Search

CAT एग्जाम की तैयारी के लिए यहां पढ़ें IIM, कलकत्ता के CAT टॉपर्स के कारगर टिप्स

स्टूडेंट्स CAT एग्जाम प्रिपरेशन के लिए चाहे कितनी भी मेहनत कर लें लेकिन, इस एग्जाम में सफलता हासिल करने के लिए उन्हें समुचित गाइडेंस की आवश्यकता महसूस होती है. ऐसे में, अगर यह गाइडेंस CAT एक्सान टॉपर्स दें तो फिर स्टूडेंट्स का कॉन्फिडेंस काफी बढ़ जाता है.

Oct 1, 2019 18:40 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
IIM-Calcutta CAT Toppers share tips to ace MBA entrance exams
IIM-Calcutta CAT Toppers share tips to ace MBA entrance exams

अक्सर स्टूडेंट्स कोई भी एग्जाम देने से पहले कंफ्यूज हो जाते हैं और अगर कहीं वह CAT एग्जाम हो तो फिर स्टूडेंट्स CAT एग्जाम प्रिपरेशन के लिए चाहे कितनी भी मेहनत कर लें लेकिन, इस एग्जाम में सफलता हासिल करने के लिए उन्हें समुचित गाइडेंस की आवश्यकता महसूस होती है. ऐसे में, अगर यह गाइडेंस CAT एक्सान टॉपर्स दें तो फिर स्टूडेंट्स का कॉन्फिडेंस काफी बढ़ जाता है. इस आर्टिकल में आपके लिए IIM कलकत्ता के कुछ CAT टॉपर्स MBA आस्पिरेंट स्टूडेंट्स के साथ अपनी CAT एग्जाम प्रिपरेशन स्ट्रेटेजी शेयर कर रहे हैं. आप भी इन टॉपर्स की CAT एग्जाम प्रिपरेशन स्ट्रेटेजी के बारे में जानकारी हासिल करके आने वाले CAT एग्जाम में शानदार सफलता हासिल कर सकते हैं. आइये यह आर्टिकल आगे पढ़ें:

आदित्य रानाडे -स्पोर्ट्स सेक्रेटरी, स्टूडेंट काउंसिल IIM,कलकत्ता

 

मुझे लगता है कि CAT एग्जाम की सबसे बड़ी चुनौती निर्धारित समय में अधिकतम संख्या में प्रश्नों को सही रूप में हल करना है. कैंडिडेट्स के लिए निर्धारित CAT सिलेबस मुख्य रूप से उन बुनियादी सिद्धांतों को शामिल करता है जिन्हें आप अपने 10 वीं से 12 वीं क्लास तक सीखते हैं. हालांकि,  CAT क्वालीफाई करने के लिए क्या आवश्यक है? इस जानकारी को इस्तेमाल करने और प्रश्नों को जल्दी से और पूरी सटीकता के साथ हल करने में सक्षम होना इस एग्जाम में सफलता पाने के लिए बेहद जरुरी है. CAT एग्जाम में सफलता पाने का मुख्य राज यह भी है कि आप प्रश्नों को किस तरह से लेते हैं और हरेक प्रश्न हल करते समय उसमें अपना मौलिक ज्ञान कैसे अप्लाई करते हैं?. मुझे इंजीनियरिंग बैकग्राउंड के कारण बुनियादी बातों और बुनियादी अवधारणाओं को समझने में ज्यादा समय नहीं लगा और ना ही मुझे किसी तरह की परेशानी हुई. अपनी स्पीड और एक्योरेसी को और अधिक बेहतर बनाये रखने के लिए मैंने अधिक से अधिक संख्या में मॉक टेस्ट देने की कोशिश की. एक और चीज, जिसने मेरी काफी मदद की थी, वह थी हर मॉक टेस्ट पर विचार करना और अपनी गलतियों पर ध्यान देकर उन्हें सुधारना. हर मॉक टेस्ट देने के बाद मैंने रिजल्ट का विश्लेषण किया और उन क्षेत्रों को समझ लिया जहां मैं गलती कर रहा था. इससे मुझे मेरी ताकत और कमजोरियों की पहचान करने में मदद मिली और फिर, मैंने विशेष रूप से कोशिश करके अपने वीक पॉइंट्स में सुधार किया.

इसी तरह, मॉक टेस्ट्स की प्रैक्टिस के अलावा आप जो भी कर रहे हैं उसके बारे में गंभीर होना भी बहुत महत्वपूर्ण है, अपनी ताकत और कमजोरी के बारे में जागरूक रहें. यदि आप अपने हरेक दिन के कुछ घंटों को एग्जाम प्रिपरेशन के लिए समर्पित करते हैं तो आपके लिए अच्छे मार्क्स लेना काफी आसन हो जायेगा जिससे वास्तव में आपको भारत के किसी टॉप MBA कॉलेज में एडमिशन मिल सकता है.

CAT एग्जाम के लिए एक और चीज जरुरी है और वह है, इस एग्जाम के पैटर्न को समझना. यह एग्जाम वास्तव में आपके ज्ञान के भंडार को नहीं देखता बल्कि यह आपके निर्णय लेने की क्षमता की जांच करता है. इसलिए इस एग्जाम से जुड़े हर पहलू पर बारीकी से गौर करना बहुत जरुरी है.                                                                           

परिता शाह -ओवर ऑल कोर्डिनेटर, इंटैग्लियो (एनुअल बिजनेस समिट) IIM, कलकत्ता

मेरे लिए CAT एग्जाम स्ट्रेटेजी मुख्य रूप से मॉक टेस्ट पर ही पूरी तरह केन्द्रित थी. मै मॉक टेस्ट में अपने प्रदर्शन का एनालिसिस करने में लगभग 2 से 3 घंटे बिताती थी. इससे मुझे मेरी गलतियों का एहसास हुआ और पता चला कि मैं अधिक समय ले रही थी. मुझे लगता है, अधिक प्रश्नों को हल करने के बजाय एक्यूरेसी पर ध्यान देने से बहुत मदद मिलती है.

अनुषा-एक्सटर्नल रिलेशंस सेक्रेटरी, IIM,कलकत्ता

मेरी स्ट्रेटेजी अन्य लोगों की तुलना में काफी अलग थी, क्योंकि मैं काम करते समय ही CAT की तैयारी कर रही थी. शुरुआत में  मैंने अपने मजबूत और कमजोर पक्षों के हिसाब से अपने सिलेबस को विभाजित किया. इससे मुझे पता चला कि क्वांटीटेटिव सेक्शन में मुझे अधिक प्रयास करने की आवश्यकता थी. इसलिए मैंने DILR और वर्बल एबिलिटी  पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया. इसके अलावा, हमें यह भी जानने की जरूरत होती है किस तरीके से अपने लिए बेस्ट क्वेश्चंस का सेलेक्शन करें? वर्बल एबिलिटी सेक्शन के लिए लिट्रेचर के साथ-साथ सभी विविध क्षेत्रों के विषय में जानकारी प्राप्त करने तथा पढ़ने की आदतें विकसित करनी होंगी.                                                                    

समीक्षा श्रीवास्तव – प्रेसिडेंट इंटरप्रेन्योरशिप शेल, IIM,कलकत्ता

मेरी CAT की तैयारी दो महत्वपूर्ण चीजों पर आधारित थी. पहला, मैंने पूरी तरह से मॉक टेस्ट की प्रैक्टिस पर फोकस किया और लगभग 25 से 30 फुल लेंथ वाले मॉक टेस्ट्स दिए. दूसरा, मैंने पिछले साल के CAT एग्जाम के क्वेश्चन पेपर्स से अधिकांश प्रश्नों को हल करने की कोशिश की. इसने मुझे कठिनाई के स्तर के साथ-साथ वास्तविक CAT एग्जाम में पूछे जाने वाले प्रश्नों के टाइप और फॉर्मेट  को समझने में मदद मिली.

प्रतीक बंसल – ओवरऑल कोर्डिनेटर, कार्पे डीम (एनुअल कल्चरल फेस्टिवल), IIM, कलकत्ता

मैंने अपनी CAT एग्जाम स्ट्रेटेजी का बहुत दृढ़ता से पालन किया. मेरा मानना है कि इस एग्जाम में सफलता के लिए आपकी तैयारी सुसंगत होनी  चाहिए.  इसके लिए आपको नियमित रूप से मॉक टेस्ट देने का प्रयास करना चाहिए ताकि आप अपने अन्दर एग्जाम हॉल में 3 घंटे बैठने और एग्जाम पर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता विकसित कर सकें.

                                                                                                

अभिलाष भाटिया – एलुमनाई सेक्रेटरी – स्टूडेंट काउंसिल, IIM, कलकत्ता

मैं अपनी CAT एग्जाम प्रिपरेशन के शुरु के दिनों में ही अपनी कमजोरियों के बारे में जान गया था. मुझे यह भी पता था कि मेरा पूर्व शैक्षणिक प्रदर्शन सबसे अच्छा नहीं है. लेकिन मैं इस बात को लेकर बहुत आश्वस्त और स्पष्ट था कि मुझे IIM कलकत्ता ही जाना है और इसके लिए मुझे CAT में हायर परसेंटेज लाने की जरूरत है. मैंने अपनी कमजोरियों को दूर करने के लिए काफी काम किया और उन्हें अपनी ताकत में बदलने की कोशिश की. यह CAT एग्जाम में सफल होने के लिए मेरी बेसिक स्ट्रेटेजी थी.

गौतम मराडे – पीजीपी रिप्रेजेनटेटिव, स्टूडेंट काउंसिल, IIM, कलकत्ता

जब मैं TCS के साथ काम कर रहा था तभी मैंने CAT एग्जाम की तैयारी शुरू कर दी थी. काम के बाद तैयारी करने के लिए मुझे बहुत कम समय मिलता था. मैं वीक डेज़ में सुबह कोचिंग जाया करता था. एग्जाम से एक महीने पहले मैंने रोज़ाना 2 मॉक टेस्ट देना शुरू कर दिया. मैंने अपनी सेक्शनल इम्प्रूवमेंट पर काफी ध्यान दिया और इसमें सुधार के लिए बड़े पैमाने पर काम किया. इस एग्जाम में सफलता पाने के लिए निर्धारित समय-सीमा के भीतर प्रदर्शन करना बहुत महत्वपूर्ण होता है.                                                

अनिश पाटिल – इंस्टीट्यूट रैंक 1, पीजीपी बैच 2019, मेंबर फाइनेंस क्लब, IIM, कलकत्ता

मैंने अप्रैल के महीने में तैयारी शुरू की और उसी समय कोचिंग ज्वाइन कर ली. मैंने अपनी तैयारी बेसिक मटीरियल के साथ शुरू की. मैंने जुलाई से ही मॉक टेस्ट देना शुरू कर दिया और एग्जाम के एक सप्ताह तक जारी रखा. मैं अपने अनुभव के आधार पर यह बता रहा हूं कि, सभी कैंडिडेट्स को एग्जाम से दो महीने पहले इस बात पर पूरी तरह ध्यान देना चाहिए कि वे अब कितने प्रश्नों को सही कर रहे हैं  और कितने प्रश्न गलत कर रहे हैं?. आपको एग्जाम से कुछ दिन पहले नई अवधारणाओं को समझने की बजाय अपनी स्पीड को और अधिक बढ़ाने की कोशिश करनी चाहिए. इसके अतिरिक्त एग्जाम के दिन बिलकुल शांत रहना CAT एग्जाम में आपके बेहतर प्रदर्शन के लिए बहुत जरूरी है.

टीएलएन गुप्थाजी – प्रेजिडेंट, स्टूडेंट काउंसिल, IIM, कलकत्ता

CAT एग्जाम प्रिपरेशन में मेरी स्ट्रेटेजी मुख्य रूप से अपने कमजोर पक्ष अर्थात वर्बल एबिलिटी पर अत्यधिक समय देना था. इसके अतिरिक्त मैंने मॉक टेस्ट्स की प्रैक्टिस पर बहुत ध्यान दिया और इसमें होने वाली गलतियों में सुधार कर अच्छे मार्क्स प्राप्त करने की अपनी स्ट्रेटेजी पर काम किया.

CAT एग्जाम में सफलता के लिए कुछ और वीडियो तथा CAT टॉपर्स से कुछ अन्य टिप्स जानने के लिए आप www.jagranjosh.com पर जरुर विजिट करें.

Related Stories