भारत में एडवरटाइज़मेंट की फील्ड में करियर स्कोप

भारतीय एडवरटाइज़मेंट इंडस्ट्री में काफी बदलाव और प्रगति हो रही है और अगले कुछ वर्षों में इस इंडस्ट्री में यंग इंडियन प्रोफेशनल्स के लिए रोज़गार के अच्छे अवसर उपलब्ध होंगे. अगर आप भी एक ऐसे ही उत्साही, रचनात्मक तथा मल्टी टास्कर प्रोफेशनल हैं तो भारत में एडवरटाइजिंग की फील्ड में आपके लिए काफी आशाजनक करियर स्कोप है.

Created On: Apr 7, 2021 21:06 IST
Career Scope in Advertisement in India
Career Scope in Advertisement in India

पूरी दुनिया में अनेकों कारोबार दिलो-दिमाग पर छा जाने वाले और मन को लुभाने वाले एडवरटाइजमेंट्स की वजह से लगातार लाभ कमाते हैं. भारत में भी एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में आशातीत विकास हुआ है. भारत में अब करोड़ों इंटरनेट यूजर्स हैं और यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी ऑनलाइन मार्केट के तौर पर अपनी जगह बना चुका है. अब, भारत के इंटरनेट यूजर्स लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं जिसके कारण  हमारी एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में भी क्रांतिकारी बदलाव आ रहे हैं. वर्तमान में, 9 बिलियन अमरीकी डॉलर के रेवेन्यु के साथ भारत ने दुनिया की 9वीं सबसे बड़ी एडवरटाइजिंग मार्केट होने का दर्जा हासिल कर लिया है. इन सभी कारणों से भारत के यंग प्रोफेशनल्स में एडवरटाइजिंग की फ़ील्ड्स में करियर बनाने  का क्रेज भी लगातार बढ़ रहा है. इस आर्टिकल में हम आपके लिए भारत में एडवरटाइजमेंट की फील्ड में उपलब्ध आशाजनक करियर स्कोप की चर्चा कर रहे हैं. आइये आगे पढ़ें यह आर्टिकल:

भारत में एडवरटाइजिंग में करियर के लिए जरुरी एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

हमारे देश में एडवरटाइजिंग की फील्ड में अपना करियर शुरू करने के लिए स्टूडेंट्स या कैंडिडेट्स अगर एडवरटाइजिंग की किसी संबंधित फील्ड में कोई डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स कर लें तो उन्हें इसका फायदा जरुर मिलता है. हमारे देश में एडवरटाइजिंग की फील्ड में कोई कोई डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त शिक्षा बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास जरुर पास की हो. पीजी कोर्स करने के लिए एडवरटाइजिंग की फील्ड या किसी संबंधित फील्ड में ग्रेजुएशन की डिग्री अनिवार्य होती है.

भारत में उपलब्ध हैं ये प्रमुख एडवरटाइजिंग कोर्सेज

•    डिप्लोमा – एडवरटाइजिंग एंड मार्केटिंग कम्युनिकेशन्स
•    डिप्लोमा – जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन
•    डिप्लोमा – फिल्म, टेलीविज़न एंड डिजिटल वीडियो प्रोडक्शन
•    सर्टिफिकेट कोर्स – मीडिया एंड विजूअल आर्ट्स कनेक्ट
•    सर्टिफिकेट कोर्स – एडवरटाइजिंग, सेल्स प्रमोशन एंड सेल्स मैनेजमेंट
•    बीए – फिल्म स्टडीज
•    बीएससी – मास कम्युनिकेशन एंड वीडियोग्राफी (प्रमुख वोकेशनल)
•    बैचलर – मल्टीमीडिया एंड एनीमेशन
•    पीजी डिप्लोमा प्रोग्राम – एडवरटाइजिंग एंड पब्लिक रिलेशन्स
•    पीजी डिप्लोमा प्रोग्राम - एडवरटाइजिंग एंड मीडिया
•    पीजी सर्टिफिकेट प्रोग्राम – एडवरटाइजिंग मैनेजमेंट (ऑनलाइन)
•    एमए – एंटरटेनमेंट, मीडिया एंड एडवरटाइजिंग

भारत में एडवरटाइजिंग में इंटर्नशिप

एडवरटाइजिंग की फील्ड में अंडरग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री कोर्स, सर्टिफिकेट कोर्स या डिप्लोमा कोर्स पूरा करने के बाद इस फील्ड में अपना मनचाहा करियर शुरू करने से पहले कैंडिडेट को किसी प्रसिद्ध एडवरटाइजिंग एजेंसी में 6 माह या 1 साल की इंटर्नशिप (पेड/ अनपेड) जरुर कर लेनी चाहिए ताकि उन्हें एडवरटाइजिंग की फील्ड में होने वाले काम के साथ-साथ एडवरटाइजिंग एजेंसीज के वर्क कल्चर का पता चल सके. इससे फ्रेशर कैंडिडेट्स का आत्म-विश्वास बढ़ेगा. अगर कोई फ्रेशर कैंडिडेट अपनी एडवरटाइजिंग एजेंसी शुरू करना चाहता है तो उसे भी इंटर्नशिप करने से काफी फायदा होगा.

भारत में इन टॉप इंस्टीट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज में ज्वाइन करें एडवरटाइजिंग कोर्सेज

•    इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
•    नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ एडवरटाइजिंग, नई दिल्ली
•    दिल्ली यूनिवर्सिटी
•    इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी
•    वाईएमसीए सेंटर फॉर मास मीडिया
•    मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली
•    मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ़ कम्युनिकेशन्स, अहमदाबाद
•    ज़ेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ़ कम्युनिकेशन्स, मुंबई
•    मुंबई यूनिवर्सिटी, मुंबई
•    सेंट ज़ेवियर कॉलेज, कलकत्ता

भारत में एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में करियर बनाने के लिए जरुरी स्किल सेट

एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री की किसी भी लाइन में अपना करियर शुरू करने के लिए कैंडिडेट के पास खास स्किल सेट होने पर उन्हें अपने करियर में प्रमोशन के लिहाज से काफी फायदा मिलता है जैसेकि:

•    एडवरटाइजिंग की फील्ड में कामयाब होने के लिए कैंडिडेट के पास प्रभावी कम्युनिकेशन स्किल्स होने ही चाहिए.
•    एडवरटाइजमेंट तैयार करने के बाद उस एडवरटाइजमेंट को प्रभावी तरीके से प्रेजेंट और उस एडवरटाइजमेंट की मार्केटिंग को मैनेज करने से संबंधित स्किल्स भी हैं जरुरी.  
•    टीम के साथ मिलजुल कर विभिन्न एडवरटाइजिंग प्रोजेक्ट्स पूरे करने में हों माहिर.
•    लीडरशिप स्किल्स से बेहतरीन एडवरटाइजमेंट्स तैयार करवाने में मिलती है काफी मदद.
•    एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में आपको देर रात तक और वीकेंड्स पर भी काम करना पड़ता है इसलिए स्ट्रेस और प्रेशर में काम करने की आदत होनी चाहिए.
•    इस फील्ड में आत्म-विश्वास और कॉम्पीटीटिवनेस से भी कैंडिडेट्स का करियर ग्राफ आगे ही बढ़ता जाता है.

भारत में एडवरटाइजिंग की फील्ड में उपलब्ध हैं ये प्रमुख करियर ऑप्शन्स

हमारे देश की एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री अब ऑडियो-विजुअल के साथ डिजिटल और ऑनलाइन भी बन चुकी है और इस इंडस्ट्री में निम्नलिखित पेशेवर अपना करियर शुरू कर सकते हैं:

•    क्रिएटिव डायरेक्टर
•    आर्ट डायरेक्टर
•    कॉपी राइटर
•    ट्रांसलेटर
•    मार्केटिंग हेड
•    डायरेक्ट मार्केटिंग मैनेजर
•    ऑनलाइन/ डिजिटल मार्केटिंग हेड
•    इंटरनल मार्केटिंग मैनेजर
•    ग्राफ़िक डिज़ाइनर
•    क्लाइंट सर्विसिंग एग्जीक्यूटिव
•    कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन एग्जीक्यूटिव
•    पब्लिक रिलेशन एग्जीक्यूटिव

भारत में प्रमुख एडवरटाइजिंग जॉब प्रोवाइडर्स

हमारे देश के यंगस्टर्स जिन टॉप एडवरटाइजिंग एजेंसियों में काम करना चाहते हैं, उनकी लिस्ट निम्नलिखित है:

•    हिंदुस्तान थोम्सन एसोसिएट्स (एचटीए)
•    मेक्केन एरिक्सन
•    लियो बरनेट,
•    लिंटास इंडिया लि.
•    मुद्रा कम्युनिकेशन्स लि.
•    क्रेयोंस एडवरटाइजिंग
•    हावास वर्ल्डवाइड इंडिया
•    फाउंटेनहेड डिजिटल
•    फॉरच्यून कम्युनिकेशन्स
•    ऊर्जा कम्युनिकेशन्स

भारत में एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में मिलने वाला सैलरी पैकेज

हमारे देश में एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में शुरू में किसी फ्रेशर कैंडिडेट को एवरेज रु. 8 हजार प्रति माह मिलते हैं और किसी मैनेजमेंट ट्रेनी को इस इंडस्ट्री में शुरू में लगभग 15 हजार  - 20 हजार रु. मिलते हैं. कुछ वर्षों के अनुभव के बाद किसी प्रसिद्ध एडवरटाइजिंग एजेंसी में कैंडिडेट्स को 30 हज़ार रूपए मासिक का सैलरी पैकेज भी मिलता है. एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में एक टैलेंटेड और अनुभवी क्रिएटिव डायरेक्टर को सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है जैसेकि किसी क्रिएटिव डायरेक्टर को रु. 10 लाख सालाना तक का सैलरी पैकेज मिलता है. आर्ट डायरेक्टर को इस इंडस्ट्री में एवरेज 4.75 लाख सालाना का सैलरी पक्कागे मिलता है.

भारत में एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री में प्रोफेशनल्स की एवरेज सालाना सैलरी निम्नलिखित है:

•    मार्केटिंग हेड –3.50 लाख – 5 लाख रु.
•    ऑनलाइन/ डिजिटल मार्केटिंग हेड – 2.50 लाख – 3.75 लाख रु.
•    कॉपी राइटर – 1.15 लाख – 2.25 लाख रु.
•    ग्राफ़िक डिज़ाइनर – 1.75 लाख – 2.20 लाख रु.
•    डायरेक्ट मार्केटिंग मैनेजर – 2 लाख – 3.75 लाख रु.
•    इंटरनल मार्केटिंग मैनेजर – 2.50 लाख – 3.50 लाख रु.
•    पब्लिक रिलेशन एग्जीक्यूटिव -  1.50 लाख – 2.50 लाख  रु.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

भारत में आपके लिए फोटोग्राफी में भी है बेहतरीन करियर स्कोप

भारत में न्यूज़ एंकर का करियर और जॉब प्रोफाइल

जानिये ये हैं भारत में पब्लिक पॉलिसी के कोर्सेज और करियर ऑप्शन्स

 

Comment ()

Post Comment

7 + 5 =
Post

Comments