जॉब सर्च कर रहे हैं तो अपनायें ये पाँच तरीके, जल्द मिल सकती है सफलता

भारत में हर साल लाखों संख्या में ग्रेजुएट्स और पोस्ट-ग्रेजुएट्स कॉलेज से निकलते हैं और सबकी प्राथमिकता एक अच्छी जॉब पाना होता हैं। आज़कल फ्रेशर्स के लिये जॉब की तलाश करना लोहे के चने चबाने से कम नहीं हैं |

ज्यादातर 12वीं पास, ग्रेजुएट्स और पोस्ट-ग्रेजुएट्स अच्छा रिज्यूमे बनातें है और लगभग सभी लोग हर ऑनलाइन जॉब पोर्टल्स में अपना रिज्यूमे अपलोड भी करते हैं। फिर भी उन्हें इंटरव्यू के कॉल्स नहीं आते जॉब पानें के लिये सबसे ज़्यादा जरूरी है इंटरव्यू के लिये कॉल आना।

जॉब इंटरव्यू के लिये कॉल्स नहीं आने के कुछ बड़े कारण इस प्रकार होतें हैं

• आपने अपना रिज्यूमे सही से नहीं बनाया या अपनी क़्वालिफिकेशन्स को आपने अपने रिज्यूमे में सही से नहीं दर्शाया|

• आप अपनी क़्वालिफिकेशन्स के हिसाब से सही जगह अप्लाई नहीं कर रहें हैं|

• जिन कंपनियों में आप अप्लाई कर रहें हैं वहाँ बहुत भारी मात्रा में रिज्यूमे पहुँच रहे हैं|

ये कुछ इंटरव्यू के लिये कॉल्स नहीं आने के आम कारण हैं| अब हम जानेंगे कि ऐसा क्या किया जाय  कि हमें ज्यादा से ज्यादा और जल्द से जल्द इंटरव्यू के लिये कॉल आये| ?
आइये जानते हैं नौकरी पाने के लिये क्या करना चाहिये और किन बातों का ध्यान रखना चाहिये ?

इंटरव्यू में अक्सर पूछे जाते हैं ये 7 सवाल, सही ज़वाब देने पर 99% तक बढ़ जातें है जॉब मिलने के चांस

1 # हर जॉब पोर्टल्स में अपनी प्रोफाइल बनाएं और साथ ही साथ उसे लगातार अपडेट करते रहें

Image Source: codewithc.com

जॉब सर्च शुरू करने से पहले सबसे ज़रूरी काम यह है की आप अपना रिज्यूमे अच्छी तरह से बना लें। इस बात का ध्यान रखें कि आपके रिज्यूमे में कोई ग़लती न हो, इसलिये अपने रिज्यूमे को कई लोगों से चेक करायें| इसके बाद हर एक नामी गिरामी जॉब पोर्टल्स में अपनी प्रोफाइल बनाये और अपना रिज्यूमे अपलोड करें|

विभिन्न जॉब पोर्टल्स में अपनी प्रोफाइल बनाते समय अपनी क़्वालिफिकेशन्स और स्किल्स की जानकारी ठीक तरीकें से द दें | अगर आप प्रोफाइल बनाते समय अपने स्किल्स के (की-वर्ड) सही से नहीं सेलेक्ट किये तो हो सकता है आपको कॉल -आपका रिज्यूमे कंपनियों को दिखे ही नहीं|

ध्यान रखिये कि हर जॉब पोर्टल्स में लाखों की संख्या में प्रोफाइल और रिज्यूमे होते हैं| जब भी कंपनियाँ इन जॉब पोर्टल्स पर किसी ख़ास स्किल सेट वाले रिज्यूमे ढूढ़ती हैं तो, ऐसी प्रोफाइल जिनमें वो स्किल सेट होगा और जो सबसे हाल ही में अपडेट हुई  होगी वो सबसे ऊपर होती है |

अगर आप चाहते है कि हर जॉब पोर्टल्स पर आपकी प्रोफाइल सबसे ऊपर हों तो सबसे ज्यादा ज़रूरी है -

• आपकी प्रोफाइल 100% कम्पलीट हो

• आपने अपने स्किल सेट प्रोफाइल में सही से  चुना है

• आप रोजाना अपने प्रोफाइल को अपडेट कर रहे हों

जब आप इन तीन बातों का ध्यान रखेंगे तो आपके प्रोफाइल ज्यादा कंपनियों को दिखेंगे और आपके पास ज्यादा कॉल आयेंगे|

हर प्रतियोगी परीक्षा में मिलेगी सफलता, बस इन 5 बातों का रखें ध्यान

जानें Banking Exams को First Attempt में कैसे Crack करें

2 # गोरिल्ला स्ट्रेटेजी अपनायें

अगर आपने अपना रिज्यूमे हर जॉब पोर्टल में बना लिया हैं और फिर भी आपके पास कॉल नहीं आ रहे हैं तो आपको गोरिल्ला अप्लाई की स्ट्रेटेजी अपनानी चाहिये | जॉब की गोरिल्ला स्ट्रेटेजी लगभग गोरिल्ला युद्ध की तरह है|

इस स्ट्रेटेजी के अनुसार, आपको किसी ख़ास जगह में जितनी अच्छी कंपनियाँ है उन्हें सेलेक्ट करना होगा और फिर उनकी वेबसाइट के जॉब सेक्शन में जाकर अपना रिज्यूमे अपलोड करें| आप चाहें तो उनके द्वारा उपलब्ध फ़ोन नंबर पर कॉल करके  वेकेंसीजके बारें में पता कर सकते हैं और फिर अपना रिज्यूमे उन्हें भेज सकते हैं| इस तरीके से आपके पास इंटरव्यू कॉल्स आने के चांस बढ़ेंगे| कई बार कंपनियों में होती हैं पर किसी वजह से उन्होंने इन के बारें में घोषणा नहीं की होती हैं| ऐसे में अगर पहले अप्लाई कर रहे हैं तो आपके सफ़ल होने के चांस बढ़ जायेंगे|

3 # अपना नेटवर्क बढ़ायें और अपनी कम्युनिकेशन स्किल्स को सुधारते रहें

Image Source: hosted-p0.vresp.com

जॉब सर्च में गोरिल्ला स्ट्रेटेजी अपनानें के साथ-साथ यह भी ज़रूरी है कि की आप अपना प्रोफेशनल नेटवर्क बढ़ाएं | अपने भाई-बहन, मित्र, मित्रों के मित्र या रिश्तेदार आदि सभी लोगों से जॉब सर्च के बारें में चर्चा करें| क्या पता किसी से आपको सही सुझाव मिल जाये या कहीं के बारे में पता चल जाये| बिना शर्म और झिझक के लोगों से कांटेक्ट  अपने टारगेट पर ध्यान दें और लगातार कोशिश करते रहें |

फेसबुक और ट्विटर में ऐसे कई पेज हैं  जो अक्सर कंपनियों में होने वाले वाक-इन इंटरव्यू, जॉब फ़ेयर के बारे में जानकारी पोस्ट करते रहते हैं| दिल्ली और बैंगलोर जैसे बड़े शहरों में अक्सर वाक-इन इंटरव्यू चलते रहते  हैं | ऐसे में ये फ़ेसबुक पेज बहुत मददगार होते हैं| ऐसे पेज को लाइक करें और लिंक्ड-इन (LinkedIn) जैसी वेबसाइट के द्वारा भी कंपनियों से संपर्क में रहें|

जॉब सर्च के दौरान आपको कभी भी इंटरव्यू कॉल आ सकता हैं और इस दौरान हर एक कॉल आपके लिये महत्वपूर्ण  है | इसलिये जरूरी है आप हमेशा इंटरव्यू के लिये पूरी तरह तैयार हों| आप कम्युनिकेशन स्किल्स को लगतार सुधारते रहें, इन्टरनेट की मदद से लगातार यह जानने की कोशिश करें कि किस तरह के सवाल इंटरव्यू में पूछें जातें हैं और उन सवालों के ज़वाब शीशे के सामने खड़े होकर ऱोज प्रैक्टिस करें | इस तरह कम्युनिकेशन स्किल्स में सुधार होता रहेगा और इंटरव्यू में आपके सफ़ल होने के चांस भी बढ़ेंगे|

4 # लगातार अप्लाई करते रहें

Image Source: scim.si

इतना करने के बाद हो सकता है आपको मिले और यह भी हो सकता है न मिले| आपके पास इंटरव्यू के लिये अगर कॉल्स आयें तो भी अप्लाई करना न छोड़े| आप लगतार नई-नई कम्पनीज़ में अप्लाई करते रहें| अगर एक से ज्यादा कम्पनीज़ में आपका सिलेक्शन सेलेक्शन  हो जायेगा तो आपको कई ऑफर्स में सबसा अच्छा ऑफ़र चुनने का मौका मिलेगा| ज्यादा से ज्यादा इंटरव्यू देने पर आपका अनुभव बढ़ेगा| जितने ज्यादा आप इंटरव्यू दें उतना ही ज्यादा आपका अनुभव बढ़ेगा।

5 # कामयाबी ना मिलने का कारण जानने की कोशिश करें और इंटर्नशिप पाने की कोशिश करें

Image Source: userscontent2.emaze.com

ऊपर दिये गये तरीकों से भी अगर नहीं मिल पा रही है तो आप इंटर्नशिप पाने की कोशिश करें | अक्सर बहुत सारी कम्पनीज़ फ्रेशेर्स को इंटर्न की तरह रख लेती है | सामान्यतः इंटर्नशिप  की अवधि 2 से 6 महीने की होती है |

कंपनी इंटर्न को काम सिखाती है और छोटे मोटे काम भी कराती है| इंटर्नशिप के दौरान इंटर्न को बहुत कम पैसे (या स्टाईपेंड) मिलते हैं, पर इंटर्नशिप का एक्सपीरियंस जॉब सर्च में बहुत काम आता है| कई कम्पनीज़ इंटर्नशिप के एक्सपीरियंस को तवोज्जोह देती हैं| अगर जॉब मिलने में दिक्कतें आ रही हैं तो इंटर्नशिप बहुत अच्छा ऑप्शन है |

अगर आप को ऊपर दिये गये तरीक़ों से सफ़लता नहीं मिल पा रही तो आपको आत्म विश्लेषण करने की ज़रूरत हैं| हो सकता हैं आपके रिज्यूमे में कुछ कमी रह रही हों| यह भी हो सकता है की आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स ठीक न हों।
अगर आप को लगता हैं की आप सबकुछ ठीक कर रहें हैं तो अपनी कमियों को जानने के लिये आप कंपनी के HR से बात कर सकते हैं। अपनी कमियाँ जानने के बाद उन्हें दूर करने की कोशिश करें।

सारांश

ऊपर दिए गए तरीकों से आपको आसानी से मिल सकती है । पर फिर भी आपको जॉब मिलने में मुश्किलें आ रही हैं तो इंटर्नशिप पाने की कोशिश करिये । अगर आपको ख़राब अकैडमिक रिकॉर्ड या कम परसेंटेज की वजह से जॉब नहीं मिल पा रही  है तो इंटर्नशिप आपके लिये बेस्ट  है कुछ महीनों की इंटर्नशिप का एक्सपीरियंस आपके जॉब सर्च के लिये काफी फायदेमंद हो सकता है । हमेशा याद रखिये कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

Related Categories

Popular

View More