Advertisement

NIOS: शैक्षिक योग्यता, प्रवेश परीक्षाएँ, एडमिशन प्रक्रिया तथा अन्य जानकारी

 

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ ओपन स्कूलिंग (NIOS) भारत का एकमात्र मंच है जहां ऐसें छात्र एडमिशन लेते हैं जो शिक्षा निजी मोड में पूरी करना चाहते हैं. NIOS बोर्ड के माध्यम से छात्र अपनी शिक्षा पूरी कर बाकी शिक्षा बोर्ड के छात्रों की तरह अपनी आगे की पढाई कर सकते है और अपना करियर बना सकते है. NIOS बोर्ड, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) द्वारा शुरू किया गया था, जिसका लक्ष्य समाज के ग्रामीण या पिछड़े वर्ग के बच्चो व युवाओं को शिक्षा प्रदान करना था जो स्कूलों के बिना ही सीख और पढ़ सकते हैं.

Latest:NIOS स्ट्रीम 1 ऑनलाइन प्रवेश अकेडमिक सत्र 2018-19 के लिए शुरू कर दिया गया है – आवेदन के लिए यहाँ क्लिक करें

NIOS के प्रमुख उद्देश्य क्या हैं?

  • देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को औपचारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए जहां स्कूलों की सुविधा नहीं है.
  • ऐसे व्यक्तियों को शिक्षा प्रदान करना जो अपनी बुनियादी शिक्षा पूरी नहीं कर सके.
  • जो स्टूडेंट्स कक्षा 10 या कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा (जो किसी भी अन्य बोर्ड से की हो) में असफल रह गए हो, वे एनआईओएस (NIOS) की ऑन-डिमांड परीक्षा की सुविधा के साथ उसी साल में अपनी कक्षा 10 या कक्षा 12 पूरी कर सकती है.

क्या परीक्षा में अधिक मार्क्स के लिए हैण्डराइटिंग पर ध्यान देना ज़रूरी है?

क्या एनआईओएस एक वैश्विक बोर्ड है?

NIOS बोर्ड भारत में 21 क्षेत्रीय केंद्रों और 4 उप केंद्रों के द्वारा संचालन करता है और साथ ही भारत में 6351 स्टडी सेंटरर्स व 31 स्टडी सेंटरर्स UAE, कुवैत, मस्कट, बहरीन, नेपाल, कतर और सऊदी अरब में संचालित है.

एनआईओएस के द्वारा स्टूडेंट्स कैसे पढ़ाई कर सकते हैं?

स्टूडेंट्स एनआईओएस से कक्षा 1 से लेकर कक्षा 8 तक की शिक्षा मूल रूप से पूरी कर सकते है. और इसके साथ-साथ कक्षा 10, कक्षा 12 या व्यावसायिक पाठ्यक्रमों (vocational courses) से अपनी शिक्षा पूरी कर सकते हैं.

माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक स्तर तक की शिक्षा के लिए, एनआईओएस छात्रों के लिए अपनी पसंद के पाठ्यक्रम, सीखने की गति, और सीबीएसई से अपने अंक ट्रान्सफर करवाने के लिए छात्रों के लिए सुविधा प्रदान करता है. यह सुविधा सभी अन्य राष्ट्रीय /राज्य स्कूल शिक्षा बोर्ड और राजकीय ओपन स्कूलों के लिए भी प्रदान करता है.

स्टूडेंट्स बोरियत कैसे दूर करें, जाने ये 10 टिप्स

एनआईओएस एडमिशन 2018: ऑनलाइन और ऑफ़लाइन आवेदन प्रक्रिया, योग्यता:

स्टूडेंट्स National Institute of Open Schooling (NIOS) के द्वारा माध्यमिक (class 10), वरिष्ठ माध्यमिक (class 12) या vocational courses और basic education में admission ले सकतें हैं. इसके अलावा, जो छात्र कक्षा 10 वीं या 12 वीं में अन्य boards exams में असफल (fail) हो गयें हैं, वे NIOS board की ऑन-डिमांड परीक्षा (ODE) में प्रवेश लेकर, कभी भी class 10th या 12th boards exams में pass हों सकतें हैं.

NIOS board नए छात्रों के लिए हर साल प्रवेश प्रक्रिया दो बार उपलब्ध करता हैं क्यूकि यह open board साल में दो बार परीक्षा स्कीम फॉलो करता हैं. जो नए छात्र NIOS board में एडमिशन लेना चाहते हैं वो stream 1 में block I या block II में एडमिशन ले सकते सकते हैं. इस विषय में सम्पूर्ण जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें.

NIOS: ट्यूटर marked असाइनमेंट

ट्यूटर मार्कड असाइनमेंट (टीएमए) कक्षा 10 या कक्षा 12 के स्तर पर नामांकित पाठ्यक्रम द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले एनआईओएस असाइनमेंट हैं. जिसके अंतर्गत छात्रों द्वारा चुने गए प्रत्येक विषय के लिए, तीन असाइनमेंट होंगे, प्रत्येक असाइनमेंट 6 प्रश्नों पर आधारित होगा. छात्रों को मूल्यांकन के लिए आवंटित मान्यता प्राप्त संस्थान (AI) में सभी असाइनमेंट को पूरा कर शिक्षकों/ट्यूटर/coordinators को जमा करना अनिवार्य है. अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.

एनआईओएस अन्य शिक्षा बोर्डों से अलग कैसे है?

एनआईओएस माध्यमिक, वरिष्ठ माध्यमिक और स्वैच्छिक शिक्षा के लिए एक ओपन बोर्ड के तौर पर छात्रों के लिए उपलब्ध है जबकि सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्ड जैसे अन्य बोर्ड एक स्कूल सिस्टम का पालन करते हैं.

एनआईओएस 10वीं और 12वीं कक्षा में डिस्टेंस एजुकेशन कार्यक्रम प्रदान करके औपचारिक शिक्षा का विकल्प प्रदान करता है. इस विषय में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.

एनआईओएस के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उनके उत्तर:

NIOS  से पढ़ाई को लेकर विद्यार्थियों के मन में कई संशय (Doubt) रहते हैं. इन संशय को दूर करने के लिए विद्यार्थयों को कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब हमने यहाँ उपलब्ध कराएं हैं. इनकी मददे से विद्यार्थियों को NIOS से जुड़े कई सवालों  के उत्तर मिल जाएंगे.

प्रश्न –1. एनआईओएस (NIOS) क्या है?

उत्तर: राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान या एनआईओएस (National Institute of Open Schooling or NIOS) एक शैक्षिक संगठन है जो मुक्त (Open) एवं दूरस्थ माध्यम (Distance learning) से शिक्षा प्रदान करता है और राष्ट्रीय बोर्डों यथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) तथा भारतीय स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा परिषद (Council for the Indian School Certificate Examination or CISCE) बोर्डों के समकक्ष स्तर पर पूर्व-स्नातक स्तर (pre-degree level) तक के लिए परीक्षाएं आयोजित करता है और प्रमाणपत्र भी प्रदान करता है.

प्रश्न –2. मुक्त एवं दूरस्थ (Open and Distance Learning or ODL) शिक्षा प्रणाली क्या है?

उत्तर: मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) स्व-अध्ययन सामग्री (एसएलएम) और शिक्षार्थियों की गति के आधार पर सुविधाजनक तरीके से शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने की प्रवर्तनकारी संकल्पना है. इस माध्यम में, शिक्षार्थी को एसएलएम (Self Learning Material) के अतिरिक्त पीसीपी (Personal Contract Programme) और टीएमए (Tutor Marked Assessment) के रूप में शैक्षिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है.

प्रश्न –3. मुक्त विद्यालयी (Open Schooling) शिक्षा और नियमित विद्यालयी (Regular Schooling) शिक्षा व्यवस्था में क्या अंतर है?

उत्तर: नियमित विद्यालयी शिक्षा व्यवस्था एक नियत समय-सारिणी के साथ कक्षा प्रणाली की औपचारिक व्यवस्था में आमने-सामने की एक परम्परागत शिक्षा व्यवस्था है. जबकि मुक्त विद्यालयी शिक्षा शिक्षार्थी की स्व-अध्ययन एक सुविधाजनक विधि से कराने और उसकी तैयारी के अनुसार मूल्यांकन की पद्धति है. मुक्त शिक्षा प्रणाली उन शिक्षार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है जो आर्थिक, सामाजिक या भौगोलिक कारणों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं या किसी प्रकार का रोजगार करने के साथ-साथ शिक्षा भी प्राप्त करना चाहते है. NIOS से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब को और विस्तार रूप में जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.

 

एनआईओएस एडमिशन 2018: ऑनलाइन और ऑफ़लाइन आवेदन प्रक्रिया, योग्यता:

 

स्टूडेंट्स National Institute of Open Schooling (NIOS) के द्वारा माध्यमिक (class 10), वरिष्ठ माध्यमिक (class 12) या vocational courses और basic education में admission ले सकतें हैं. इसके अलावा, जो छात्र कक्षा 10 वीं या 12 वीं में अन्य boards exams में असफल (fail) हो गयें हैं, वे NIOS board की ऑन-डिमांड परीक्षा (ODE) में प्रवेश लेकर, कभी भी class 10th या 12th boards exams में pass हों सकतें हैं.

NIOS board नए छात्रों के लिए हर साल प्रवेश प्रक्रिया दो बार उपलब्ध करता हैं क्यूकि यह open board साल में दो बार परीक्षा स्कीम फॉलो करता हैं. जो नए छात्र NIOS board में एडमिशन लेना चाहते हैं वो stream 1 में block I या block II में एडमिशन ले सकते सकते हैं. इस विषय में सम्पूर्ण जानकारी के लिए यहाँ पर क्लिक करें.

NIOS: ट्यूटर marked असाइनमेंट

ट्यूटर मार्कड असाइनमेंट (टीएमए) कक्षा 10 या कक्षा 12 के स्तर पर नामांकित पाठ्यक्रम द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले एनआईओएस असाइनमेंट हैं. जिसके अंतर्गत छात्रों द्वारा चुने गए प्रत्येक विषय के लिए, तीन असाइनमेंट होंगे, प्रत्येक असाइनमेंट 6 प्रश्नों पर आधारित होगा. छात्रों को मूल्यांकन के लिए आवंटित मान्यता प्राप्त संस्थान (AI) में सभी असाइनमेंट को पूरा कर शिक्षकों/ट्यूटर/coordinators को जमा करना अनिवार्य है. अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.

एनआईओएस अन्य शिक्षा बोर्डों से अलग कैसे है?
 
एनआईओएस माध्यमिक, वरिष्ठ माध्यमिक और स्वैच्छिक शिक्षा के लिए एक ओपन बोर्ड के तौर पर छात्रों के लिए उपलब्ध है जबकि सीबीएसई, आईसीएसई और राज्य बोर्ड जैसे अन्य बोर्ड एक स्कूल सिस्टम का पालन करते हैं.
 
एनआईओएस 10वीं और 12वीं कक्षा में डिस्टेंस एजुकेशन कार्यक्रम प्रदान करके औपचारिक शिक्षा का विकल्प प्रदान करता है. इस विषय में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.
 
एनआईओएस के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उनके उत्तर:
 
NIOS  से पढ़ाई को लेकर विद्यार्थियों के मन में कई संशय (Doubt) रहते हैं. इन संशय को दूर करने के लिए विद्यार्थयों को कुछ महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब हमने यहाँ उपलब्ध कराएं हैं. इनकी मददे से विद्यार्थियों को NIOS से जुड़े कई सवालों  के उत्तर मिल जाएंगे.
 
प्रश्न –1. एनआईओएस (NIOS) क्या है?
उत्तर:
राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान या एनआईओएस (National Institute of Open Schooling or NIOS) एक शैक्षिक संगठन है जो मुक्त (Open) एवं दूरस्थ माध्यम (Distance learning) से शिक्षा प्रदान करता है और राष्ट्रीय बोर्डों यथा केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) तथा भारतीय स्कूल सर्टिफिकेट परीक्षा परिषद (Council for the Indian School Certificate Examination or CISCE) बोर्डों के समकक्ष स्तर पर पूर्व-स्नातक स्तर (pre-degree level) तक के लिए परीक्षाएं आयोजित करता है और प्रमाणपत्र भी प्रदान करता है.
 
प्रश्न –2. मुक्त एवं दूरस्थ (Open and Distance Learning or ODL) शिक्षा प्रणाली क्या है?
उत्तर:
मुक्त एवं दूरस्थ शिक्षा (ओडीएल) स्व-अध्ययन सामग्री (एसएलएम) और शिक्षार्थियों की गति के आधार पर सुविधाजनक तरीके से शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने की प्रवर्तनकारी संकल्पना है. इस माध्यम में, शिक्षार्थी को एसएलएम (Self Learning Material) के अतिरिक्त पीसीपी (Personal Contract Programme) और टीएमए (Tutor Marked Assessment) के रूप में शैक्षिक सहायता भी उपलब्ध कराई जाती है.
 
प्रश्न –3. मुक्त विद्यालयी (Open Schooling) शिक्षा और नियमित विद्यालयी (Regular Schooling) शिक्षा व्यवस्था में क्या अंतर है?
उत्तर:
नियमित विद्यालयी शिक्षा व्यवस्था एक नियत समय-सारिणी के साथ कक्षा प्रणाली की औपचारिक व्यवस्था में आमने-सामने की एक परम्परागत शिक्षा व्यवस्था है. जबकि मुक्त विद्यालयी शिक्षा शिक्षार्थी की स्व-अध्ययन एक सुविधाजनक विधि से कराने और उसकी तैयारी के अनुसार मूल्यांकन की पद्धति है. मुक्त शिक्षा प्रणाली उन शिक्षार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी है जो आर्थिक, सामाजिक या भौगोलिक कारणों से औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं या किसी प्रकार का रोजगार करने के साथ-साथ शिक्षा भी प्राप्त करना चाहते है.
 
NIOS से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब को और विस्तार रूप में जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.
 
 
 
 

 

Advertisement

Related Categories

Advertisement