UP बोर्ड टॉपर काजल शर्मा ने 10वीं की परीक्षा में बिना किसी कोचिंग के हासिल की आठवीं रैंक

अगर इंसान के अंदर कुछ करने की चाहत हो तो कुछ भी नामुमकिन नही होता है. बस अपने काम के प्रति जुनून रहना चाहिए. यदि कोई भी छात्र पूरी मेहनत से पढ़ाई करे तो उसकी मेहनत ज़रूर रंग लाएगी. लगभग हर स्टूडेंट की एक ही चाह होती है कि उसके मार्क्स अच्छे आएं और वो इसके लिए तैयारी भी करते हैं लेकिन कई बार उनकी अपेक्षा के अनुसार मार्क्स नहीं आ पाते हैं, क्यूंकि पढ़ाई मे कुछ ऐसे तरीके हैं जिसे स्टूडेंट्स सही से फॉलो नहीं करते हैं. ऐसा नहीं है कि जो स्टूडेंट्स टॉप करते हैं वो शुरुआत से ही तेज और चालाक रहते हैं. बस उनके पढ़ने का तरीका दूसरे स्टूडेंट्स से अलग होता हैं. यहाँ हम आपको UP Board 2018 की आठवीं टॉपर काजल शर्मा के एग्जाम की तैयारी का अनुभव शेयर करेंगे.

काजल शर्मा ने UP बोर्ड कक्षा 10वीं में 8th रैंक सिर्फ अपने सेल्फ स्टडी के ज़रिए प्राप्त किया है.

तो आइये जानते है काजल शर्मा के कक्षा 10वीं के सफलता के मार्ग की कुछ खास बातें:

UP बोर्ड के हाईस्कूल की परीक्षा में UP टॉप टेन में आठवीं रैंक हासिल करने वाली काजल शर्मा ने बिना किसी कोचिंग के अपनी खुद की मेहनत से यह मुकाम हासिल किया है. काजल कक्षा 10वीं की परीक्षा 2018 में सिर्फ स्कूल की पढ़ाई से ही यूपी में 8वी रैंक हासिल करने में सफल रहीं.

 

दरअसल कक्षा में टॉपर बनने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों पर फोकस करना जरूरी है. आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपकी इस समस्या का सरल निवारण बताएंगे जोकि काजल तथा गत वर्ष के टोपरस ने भी अपनी पढ़ाई के रणनीति में अपनाया था, जिसके द्वारा आप अच्छी रणनीति के साथ कक्षा में टॉपर बनने की ख्वाहिश को पूरी करने में सफल हो सकेंगे.

कक्षा 10वी के बाद स्ट्रीम चयन करने के कुछ आसान टिप्स

i) जितना भी पढ़ो, ध्यान से पढ़ें: 

अधिक पढ़ने से जरूरी नहीं कि आपको ज्यादा अंक मिल जाएंगे. परीक्षा में बेहतर सफलता तभी मिलती है, जब जागरूकता के साथ अध्ययन किया जाए.

ii) एक बार पढ़े हुए टॉपिक को बार-बार दौहराएँ वरना आप उन्हें भूल जायेंगे और आपकी पूरी मेहनत ख़राब हो जाएगी. काजल ने अपने दिनचर्या में अपने पढ़े हुवे टॉपिक को रिविज़न के लिए भी समय दिया था. 

iii) किसी भी डर को सकारात्मक सोच से दूर किया जा सकता है. सकारात्मक सोच आपको रिलैक्स रखता है और आप बेहतर ढंग से पढ़ाई करने में समर्थ हो पाते हैं. इसलिए पॉजिटिव सोच रखना बहुत जरुरी है. यह आपको नेगेटिव सोच से तो  बचाएगी ही साथ ही साथ आपको पढ़ाई के तनाव से भी दूर रखेगी.

काजल स्कूल की पढ़ाई के साथ घर पर 7 से 8 घंटे सेल्फ स्टडी किया करती थी. हापुड़ के टीएससी इंटर कॉलेज में पड़ने वाली कक्षा 10वीं की छात्रा काजल शर्मा ने UP बोर्ड की कक्षा 10वीं की परीक्षा में 600 में से 560 अंक प्राप्त किए हैं.

उन्होंने कभी किसी भी विषय के लिए कोई कोचिंग क्लास ज्वाइन नहीं किया था. काजल ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और अपने परिजनों के साथ सभी शिक्षकों को दिया. उनका कहना है कि इन सभी लोगों ने उन्हें एग्जाम के समय काफी परोत्साहित किया.

काजल की हॉबी पेंटिंग करना है. साथ ही काजल को टीचिंग लाइन काफी पसंद है और अपने फ्यूचर में काजल अपने आप को एक प्रोफेसर के तौर पर देखना चाहती हैं. जहाँ  काजल की सफलता से जहां उनके माता-पिता उनसे प्रसन्न हैं. वहीं, कॉलेज के सभी टीचर और प्रिंसिपल ने भी कॉलेज का नाम रौशन करने पर काजल को शाबाशी दी.

निष्कर्ष: आशा है कि हमारे द्वारा काजल शर्मा की UP बोर्ड कक्षा 10वीं की सफलता का मार्ग छात्रों के लिए एक सराहनीय मार्गदर्शन का पात्र बनेगा.

ज़रूर जाने ये बातें अगर आप नए अकादमिक वर्ष में अगली कक्षा में ले रहे हैं प्रवेश

UP बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा 2018 के टॉपर से सुनिए सफलता की कहानी

Advertisement

Related Categories

Advertisement