Earth Day 2021: ये जॉब्स और करियर्स ज्वाइन करके आप भी संवारें अपना पर्यावरण

हर साल पृथ्वी दिवस 22 अप्रैल को मनाया जाता है ताकि हमारा पृथ्वी ग्रह और इसके प्राकृतिक वातावरण को प्रदूषण और विनाश से बचाया जा सके. यहां कुछ करियर्स और जॉब्स भी दिए जा रहे हैं जो हमारे पृथ्वी ग्रह के प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा करने के लिए सहायक हो सकते हैं. इस बारे में अधिक जानने के लिए यह आर्टिकल गौर से जरुर पढ़ें.

Created On: Apr 22, 2021 19:11 IST
Earth Day 2021: Top Jobs For You To Protect Your Mother Earth
Earth Day 2021: Top Jobs For You To Protect Your Mother Earth

हजारों वर्षों से मनुष्य अपनी तीनों आधारभूत आवश्यकताओं - रोटी, कपड़ा और मकान - के साथ-साथ,  अपने जीवन के सभी क्षेत्रों की आवश्यकताएं पूरी करने के लिए भी अपने ग्रह पृथ्वी पर ही काफी हद तक निर्भर है. लेकिन पिछली तकरीबन 02 सदियों से, जब विज्ञानं और उद्योग ने बहुत तरक्की कर ली, मनुष्य ने भी प्रगति के नाम पर पृथ्वी और इसके प्राकृतिक संसाधनों का लगातार दोहन करना शुरू कर दिया जिसका नतीजा - ओज़ोन परत में छेद होने के साथ ही पृथ्वी के पर्यावरण को निरंतर होने वाला  नुकसान है. हमारी पृथ्वी के हवा और पानी विषैले हो रहे हैं और पशु-पक्षी तथा वनस्पति जगत को भी निरंतर हानि हो रही है. ऐसी ही सभी समस्याओं से निपटने के लिए और अपने पृथ्वी ग्रह को सुरक्षित रखने के लिए, पूरे विश्व में प्रत्येक वर्ष 22 अप्रैल को ‘पृथ्वी दिवस’ (Earth Day) मनाया जाता है.

पहली बार वर्ष, 1970 में 22 अप्रैल के दिन पृथ्वी दिवस मनाया गया था. अब दुनिया के 193 देश पृथ्वी दिवस मनाते हैं. पृथ्वी ग्रह को हरेक तरह से सुरक्षित और संरक्षित रखने के लिए सारी दुनिया के  सहयोग और समर्थन की आवश्यकता है और इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए ही पृथ्वी दिवस मनाया जाता है. इस दिन विश्व के तकरीबन सभी देश पृथ्वी के पर्यावरण संरक्षण और पृथ्वी के सभी किस्म के जीवन - मनुष्य, पशु, पक्षी और पेड़-पौधे - को बचाने का संकल्प लेते हैं.

दरअसल, पृथ्वी दिवस को मनाने के प्रमुख उद्देश्यों में से एक उद्देश्य अधिकांश लोगों को पृथ्वी और इसके पर्यावरण के संरक्षण के लिए जागरूक करना है. इन दिनों, जिस गति से मृदा अपरदन हो रहा है, ग्लेशियर पिघल रहे हैं, ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है और पृथ्वी के प्राकृतिक पर्यावरण को लगातार क्षति पहुंच रही  है, वह अनुमान से कुछ तीव्र गति है और इन्हीं कारणों से पृथ्वी की गुणवत्ता, उर्वरकता और प्राकृतिक पर्यावरण को संरक्षित रखने के लिए हमें पर्यावरण और पृथ्वी को सुरक्षित रखना ही होगा. ऐसे ही सभी महत्वकांक्षी उद्देश्यों को हासिल करने के लिए ही प्रत्येक वर्ष 22 अप्रैल को ‘पृथ्वी दिवस’ पूरे जोश के साथ दुनिया के अधिकतर देशों द्वारा मनाया जाता है.

आज इस पृथ्वी दिवस के शुभ अवसर पर, हमारे पृथ्वी ग्रह और इसके प्राकृतिक वातावरण को प्रदूषण और विनाश से बचाने के लिए हम यहां कुछ करियर्स और जॉब्स की जानकारी पेश कर रहे हैं जो हमारे पृथ्वी ग्रह के प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा करने के लिए सहायक हो सकते हैं. इस बारे में अधिक जानने के लिए यह आर्टिकल गौर से जरुर पढ़ें.

•    एग्री-टेक से जुड़े स्टार्टअप्स 


एग्री-टेक में 2 शब्द ‘एग्रीकल्चर+टेक्नोलॉजी’ एक-साथ आते हैं अर्थात जब हम एग्रीकल्चर की फील्ड में मॉडर्न टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं तो एग्री-टेक का एक बेहतरीन उदाहरण हमें नजर आता है. यूं तो पिछले कई वर्ष पहले से इंडियन एग्रीकल्चर में ट्रेक्टर और इरीगेशन इक्विपमेंट्स का इस्तेमाल हो रहा है लेकिन पिछले कुछ वर्षों से तो एग्री-टेक के ज्यादा इस्तेमाल ने तो मानो इंडियन एग्रीकल्चर की सभी फ़ील्ड्स में क्रांति ला दी है. भारत में इस समय एग्री-टेक सेक्टर में 450 से ज्यादा स्टार्टअप्स अपना कारोबार कर रहे हैं और जून, 2019 तक इस सेक्टर में करीबन 250 मिलियन फंडिंग की गई है जो पिछले वर्ष से बहुत अधिक है. इस समय भारत के लगभग 30 एग्री-टेक स्टार्टअप्स अपने कारोबार के जरिये विश्व में अपनी पहचान बना चुके हैं और पिछले कुछ वर्षों में कुछ ग्लोबल एग्री-टेक कंपनियों ने भी भारत का रुख किया है. आपके लिए यह जानकारी भी फायदेमंद रहेगी कि भारत में 50 फीसदी से अधिक एग्री-टेक स्टार्टअप्स फार्मर्स और रिटेलर्स/ होलसेलर्स या फ़ूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज़ के लिए सप्लाई चेन का काम करते हैं. भारत के कुछ प्रमुख एग्री-टेक स्टार्टअप्स हैं - एग्रोस्टार, फार्म बी, फ्रेश टू होम, क्रोपिन और क्रोफार्म. आप भी अगर इंडियन एग्रीकल्चर और टेक्नोलॉजी की फ़ील्ड्स में दिलचस्पी रखते हैं तो एग्री-टेक की फील्ड में अपना स्टार्टअप कारोबार शुरू कर सकते हैं.

•    एनवायरनमेंट कंसलटेंट 


ये पेशेवर सभी किस्म के हवा, पानी और मिट्टी संबंधी पोल्यूशन्स के बारे में लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ, इन सभी पोल्यूशन्स से बचने के लिए लोगों को जरुरी और उपयोगी सलाह भी देते हैं. इन पेशेवरों की स्ट्रेटेजीज़ हवा, पानी, जानवरों, पक्षियों और पेड़-पौधों के साथ ही पृथ्वी के अन्य प्राकृतिक संसाधनों जैसेकि - पेट्रोल, लोहा और अन्य सभी किस्म के खनिज पदार्थों को सुरक्षित रखने में महत्त्वपूर्ण योगदान देती हैं.  

•    वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर


जंगल और जंगल के पशु-पक्षियों को वहां के नैसर्गिक वातावरण समेत अपने कैमरे में कैद करने का काम इन पेशेवरों का होता है. इन पेशेवरों के फोटोग्राफ्स देखकर जन-साधारण को मनुष्य के जीवन में जंगल का महत्त्व पता चलने के साथ ही जंगल के जीवन की सुन्दरता, विविधता और महत्त्व का सजीव परिचय मिलता है. 

•    एनवायरनमेंट फोटोग्राफर


ये पेशेवर पृथ्वी के विभिन्न लैंडस्केप्स - समुद्र, झीलें, बर्फीले पहाड़, नदियां, डेल्टा प्रदेश और रेगिस्तान - सहित एनवायरनमेंट पोल्यूशन से बिगड़े स्थानों से संबंधित प्रभावोत्पादक फोटोग्राफी करते हैं ताकि साधारण लोग अपने एनवायरनमेंट को सुरक्षित रखने के लिए अपनी कमर कस लें.

•    साइंटिफिक फोटोग्राफर


विज्ञान की विभिन्न फ़ील्ड्स और रिसर्च वर्क की फोटोग्राफी के माध्यम से ये पेशेवर हमें पृथ्वी के जीवन और पृथ्वी के प्राकृतिक वातावरण का महत्त्व समझाते हैं जिससे हमें विज्ञान के विभिन्न विषयों की लेटेस्ट जानकारी मिलने के साथ ही अपनी पृथ्वी को सुरक्षित और संरक्षित रखने की प्रेरणा मिलती है. 

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

ये हैं भारत में एग्रीकल्चर से जुड़े खास करियर्स

भारत में आपके लिए फोटोग्राफी में भी है बेहतरीन करियर स्कोप

भारत में एग्रीकल्चरल साइंटिस्ट के लिए करियर स्कोप

Comment ()

Related Categories

Post Comment

6 + 1 =
Post

Comments