Search

जानिये क्या हैं इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के फायदे ?

आईटी सेक्टर में मिल रहे सुविधाओं तथा रोजगार के बढ़ते अवसर को देखते हुए अधिकांश छात्र इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने की इच्छा रखते है

Dec 26, 2018 16:32 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी
इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी

आईटी सेक्टर में मिल रहे सुविधाओं तथा रोजगार के बढ़ते अवसर को देखते हुए अधिकांश छात्र  इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने की इच्छा रखते है. लेकिन कुछ छात्र इस सम्बन्ध में सही जानकारी के आभाव में इस विषय का अध्ययन करने की इच्छा रहने के बावजूद भी किसी अन्य विषय का चयन कर लेते हैं या फिर उनके मन में यह भय होता है कि कहीं यह विषय मेरे लिए बहुत कठिन तो नहीं होगा ? मैं इसकी तैयारी अच्छी तरह से कर पाउँगा या नहीं,डिग्री लेने के बाद मुझे कोई अच्छी नौकरी मिलेगी या नहीं आदि कई ऐसे प्रश्न हैं जो छात्रों के दिमाग में उत्पन्न होते रहते हैं. इसलिए छात्रों की सुविधा तथा उनकी समस्याओं के समाधान के लिए हम इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान कर रहे हैं.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी एक अंडर ग्रेजुएट प्रोग्राम है तथा फिजिक्स, केमेस्ट्री तथा मैथ्स विषय के साथ 12 वीं कक्षा पास करने वाले छात्र इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी कर सकते हैं. किसी भी इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी तथा टेलीकॉम इंडस्ट्री से जुड़े फील्ड में कार्य करने के लिए इस डिग्री की आवश्यकता पड़ती है.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के लिए आवश्यक योग्यता

  • इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के लिए उम्मीदवार का किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज या इंस्टीट्यूट से साइंस सब्जेक्ट ( फिजिक्स, केमेस्ट्री तथा मैथ्स सब्जेक्ट्स के साथ) से 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए.
  • मैथ्स में कम से कम 50 प्रतिशत मार्क्स होने चाहिए जबकि अन्य विषयों का एग्रीगेट मार्क्स भी 50 प्रतिशत से कम नहीं होना चाहिए.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी के अंतर्गत पढ़ाये जाने वाले विषय तथा स्पेशलाइजेशन

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी के तहत छात्रों को सॉफ्टवेयर डेवेलपमेंट, सॉफ्टवेयर डिजाइनिंग, सॉफ्टवेयर टेस्टिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, वेब डिजाइनिंग,डेटाबेस,प्रोग्रामिंग,कम्प्यूटर नेटवर्किंग तथा कम्प्यूटर सिस्टम आदि विषयों का अध्ययन कराया जाता है तथा आगे चलकर इन विषयों में हायर स्टडीज करने वाले छात्रों को इन्ही विषयों में स्पेशलाइजेशन करने की सुविधा भी कई इंस्टीट्यूट या कॉलेज द्वारा प्रदान की जाती है.

बैचलर लेवल पर इस विषय को छात्र दो वर्षों तक निम्नांकित विषयों में से किसी एक को ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में रखकर पढ़ सकते हैं- एनाटोमी, बायोकेमेस्ट्री, बोटनी, केमेस्ट्री,क्लौथिंग एंड टेक्सटाइल साइंस,कम्प्यूटर साइंस,इकोनॉमी,इलेक्ट्रॉनिक,एनर्जी साइंस एंड टेक्नोलॉजी, एकसरसाइज एंड स्पोर्ट्स साइंस, फूड साइंस, जेनेटिक्स,ज्योग्राफी,जियोलॉजी, इन्फॉर्मेशन साइंस, लैंड प्लानिंग एंड मैनेजमेंट, मैथमेटिक्स, माइक्रोबायोलॉजी,न्यूरोसाइंस, ओसिनियोग्राफी,फार्माकोलॉजी,फिजिक्स,फिजियोलॉजी,प्लांट बायोटेक्नोलॉजी, साइकोलॉजी,स्पोर्ट्स डेवेलपमेंट एंड मैनेजमेंट, स्टैटिसटिक्स,सर्वेइंग तथा जूलॉजी. इसके अतिरिक्त छात्र ऑप्शनल सब्जेक्ट के रूप में कॉलेज या इंस्टीट्यूट द्वारा प्रदान किये जाने वाले अन्य सब्जेक्ट्स का चयन भी अपनी सुविधा के अनुसार कर सकते हैं.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी की डिग्री प्रदान करने वाले भारत के कुछ टॉप कॉलेज या इंस्टीट्यूट्स  तथा कोर्स फीस

इंस्टीट्यूट का नाम

 स्थान

एवरेज फीस

सेंट जेवियर कॉलेज 

मुंबई

37,400 रूपये

एएसएम्स कॉलेज ऑफ साइंस

पुणे

1.43 लाख रूपये

लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी

जालंधर

1.29 लाख रूपये

इंडियन एकेडमी डिग्री कॉलेज

बंगलोर

1.40 लाख रूपये

अमिटी यूनिवर्सिटी

मुंबई

4.05 लाख रूपये

देवभूमि इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज

देहरादून

1.16 लाख रूपये

राय यूनिवर्सिटी

अहमदाबाद

1.20 लाख रूपये

जीएनए यूनिवर्सिटी

फगवाड़ा

1.19 लाख रूपये

कोडाईकनाल क्रिश्चियन कॉलेज

कोडाईकनाल

1.04 लाख रूपये

सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ हायर स्टडीज

जालंधर

1.04 लाख रूपये

एल्फिन्स्टन कॉलेज

मुंबई

23,200 रूपये

अरिहंत ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट्स

पुणे

1.20 लाख रूपये

आरआईएमटी यूनिवर्सिटी

पंजाब

1.41 लाख रूपये

गार्डन सिटी यूनिवर्सिटी

बंगलोर

3.36 लाख रूपये

महात्मा ज्योतिराव फूले यूनिवर्सिटी

जयपुर

90,000 रूपये

 

जय हिन्द कॉलेज

मुंबई

5,020 रूपये

अमिटी यूनिवर्सिटी

रायपुर

94,575 रूपये

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी

चंडीगढ़

2,70 लाख रूपये

श्री रामस्वरुप मेमोरियल यूनिवर्सिटी

लखनऊ

1.85 लाख रूपये

सूर्यदत्त कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट

पुणे

1.60 लाख रूपये

 

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी हेतु एडमिशन प्रोसेस

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी कोर्स के लिए अधिकांश इंस्टीट्यूट अपने पर्सनल एंट्रेंस टेस्ट को क्लियर करने के बाद पर्सनल इन्टरव्यू के आधार पर छात्रों को एडमिशन देते हैं. प्रत्येक इंस्टीट्यूट का एडमिशन प्रोसेस अलग अलग होता है. लेकिन कुछ ऐसे इंस्टीट्यूट्स भी हैं जो छात्रों को उनके 12 कक्षा के मार्क्स के आधार पर उन्हें डायरेक्ट एडमिशन भी देते हैं.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी हेतु एडमिशन के लिए कुछ प्रसिद्द एंट्रेंस एग्जाम्स हैं -

  • आईआईएसईआर एंट्रेंस एग्जाम
  • जीएसएटी
  • एनईएसटी
  • सीजीपीएटी
  • यूपीसीएटीईटी
  • आईसीएआर एआईईईए
  • पन्तनगर यूनिवर्सिटी एंट्रेंस एग्जाम
  • आईआईटीजेएएम

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के बाद करियर की संभावनाएं 

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी कोर्स ग्रेजुएशन लेवल पर कम्प्लीट करने के बाद छात्र इस विषय में एमएससी और पीएचडी डिग्री प्राप्त कर एकेडमिक्स में अपना करियर बना सकते हैं. इस कोर्स को पूरा करने के बाद छात्र सीधे एमसीए यानी मास्टर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन में एडमिशन ले सकते हैं. एमसीए के आधार पर छात्रों को आईटी या बीपीओ कंपनियों में अच्छी जॉब मिल सकती है. अगर छात्र बीएससी न करना चाहें तो वे बारहवीं के आधार पर बीसीए यानी बैचलर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन में भी एडमिशन ले सकते हैं.इसके अतिरिक्त आईटी और टेलीकॉम दोनों ही इंडस्ट्री में इनके लिए व्यापक रोजगार की संभावनाएं हैं. इन इंडस्ट्रीज में वे मुख्य रूप से आईटी सपोर्ट एनालिस्ट,नेटवर्क इंजीनियर,आईटी कंसल्टेंट,टेक्नीकल सेल्स रिप्रेजेंटेटिव,वेबडिजाइनर,सॉफ्टवेयर डेवलपर, क्वालिटी एश्योरेंस एनालिस्ट,अप्लिकेशन एनालिस्ट तथा सिस्टम एनालिस्ट के रूप में कार्य कर सकते हैं. साथ ही उन्हें निम्नांकित कंपनियों तथा इंस्टीट्यूट्स में काम करने का अवसर मिल सकता है –

  • एजुकेशन इंस्टीट्यूट
  • स्पेस रिसर्च इंस्टीट्यूट
  • हॉस्पिटल
  • हेल्थकेयर प्रोवाइडर
  • फार्मास्यूटिकल्स और बायोटेक्नोलॉजी
  • केमिकल इंडस्ट्री
  • एनवायरमेंटल मैनेजमेंट एंड कंजर्वेशन
  • फोरेंसिक क्राइम रिसर्च फर्म्स
  • टेस्टिंग लेबोरेट्रीज

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के बाद मिलने वाली सैलरी

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में बीएससी करने के बाद उम्मीदवार को प्रारंभिक अवस्था में एक फ्रेशर के रूप में 2 से 3 लाख सलाना मिलने की संभावना होती है. लेकिन वर्क एक्सपीरीएंस तथा नॉलेज के आधार पर इनकी सैलरी बढ़ती जाती है तथा यह 10 लाख सालाना तक हो सकती है.

Related Stories