Search

CBSE कक्षा 10वीं परीक्षा 2019: साइंस विषय के पिछले पाँच वर्षों के प्रश्न पत्रों का विश्लेष्ण

Jan 21, 2019 10:44 IST

सीबीएसई कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होने में अब महज एक ही महीने का समय बचा है. यह समय सिर्फ रिवीजन करने के लिए और मुश्किल विषयों पर अपनी पकड़ मजबूत करने में उपयोग किया जाना चाहिए. इस दौरान विद्यार्थियों को पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करने पर ख़ास जोर देना चाहिए. जिससे आपको परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के स्वरूप व् उनके कठिनाई स्तर का अंदाजा लग सके.

आज इस लेख में हम सीबीएसई क्लास 10वीं के पिछले पाँच वर्षों के साइंस बोर्ड प्रश्न पत्रों का एनालिसिस करेंगे. इस एनालिसिस को जानना इसलिए ज़रूरी है ता कि आपको पिछले पाँच सालों में साइंस के पेपर पैटर्न में आए बदलाव, विभिन्न अध्यायों में से पूछे गए प्रश्नों के प्रकार व अंकों के विभाजन का अंदाज़ा लग सके और साल 2019 में होने वाली बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए आप अभी से एक उचित रणनीति तैयार कर सकें.

पिछले पाँच वर्षों में हुई सीबीएसई कक्षा 10वीं की परीक्षा का एनालिसिस हम पाँच तथ्यों के आधार पर करेंगे:

  • सिलेबस
  • पेपर पैटर्न
  • परीक्षा का कठिनाई स्तर
  • चैप्टर वाइज़ मार्क्स का वितरण
  • प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्नों का स्वरूप  

1. सिलेबस:

वर्ष 2018 से पहले कक्षा 10वीं में CCE पैटर्न के अंतर्गत छात्रों को साल में दो बार परीक्षा लिखनी होती थी, Summative Assessment I और Summative Assessment II. दोनों परीक्षाओं के लिए हर विषय के पाठ्यक्रम को दो भागों में बाँटा जाता था. इसलिए दोनों Assessments के लिए छात्रों को सिर्फ़ आधे सिलेबस की ही तैयारी करनी होती थी.

दूसरी ओर साल 2018 में वार्षिक बोर्ड परीक्षा को अनिवार्य बना देने के बाद बोर्ड पेपर में सम्पूर्ण सिलेबस से प्रश्न पूछे गए. इसलिए छात्रों ने साइंस के पेपर के लिए पूरे साल का सिलेबस तैयार किया.

2. पेपर पैटर्न:

कक्षा 10वीं में साल 2014 से अभी तक साइंस के पेपर को दो सेक्शन्स ‘A’ और ‘B’ में विभाजित किया जाता है जिसमे Section- B में सिर्फ़ प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न ही पूछे जाते हैं. हालांकि साल 2014 के बाद  दोनों सेक्शन्स में पूछे गए प्रश्नों के स्वरूप व अंकों के विभाजन में कुछ बदलाव किए गए.

आइए एक टेबल की हेल्प से इन बदलावों के बारे में जानते हैं:

class 10 science papers analysis

हर साल साइंस के पेपर में तीन अंकों वाले प्रश्नों में एक प्रश्न नैतिक मूल्यों पर आधारित पुछा जाता है.

3. परीक्षा का कठिनाई स्तर:

कक्षा 10वीं में पिछले पाँच सालों के साइंस विषय के बोर्ड प्रश्न पत्रों का विश्लेष्ण करते हुए एक बात तो स्पष्ट होती है कि हर बार परीक्षा का स्तर लगभग आसान ही रहा है और सभी प्रश्न NCERT में दिए टॉपिक्स व कॉन्सेप्ट्स पर आधारित ही पूछे जाते हैं. इसलिए जो छात्र साल की शुरुआत से ही NCERT की किताबों को फॉलो करते हैं व इनमें दिए हर टॉपिक का अच्छे से अध्ययन करते हैं, उनके लिए साइंस का पेपर आसान ही होगा.

4. चैप्टर वाइज़ मार्क्स का वितरण:

अब जानेंगे कि पिछले पाँच वर्षों में 10वीं साइंस के पेपर में विभिन्न अध्यायों में से कितने प्रश्न पूछे गए व इन प्रश्नों का weightage यानि भार विभाजन क्या रहा.

सबसे पहले हम बोर्ड परीक्षा अनिवार्य होने से पहले यानि साल 2014 से 2017 तक के प्रश्न पत्रों का विश्लेष्ण करेंगे जब बोर्ड प्रश्न पत्र में आधे पाठ्यक्रम के आधार पर Summative Assessment II के तहत साइंस की परीक्षा आयोजित की जाती थी.

इसके लिए आप सामने दिख रही टेबल को पढ़ें जहाँ कक्षा 10वीं के विज्ञान विषय में सभी अध्यायों से प्रत्येक वर्ष 1 अंक, 2 अंकों, 3 अंकों, 5 अंकों व् प्रैक्टिकल स्किल्स से जुड़े पूछे गये प्रश्नों कि संख्या दर्शाई गयी है.

Chapter-Wise distribution of CBSE Class 10 Science Paper 2014-2017:

class 10 science last five years papers analysis

अकादमिक सेशन 2017-2018 में नई असेसमेंट स्कीम लागु कर देने के बाद सीबीएसई कक्षा 10वीं के सभी छात्रों ने साल 2018 में सम्पूर्ण पाठ्यक्रम के आधार पर बोर्ड परीक्षा लिखी.

यहाँ हम साल 2018 की बोर्ड परीक्षा में आए साइंस के प्रश्न पत्र का विश्लेष्ण करेंगे जिसके लिए आप सामने दी गई टेबल को पढ़ें:

Chapter-Wise distribution of CBSE Class 10 Science Paper 2018:

Chapter

Weightage in 2018

 Chemical reactions & equations

3+2 PBQ

Acids bases and salts

3

Metals and non-metals

5+2PBQ

Carbon and its compounds

2+3

Periodic classification of elements

5

Life processes

5+2PBQ

Control and coordination

2+3

How do organisms reproduce?

3+5+2PBQ

Heredity and evolution

1

Light – reflection and refraction

2+3+2PBQ

Human eye and the colourful world

5

Electricity

3+3+2PBQ

Magnetic effects of electric current

5

Sources of energy

1

Our environment

3

Management of natural resources

3

CBSE कक्षा 10 साइंस बोर्ड प्रश्न पत्र 2018 

5. प्रैक्टिकल बेस्ड क्वेश्चन का स्वरूप

साइंस के पेपर में सेक्शन – B में सभी प्रश्न प्रैक्टिकल बेस्ड यानि प्रयोगात्मक कौशल पर आधारित होते हैं. लेकिन इनके स्वरूप में कुछ बदलाव होते रहे हैं.

  • साल 2014 में कुल 18 प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न पूछे गए और ये सभी MCQs थे. प्रत्येक प्रश्न के लिए 1 अंक निर्धारित था.
  • साल 2015 से  2017 तक कुल 12 प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न पूछे गए जिनमें 9 MCQs  तथा 3  descriptive  प्रश्न सामिल थे. प्रतेक  MCQ के लिए 1 अंक और descriptive  प्रश्न के लिए 2 अंक निर्धारित थे.
  • साल 2018 में कुल 6 प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न पूछे गए और सभी descriptive प्रश्न थे. प्रत्येक प्रश्न के लिए 2 अंक निर्धारित थे.
  • साल 2015 से 2017 तक हर बार कम से कम 3 प्रश्न Carbon and its Compounds अध्याय से पूछे जाते रहे जबकि 2018 में इस चैप्टर से कोई भी प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न नहीं पुछा गया.
  • अभी तक हर साल अधिक्तम प्रैक्टिकल बेस्ड प्रश्न budding in yeast , reproduction in amoeba, image formation by spherical mirrors से संबंधित पूछे जाते रहे हैं.

तो दर्शकों आप ने जाना कि पिछले पाँच सालों में सीबीएसई कक्षा 10वीं में साइंस के बोर्ड पेपर में कितने बदलाव आए व हर साल विभिन्न अध्यायों के लिए कितना weightage निर्धारित किया गया. हम उम्मीद करते हैं कि jagranjosh experts  द्वारा किया गया यह विश्लेष्ण इस बार होने वाले CBSE Class 10 Board Exams 2019 में साइंस के पेपर की तैयारी को आसान व असरदार बनाने में आपकी मदद ज़रूर करेगा.

CBSE बोर्ड परीक्षा की तयारी को सरल व् प्रभावशाली बनाने के लिए अन्य महत्वपूर्ण लेख यहाँ पढ़ें.