Advertisement

अब UP Board रिजल्ट के पंद्रह दिन बाद ही लीजिए मार्कशीट व सर्टिफिकेट

अब यूपी बोर्ड से 10वीं तथा 12वीं करने वाले छात्रों को स्नातक या दूसरी कक्षाओं में प्रवेश लेने के लिए परेशान होने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी. दरअसल इस साल 10वीं तथा 12वीं का परिणाम 29 अप्रैल 2018 को घोषित होने के पश्चात् ही छात्रों को मई के तीसरे सप्ताह तक अंकपत्र तथा सह प्रमाणपत्र स्कूलों में उपलब्ध करा दिए जायेंगे.

अर्थात अब किसी भी विश्वविद्यालय, महाविद्यालयों के बीए, बीएससी, बीकॉम समेत अन्य नियमित पाठ्यक्रम या दूसरे प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश लेने के दौरान छात्र मूल अंकपत्र (मार्कशीट) दे सकेंगे. पहले परिणाम देर से घोषित होने के कारण यूपी बोर्ड से 12वीं करने वाले छात्रों के पास अक्सर मूल अंकपत्र (मार्कशीट) नहीं होते थे.

 

उदाहरण के तौर पर यदि हम बात करें गत वर्ष की तो पिछले साल रिजल्ट 9 जून को घोषित किया गया था तथा परीक्षा में सम्मिलित 60 लाख से अधिक छात्रों को जून अंत तक प्रमाणपत्र भी नहीं मिले थे. जबकि बीएचयू समेत कई अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों में तब तक प्रवेश प्रक्रिया भी पूरी हो गई थी.

जिस कारण वश UP बोर्ड के छात्र जब इन संस्थानों में प्रवेश के लिए इंटरनेट से निकले हुए अंकपत्र सह-प्रमाणपत्र (मार्कशीट व सर्टिफिकेट) लेकर पहुंचे तो उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ा. सभी छात्रों को अपने अंकपत्र तथा सह प्रमाणपत्र का सत्यापन कराने के लिए बोर्ड मुख्यालय और क्षेत्रीय कार्यालयों के चक्कर भी लगाने पड़े थे.

हालाकी गत वर्ष की तुलना में इस साल 29 अप्रैल को रिजल्ट घोषित होने के बाद समय के अन्दर मार्कशीट व सर्टिफिकेट छात्रों को उपलब्ध कराया जायेगा जिस कारण छात्र समय रहते अपने आगे की पढ़ाई के लिए ज़रूरी औपचारिकताओं को  सही तरीके से कर सकेंगे. अर्थात यदि किसी वजह से सर्टिफिकेट में नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि या कोई अन्य संशोधन करवाना होगा तो वह भी समय रहते हो जाएगा.

छात्रों में डिप्रेशन के मुख्य 3 कारण तथा इससे बचने के आसान तरीके

पीयर प्रेशर क्या है? स्कूल के छात्रों के लिए इससे बचने के कुछ आसान उपाय

Advertisement

Related Categories

Advertisement