेशन जॉब्स
  • सेल्स एंड मार्केटिंग जॉब्स
  • विभिन्न एम्बेसियों में जॉब्स
  • मैनेजमेंट जॉब्स
  • एनाउंसर/ एंकर/ रेडियो जॉकी
  • केंद्र और राज्य सरकारों के विभिन्न मंत्रालयों, सभी सरकारी और गैर-सरकारी विभागों, दफ्तरों, कंपनियों और मल्टीनेशनल कंपनियों में हायर रेंक्ड जॉब्स.

विभिन्न प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज सीखने का महत्व

यह हम सभी अच्छी तरह जानते हैं कि स्टूडेंट्स और जॉब/ करियर शुरू करने के इच्छुक पेशेवर जब अपनी क्वालिफिकेशन, टैलेंट, इंटरेस्ट और स्किल-सेट के मुताबिक कोई प्रोफेशनल कोर्स कर लेते हैं तो उनका रिज्यूम काफी प्रभावशाली बन जाता है और अपनी जॉब/ वर्क फील्ड में उन स्टूडेंट्स या पेशेवरों का स्किल-सेट निखर जाता है और जिसका सबूत हमें उस प्रोफेशनल कोर्स से संबद्ध डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट से मिल जाता है. कोई प्रोफेशनल कोर्स कर लेने के बाद आपको सम्बद्ध फील्ड में जॉब मिलने की संभावना काफी बढ़ जाती है या फिर आप अपना करियर/ कारोबार ज्यादा बेहतर तरीके से शुरू कर सकते हैं. अपने वर्क/ जॉब फील्ड में माहिर होने पर आपको शानदार सैलरी पैकेज मिलता है या फिर, आप अपने कारोबार/ स्टार्टअप में काफी अच्छी कमाई कर सकते हैं.  विभिन्न प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज भी इस फैक्ट का अपवाद नहीं हैं.

कुछ प्रमुख इंस्टीट्यूट्स और प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज

वेब्स टॉक के स्पोकन इंग्लिश और पब्लिक स्पीकिंग कोर्सेज – इस कोर्स का मिशन स्पोकन इंग्लिश और पब्लिक स्पीकिंग कोर्सेज को बढ़ावा देना है. आप यह कोर्स रेगुलर ट्रेनिंग सेंटर्स के साथ ऑनलाइन माध्यम से भी कर सकते हैं. इस कोर्स की शुरुआत वर्ष 2008 में हुई थी.

स्पोकन इंग्लिश और आईईएलटीएस/ पीटीई ट्रेनिंग प्रोग्राम – ब्रिटिश सेंट कोलंबिया एकेडेमी में आप ये कोर्सेज कर सकते हैं. यहां उपलब्ध प्रमुख कोर्सेज में निम्नलिखित कोर्सेज शामिल हैं:

  • बेसिक या फाउंडेशन कोर्स
  • एडवांस्ड फ़्लुएन्सी कोर्स
  •  एक्सेंट ट्रेनिंग
  • बिजनेस इंग्लिश
  • पब्लिक स्पीच
  • इंटरव्यू ट्रेनिंग

पेप टॉक स्किल्स – पेप टॉक इंस्टीट्यूट में निम्नलिखित प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज कर सकते हैं:

  • इंग्लिश एंड पब्लिक स्पीकिंग स्किल्स
  • सुपर ह्यूमन स्किल्स
  • पेप टॉक स्किल्स

इनलिंगुआ – यहां स्टूडेंट्स की विभिन्न आवश्यकताओं के मुताबिक कई प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज/ प्रोग्राम्स ऑफर किये जाते हैं.

बाफेल – यह ब्रिटिश एकेडेमी का संक्षिप्त रूप/ एक्रोनिम है. यह 4 विभिन्न इंग्लिश लैंग्वेज कोर्सेज ऑफर करता है. यहां इंग्लिश ग्रामर सहित बेसिक से एडवांस इंग्लिश कम्युनिकेशन सिखाया जाता है.

ब्रिटिश काउंसिल के स्पेशली डिज़ाइंड स्पोकन इंग्लिश कोर्सेज - ब्रिटिश काउंसिल यंग लर्नर्स और वर्किंग प्रोफेशनल्स के लिए कई प्रोफेशल इंग्लिश कोर्सेज ऑफर करती है.

इंग्लिशमेट में विभिन्न प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज – यहां बिगिनर कोर्स से एडवांस्ड लेवल तक प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज करवाए जाते हैं.

ऑक्सफ़ोर्ड स्कूल ऑफ़ इंग्लिश – यहां प्रोफेशनल इंग्लिश के नोवाईस, मेज्ज़ो और विज़ार्ड कोर्सेज प्रोग्राम करवाए जाते हैं.

एस इंस्टीट्यूट – यहां इंग्लिश कम्युनिकेशन में बेसिक, इंटरमिडीएट और एडवांस्ड लेवल कोर्सेज करवाए जाते हैं.

न्यु अमेरिकन इंस्टीट्यूट – यहां ब्रिटिश, अमेरिकन इंग्लिश स्पीकिंग कोर्सेज करवाए जाते हैं और स्टूडेंट्स को ग्रुप डिस्कशन्स, प्रैक्टिस सेशन्स और एक्सेंट ट्रेनिंग के जरिये इंग्लिश स्पीकिंग एंड राइटिंग की बढ़िया ट्रेनिंग दी जाती है.

भारत में विभिन्न प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्सेज करवाने वाले कुछ प्रसिद्ध इंस्टीट्यूट्स:

  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • सेंट ज़ेवियर कॉलेज, मुबई
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, बनारस
  • इग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी, हैदराबाद

निष्कर्ष

विश्व का लगभग समस्त ज्ञान और जानकारी हमें इंग्लिश लैंग्वेज में आसानी से मिल जाते हैं. इसलिए, अगर हम आजकल की इस बहुत ज्यादा कॉम्पीटीटिव जॉब मार्केट में अपनी क्वालिफिकेशन और टैलेंट के मुताबिक अपने लिए करियर के सूटेबल अवसर प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें अपने टैलेंट, स्किल-सेट, वर्क-फील्ड  और इंटरेस्ट के मुताबिक कोई सूटेबल प्रोफेशनल इंग्लिश कोर्स जरुर कर लेना चाहिए.

Advertisement

Related Categories

Advertisement