UP Board Class 12th Economics and Commercial Geography Syllabus 2018–2019

UP Board revised syllabus for Class 12th Mathematics for the academic session 2018‒2019. Major changes are observed in the revised syllabus and examination pattern of UP Board Class 12 Economics and Commercial Geography. Students preparing for Class 12 Economics and Commercial Geography Board Exam 2018 - 2019 should carefully note the changes.

The key contents of the syllabus issued by UP Board for Class 12th Economics and Commercial Geography (Commerce side) are:

  • Name of the Units and their Weightage in Board Exam
  • Details of topics and sub-topics to be covered in each unit
  • Prescribed books

The complete syllabus is as follows:

पाठ्यक्रम

अर्थशास्त्र तथा वाणिज्य भूगोल

(Economics and Commercial Geography)

इस विषय में एक प्रश्न पत्र होगा जो की 100अंको का होगा तथा समय 3 घंटे दिए जायेंगे, उत्तिरनांक 33 अंक होंगे|

1 - विनिमय – वस्तु विनिमय, क्रय-विक्रय| मुद्रा धातु एवं कागजी मुद्रा| मांग तथा पूर्ति अनुसूची तथा वक्र रेखायें| मांग पूर्ति का पारस्परिक सम्बन्ध और मूल्य निर्धारण, अल्पकालीन तथा दीर्घकालीन स्थिति में तथा पूर्ण-अपूर्ण स्पर्धा में मांग और पूर्ति का संतुलन|

2 - सहकारिता – सहकारिता के सिद्धांत, सहकारी संस्थाओं के प्रकार, केन्द्रीय सहकारी बैंक, प्रदेशीय सहकारी बैंक|

3 - वितरण – लगान, ब्याज, मजदूरी और लाभ|

4 - भारत के वाणिज्य का निम्न स्तर पर विस्तृत अध्ययन-

(1) कृषि साधन, मिटटी, जलवायु, सिंचाई, फसलों की उपज तथा उनका व्यापार|

(2) वन, वनों का आर्थिक महत्व और उनसे प्राप्त उपज, प्रयोग|

(3) खनिज पदार्थ और उसका प्रयोग|

(4) जल शक्ति और उनका प्रयोग|

(5) महत्वपूर्ण निर्माण कला उद्योग और उनका स्थायीकरण|

(6) कुटीर उद्योग धन्धे|

(7) यातायात के साधन, बन्दरगाह|

What is Peer Pressure? How school students can deal with it?

(8) भारत के विदेशी व्यापार की प्रकृति एवं लक्ष्य|

पुस्तकें :

कोई भी पुस्तक संस्तुत नही की गयी है| संस्था के प्रधान, विषय अध्यापक के परामर्श से पाठ्यक्रम के अनुरूप उपयुक्त पुस्तक का चयन कर लें|


Here students can see the complete format of last year Economics and Commercial Geography subject syllabus, So that they can easily understand the difference between them.

पाठ्यक्रम

अर्थशास्त्र तथा वाणिज्य भूगोल

(Economics and Commercial Geography)

इस विषय में दो प्रश्न – पत्र होंगे तथा प्रत्येक के अंक 50 और समय तीन घंटे का होगा-

प्रथम प्रश्न – पत्र (अर्थशास्त्र)

1 - विनिमय – वस्तु विनिमय, क्रय-विक्रय| मुद्रा धातु एवं कागजी मुद्रा| मांग तथा पूर्ति अनुसूची तथा वक्र रेखायें| मांग पूर्ति का पारस्परिक सम्बन्ध और मूल्य निर्धारण, अल्पकालीन तथा दीर्घकालीन स्थिति में तथा पूर्ण-अपूर्ण स्पर्धा में मांग और पूर्ति का संतुलन|

2 - सहकारिता – सहकारिता के सिद्धांत, सहकारी संस्थाओं के प्रकार, केन्द्रीय सहकारी बैंक, प्रदेशीय सहकारी बैंक|

3 - वितरण – लगान, ब्याज, मजदूरी और लाभ|

द्वितीय प्रश्न-पत्र (वाणिज्य भूगोल)

भारत के वाणिज्य का निम्न स्तर पर विस्तृत अध्ययन-

(1) कृषि साधन, मिटटी, जलवायु, सिंचाई, फसलों की उपज तथा उनका व्यापार|

(2) वन, वनों का आर्थिक महत्व और उनसे प्राप्त उपज, प्रयोग|

(3) खनिज पदार्थ और उसका प्रयोग|

(4) जल शक्ति और उनका प्रयोग|

(5) महत्वपूर्ण निर्माण कला उद्योग और उनका स्थायीकरण|

(6) कुटीर उद्योग धन्धे|

(7) यातायात के साधन, बन्दरगाह|

(8) भारत के विदेशी व्यापार की प्रकृति एवं लक्ष्य|

पुस्तकें :

कोई भी पुस्तक संस्तुत नही की गयी है| संस्था के प्रधान, विषय अध्यापक के परामर्श से पाठ्यक्रम के अनुरूप उपयुक्त पुस्तक का चयन कर लें|

UP Board Class 12th Computer Syllabus 2018–2019

Advertisement

Related Categories

Advertisement