Advertisement

अच्छी टीम में निवेश जरूरी

आलोक मित्तल
अध्यक्ष एवं सह-संस्थापक - इंडिफी टेक्नोलॉजीज
प्राइवेट लिमिटेड

20 वर्षों से अधिक का ऑपरेशनल एवं एंटरप्रेन्योरियल अनुभव रखने वाले आलोक मित्तल ने भारत के लघु एवं मध्यम उद्योगों के संचालन में आने वाली परेशानियों को देखते हुए इंडिफाई लेंडिंग प्लेटफॉर्म की स्थापना की। इसकी मदद से कोई भी लघु उद्यमी आसानी से अपने कारोबार के लिए कर्ज हासिल कर सकता है। डिजिटल लेंडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष एवं इंडिफाई के सह-संस्थापक आलोक मित्तल मानते हैं कि जो आप बनना या करना चाहते हैं, वह करने की अगर आजादी मिले, तो वही सफलता है...  

मैंने आइआइटी दिल्ली से कंप्यूटर साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद यूसी बर्कले यूनिवर्सिटी से एमएस ऐंड मैनेजमेंट ऑफ टेक्नोलॉजी प्रोग्राम किया। स्टार्टअप के साथ कुछ क्रिएट करने को लेकर हमेशा से एक जुनून था। देश में उद्यमिता विकास को लेकर रुचि रखने के कारण ही मैंने सबसे पहले बतौर एंजेल इनवेस्टर इंडियन एंजेल नेटवर्क की सह-स्थापना की। भारत में कैनन पार्टनर्स का ऑपरेशन देखा, जो इंटरनेट के साथ हाई ग्रोथ टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स में निवेश करता रहा है। मैं जॉब्सअहेड डॉट कॉम की स्थापना टीम के साथ भी जुड़ा रहा, जिसका बाद में मॉन्सटर डॉट कॉम ने अधिग्रहण कर लिया। इस तरह, बीते वर्षों में मैंने इंडियन स्टार्टअप इकोसिस्टम को विकसित होते देखा है। इस दौरान पूंजी के अलावा मेंटर्स और मार्केट तक पहुंच बढ़ी है। ग्राहकों ने समस्याओं का समाधान देने वाले स्टार्टअप्स को स्वीकार किया है। हालांकि इसमें एक बड़ी चुनौती उद्यमियों की अपनी महत्वाकांक्षा है, जिसके साथ वे मार्केट को अप्रोच करते हैं। लेकिन कुल मिलाकर हर जेनरेशन में मिली सफलता ने नए उद्यमियों को प्रेरित ही किया है।

उद्यमियों को दी राहत

मैंने जून 2014 के आसपास नए आइडियाज पर काम करना शुरू किया। एसएमई लेंडिंग प्लेटफॉर्म में दिलचस्पी हुई। खुशनसीब रहा कि मुझे सिद्धार्थ मिले, जिन्हें इसके बारे में काफी जानकारी थी। इस तरह, आइडिया के साथ आगे बढ़ता गया। उसमें संभावनाएं नजर आने लगीं और हमने ‘इंडिफाई’ के जरिये ग्राहकों को आसानी से ऋ ण उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। इसके तहत इंडियास्टैक, क्रेडिट ब्यूरो जैसे डाटा सोर्सेज के साथ इंटीग्रेट किया। अब तक हमारे प्लेटफॉर्म से ट्रैवेल, होटल, रेस्टोरेंट, रिटेल, ई-कॉमर्स एवं मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से जुड़े उद्यमियों को पांच हजार से अधिक कर्ज दिए गए हैं। अगले दो साल में ग्राहकों के साथ हमारे रेवेन्यू में कई गुना इजाफा होने की उम्मीद है।

टीम को करना होता है मोटिवेट

किसी भी कंपनी को स्थापित करने में टीम का अहम रोल होता है और यही सबसे बड़ी चुनौती भी है। मेरे अपने अनुभव अच्छे रहे। मैंने काबिल लोगों में निवेश किया। स्टार्टअप में टीम बढ़ने के साथ ही उनके अंदर एजिलिटी एवं स्टार्टअप कल्चर को मेंटेन रखना आसान नहीं होता। लेकिन मैं दिल से एक प्रॉब्लम सॉल्वर हूं। दूसरों की मदद करना पसंद है। टीम के सदस्यों को भी मोटिवेट करता हूं कि वे अपनी क्षमताओं को पहचान सकें। इससे मुश्किल समस्याओं का भी क्रिएटिव हल निकल आता है।

Advertisement

Related Categories

Advertisement